*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | June, 2015

रानी लक्ष्मी बाई मेमोरियल गु्रप आॅफ स्कूल्स के मेधावी छात्र-छात्राओं का सम्मान

Posted on 29 June 2015 by admin

रानी लक्ष्मी बाई मेमोरियल गु्रप आॅफ स्कूल्स लखनऊ, के कक्षा 12 मे ंउत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं का पुरस्कार वितरण एवं सम्मान समारोह आज दिनांक 21 जून 2015 को अमर शहीद कैप्टन मनोज कुमार पाण्डेय सभागार में सम्पन्न हुआ। समारोह का उद्घाटन मुख्य अतिथि संस्था के संस्थापक-प्रबन्धक जयपाल सिंह ने पारम्परिक दीप प्रज्वलित तथा अमर शहीदों के चित्रों पर माल्र्यापण करके किया।
समारोह में रानी लक्ष्मी बाई मेमोरियल गु्रप आॅफ स्कूल्स के सी बी एस ई बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा में 97 अंक अर्जित करने वाले एरिक पमनानी एवं मंजुला वर्मा को रू. 25000/-रू. का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।  96.8 से 96 अंक अर्जित करने वाले करिश्मा शर्मा, मनीष तिवारी, अर्पणा मिश्रा, अभय राना, अर्पित गुप्ता, मनीषा जोशी, वर्निता तिवारी, बृजेश भट्ट, हर्ष रैतानी, गौरव पाण्डेय, वैदेही अग्निहोत्री, अंलकृति मौर्या, विशाल मिश्रा, प्रीति शुक्ला, शुभि जैन, आकाश मिश्रा, सौरभ श्रीवास्तव, सुख सागर शुक्ला, तुषार श्रीवास्तव प्राची मित्तल (20 बच्चों) को रू.15000/-रू.का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।  95.8 से 95 अंक अर्जित करने वाले निधि, दृष्टि, सौरभ, दीपाली, रिया, कंचनप्रिया, ज्योत्सना, केसरीनाथ, श्वेता, यशार्थ, अमन, आशुतोष, वैष्णवी, दीपाली, मोहसिन अशरफ, मोनीषा, सुकृति, आयशा, साक्षी, साक्षी, श्रेया, पुर्णिमा, दिव्यांशी, अंकिता, राशिदा, अंकित, अल्पिका, मेघना, शिखा, हर्षा, पुर्णिमा, नित्या, प्राँजल (33 बच्चों) को 10000/-रू. तथा 94.8 से 93 अंक अर्जित करने वाले 92 छात्र-छात्राओं को रू. 5000/- रू. तथा 92.8 से 90 अंक अर्जित करने वाले 134 छात्र-छात्राओं को 2500/-रू. नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।
इसी क्रम में यू.पी बोर्ड द्वारा आयोजित की गई परीक्षा में बाल गाइड इण्टर कालेज के 91.2 अंक अर्जित करने वाली शिखा श्रीवास्तव को 5000/-तथा 88.4 से 85.2 अंक हासिल करने वाले राहुल सिंह, शुभम वर्मा, ज्ञानेन्द्र बाजपेई, पुष्पेन्द्र त्रिवेदी, अविनाश श्रीवास्तव, दीपक प्रसाद, आशीष सिंह, हर्षित को 2500/-का नकद पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। संस्थापक-प्रबन्धक जयपाल सिंह ने मेधावी छात्र-छात्राओं के साथ उनके माता पिता को भी सम्मानित किया। सम्मान समारोह में संस्था के संस्थापक प्रबन्धक जयपाल सिंह ने कहा कि विद्यालय अपने निरन्तर प्रयास से मेधावी छात्र छात्रायें देश के हर क्षेत्र में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिये भेज रहा है। विद्यालय के छात्र अपनी संस्कृति की जड़ों से जुड़े रहने के साथ साथ अपनी वैश्विक छाप छोड़ने में सक्षम है। सभी 290 मेधावी छात्र-छात्राओं को नकद पुरस्कार के साथ रानी लक्ष्मी बाई स्मृति चिन्ह भी प्रदान किया गया। समारोह में प्रधानाचार्या श्रीमती आशा अरोरा, श्रीमती निर्मल टंडन, श्रीमती प्रीति कुदेसिया, श्रीमती माया जोशी, श्रीमती सीता सेठ्ठी, श्रीमती उषा त्रिपाठी, श्रीमती सुचिता तिवारी उपस्थिति थीं। अंत में बच्चों द्वारा राष्ट्र गान गाकर समारोह का समापन्न किया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष, सांसद (राज्यसभा) व उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी ने

Posted on 29 June 2015 by admin

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष, सांसद (राज्यसभा) व उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी ने भाजपा-शासित चार राज्यों-मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा और राजस्थान में बी.एस.पी. के वरिष्ठ व प्रमुख जि़म्मेवार पदाधिकारियों के साथ आज यहाँ लम्बी बैठक की और इन राज्यों में पार्टी संगठन के कार्यकलापों व ज़मीनी तैयारियों एवं सर्वसमाज में पार्टी के जनाधार को बढ़ाने के कार्यों की गहन समीक्षा के साथ-साथ वहाँ की सरकारों की ग़लत नीतियों व कार्यकलापों के कारण ख़ासकर ग़रीबों, किसानों, मज़दूरों, दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों व मुस्लिम समाज आदि के खि़लाफ होने वाली जुल्म-ज़्यादतियों व अन्याय के विरूद्ध चल रहे बी.एस.पी. के आन्दोलन की भी समीक्षा की।
यह ख़ास बैठक यहाँ बी.एस.पी. उत्तर प्रदेश यूनिट कार्यालय 12 माल एवेन्यू में हुई, जिसमें उन चारों प्रदेशों के ज़मीनी-स्तर से जुड़े प्रमुख पदाधिकारियों व जि़म्मेवार लोगों ने भाग लिया। इन लोगों ने बैठक में बताया कि उपरोक्त चारों भाजपा-शासित राज्यों में, केन्द्र की भाजपा सरकार की ही तरह ही, सर्वसमाज में से ख़ासकर ग़रीबों, मज़दूरों, किसानों, युवाओं आदि के हितों की अनदेखी करके, केवल बड़े-बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों आदि को ही लाभ पहुँचाने का काम किया जा रहा है।
इन सभी राज्यों में भ्रष्टाचार के मामले आयेदिन अख़बारों में छपते रहते हैं, परन्तु वहां की भाजपा सरकारें इससे बेपरवाह हैं। इसके विपरीत, भ्रटाचारियों आदि को हर प्रकार संरक्षण दिया जा रहा है। इन राज्यों में प्रतिपक्ष के कमज़ोर होने का वहाँ की भाजपा सरकार पूरा लाभ उठाकर जनहित व जनकल्याण के प्रति पूरी तरह से असंवेदनशील व बेपरवाह बनी हुई है। दलितों, आदिवासियों व अन्य पिछड़े वर्गों को मिलने वाली आरक्षण की सुविधा को पूरी तरह से निष्क्रिय व निष्प्रभावी बना दिया गया है। यह भाजपा की उसी दलित व पिछड़ा वर्ग-विरोधी नीति का हिस्सा है जिस पर केन्द्र की श्री नरेन्द्र मोदी सरकार भी लगातार चल रही है। इसी कारण खासकर भाजपा-शासित राज्यों व केन्द्र दोनों ही स्तर पर ’’आरक्षण’’ के मामले में घोर उदासीनता व उपेक्षा हो रही है।
मध्य प्रदेश की रिपोर्ट में बताया गया कि बहुचर्चित ’’व्यापम घोटाले’’ की चर्चा मध्य प्रदेश ही नहीं पूरे देश भर में है, जिसके तहत हर स्तर के सरकारी नौकरियों में काफी संगठित तौर पर अनेंको वर्षों से व्यापक भ्रष्टाचार हुआ है। परन्तु भाजपा का नेतृत्व अपने बड़े नेताओं के इस बड़े भ्रष्टाचार के प्रति भी आंख मूँदे रहना ही बेहतर समझ रहा है।
इसी प्रकार छत्तीसगढ़ में विभिन्न भ्रष्टाचार के मामलों की आंच मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचने की बात बार-बार मीडिया में आने के बावजूद भी श्री रमन सिंह की सरकार बेख़ौफ व निश्चिन्त दिखाई पड़ती है।
इतना ही नहीं बल्कि राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे द्वारा एक ’’भगौड़े’’ आई.पी.एल. क्रिकेट के पूर्व प्रमुख ललित मोदी के साथ देशहित के खि़लाफ जाकर केवल परिवारिक व व्यापारिक सम्बन्ध निभाने का ग़लत मामला आजकल देशभर में अख़बारों की सुर्खियों में है। परन्तु भाजपा नेतृत्व व श्री नरेन्द्र मोदी सरकार की निगाह में इन सभी मुख्यमंत्रियों का पाक-साफ होना एवं इनके खि़लाफ उचित क़ानूनी कार्रवाई नहीं करना देश के लोगों को आश्चर्यचकित किये हुये है।
इसके साथ ही, हरियाणा की भाजपा सरकार का घोर जातिवादी व साम्प्रदायिक चरित्र व रवैया बार-बार लोगों को देखने को मिल रहा है। लेकिन भाजपा सरकार दोषियों व जुल्म-ज़्यादतियां करने वालों के खि़लाफ क़ानूनी कार्रवाई नहीं करके, उल्टा उन तत्वों को संरक्षण प्रदान कर रही है।
समीक्षा बैठक में हर राज्यों से पार्टी संगठन सम्बन्धी अलग-अलग विस्तृत रिपोर्ट लेने के बाद  बी.एस.पी. प्रमुख सुश्री मायावती जी ने अपने सम्बोधन में कहा कि भाजपा-शासित राज्यों में ग़रीबों, किसानों, दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों व धार्मिक अल्पसंख्यकों में से ख़ासकर मुस्लिम व ईसाई समाज के लोगों के खि़लाफ घृणा, जातिवादी व साम्प्रदायिक वारदातें कोई नई बात नहीं हैं। भाजपा शासन में तो ऐसा होना स्वभाविक ही है क्योंकि यहीं भाजपा का असली चाल, चरित्र व चेहरा है जिसे पूरा देश जानता और समझता है। परन्तु भाजपा शासन में, कांग्रेस सरकारों की तरह ही, ’’भ्रष्टाचार’’ के बड़े-बड़े संगीन मामलों व घोटालों का लगातार उजागर होना भाजपा के ‘‘नये स्वभाव‘‘ का पर्दाफ़ाश करता है और यह साबित करता है कि सत्ता व शासन एवं घोटालों के मामले में कांग्रेस व भाजपा दोनों ना केवल एक ही जैसे हैं, बल्कि एक ही थैली के चट्टे-बट्टे भी हंै।
किन्तु भ्रष्टाचार के मामले में दूसरी पार्टियां व भाजपा में इतना अन्तर ज़रूर लोगों को साफ तौर पर दिखायी दे रहा है कि भारी दबाव में आकर दूसरी पार्टियां अपने मंत्रियों से इस्तीफा ले लिया करती थी, परन्तु भाजपा का नेतृत्व इतना अहंकारी व तानाशाह है कि भारी जन-दबाव के बावजूद भ्रष्ट आचरण व देशहित के विरूद्ध काम करने वाले मंत्रियों व मुख्यमंत्री आदि से इस्तीफा लेने को तैयार नहीं दिखता है। देश के समक्ष यह एक अभूतपूर्व स्थिति है जिससे लोग आश्चर्यचकित हैं।
सुश्री मायावती जी ने कहा कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा व राजस्थान इन सभी राज्यों में विपक्ष के काफी कमज़ोर होने के कारण आमजनता का जीवन काफी ज़्यादा दुःखी व अन्यायपूर्ण बना हुआ है। इन सभी राज्यों में बी.एस.पी. मूवमेन्ट की जड़े मज़बूत रही हैं और हमारी पार्टी के अनेकों विधायक व सांसद भी वहां से जीतते रहे हैं। ज़मीनी स्तर पर थोड़ी और ज़्यादा मेहनत व लगन से काम करके अच्छा रिज़ल्ट प्राप्त किया जा सकता है। बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के अनुयाइयों को ’’सामाजिक परिवर्तन व आर्थिक मुक्ति’’ के महान मिशनरी लक्ष्य की प्राप्ति हेतु पूरी लगन व मिशनरी भावना से लगातार काम करते रहने की ज़रूरत है।
बी.एस.पी. संगठन को मज़बूत करने के लिए उन्होंने अन्य सुझावों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश के पैटर्न पर पार्टी में हर स्तर पर युवकों को प्रोत्साहित करने व पार्टी संगठन में उन्हें उचित स्थान दिये जाने का निर्देंश उन राज्यों के प्रभारियों को दिया। पार्टी संगठन की तैयारी के सम्बंध में आगे की विभिन्न चुनौतियों का सामना करने के लिए भी सुश्री मायावती जी ने विशेष दिशा-निर्देंश दिये।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने आई.आई.टी. की प्रवेश परीक्षा में अच्छी रैंक पाने वाले सात छात्रों को सम्मान स्वरूप एक-एक लैपटाॅप व 01-01 लाख रु0 का चेक प्रदान किया

Posted on 29 June 2015 by admin

press-1

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने इस वर्ष भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आई.आई.टी.) की प्रवेश परीक्षा में अच्छी रैंक पाने वाले विभिन्न जनपदों के सात छात्रों को सम्मान स्वरूप एक-एक लैपटाॅप व 01-01 लाख रुपये का चेक प्रदान किया।
प्रतिभावान छात्रों को आज यहां अपने सरकारी आवास पर सम्मानित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जनपद सुल्तानपुर के श्री विष्णु गुप्ता, प्रतापगढ़ के श्री कपूर सरोज व श्री शुभम यादव, सोनभद्र के श्री मुजम्मिल खान तथा श्री आलोक मौर्या, अमेठी के श्री नीलेश यादव तथा रायबरेली के श्री शशांक अवस्थी अपने-अपने क्षेत्रों में अन्य छात्र-छात्राओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं। श्री कपूर सरोज ने जहां आँखों में कम रोशनी के बावजूद अनुसूचित जाति की सूची में पांचवां स्थान प्राप्त किया है, वहीं श्री शशांक अवस्थी ने आई.आई.टी. में चयनित होने के साथ-साथ 12वीं कक्षा की परीक्षा में 97 प्रतिशत अंक प्राप्त किये हैं। उन्होंने इन छात्रों को बधाई देते हुए इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।
इस अवसर पर श्री यादव ने प्रतिभाशाली छात्रों की तारीफ करते हुए कहा कि इन छात्रों ने विषम परिस्थितियों में साधनहीनता के बावजूद जो सफलता अर्जित की है, वह सराहनीय है। उन्होंने छात्रों से अपील की कि आई.आई.टी. की पढ़ाई के बाद जहां भी उन्हें काम करने का मौका मिले वे हमेशा गरीबों की मदद के लिए तत्पर रहें। उन्होंने भरोसा जताया कि आई.आई.टी. की पढ़ाई में भी ये छात्र अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। समाजवादी सरकार प्रतिभा, मेहनत और लगन का हमेशा से सम्मान करती आयी है। इन छात्रों को भविष्य में भी राज्य सरकार की ओर से हर सम्भव मदद देने का भी उन्होंने आश्वासन दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विकास में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। ऐसे में प्रतिभाशाली छात्रों को हर तरह की मदद और प्रोत्साहन दिया जाना आवश्यक है, ताकि वे आने वाले समय में और उपलब्धियां हासिल कर देश व दुनिया में प्रदेश का नाम रौशन करें तथा राज्य के विकास में सक्रिय भागीदारी निभाएं। निःशुल्क लैपटाॅप वितरण योजना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों तथा किसानों के बच्चों को आधुनिक तकनीक के क्षेत्र में साधन सम्पन्न परिवारों के बच्चों के बराबर लाने के लिए लैपटाॅप वितरित किए। इन छात्रों को आज दिए गए लैपटाॅप की मदद से इनकी आगे की पढ़ाई में काफी सहयोग मिलेगा।
श्री यादव ने कहा कि 4जी के माध्यम से ताजमहल सहित प्रदेश के प्रमुख ऐतिहासिक व धार्मिक व पर्यटक स्थलों, पार्काें आदि को वाई-फाई की सुविधा से सम्पन्न किया जाएगा। यहां हजरतगंज में वाई-फाई की सुविधा देने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विकास के मामले में राज्य सरकार हमेशा केन्द्र सरकार को सहयोग देने का काम करती रही है। वर्तमान राज्य सरकार प्रदेश के विकास के लिए सभी क्षेत्रों में गम्भीरता से काम कर रही है। उन्होंने विद्युत वितरण एवं आपूर्ति व्यवस्था के लिए बनाए जा रहे विद्युत सबस्टेशन, किसानों के लिए अलग फीडर, सौर ऊर्जा परियोजनाआंे आदि का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश के विकास के लिए राज्य सरकार की पहल अन्य सरकारों के लिए एक उदाहरण है।
इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री श्री राजेन्द्र चैधरी एवं विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री श्री मनोज पाण्डेय ने भी अपने विचार व्यक्त किए तथा छात्रों को बधाई दी।
कार्यक्रम में जनप्रतिनिधिगण, प्रमुख सचिव सूचना श्री नवनीत सहगल व अन्य अधिकारी तथा छात्रों के परिवारीजन भी उपस्थित थे।

press2-2

press1-2

press-3

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

जिलाधिकारी द्वारा विकास खण्ड कार्यालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सरोजनीनगर का आकस्मिक निरीक्षण- बी0डी0ओ0, जेई व लेखाकार के विरूद्ध कार्यवाही-

Posted on 29 June 2015 by admin

जिलाधिकारी श्री राज शेखर ने आज विकास खण्ड कार्यालय एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सरोजनीनगर का आकस्मिक निरीक्षण किया, जिसमंे उन्हें अनेक गड़बडि़यां मिलीं। निरीक्षण के दौरान विकास खण्ड कार्यालय मे खण्ड विकास अधिकारी से मिलने वालों का आगंतुक रजिस्टर नहीं रखा गया था, जिससे यह नहीं पता चल पाया कि कितने लोग किस कार्य से उनसे मिलने आये और उनकी शिकायतांे एवं प्रार्थनापत्रों की प्रकृति क्या थी। जिलाधिकारी ने आगंतुक रजिस्टर न होने को संज्ञान मे लेते हुए इसे अत्यन्त गम्भीर मामला बताते हुए बी0डी0ओ0 को कड़ी चेतावनी जारी की है।
निरीक्षण के दौरान खण्ड विकास कार्यालय द्वारा संचालित योजनाओं के निर्माण कार्य में जिलाधिकारी द्वारा गैर कानूनी प्रक्रिया का अपनाया जाना पाया गया। तेरहवें वित्त आयोग और राज्य वित आयोग के 2013-14 के कार्यो को बिना टेण्डर के करा लिया गया और उसका लाखों रूपये का भुगतान भी वित्तीय नियम की अवहेलना कर गैर कानूनी ढंग से किया गया। निरीक्षण के दौरान यह पाया गया कि सारा कार्य तत्कालीन खण्ड विकास अधिकारी, अवर अभियन्ता, और लेखाकार की साॅठ गाॅठ से हुआ। जिलाधिकारी ने इस कारण से नौ फाइलों को उच्च स्तरीय जाॅंच हेतु जब्त कर लिया और तत्कालीन खण्ड विकास अधिकारी को कारण बताओं नोटिस जारी करते हुए उनसे पूछा कि क्यों न उन्हे निलम्बित कर दिया जाये। इस प्रकरण में अवर अभियन्ता लघु सिचाई का निलम्बन किये जाने हेतु संस्तुति की गयी जबकि लेखाकार को निलम्बित किये जाने के आदेश जिलाधिकारीे द्वारा दिये गये। जिलाधिकारी ने इसके साथ ही इस तरह के सभी ब्लाकांे मे चल रहे  कार्यो की फाइलों को जब्त करने के आदेश दिये है ताकि एक समिति द्वारा उनका परीक्षण कराया जा सके।
इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी श्री राज शेखर ने आज ही सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सरोजनीनगर का निरीक्षण किया, जहां उन्हे एक डाक्टर व एक स्त्री रोग विशेषज्ञ अस्पताल से बाहर की दवाईयाॅ लिखते हुए मिले जबकि बाहर से दवा लिखने वाला डाक्टर पर्चे पर न तो अपना नाम लिख रहा था और न ही पद लिख रहा था जो अपराधिक उदासीनता की श्रेणी का एक गम्भीर विषय है। स्त्री रोग विशेषज्ञ ने बताया कि अस्पताल की दवा से मरीज को परेशानी हो रही थी इस लिए उन्होने बाहर की एक अनुकूल दवा प्रस्तावित की है इस पर जिलाधिकारी ने सभी डाक्टरों को निर्धारित दिशा निर्देशो का पालन करने के निर्देश दिये है। उन्होने निर्देश दिये हैं यदि बाहर की दवा लिखने की जरूरत हो तो सबसे पहले देखे कि मरीज को उन दवाओं की तत्काल आवश्यकता है और मरीज द्वारा उसे खरीदने की सहमति दी गयी है। इसके अलावा बाहर से दवा लिखने का कारण पर्चे के पीछे लिखे और कारण भी दें। बाहर से पर्चा लिखने वाले डाक्टर से स्पष्टीकरण अथवा उसे निर्देश देने के लिए जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया है।
जिलाधिकारी को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में जननी सुरक्षा योजना की स्थित ठीक दिखायी दी। सभी दवाइयाॅं उपलब्ध थीं केवल एन्टीरैबीज वैक्सीन अनुपलब्ध था जिसे तत्काल मगाये जाने की आवश्यकता है। जिलाधिकारी को यहां पर डाक्टर की संख्या कम मिली जबकि  पास मे ही एयरपोर्ट होने के कारण वी0आई0पी0 के आने के कारण वी0आई0पी0 ड्यूटी भी करनी पडती है जिलाधिकारी ने देखा की अस्पताल में डाक्टर अपने सफेदकोट मे नेमप्लेट नही लगा रहे है न ही कमरों के प्रवेश द्वार पर नाम पदनाम योग्यता को प्रर्दशित करने वाली पट्टिका ही लगा रहे है। इस पर जिलाधिकारी ने डाक्टरों को चेतावनी देकर कहा है कि सूचना के अधिकार के अधीन हर मरीज को अधिकार है कि इलाज करने वाले डाक्टर की योग्यता नाम पदनाम क्या है, इसलिए नाम पदनाम और योग्यता के बोर्ड जल्द से जल्द लगा दिये जाये।

कल रविवार को शामे अवध में हजरतगंज के गंजिंग कार्निवाल के मुख्य आकर्षण में कथकए बैण्ड और नुक्कड़ नाटक हैं। यह सॉस्कृतिक योगदान संस्कृति विभाग के सहयोग से है। कल्चरल प्रोग्राम का उद्घाटन संस्कृति सचिव श्रीमती अनीता मेश्राम डीएम श्री राजशेखर की मौजूदगी में करेंगी।

कथक का आयोजन मल्टी लेवल पार्किंग पर भातखंडे की कथक प्राधयापिका रुचि खरे अपने ग्रुप के साथ करेंगी।
बैण्ड वादन कार्यक्रम साहू पर गूंज बैण्ड ग्रुप द्वारा प्रस्तुत किया जायेगा।
नुक्कड नाटक मेफेयर पर होगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

महिन्द्रा एंड महिन्द्रा ने उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में बिना बिजली वाले बेलवा गांव में रोशनी की

Posted on 29 June 2015 by admin

महिन्द्रा एमपावर्ड विलेजष् पहल के भाग के रूप में महिन्द्रा एंड महिन्द्रा ने उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले में बिना बिजली वाले बेलवा गांव के एक हिस्से में दो सोलर माइक्रो ग्रिड लगाए गए हैं। इस पहल के लिए महिन्द्रा ने मृदा का सहयोग लागू करने वाले साझेदार के रूप में लिया है। मृदा ;ूूूण्उतपकंहतवनचण्बवउद्ध एक सामाजिक कारोबारी उपक्रम है और इसे गांवों के संपूर्ण विकास के उद्देश्य से निरंतर चलने वालेए जरूरत के अनुसार बढ़ाए जा सकने वाले कारोबारी मॉडल तैयार करने के लिए निगमित कराया गया है। महिन्द्रा सीएसआर टीम और मृदा मिलकर पास के एक और गांव झझवा के हिस्से को कवर करेंगे।

महिन्द्रा एंड महिन्द्रा लिमिटेड के फार्म डिविजन में प्रमुख . बिक्रीए चैनल व कस्टमर केयर श्री शुभब्रत साहा कहते हैंए श्यह पहल महिन्द्रा एंड महिन्द्रा कॉरपोरेट सीएसआर टीमए दिल्ली में हमारे जोनल कार्यालयए लखनऊ स्थित क्षेत्रीय कार्यालय और हमारे स्थानीय डीलर कुशीनगर जिले के हटा स्थिति शिवॉय ट्रैक्टर्स की सोच का नतीजा है। मकसद है ष्ईएसओपीष् दृ एमपलाई सोशल ऑप्शन प्रोग्राम के भाग के रूप महिन्द्रा टीम के ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ना। उन्होंने आगे कहाए श्हमारा मानना है कि मृदा के साथ मिलकर हमलोग एक वास्तविक बदलाव लाने में सक्षम है।श्

बेलवा में ग्रिड लगने के बाद 35 घरों का यह गांव का छोटा सा हिस्सा जहां अभी तक बिजली नहीं हैए वहां अब हर घर में दो एलईडी बल्ब जलेंगे और मोबाइल चार्ज करने के लिए एक प्वाइंट होगा। इस बात का ख्याल रखते हुए कि मुफ्त की चीज का ज्यादा असर नहीं होता हैए इस कनेक्शन के लिए मामूली फीस ली जाएगी और बिजली के उपयोग के लिए भी कुछ पैसे लिए जाएंगे। इस तरह एकत्र होने वाला धन गांव विकास के कोष में जाएगा और इसका प्रबंध गांव विकास समिति करेगी। यह सुनिश्चित किया जाएगा कि इस पैसे से कुछ समय में गांव के स्थायी विकास का काम होता रहे।

अभी तक 20 से ज्यादा घरों ने कनेक्शन फीस देकर कनेक्शन ले लिए हैं। अमूमन ऐसे मामलों में यही होता है कि शुरू में ऐसी पहल से जुड़ने वाले समूह में बुहत कम लोग रहते हैं और धीरे.धीरे बढ़ते जाते हैं। गांव में सड़क पर सोलर एलईडी लाइट लगाने की प्रक्रिया भी शुरू हो चुकी है। बेलवा में अभी तक प्रमुख जगहों पर पांच लाइट लगाई जा चुकी है।

जिन अन्य योजनाओं पर काम चल रहा है उनमें स्थानीय कृषि विज्ञान केंद्र ;केवीकेद्ध के साथ मिलकर कृषि हस्तक्षेपए एक सौर ऊर्जा वाला ई.हब शामिल है ताकि शिक्षाए मनोरंजन और ई कामर्स सुविधाएं मुहैया कराई जा सके। इसके अलावा एक बैट्री चालित ई.रिक्शा और हेल्थ ध् हाईजीन ध् सैनिटेशन अभियान भी चलाया जाना है। इस पूरी पहल का उद्देश्य स्थायी और संपूर्ण विकास संभव करना है ताकि बेलवा को एक ष्एमपावर्डष् गांव में बदला जा सके।

मृदा ग्रुप के सह.संस्थापक अरुण नागपाल कहते हैंए श्यह विकास के प्रति मृदा की अपनी सोच के क्रम में है। इसमें ऊर्जा तक पहुंच और कृषि में हस्तक्षेप को साधन समझा जाता है और दिखाया जाता है कि कैसे छोटे हस्तक्षेप से महत्वपूर्ण प्रभाव डाला जा सकता है। टीम एमएंडएम इस पहल से बहुत अच्छी तरह जुड़ी हुई थी और हम उम्मीद करते हैं बेलवा का अनुभव दिखाएगा कि सही दिशा में काम करने से कैसे मौके बढ़ते जाते हैं।श्

बिना बिजली वाले बेलवा गांव के हिस्से के बारे में रू
ऽ    हरिजन बस्ती
ऽ    35 घरों का गांव का छोटा सा हिस्सा
ऽ    एकदम निचले स्तर के लोग
ऽ    आजादी के बाद से बिजली आई ही नहीं
ऽ    रोशनी के लिए मिट्टी तेल एकमात्र उपाय

महिन्द्रा एमपावर्ड विलेज के भाग के रूप में क्या दिया गया है ध् दिया जाएगा
ऽ    सौर ऊर्जा के ऊपयोग से बिजली मिलेगी
ऽ    बिजली का उपयोग संपूर्ण विकास के साधन के रूप में किया जाएगा
ऽ    जीवन बदलने के लिए मामूली हस्तक्षेप
ऽ    आजीविका कमाने के मौके बनाए जाएंगे दृ टोकरी बुनना
ऽ    सफाईए स्वास्थ्य और हाईजीन
ऽ    सड़क पर सोलर लाइट
ऽ    ई हब बनेगा दृ सौर उर्जा से शिक्षाए मनोरंजन और ई कामर्स की सुविधा
ऽ    ई रिक्शा दृ पर्यावरण अनुकूल परिवहन
ऽ    कृषि में हस्तक्षेप
ऽ    गांव का जीडीपी बेहतर करना

मृदा के बारे में
एक सामाजिक कारोबारी उपक्रम जो फरवरी 2014 में निगमित हुआ था। ष्मृदाष् ;संस्कृत में ष्मिट्टीष्द्ध की कोशिश है कि निरंतर चलने वालेए आवश्यकतानुसार बढ़ाए जा सकने वालेए आर्थिक तौर पर व्यवहार्य बिजनेस मॉडल तैयार किए जाएं जिसका मकसद गांवों का संपूर्ण विकास हो। मृदा की कोशिश रहती है कि कैसे ष्छोटे हस्तक्षेपष् से ष्बड़ा बदलावष् लाया जाए।

मृदा ने स्थापना के समय से ही अभिनव परियोजनाएं शुरू की है जो सोलर माइक्रो ग्रिड और कृषि पहल पर केंद्रित हैं ताकि भारत के दूरदराज के राज्यों राजस्थान ;आबू रोडद्धए उत्तर प्रदेश ;बरेलीद्ध उत्तराखंड ;हरिद्वारए अल्मोड़ा और उत्तरकाशीद्ध तथा जम्मू व कश्मीर ;लेहध्लद्दाखद्ध जैसे राज्यों में बिजली तक पहुंच मुहैया कराई जा सके जिससे शिक्षाए महिला सशक्तिकरण और आजीविका के मौके मुहैया कराए जा सकें। शुरुआती प्रतिक्रिया और परिणाम उत्साहवर्धक रहे हैं और इनके परिणाम दिखाई देने वाले रहे हैं। अगले 2.3 वर्षों के दौरान ऐसे और भी कार्यशील मॉडल स्थापित करने पर फोकस होगा और देश के भिन्न हिस्सों में कई गांवों तथा गांव के हिस्सों में अवधारणा के सबूत स्थापित किए जाएंगे। इसमें दिखाया जाएगा कि मामूली हस्तक्षेप की संभावनाएं क्या हैं तथा यह भी कि इससे निरंतर और महत्त्वपूर्ण सामाजिक प्रभाव पड़ता है और आर्थिक विकास भी होता है।

एकीकृत कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी ;सीएसआरद्ध पहल के लिए मृदा ने भारत में अग्रणी कारोबारी संस्थानों जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड ;आईएलएंडएफएसद्धए रॉकमैन इंडस्ट्रीज लिमिटेड ;हीरो मोटर्स ग्रुपद्ध और महिन्द्रा एंड महिन्द्रा के साथ साझेदारी की है और इस समय इस सिलसिले में दूसरों के साथ सक्रिय चर्चा में भी लगा हुआ है।

मृदा मिट्टी के करीब जमीनी स्तर पर काम करता है। इसके कार्य पिरामिड के आधार ;बीओपीद्ध पर केंद्रित हैं जो मृदा के अहम ग्राहक हैं। उत्पाद पेशकशें वास्तव में और प्रतीकात्मक रूप से भी मिट्टी से ही निकलती हैं।

इस समूह में कारोबारी इकाइयां हैं जो आर्थिक रूप से व्यवहार्य बिजनेस मॉडल पर काम कर रहे हैं जिन्हें इस तरह से डिजाइन किया गया है कि जिस किसी से भी गठजोड़ किया गया है उसके लिए भी लाभ की स्थिति बनाई जा सके। इनमें निम्नलिखित शामिल हैं रू
ऽ    मृदा रीनर्जी एंड डेवलपमेंट ;पीद्ध लिमिटेड दृ विद्युत आपूर्ति के लिए ग्रिड से नहीं जुड़े दूर.दराज के गांवों में बिजली तक पहुंच मुहैया कराने की कोशिश करता है और इसका उपयोग स्थायी ग्रामीण विकास के लिए साधन के रूप में करता है।
ऽ    मृदा ग्रीन्स एंड ऑर्गेनिक्स प्राइवेट लिमिटेड दृ उच्च मूल्य वाली फसलए पौधे और जड़ी बूटियों की खेती और उसके संग्रह के लिए सहायता देता है तथा उपभोक्ताओं के लिए स्वास्थ्यकर उत्पादों और परंपरागत भारतीय दवाइयों के उत्पादन को बढ़ावा देता है और साथ ही छोटे सीमांत ग्रामीण समुदाय के लिए अच्छी कीमत और स्थायी आजीविका सुनिश्चित करता है।
ऽ    खोज दृ खोज की यात्रा दृ मृदा के श्इंपैक्ट टूरिज्मश् उपक्रम से इसके मूर्त लाभ का प्रदर्शन होता है और साथ ही छोटे हस्तक्षेप के प्रभाव का पता पिरामिड के आधार पर चल जाता है जबकि ग्रामीण भारत की जमीनी वास्तविकताओं को एक निश्चिंत और मुक्त माहौल में समझने के लिए अनूठा मौका मुहैया होता है।

मृदा आर्थिक तौर पर व्यवहार्य कारोबारी मॉडल का प्रतिनिधित्व करता है जो स्थायी और स्केलेबल हैं दृ ऐसे कारोबार जो ना सिर्फ धन तैयार करते हैं बल्कि हर तरह के लोगों में इसका वितरण करते हैं। इससे एक ऐसा चक्र बनता है जो अपना ख्याल रखने के साथ.साथ समय के साथ चलते हुए बड़ा और मजबूत होता जाता है।

मृदा कुछ करना चाहने वाले लोगों का समूह है जो मिलकर एक सशक्त और स्वप्रेरित टीम बनाते हैं। कॉरपोरेट और गैर सरकारी क्षेत्रों में काम करने के विस्तृत और अच्छे अनुभव के साथ इस टीम में कुछ ऐसा है जो जमीन पर परिणाम देता है। ज्यादा जानकारी के लिए कृपया रू ीजजचरूध्ध्ूूूण्उतपकंहतवनचण्बवउध्    पर आइए।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

पंचवटी गौरव, पंचवटी समूह का प्रमुख ब्राण्ड है, जहां असीमित थाली के रूप में 100 प्रतिशत शुद्ध शाकाहारी गुजराती और राजस्थानी व्यंजन परोसे जाते हैं।

Posted on 29 June 2015 by admin

पंचवटी गौरव, पंचवटी समूह का प्रमुख ब्राण्ड है, जहां असीमित थाली के रूप में 100 प्रतिशत शुद्ध शाकाहारी गुजराती और राजस्थानी व्यंजन परोसे जाते हैं।
पंचवटी गौरव परिवार मिलन समारोह और अवसरों व किसी भी त्यौहार को मनाने के लिए उत्तम विकल्प है।
हमारी प्रेम और स्नेह के साथ परम्परागत थाली की सेवा की टेªडमार्क स्टाइल भारतीय संस्कृति के संस्मरण हैं। पंचवटी गौरव भोजन और अतिथि सत्कार के लिए नई संभावनाओं के साथ परंपरागत अनुभव का अनूठा मिश्रण है।
     1982 से कार्यरत पंचवटी गौरव पिछले तीन दशकों से थाली रेस्त्रां क्षेत्र में एक प्रमुख ब्राण्ड है।
     भारत में 12 स्थानों पर उपलब्ध
     गुजरात और राजस्थान के 2245 व्यंजनों के साथ 68 विभिन्न अलग-अलग मेनू
     10 लाख से अधिक थालियां सेवित
     सेवी कुक बुक अवार्ड 2006 के लिए नामांकित
     इंडियन एक्सपे्रस और मिड-डे द्वारा सबसे अच्छा थाली रेस्त्रां के रूप में समीक्षा की गई
स्थान और रेस्टोरेंट की संख्या:-
     मुंबई - 6
     पुणे - 3
     बैंगलौर -3
     इन्दौर - 2
     नागपुर - 1
     नाशिक - 3
     स्ंगमनर - 1
     सिन्नर - 1
     जबलपुर - 1
     भुसावल - 1
     गुडगांव - 1
     कोयम्बटूर - 1
थाली में शामिल हैं:-
     वेलकम ड्रिंक, बटरमिल्क और मिनरल वाटर
     2 प्रकार का मीठा, 2 प्रकार का फरसान, 4 प्रकार की सब्जी, 3 रोटी, 2 प्रकार का चावल, 2 कढ़ी, 2 प्रकार की दाल
     सलाद, पापड़ और चटनी

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुख्यमंत्री के निर्देश पर उत्तर प्रदेश में स्थायी रूप से निवास करने वाले वरिष्ठ नागरिकों को अजमेर शरीफ एवं पुष्कर (राजस्थान) की निःशुल्क तीर्थ यात्रा करवाई जाएगी

Posted on 29 June 2015 by admin

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली राज्य की समाजवादी सरकार ने उत्तर प्रदेश में स्थायी रूप से निवास करने वाले वरिष्ठ नागरिकों को भारतीय रेलवे के उपक्रम-इण्डियन रेलवे कैटरिंग एण्ड टूरिज्म कारपोरेशन (आई0आर0सी0टी0सी0) लि0- के सहयोग से अजमेर शरीफ एवं पुष्कर (राजस्थान) की निःशुल्क तीर्थ यात्रा, शासकीय व्यय पर, करवाने का निर्णय लिया है।
यह जानकारी आज यहां देते हुए प्रमुख सचिव धर्मार्थ कार्य श्री नवनीत सहगल ने बताया कि यह यात्रा राज्य के वरिष्ठ एवं मूल निवासियों के लिए उपलब्ध होगी तथा इसे आई0आर0सी0टी0सी0 के माध्यम से सम्पन्न कराया जाएगा। इस यात्रा के लिए चयनित किए गए यात्रियों को एक विशेष रेलगाड़ी द्वारा, जिसे आई0आर0सी0टी0सी0 द्वारा रेलवे से चार्टर किया जाएगा, लखनऊ से अजमेर एवं पुष्कर (राजस्थान) तक की यात्रा करायी जाएगी। यात्रियों को सामान्य श्रेणी की ही सुविधाएं दी जाएंगी। उन्हें यात्रा के दौरान ट्रैवेल किट उपलब्ध करायी जाएगी।
श्री सहगल ने बताया कि यात्रियों को उनके गृह जनपद से लखनऊ तक आने जाने की व्यवस्था उ0प्र0 राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा करायी जाएगी। यात्रियों को निर्धारित मेन्यू, जिसमें सूबह की चाय, सूबह का नाश्ता दोपहर का खाना, शाम की चाय एवं रात का खाना सम्मिलित है, उपलबध कराया जाएगा। यात्रा के दौरान उन्हें सिर्फ शाकाहारी भोजन ही उपलब्ध कराया जाएगा। गाड़ी के प्रत्येक कोच में एक टूर सहचर की व्यवस्था रहेगी जो यात्रियों की देखभाल, उनकी समस्याओं का तुरन्त निस्तारण, सूचना एवं अन्य व्यवस्थायें सुनिश्चित करने हेतु उपलब्ध रहेंगे।
प्रमुख सचिव ने कहा कि प्रत्येक कोच में एक निःशस्त्र सुरक्षा गार्ड की व्यवस्था रहेगी। स्टेशन पर एवं ट्रेन में किसी सुरक्षा सम्बन्धी समस्या होने पर रेलवे सुरक्षा बल (आर0पी0एफ0) व राजकीय रेलवे पुलिस की मदद ली जा सकती है। साथ ही, पूरी ट्रेन की साफ-सफाई, विशेष रूप से टाॅयलेट की सफाई हेतु उपयुक्त संख्या में सफाई कर्मचारी, सफाई सामग्री के साथ उपलब्ध रहेंगे। यात्रा के दौरान ट्रेन में समय-समय पर उद्घोषणा हेतु लोक उद्घोषणा प्रणाली (पी0ए0 सिस्टम) की व्यवस्था की जाएगी।
श्री सहगल ने बताया कि ट्रेन में कुल 1044 यात्रियों के लिए बर्थ आरक्षित रहेगी। प्रत्येक स्लीपर कोच में एक बर्थ सुरक्षा कर्मी एवं एक बर्थ टूर सहचर के लिए निर्धारित की जाएगी। एक केबिन (6 बर्थ) आई0आर0सी0टी0सी0 स्टाफ हेतु आरक्षित होगा। यात्रा के दौरान आई0आर0सी0टी0सी0 द्वारा प्रत्येक यात्री का यात्रा दुर्घटना बीमा कराया जाएगा।
प्रमुख सचिव ने कहा कि अजमेर शरीफ एवं पुष्कर (राजस्थान) यात्रा की सम्भावित तिथि 23 जुलाई, 2015 है। यात्रा हेतु इच्छुक यात्री वेबसाइट ीजजचरूध्ध्ेंउंरूंकपेीतंअंदलंजतंण्नचहवअण्पदवि पर अपना आवेदन सभी सम्बन्धित/वांछित अभिलेखों सहित न्चसवंक कर दिनांक 07 जुलाई, 2015 तक प्रस्तुत कर सकते हंै। अन्य इच्छुक यात्री अपना आवेदन, मूल रूप में सभी सम्बन्धित/वांछित अभिलेखांे सहित, अपने जिले के अधिकारी को विलम्बतम दिनांक 10 जुलाई, 2015 तक उपलब्ध करा सकते है। आवेदन पत्र के साथ, आवेदन द्वारा, समक्ष अधिकारी द्वारा प्रदत्त निवास प्रमाण पत्र या पहचान पत्र, जन्म तिथि प्रमाण पत्र एवं यात्रा की उपयुक्तता हेतु यात्री द्वारा स्वयं की शारीरिक दक्षता के सम्बन्ध में अपने जनपद के चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रदत्त स्वस्थता प्रमाण पत्र तथा दो पासपोर्ट आकार के फोटो अनिवार्य रूप से मूल रूप में प्रस्तुत किया जाना होगा।
श्री नवनीत सहगल ने बताया कि समस्त जिलों के जिला अधिकारी, आफ लाइन प्राप्त होने वाले आवेदन पत्रों पर, उनके प्राप्त होने की तिथि तथा समय अंकित कराया जाएगा। तदुपरान्त सम्बन्धित जिला अधिकारी द्वारा अपने जिले से प्राप्त होने वाले आवेदन पत्रों को तत्काल वेबसाइट ीजजचरूध्ध्ेंउंरूंकपेीतंअंदलंजतंण्नचहवअण्पदवि पर फीड कराया जाएगा। इस प्रकार तैयार की गई सूची में से यात्रा हेतु यात्रियों का चयन उनकी जन्मतिथि के मद्देनजर वरिष्ठता के आधार पर तथा ‘पहले आओ पहले पाओ’ के सिद्धान्त पर इसी वेबसाइट पर किया जाएगा। सम्बन्धित जिला अधिकारी द्वारा इस प्रकार चयनित यात्रियों की सूची के अतिरिक्त शेष बचे यात्रियों की प्रतीक्षा सूची भी तैयार करायी जाएगी। प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को आगामी प्रस्तावित यात्रा में अवसर प्रदान किया जाएगा। इस कार्य को करने के लिए समस्त जिलाधिकारियों को वेबसाइट/यू0आर0एल0 हेतु यूजर नेम एवं पासवर्ड उपलब्ध कराया जाएगा। इस सम्बन्ध में किसी तकनीकी कठिनाई के समाधान के लिए मो0नं0 9454419661 पर सम्पर्क किया जा सकता है।
प्रमुख सचिव ने कहा कि यात्रा हेतु इच्छुक यात्रियों से यह अपेक्षा की जाती है कि वे अपना मोबाइल नं0 आवेदन पत्र में अवश्य अंकित करेंगे, जिससे उन्हें यात्रा से सम्बन्धित जानकारियां ज्म्ग्ज् ैडैध्टव्प्ब्म् ैडै के माध्यम से भी प्रदान की जा सके। प्रत्येक जनपद से अधिकतम 10 यात्रियों की सूची शासन को उपलब्ध करायी जाएगी। शेष यात्रियों का चयन शासन स्तर से किया जाएगा। यात्रा के दौरान दो चिकित्सक व चार नर्स चिकित्सा विभाग द्वारा उपलब्ध करायी जाएंगी, जिनके लिए कुल 06 बर्थ आरक्षित होंगे। शेष सीटंे धर्मार्थ कार्य विभाग के अधिकारियों/कर्मचारियों हेतु आरक्षित होंगी।
श्री सहगल ने कहा कि जिलाधिकारी का यह भी दायित्व होगा कि वे चयनित यात्रियों के आवेदन पत्र मूलरूप में शासन को उपलब्ध करायेंगे। चयनित यात्रियों को उनके चयन एवं सम्बन्धित सूचनाएं जिलाधिकारयिों द्वारा उपलब्ध कराई जाएंगी। यात्रियों की सुविधाओं के लिए दो हेल्पलाइन नम्बर यथा 0522-2992932, 9196042365 उपलब्ध होंगी। यात्रा हेतु स्थानीय मौसम के दृष्टिगत यात्रियों को परामर्श दिया जाता है कि आवश्यक वस्त्रादि को साथ रखना स्वयं सुनिश्चित करें।
प्रमुख सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव के निर्देश पर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू की गई समाजवादी श्रवण यात्रा को समाज के प्रत्येक वर्ग ने सराहा है। इसीलिए राज्य सरकार द्वारा अजमेर शरीफ एवं पुष्कर (राजस्थान) की निःशुल्क तीर्थ यात्रा का निर्णय लिया गया है। ज्ञातव्य है कि समाजवादी श्रवण यात्रा 2015 के अन्तर्गत पूर्व में श्रद्धालुओं को उत्तराखण्ड राज्य स्थित हरिद्वार एवं ऋषिकेश के धार्मिक स्थलों का दर्शन करवाया जा चुका है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि

Posted on 29 June 2015 by admin

समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि प्रदेश के सर्वांगीण विकास में शिक्षा क्षेत्र की भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण है। मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने प्रदेश में शैक्षिक क्रांति की शुरूआत की है। बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले और उन्हें पौष्टिक आहार मिले इसमें उन्होंने स्वंय रूचि प्रदर्शित की है। शिक्षा के विस्तार के लिए विद्यालयों की स्थापना पर बल देने के साथ उन्हांेने शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार हेतु भी कई कदम उठाए हैं क्योंकि उचित शिक्षा प्राप्त किए बिना रोजगार और व्यवसाय में भी सफलता नहीं मिल सकती है।
शिक्षण संस्थाओं में गुणवत्तापरक शिक्षा की जिम्मेदारी शिक्षकों पर आती है। इसलिए समाजवादी सरकार ने प्राथमिकता के आधार पर शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया प्रारम्भ की है। 15,127 अध्यापकों की भर्ती की जा चुकी है। 15 हजार बी0टी0सी0 अभ्यार्थियों की चयन प्रक्रिया चल रही है। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में विज्ञान/गणित अध्यापकों की सीधी भर्ती हेतु 29,334 पदों पर भर्ती हो रही है। प्रदेश में कार्यरत 1,65,306 शिक्षामित्रों में से प्रथम चरण में प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके। 58,903 शिक्षामित्रों का सहायक अध्यापकों के पदों पर समायोजन किया जा चुका है। द्वितीय चरण में लगभग 92,000 शिक्षामित्रों के समायोजन की प्रक्रिया चल रही है।
शिक्षकों की कमी को दूर करने के लिए समाजवादी सरकार ने राजकीय माध्यमिक विद्यालयों में 6,652 रिक्त पदों तथा अनुदानित महाविद्यालयों मेें प्रवक्ताओं के 1,652 पदों पर भर्ती शुरू कर दी है। राजकीय महाविद्यालयों में कार्यरत संविदा प्रवक्ताओं की आर्थिक कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए नियत संविदा राशि 21,600 रूपए पर मंहगाई भत्ता देना भी तय किया गया हेै।
समाजवादी सरकार ने टी0ई0टी0 करने वाले उर्दू शिक्षकों को परिषदीय विद्यालयों में नौकरी दी है। करीब दो हजार पदों पर उर्दू शिक्षकों की भर्ती होने जा रही है। उर्दू को दूसरी भाषा के रूप में श्री मुलायम सिंह यादव ने ही मान्यता दी थी और उन्होंने प्रदेश मेें उर्दू शिक्षकों तथा अनुवादकों की भर्ती की थी। फलस्वरूप वर्ष 2005-2006 में 3,000 उर्दू शिक्षकों की भर्ती की कार्यवाही की गई थी।
मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव हमेशा इस बात पर जोर देते हैं कि एक बेटी पढ़ती है तो देा परिवार शिक्षित होते हैं। इसलिए उन्होंने कन्या विद्याधन जैसी योजना को बढ़ावा दिया। छात्राओं की पढ़ाई के लिए सुविधाओं का विस्तार किया। विद्यार्थियों को तकनीकी रूप से समृद्ध बनाने के लिए छात्र-छात्राओं के बीच निःशुल्क लैपटाप वितरित किया गये हेैं। समाजवादी सरकार की मंशा है कि उत्तर प्रदेश में सभी साक्षर हों, शिक्षा के उच्च प्रतिमान स्थापित हों तथा शिक्षकों का स्तर भी उच्च गुणवत्तापरक हो। मुख्यमंत्री जी के इन प्रयासों से ही श्री मुलायम सिंह यादव के सपनों का उत्तम प्रदेश बन सकेेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

असहमति के स्वरो को सुनने को तैयार नही सरकार . हर्ष मंदर

Posted on 29 June 2015 by admin

पिछ्ले एक साल में देश की सरकार असहमति के स्वर सुनने को तैयार नही है ए बल्कि अपनी  विरोधी अवाज़ों को कुचलने पर उतारु है द्य यहा तक कि आर्थिक सुरक्षा के नाम पर असहमति के स्वरो को रास्ट्रद्रोही तक करार देने का दोर शुरु हो गया है द्य  यह विचार प्रमुख सामाजिक कार्यकर्ता  डा हर्ष मंदर ने आज लखनऊ में  प्रमुख वामपंथी नेता कामरेड अर्जुन प्रसाद स्मृति समारोह के तहत आयोजित सेमिनार में स्थानिय राय उमानाथ बली सभागार मे  बोलते हुये कहीद्य सेमिनार का विषय ष्ष्वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य और साम्प्रदायिक फांसीवादी खतरेष् था
डा हर्ष मंदर ने कहा कि पिछ्ले एक  साल में मोदी सरकार आने के बाद संविधान पर अलग अलग  तरह के हमले हुये हैं द्यइसमे सबसे से ज्यादा हमला बंधुत्बए आज़ादी और समानता पर हुआ है द्य जबकि डा अम्बेदकर ने कहा था कि ष्लोकाशाही के लिये बंधुत्बए आज़ादी और समानता बहुत ज़रुरी हैं ष् उन्होने कहा कि इस सब के चलते गरीबए मज़दूरए अल्पसंख्यक और धर्म निरपेक्षता मे यकीन रखने बाले बहुत मायूस निराश और डरे हुये हैंद्य  लेबर कनून सुधार और भूमि अधिग्रहण कानून इसके उदाहरण  हैं मोदी सरकार उधोग घरानो  के लिये काम कर रही है और हिंदुत्त्व वादी तकतो को मज़बूत करने पर लगी है
डा हर्ष मंदर ने अपील की कि आज देश के बंधुत्त्व को बचाने के लिये  सीना तान कर लडाई लड्ने की ज़रुरत है अगर ऐसा नही हुआ तो मानव समाज के लिये बहुत दुर्भग्यशाली होगा द्य
सेमिनार मे जनवादी लेखक संघ के उप महसचिव संजीव कुमार ने कहा कि मोदी का उभार हिंदुत्व और बडे उधोग घरानो कि मिली भगत है द्य जिसके चलते हुये साम्प्रदायिक ताकतो का मनोबल काफी बडा है  और अभिव्याक्ति कि आज़ादी पर एक के बाद एक हमले हुये हैं
उन्होने कहा कि नवउदारवादी व्यावस्था और साम्प्रदायिक उन्माद  में गहरा सम्वंध है साम्प्रदायिकता  इस व्यवस्था का हिस्सा है  जिसे सोच समझ कर पैदा किया गया है और  नवउदारवादी व्यावस्था की कमियों  और दुष्परिणामो ने  साम्प्रदायिक तकतो को खाद पानी देने का काम किया है इस लिये साम्प्रदायिकता  को खत्म  करने के नवउदारवादी ढाचे पर प्रहार करने की ज़रुरत है द्य
इससे पहले  शुरुआत में प्रशांत त्रिवेदी ने कामरेड अर्जुन प्रसाद के वयक्तित्व पर प्रकाश डाला और रिषी श्रीवस्ताव ने संचालन किया  तथा नगर के गणमान्य नगरिको ने  कामरेड अर्जुन प्रसाद के चित्र पर पुष्प चडा कर श्रधांजली दी

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

भारतीय महिला बैंक ने एसएमएस बैंकिंग की शुरुआत की

Posted on 29 June 2015 by admin

भारतीय महिला बैंक (पूर्णतया भारत सरकार के स्वामित्व में) ने अपने ग्राहकों के लिए एसएमएस बैंकिंग सेवाओं की शुरुआत की है। बीएमबी एसएमएस बैंकिंग सेवाएं एक स्मार्ट बैंकिंग पहल है जो आपके खाते की बचत जांचने के लिए है। इसके जरिए आप अपने मोबाइल फोन का उपयोग करते हुए मिनी स्टेटमेंट प्राप्त कर सकते हैं, चेक बुक के लिए आग्रह भेज सकते हैं, कभी भी, कहीं भी। एसएमएस बैंकिंग शुरू होने के बाद सामान्य सेवाओं के लिए बैंक जाने की कोई आवश्यकता नहीं है और ये सेवाएं सही अर्थों में आपकी उंगलियों पर उपलब्ध हैं।

खासियतें
ऽ    बैलेंस पता करना
ऽ    मिनी स्टेटमेंट लेना
ऽ    चेकबुक के लिए आग्रह भेजना
ऽ    भुगतान रोकना
ऽ    चेक की स्थिति
ऽ    आधार सीडिगं
ऽ    आधार की सीडिंग जांचिए
ऽ    आधार फॉर्मैट पर सहायता
ऽ    मिस्डकॉल की सुविधा — (आपको अपना बैलेंस मालूम हो जाएगा)

बैंक जल्दी ही एम-एक्सप्रेस पेश करेगा। यह उन लोगों के लिए है जो बैंकिंग सेवा नहीं है और उनके लिए भी जो तकनीक में दिलचस्पी रखते हैं। इसमें सामान्य सुविधाओं के साथ कई मूल्य वर्धित खासियतें हैं।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

June 2015
M T W T F S S
« May   Jul »
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930  
-->






 Type in