*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | October, 2011

भारतीय जनता पार्टी की दो दिवसीय प्रदेश कार्यसमिति की बैठक 29-30 अक्टूबर को कुशीनगर में संपन्न होगी

Posted on 28 October 2011 by admin

प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने बताया कि प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही की अध्यक्षता में होने वाली प्रदेश कार्यसमिति की बैठक का उद्घाटन पार्टी के पूर्व राश्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व  मुख्यमंत्री राजनाथ िंसह करेंगे जबकि समापन पार्टी के राश्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी के उद्बोधन के साथ होगा।
श्री पाठक ने बताया कि दो दिनों तक चलने वाली पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में उ0प्र0 के वर्तमान राजनैतिक परिस्थितियों एवं कृशि व किसानों की समस्याओं को ध्यान में रख़ते हुए राजनैतिक व कृशि पर प्रस्ताव पारित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उ0प्र0 में बसपा सरकार के जंगलराज के कारण हाहाकार मचा हुआ है। बसपा सरकार के भ्रश्टाचार व अपराधियों को संरक्षण देने से जनता त्रस्त है। मुख्यमंत्री न्यायालय का फैसला आने से पूर्व ही अलग-अलग गंभीर मामलों में फंसे अपने मंत्रि/विधायकों को क्लीन चिट देकर संवैधानिक व्यवस्थाओं को चुनौती देने से भी गुरेज नहीं कर रही। प्रदेश में मनरेगा के नाम पर लूट जारी है।केंद्र व राज्य पोशित सरकारी योजनाओं में कमीशन खोरी चरम पर है जिन योजनाओं का लाभ आम जनता को मिलना चाहिए था उन योजनाओं के लिए आवंटित धन सत्तारूढ़ दल के नेताओं की जेब में जा रहा है। दूसरी तरफ कांग्रेस व बसपा जनता को धोखा देने के लिए वाकयुद्ध तो कर रहे हैं लेकिन जन समस्याओं को हल करने के दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठा रहे हैं। उन्होंने कहा प्रदेश में आमजन की समस्याओं को लेकर प्रदेश सरकार ने उपेक्षापूर्ण रवैया अपनाते हुए केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखकर अपने कर्तव्यों की पूर्ति की तो अब केंद्र सरकार के मंत्री भी भ्रश्टाचार के मामलों पर कोई ठोस कार्रवाई करने के बजाए चिट्ठी लिखकर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं।
श्री  पाठक ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार को जनहित के मामले में एक दूसरे पर तोहमत लगाने के बजाए प्रदेश के संर्वागीण विकास की दिशा में कदम उठाया होता तो उ0प्र0 विकास के दौड़ में न पिछड़ता। प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में राज्य की बदहाल कानून-व्यवस्था, िशक्षा, स्वास्थ्य व आमजन से जुड़े अन्य मुद्दों पर भी व्यापक स्तर पर चर्चा कर आगामी कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार की जाएगी। बैठक में चुनाव अभियान समिति के प्रमुख एवं राश्ट्रीय उपाध्यक्ष कलराज मिश्र, वरिश्ठ नेत्री एवं म0प्र0 की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती, राश्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय कटियार, मुख्तार अब्बास नकवी, राश्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी नरेंद्र सिंह तोमर, सहप्रभारी राधामोहन सिंह, राश्ट्रीय मंत्री संतोश गंगवार, अशोक प्रधान, संजय जोशी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डा0 रमापति राम त्रिपाठी, विधानमंडल दल के नेता ओमप्रकाश सिंह, उपनेता हुकुम सिंह, वरिश्ठ नेता एवं सांसद लालजी टंडन, केसरीनाथ त्रिपाठी, सहित कई अन्य वरिश्ठ नेताओं का मार्गदशzन प्राप्त होगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

माननीया मुख्यमंत्री जी ने मनरेगा के क्रियान्वयन को लेकर केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री के पत्र पर सख्त ऐतराज जताया है

Posted on 28 October 2011 by admin

  • केंद्रीय मंत्री की यह कार्यवाही राजनीति से प्रेरित
  • केंद्रीय मंत्री जी को भारत के संविधान में केंद्र एवं राज्यों के बीच वित्तीय बंटवारे के लिए की गई व्यवस्था की जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए
  • मनरेगा में वित्तीय अनियमितताओं के लिए 71 एफ0आई0आर0 दर्ज
  • भ्रष्टाचार की सभी शिकायतों पर राज्य सरकार ने कठोर कार्यवाही की
  • राज्य की एजेिन्सयां भ्रष्टाचार के मामलों की जांच करने में सक्षम

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी ने राज्य में मनरेगा के क्रियान्वयन को लेकर केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री श्री जयराम रमेश द्वारा लिखे गए पत्र पर कड़ा ऐतराज जताया है। उन्होंने कहा है कि केंद्रीय मंत्री की यह कार्यवाही राजनीति से प्रेरित हैं। उन्होंने कहा कि श्री रमेश की मंशा इसी से स्पष्ट हो जाती है कि उनके द्वारा लिखा गया पत्र राज्य सरकार को प्राप्त होने से पहले, मीडिया में जारी कर दिया गया।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने मा0 प्रधानमंत्री जी को आज पत्र लिखकर केंद्रीय मंत्री द्वारा उठाए गए विभिन्न बिंदुओं पर राज्य सरकार की स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा है कि उन्हें इस मामले पर संवैधानिक जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री को पत्र लिखने से पहले भारत के संविधान में केंद्र एवं राज्यों के बीच वित्तीय बंटवारे के लिए की गई व्यवस्था की भी जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि  उन्हें यह भी मालूम होना चाहिए कि मनरेगा जैसी तमाम योजनाओं के लिए केंद्र सरकार द्वारा दी गई धनराशि राज्यों द्वारा ही प्राप्त राजस्व से ही निर्धारित मानकों के आधार पर आवंटित की जाती है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने अपने पत्र में लिखा है कि केंद्रीय मंत्री के पत्र से स्पष्ट है कि, उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा मनरेगा के प्रभावी क्रियान्वयन को लेकर केंद्रीय मंत्री द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद तथा तथ्यों से परे है। उन्होंने कहा कि पिछले तीन वषोzं में मनरेगा को लागू करने में उत्तर प्रदेश अन्य राज्यों से काफी आगे रहा है। उन्होंने कहा कि इस तथ्य की जानकारी भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय की वेबसाइट पर भी प्राप्त की जा सकती है। पारिवारिक आच्छादन, रोजगार सृजन करने तथा खर्च के मामले में राज्य सरकार की प्रगति काफी अच्छी है। उन्होंने कहा कि न्यूनतम मजदूरी तय करने वाला उत्तर प्रदेश देश का पहला राज्य है। उन्होंने कहा कि मजदूरी जॉब कार्ड धारक को ही पहुंचे, इस नियत से वर्ष 2008 से जॉब कार्डधारकों की मजदूरी bank/डाक घर में खोले गए उनके खातों में भेजी जा रही है। इसके अलावा लगभग तीन चौथाई धनराशि का खर्च ग्राम पंचायतों द्वारा किया जा रहा है।
केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री द्वारा मनरेगा में भ्रष्टाचार की शिकायतों पर राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही न करने के आरोप का जवाब देते हुए माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनकी सरकार भ्रष्टाचार को कतई बर्दास्त नहीं करती। उन्होंने कहा कि बी0एस0पी0 की स्थापना ही भ्रष्टाचार तथा राजनीति में अपराधीकरण के खिलाफ हुई है और बी0एस0पी0 सरकार शुरू से ही भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष कर रही है। उन्होंने कहा कि  भ्रष्टाचार की शिकायत प्राप्त होने पर संबंधित के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाती है चाहे वो कितना बड़ा व्यक्ति क्यों न हो। नेशनल लेवल मॉनीटर (एन0एल0एम0) की चर्चा करते हुए माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सच्चाई तो यह है कि मनरेगा लागू होने से अब तक राज्य सरकार को एन0क्यू0एम0 की 67 report प्राप्त हुई है। उन्होंने कहा कि इसमें से 49 मामलों में राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही (ए0टी0आर0) की report भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय को भेज दी गई और शेष मामलों में विभिन्न स्तरों पर कार्यवाही की जा रही है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इसके अतिरिक्त अब तक 18 प्रथम श्रेणी के, 13 द्वितीय श्रेणी के तथा 43 तृतीय श्रेणी के अधिकारियों के साथ-साथ 236 फील्ड लेवल कर्मचारियों के विरूद्ध निलंबन तथा अनुशासनात्मक कार्यवाही की गई। वित्तीय अनियमितताओं के मामले में 71 एफ0आई0आर0 दर्ज की गई। इसके अलावा 53.97 लाख रुपए की धनराशि वसूली गई है तथा 131 लाख रुपए की वसूली की कार्यवाही प्रगति पर है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने उन 07 जनपदों, जिनका उल्लेख श्री रमेश ने अपने पत्र में किया है, में की गई कार्यवाही का ब्यौरा देते हुए कहा कि 06 मुख्य विकास अधिकारियों, 08 परियोजना निदेशकों, 30 खंड विकास अधिकारियों तथा 52 फील्ड स्तरीय अधिकारियों के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही शुरु की गई। इसके अलावा 01 अधीक्षण अभियंता, 01 डी0एफ0ओ0, 04 अधिशासी engineer, 03 सहायक अभियंता, 16 अवर अभियंता तथा 28 ग्राम प्रधानों के विरूद्ध भी कार्यवाही शुरु करते हुए 10 एफ0आई0आर0 दर्ज करायी गई है। इसी के साथ 02 जिलाधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही विचाराधीन है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि श्री रमेश ने अपने पत्र में राज्य सरकार द्वारा स्टेट क्वालिटी मॉनीटर्स (एस0यू0एम0) नियुक्त करने की प्रक्रिया शुरू करने की सराहना की है और कहा है कि इससे योजना को विशेष रूप से फील्ड में सही एवं उचित ढंग से लागू करने में काफी मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि अभी कुछ माह पूर्व ही भारत सरकार ग्रामीण विकास मंत्रालय ने श्री प्रदीप भार्गव की अध्यक्षता में फील्ड निरीक्षण के लिए एक समिति भेजी थी। समिति ने व्यापक एवं सघन रूप से फील्ड निरीक्षण किया और राज्य सरकार द्वारा किए गए प्रयासों एवं लिए गए निर्णयों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि इस समिति की report को भी देखा जा सकता है। श्री रमेश ने चित्रकूट में काम करने वाले एक एन0जी0ओ0 से वार्ता करके तथा  केवल 07 जनपदों के कुछ मामलों के आधार पर पूरे प्रदेश के मामले में गलत धारणा बना ली और शायद उन्हें स्मरण नहीं है कि अब उत्तर प्रदेश में 75 जनपद हैं।
केंद्रीय मंत्री श्री जयराम रमेश द्वारा मनरेगा के लिए राज्य सरकार के बजट को रोकने की दी गई धमकी का उल्लेख करते हुए माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इससे साफ़ जाहिर है कि श्री जयराम रमेश को भारतीय संविधान में संघीय व्यवस्था के तहत वित्तीय अधिकारों की जानकारी का अभाव है। संभवत: यह समझते हैं कि केंद्रीय परियोजनाओं के लिए सहायता जारी करना केंद्र का पूरा अधिकार है। श्री जयराम रमेश जी द्वारा एन0आर0एच0एम0 से मनरेगा की तुलना करना कहां तक उपयुक्त है। इससे स्पष्ट है कि उन्हें रूल ऑफ business का ज्ञान नहीं है। उन्हें मालूम होना चाहिए कि प्रत्येक मंत्रालय अपने निर्णय स्वतंत्र रूप से लेता है। उन्होंने कहा कि एन0आर0एच0एम0 से ग्रामीण विकास मंत्रालय का कुछ भी लेना-देना नहीं है। उन्होंने मनरेगा की सी0बी0आई0 से जांच कराने का सुझाव दिया है, लेकिन शायद वे समझते हैं कि राज्य सरकार के पास अपनी कोई एजेन्सी नहीं है जो आवश्यकता पड़ने पर इस प्रकार की जांच कर सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की एजेिन्सयां भ्रष्टाचार के मामलों की जांच करने में सक्षम है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने अपने पत्र में मा0 प्रधानमंत्री जी को यह भी अवगत कराया है कि पूर्व में उनकी सरकार ने मनरेगा के संबंध में प्राप्त शिकायतों पर कठोर कार्यवाही की है और श्री रमेश द्वारा इंगित मामलों को भी संज्ञान में लिया जा रहा है। बलरामपुर, गोंडा, मिर्जापुर तथा महोबा जनपदों की वित्तीय अनियमित्ताओं की जांच ई0ओ0डब्ल्यू0 से कराने के निर्देश दे दिए गए हैं। इसके अलावा एक गैर सरकारी संस्था उत्तर प्रदेश सहकारी निर्माण एवं विकास लिमिटेड के कार्यों की गुणवत्ता में कमी पाए जाने पर इसकी भी जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही यह भी निर्देश दिए गए हैं कि अनियमिताओं के मामले में वे तेजी से जांच करें और इसके लिए जो भी जिम्मेदार हों उनके विरूद्ध कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पहले ही उपलब्ध धनराशि का 60 प्रतिशत से अधिक धनराशि खर्च कर लिया है और दूसरी किश्त के लिए आवश्यक अभिलेखों के साथ मांग प्रेषित की गई है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने माननीय प्रधानमंत्री जी से अनुरोध किया है कि वे इस मामले में हस्तक्षेप करके धनराशि को समय से अवमुक्त कराने की पहल करें ताकि योजना का समय से क्रियान्वयन हो सके। उन्होंने कहा कि जरूरतमंद परिवारों को नियमानुसार रोजी-रोटी उपलब्ध कराने के लिए केंद्र और राज्य दोनों को एक साथ खड़े होना चाहिए।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

माननीया मुख्यमंत्री जी ने दीपावली के पर्व पर प्रदेश वासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी

Posted on 26 October 2011 by admin

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी ने दीपावली के पर्व पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हंै।
एक बधाई संदेश में माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा है कि भारतीय संस्कृति में दीपावली के पर्व का विशेष महत्व है। यह त्यौहार सामाजिक सद्भाव, शांति, सुख और आपसी मेलजोल को भी बढ़ावा देता है।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने प्रकाश के इस पर्व को आनंद, उल्लास और आपसी सद्भाव के साथ मनाने की अपील की है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मजदूरों को दी जा रही मजदूरी में भारी फर्जीवाड़ा एवं घोटाला हो रहा है

Posted on 26 October 2011 by admin

उ0प्र0 सरकार एक बार फिर कटघरे में खड़ी है। मनरेगा एवं प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में केन्द्र सरकार द्वारा दिये गये धन के दुरूपयोग के बारे में केन्द्रीय ग्राम्य विकास मंत्री श्री जयराम रमेश द्वारा प्रदेश सरकार को लिखी गयी दो चिट्ठियों पर राज्य सरकार की ‘‘चुप्पी’’ यह साबित करती है कि उसके पास अपने बचाव में कोई तर्क नहीं है।
उ0प्र0 कंाग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता सुबोध श्रीवास्तव ने आज यहां जारी बयान में कहा कि कांग्रेस पार्टी लगातार मनरेगा, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना सहित केन्द्र सरकार की सभी जनकल्याणकारी योजनाअेां में किये जा रहे भारी भ्रष्टाचार के बारे में आवाज उठा रही है। क्योंकि इन योजनाओं के अन्तर्गत कराये जा रहे कार्यों में मजदूरों को दी जा रही मजदूरी में भारी फर्जीवाड़ा एवं घोटाला हो रहा है। फर्जी जाब कार्ड बनाकर फर्जी भुगतान हो रहे हैं और गरीब-मजदूर जिन्हें 100 दिन के रोजगार की गारंटी दी गयी है, उसे लाभ से वंचित रखा जा रहा है।
मुख्य प्रवक्ता ने कहा कि नये आंकड़ों के अनुसार उ0प्र0 सरकार पास मनरेगा के मद में 4546करोड़ रूप्ये उपलब्ध थे लकिन आधे से भी कम 2149करोड़ रूपये ही खर्च हो पाये। जो धन खर्च भी हुआ है उसमें मजदूरों को उनकी मजदूरी भी नहीं मिल रही है। बैंकों द्वारा भुगतान किये जाने के आदेश के बावजूद उनकी मजदूरी के धन में ‘अमानत में खयानत’ का खेल अभी भी जारी है।
श्री श्रीवास्तव ने कहा कि बुंदेलखण्ड सहित अनेक जिलों में मनरेगा के धन में भारी घपले, घोटाले अखबारों की सुर्खियां बन रही हैं, लेकिन प्रदेश सरकार हाथ पर हाथ धरे बैठी है।
मुख्य प्रवक्ता ने केन्द्र सरकार से मांग की है कि जिन-जिन जिलों में मनरेगा और प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के धन में घपले और घोटाले की प्रमाण मिले हैं उसकी सीबीआई जांच कराकर दोषियों को दण्डित किया जाय। उन्होने ध्यान दिलाया कि पहले भी इस तरह के घपले और घोटालों के बारे में कांग्रेस पार्टी द्वारा आवाज उठाये जाने के बाद मजबूरी में कुछ अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही हुई थी लेकिन उनमें से बहुतों को बहाल कर दिया गया। सीबीआई जांच होने से दूध का दूध और पानी का पाीन हो जायेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

सघन ‘‘जनसम्पर्क अभियान’’ शुरू करने का निर्णय

Posted on 26 October 2011 by admin

पूर्व प्रधानमंत्री पं0 जवाहर लाल नेहरू की जयंती के मौके पर आगामी 14नवम्बर, 2011 को कंाग्रेस द्वारा सघन ‘‘जनसम्पर्क अभियान’’ शुरू करने का निर्णय कल नई दिल्ली में हुई उच्च स्तरीय बैठक में लिया गया है। कांग्रेस महासचिव श्री राहुल गांधी जनपद इलाहाबाद के फूलपुर में पांच ‘‘जनसम्पर्क अभियानों’’ केा झंडी दिखाकर रवाना करेंगे।
यह जानकारी देते हुए उ0प्र0 कंाग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता सुबोध श्रीवास्तव ने बताया कि 14नवम्बर से शुरू होने वाले इन पांच जनसम्पर्क अभियानों में केन्द्रीय मंत्री, सांसद और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शामिल होंगे। श्री राहुल गांधी इन पांचों जनसम्पर्क अभियानों में बीच-बीच में जगह-जगह पर अपनी सुविधानुसार शामिल होते रहेंगे।
मुख्य प्रवक्ता ने बताया कि कंाग्रेस द्वारा शुरू किये जाने वाले इस सघन जनसम्पर्क अभियान को न्याय पंचायतों तक ले जाया जायेगा। उन्होने बताया कि इन जनसम्पर्क अभियानों का वृहद कार्यक्रम दिल्ली में प्रान्तीय नेताओं के सुझावों के अनुसार तैयार हो रहा है, जिसकी विस्तृत रूपरेखा शीघ्र ही घोषित की जायेगी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मनरेगा में प्रदेश भर में धांधली हो रही है

Posted on 26 October 2011 by admin

भारतीय जनता पार्टी का आरोप है कि मनरेगा के बारे में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य को लिखा पत्र महज नूरा-कुश्ती है।  पार्टी प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि मनरेगा में प्रदेश भर में धांधली हो रही है फिर जांच मात्र 7 जिलों की ही कराने की बात क्यों की जा रही है। मनरेगा की प्रदेश भर में धांधली की शिकायत है इसलिए जांच पूरे प्रदेश की होनी चाहिए।
आज पार्टी मुख्यालय पर पत्रकारों से वार्ता में कहा कि दरअसल मनरेगा का भ्रष्टाचार केन्द्र और प्रदेश का सांझा उपक्रम है। चुनाव नजदीक जानकर नूरा-कुश्ती का यह खेल खेला जा रहा है। दोनों सरकारे भ्रष्टाचार पर एक दूसरे का समर्थन करती हैं और एकदूसरे को समय-समय पर बचाती हंै। मनरेगा की धांधली पर सी0बी0आई0 जांच कराने की चर्चा पत्र में की गई है जो कि एक छलावा है। केन्द्रीय मंत्री भी जानते हैं कि मनरेगा में मुख्यमंत्री भ्रष्ट अफसरों को बचा रही है। उनकी नीयत साफ नहीं है। ऐसे में वह सी0बी0आई0 जांच की सिफारिश क्यों करेंगी ? केन्द्र सरकार सीधे हस्तक्षेप कर अपने संवैधानिक दायित्वो ंका निर्वहन क्यों नहीं कर रही है ? आंखिर बसपा प्रमुख के खिलाफ आय से अधिक सम्पत्ति की जांच सी0बी0आई0 कर रही है। चार्जशीट तैयार है पर दाखिल नहीं हो रही है। क्या मनरेगा में भी उसी तरह की जांच की मंशा है।
श्री पाठक ने कहा कि आम आदमी की समस्याओं पर वाकयुद्ध करके दोनों सरकारें जनता की आंखों में धूल झोंकना चाहती हैं। बुंदेलखंड, पूर्वांचल में फैली महामारी इन्सेफलाटिश, लखनऊ मंे हुआ टीकाकरण कांड, वाराणसी बम-विस्फोट आदि घटनाएं घटित हुई हैं। जिसमें आम आदमी के जन-धन की हानि हुई है। सरकारें एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराकर अपना पल्ला झाड़ती रही है। प्रदेश में बदहाल सड़कें व खस्ताहाल स्वास्थ्य सेवाओं से आमजन परेशान हंै। भाजपा की जन स्वाभिमान यात्राओं को मिला अपार जनसमर्थन इसका प्रमाण है कि लोग अब  इस सरकार से पूरी तरह से ऊब चुके हैं।
एक सवाल के उत्तर में उन्होंने कहा कि राज्य सरकार न केवल भ्रष्ट है बल्कि कानून व्यवस्था को ठीक रखने में विफल रही है। कमला कुशवाहा के प्रकरण में पीड़िता सरेआम आरोप लगा रही है कि उसे जानमाल की धमकी दी जा रही है। वह चिल्ला-चिल्लाकर अपने विरूद्ध बलात्कार की कहानी लगातार कह रही है पर सत्ता मद में चूर सरकार अपने मंत्री के साथ खड़ी है। यह कोई पहला प्रकरण नहीं है जिसमें सरकार निर्लज्ज्तार्पूवक दोषी का बचाव कर रही हो। इसके पहले भी तमाम प्रकरण ऐसे रहे हैं।  भाजपा ने दद्दू प्रसाद को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग को दोहराते हुए पीड़िता को पर्याप्त सुरक्षा दिए जाने की भी मांग की।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

उत्तर प्रदेश में चल रही केन्द्रीय योजनाओं में भारी घोटाले हो रहे है

Posted on 26 October 2011 by admin

समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि केन्द्र सरकार के दो मंत्रियों और सीबीआई ने माना है कि उत्तर प्रदेश में चल रही केन्द्रीय योजनाओं में भारी घोटाले हो रहे है। प्रदेश के नेता और अफसर मिलकर जनता की गाढ़ी कमाई लूट रहे हैं और उन्हें ऊपर से संरक्षण मिला हुआ है। यह अजीब बात है कि जब केन्द्र सरकार को उत्तर प्रदेश की बसपा सरकार के काले-कारनामों की पूरी खबर है तो इस सरकार को वह क्यों नए घोटाले करने की छूट दिए हुए हंै? इस घोटालेबाज सरकार को बर्खास्त करने में केन्द्र सरकार क्यों हिचक रही है? कहीं कांग्रेस और बसपा में मिली भगत तो नहीं चल रही है?
केन्द्रीय ग्रामीण विकासमंत्री श्री जयराम रमेश ने मनरेगा के क्रियान्वयन में अनियमितताओं और धन के दुरूपयोग के बारे में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है। ग्राम सड़क योजना में भी ऐसा ही घपला चल रहा है। वे यह मानते है कि सत्ता का संरक्षण पा रहे लोगों को पैसे कमाने में नियमों से छूट मिल हुई है। केन्द्रीय संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री सचिन पायलट राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में हजारों करोड़ रूपए के घपले पर चिन्ता जता रहे है। इन मंत्रियों को यह भी पता होगा कि नोएडा में पार्क के नाम पर पर्यावरण के साथ कैसा खिलवाड़ मुख्यमंत्री ने किया है। आखिर केन्द्र सरकार आंखे क्यों मूंदे है?
केन्द्रीय मंत्री श्री रमेश ने मनरेगा घोटाले की सीबीआई जांच की मांग की है। अभी ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के घोटाले की जांच सीबीआई कर रही है जिसमें दो सीएमओ और एक डिप्टी सीएमओ की हत्या हो गई है। इस जांच के बारे में स्वयं सीबीआई अपने को असहाय पा रही है क्योंकि राज्य सरकार जांच में सहयोग नहीं कर रही है। सीबीआई को संदेह है कि 14 बड़े नेता और अफसर मामले को दबाने में शुरू से ही लगे हुए हैं। समाजवादी पार्टी बराबर यह कहती रही है कि इस जांच की आंच से मुख्यमंत्री कार्यालय भी नहीं बचा है। मुख्यमंत्री के पास पहले परिवार कल्याण विभाग भी रहा है और जब जेल में डा0 सचान की हत्या हुई तो भी कारागार विभाग उनके अधीन रहा है। इस घटना के महत्वपूर्ण साक्ष्य मिटा दिए गए है। इसीलिए सीबीआई जांच से राज्य सरकार सहयोग नहीं कर रही है।
केन्द्र सरकार के मंत्रियों को मालूम है कि सीबीआई केन्द्र के अधीन है पर राज्य सरकार ही यदि दोषियों को बचाने में लिप्त हो तो निष्पक्ष जाॅच कैसे सम्भव है? प्रदेश सरकार द्वारा केन्द्र के धन के बंदरबांट पर उनका दुहरा मानदण्ड नहीं चलेगा। एक ओर तो केन्द्र प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाता है और दूसरी तरफ उसे संरक्षण भी दे रहा है। कांग्रेस बसपा की नूराकुश्ती के चलते ही प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है। मुख्यमंत्री का हर काम में कमीशन तय है। वस्तुतः उन्हें तो अपनी सरकार पर दबाव डालना चाहिए कि वह सीबीआई जांच में रोड़ा अटकाने वाली राज्य सरकार को बाहर का रास्ता दिखाने में देर न करें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मण्डी कर्मियों द्वारा किसानों की हो रही लूट

Posted on 26 October 2011 by admin

प्रदेश सरकार के वादों में व्यापारी तथा किसानों को सही सुविधा व उत्पादन पर सही मूल्य सही तौल के लिये कृषि मण्डी परिषद लखनऊ ने सभी जनपदों पर एक व्यवस्था लागू की है कि व्यापारी किसानों केा उचित मूल्य देने के लिये जनपदों पर तैनात अधिकारी की देख रेख मंे यह कार्य सुचारू रूप से किया जायेगा। जबकि देखा जाय तो जनपद सुल्तानपरु में सब उल्टा पुल्टा हो रहा है।
बताते चले कि जनपद की नवीन कृषि मण्डी अमहट मंे काफी अर्से से तैनात मण्डी सचिव के ना आने से यहंा की स्थित बद से बदतर होती जा रही है। किसानो केा सही रेट व सही तौल पर मिलने वाला खाद्य सामानों पर घोर अनियमितता होने का मामला प्रकाश में आया है। नाम न छापने की शर्त पर लम्भुआ निवासी ने जब कृषि मण्डी अमहट में आलू की खरीददारी के लिये पहुंचते हैं तो यहां विभाग के तैनात मण्डी व्यापारी मण्डी रेट से ज्यादा का भाव बताकर पल्लेदारी व तहबजारी की मांग करते है तथा वहीं पर तैनात विभाग के कर्मचारी निकासी के नाम  पर पैसा मागते फिर रहे  हैं। जिसे देख वह दंग रह गया। व्यापारी के कथानानुसार निकासी के लिये भी मण्डी में तैनात चतुर्थ श्रेण्ीा के कर्मचारी एक बोरी का सामान हो या फिर गाडी भर की खाद्य सामग्री। विना वसूली के बाहर नही जा सकतेे, यहां तो हाल यह है कि ‘‘सण्डे हो या मण्डे’ प्रतिदिन का कार्य करना व विभाग के लिये मिशाल बना हुआ है। लगता है इन कर्मचारियों के हक में केाई विभागीय छुटटी होती ही नही। सूत्रों की माने तो मण्डी के साहब की न मौजूदगी में यहा का सारा कार्य विभागीय कर्मचारी के जिम्मे है। महीनो बीत जाने के बाद भी जनपद मंे तैनात अधिकारी मण्डी सचिव के दर्शन दुर्लभ हो गये हैं। इतना सब कुछ होने के बाद भी जनपद के पदस्थ विभागीय जिम्मेदार अधिकारी को इतनी फुर्सत नहीं है कि वे मण्डी  में हो रही अनियमितता को देखें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

परिवहन विभाग के संविदा कर्मियों ने किया हड़ताल

Posted on 26 October 2011 by admin

रोडवेज कर्मचारी संयुक्त सधर्ष मोर्चा लखनउ के तत्वाधान में सुलतानपुर डिपो के समस्त चालक/परिचालक पूर्व में लिए गये निर्णय के क्रम में अनिश्चित कालीन कार्य का बहिष्कार किया। इस परिप्रेक्ष्य में  पूर्व प्रान्तीय पदाधिकारियों द्वारा 10 सूत्रीय मांग के सन्दर्भ को विगत दो माह से निगम मुख्यालय पर धरने पर बैठे हैं। निगम प्रबन्धन के हठधर्मिता के चलते आज विवश होकर  सभी कर्मचारी कार्य का बहिष्कार किया।संविदा के समस्त चालक/परिचालक ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से सूचित किया कि हम सभी कार्य का बहिष्कार तब तक करेंगे जब तक 10 सूत्रीय मांग सम्मान पूर्वक मान नहीं ली जाती। सभी  संविदा कर्मी स्टेशन के परिसर में एकत्र होकर  मांग दोहरायी। अपनी मांग पत्र मं लिखा है कि यदि रोडवेज में नियमित भर्ती की जाय तो संविदा कर्मी से ही किया जाना, लोड फैक्टर के आधार पर वेतन के आदेश को तुरन्त वापस लिया जाना, नियमित कर्मियों की तरह ही समस्त सुविधाएं मुहैया कराया जाना, पूर्व में यूनियन के साथ हुए समझौते को लागू किया जाना आदि प्रमुख रहा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

एल0आई0सी0 द्वारा सामाजिक सुरक्षा माह का आयोजन

Posted on 26 October 2011 by admin

lic-photoभारतीय जीवन बीमा निगम ने सामाजिक सुरक्षा माह के आयोजन के अवसर पर हजरतगंज स्थित मण्डल कार्यालय के सभागार में वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक मो0 अजीजुद्दीन ने मीडिया को सम्बोधित करते हुये कहा समाज के कमजोर वर्ग में जन जागृति लाने के उद्देश्य से भारतीय जीवन बीमा निगम द्वारा अक्टूबर माह को सामाजिक सुरक्षा माह के रूप में मना रहा है। इस माह में विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से जैसे मृत्यु दावा, छात्रवृत्ति वितरण समारोह कैम्पों के द्वारा जन श्रीबीमा योजना तथा असंगठित क्षेत्र के नागरिकों के लिए स्वावलम्बन पेंशन योजना का प्रचार किया गया। वरिष्ठ मण्डल प्रबन्धक ने बताया आम आदमी बीमा योजना के अन्तर्गत अब तक 1573 मृत्यु दावा रू0 5 करोड़ 30 लाख तथा 20 हजार 458 छात्रों को छात्रवृत्ति बीमा योजना के अन्तर्गत वर्तमान द्वितीय वर्ष में अब 2638 छात्रों को 15 लाख 82 हजार से अधिक छात्रवृत्ति एवं 108 मृत्यु दावा में रू0 41 लाख 85 हजार का भुगतान किया गया। आम आदमी बीमा योजना के अन्तर्गत उत्त प्रदेश सरकार केे  सहयोग से मण्डल कार्यालय द्वारा 23 लाख 86 हजार ग्रामीण भूमिहीन मुखिया अथवा एक कमाऊ सदस्य को निःशुल्क सुरक्षा प्रदान की गयी है तथा मार्च, 2012 के अन्त तक 5 लाख अतिरिक्त सदस्यों को बीमा सुरक्षा प्रदान करने की योजना है। भारतीय जीवन बीमा निगम कुछ विशेष योजनाओं जैसे महात्मा गाँधी बुनकर, हस्तशिल्पी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, महिला स्वयं सहायता समूह, आदिवासी आदि 45 व्यवसायों में लगे समूहों के लिए भी जनश्री बीमा योजना के माध्यम से बीमा सुरक्षा का प्रबन्ध का प्रबन्धन कर रहा है। इस वार्ता में मण्डल प्रबन्धक पेंशन एवं समूह बीमा राजवीर सिंह एवं बी0एन0 पाण्डेय, वरिष्ठ शाखा प्रबन्धक भी उपस्थित थे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

October 2011
M T W T F S S
« Sep   Nov »
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
-->






 Type in