*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | May, 2011

अखिल भारतीय गुर्जर संघर्श समिति ने राजस्थान के गुर्जर आरक्षण आंदोलन में षहीद हुए गुर्जर भाईयों की चैथी बरसी पर एक श्रृंद्धांजलि सभा का आयोजन किया।

Posted on 30 May 2011 by admin

ऽ    अखिल भारतीय गुर्जर संघर्श समिति के राश्ट्रीय अध्यक्ष चैधरी सुखवीर सिंह जौनपुरिया ने कि सभा में सभी गुर्जर नेताओं से मिल बैठ कर विचार किया गया कि 6 माह में से 5 माह बीत जाने पर भी राजस्थान सरकार का गुर्जरों को आरक्षण देने व गुर्जर नेताओं के प्रति रूख स्पश्ट क्यों नहीं है।
ऽ    अखिल भारतीय गुर्जर संघर्श समिति के राश्ट्रीय अध्यक्ष चैधरी सुखवीर सिंह जौनपुरिया ने राजस्थान सरकार को गुर्जर आरक्षण के अहम् व संवेदनषील मुद्दे पर प्रदेष की जनता को जवाब देना होगा ।

dsc_0297अखिल भारतीय गुर्जर संघर्श समिति के राश्ट्रीय अध्यक्ष चैधरी सुखवीर सिंह जौनपुरिया ने कोटपुतली में आयोजित प्रैस वार्ता में कहा 29 मई रविवार को सुबह 10 बजे गुर्जर षहीद स्मारक, कल्याणपुरा, कोटपुतली में राजस्थान के गुर्जर आरक्षण आंदोलन में षहीद हुए गुर्जर भाईयों की चैथी बरसी पर एक श्रृंद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया । सभा में षहीदों को श्रृंद्धांजलि देने से पहले श्रृंद्धांजलि के लिए हवन पूजन किया गया । तत्पष्चात् उपस्थित षहीद परिवारों को सम्मानित करने के बाद वीर गाथाओं और सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ। जौनपुरिया ने बताया कि श्रृंद्धांजलि सभा में आने के लिए राजस्थान प्रदेष के साथ साथ दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल, मध्यप्रदेष, गुजरात, महाराश्ट्र, उत्तर प्रदेष, उत्तराखण्ड, जम्मू कष्मीर के गुर्जर संगठनों के सभी राजनैतिक दलों के नेता पहुंचें। उन्होंने कहा कि सभा में सभी गुर्जर नेताओं से मिल बैठ कर विचार किय कि 6 माह में से 5 माह बीत जाने पर भी राजस्थान सरकार का गुर्जरों को आरक्षण देने व गुर्जर नेताओं के प्रति रूख स्पश्ट क्यों नहीं है। राजस्थान सरकार को गुर्जर आरक्षण के अहम् व संवेदनषील मुद्दे पर प्रदेष की जनता को जवाब देना होगा। हम प्रदेष के गुर्जर नेताओं के निर्देषन में अन्य समाजों को साथ मिलाकर अपनी मांग को उठाने की रणनीति पर विचार करेंगें। जौनपुरिया ने कहा कि जब किसी के यहाँ कोई मृत्यु होती है और उसकी बरसी होती है तो हम सभी जात पात और धर्म भूलकर एक दूसरे के यहाँ आते जाते हैं इसलिए मैं गुर्जर समाज के साथ .. साथ 36 बिरादरी के सभी भाईयों एवं नेताओं से कल कल्याणपुरा, कोटपुतली गुर्जर षहीद स्मारक पर पँहुचने की अपील की थी। उन्होंने बताया कि हमारे प्रदेष में षिक्षा व तकनीकी संस्थानों को बढ़ाने, बेहतर षिक्षा नीति बनाने क्षेत्र में रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने व विकास कार्यों के लिए बेहतर रणनीति बनाकर सरकार से वार्ता की जायेगी। श्रृंद्धांजलि सभा में अन्य प्रदेषों से श्री रामवीर सिंह बिघुड़ी, पूर्व विधायक, डाॅ. यषवीर सिंह, पूर्व चेयरमैन, खादी ग्रामोद्योग, जम्मू कष्मीर, कमर रब्बानी चेची, नरेन्द्र भाटी, पूर्व मंत्री, यू पी वीरेन्द्र सिंह, पूर्व मंत्री, यूपी, नंद लाल, क्षेत्रीय विधायक, पंजाब, षांताराम महाजन, अध्यक्ष, अखिल भारतीय गुर्जर परिशद, महाराश्ट्र, ज्ञानेन्द्र, गुर्जर चेयरमैन एबीजीपी, श्री कंवर सिंह कंवर, कांग्रेस नेता व समाज सेवी-दिल्ली, भूकाराम, पूर्व विधायक, सुभाश घावड़ी, चेयरमैन, बावल आदि गणमान्य अतिथी उपस्थित रहें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

देश में व्याप्त ग़रीबी, बेरोज़गारी व महँगाई को दूर करने हेतु बी.एस.पी. मूवमेन्ट को मज़बूत करने का सुश्री मायावती जी का आह्वान

Posted on 29 May 2011 by admin

  • पंजाब, हरियाणा, हिमांचल, जम्मू-कश्मीर व चण्डीगढ़ बी.एस.पी. यूनिट का कार्यकर्ता सम्मेलन चण्डीगढ़ में सफलतापूर्वक सम्पन्न
  • पेट्रोल के दाम में भारी वृद्धि व महँगाई के खि़लाफ उŸारी  राज्यों में भी आन्दोलन करने का बी.एस.पी. अध्यक्ष का निर्देश

बहुजन समाज पार्टी (बी.एस.पी.) की राष्ट्रीय अध्यक्ष व उŸार प्रदेश की माननीया मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी ने पंजाब, हरियाणा, हिमांचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर व चण्डीगढ़ राज्य यूनिट के कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी संगठन को और ज़्यादा मज़बूत बनाने व जनाधार को बढ़ाने का आह्वान करते हुये कहाकि देश में बड़े पैमाने पर व्याप्त ग़रीबी, बेरोज़गारी व जानलेवा महँगाई से छुटकारा पाने के लिये देश भर में, हर स्तर पर, “बी.एस.पी. मूवमेन्ट” को मज़बूत करना आवश्यक है।

उपरोक्त पाँचों राज्यों पार्टी यूनिट के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारियों को आज चण्डीगढ़ में आयोजित “कार्यकर्ता सम्मेलन” में सम्बोधित करते हुये माननीया सुश्री मायावती जी ने कहाकि कांग्रेस के नेतृत्व वाली केन्द्र की सरकार की जन-विरोधी नीतियों का ज़मीनी स्तर पर डट कर मुक़ाबला करने के लिये भी देश में ‘बी.एस.पी. मूवमेन्ट’ को मज़बूत करने की ज़रूरत है। सर्वविदित है कि बी.एस.पी. मूवमेन्ट का जन्म ही, देश में शोषित, उपेक्षित व ग़रीबों के हितों की रक्षा करने के लिये हुआ है और अब तक ख़ासकर केन्द्र व ज़्यादातर राज्यों की सŸाा में रही कांग्रेस पार्टी की जन-विरोधी नीतियों व उसकी दलित-विरोधी मानसिकता का पर्दाफाश करते हुये इसकी ग़लत नीतियों का विरोध करने के लिये बी.एस.पी. हर स्तर पर लगातार तत्पर है। बी.एस.पी. का ऐसा ही विरोध बी.जे.पी. व अन्य विरोधी पार्टियाों के साथ भी है।
उŸार प्रदेश की माननीया सुश्री मायावती जी ने कहाकि ग़रीबी, बेरोज़गारी व महँगाई के साथ-साथ भ्रष्टाचार का अभिशाप देश को अन्दर से कमज़ोर कर रहा है तथा कांग्रेस व भाजपा दोनों ही पार्टियाँ इसके लिये पूरे तौर पर क़सूरवार हैं, क्योंकि केन्द्र में अपने शासनकालों के दौरान इन पार्टियों ने कभी भी इस मुद्दे पर गंभीरतापूर्वक सख़्त कार्रवाई नहीं की है। केन्द्र के साथ-साथ उŸारी भारत के प्रान्तों में इन पार्टियों की सरकारों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप हंै और अब ये विरोधी पार्टियाँ, षड्यंत्रवश, तरह-तरह के हथकण्डे अपनाकर जनता का ध्यान इस ख़ास मुद्दे से हटाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहाकि देश भर में बी.एस.पी. ही एक मात्र ऐसी पार्टी है जो अपने कार्यकर्ताओं के खून-पसीने की कमाई से अपना संगठन चलाती है और विरोधी पार्टियों की तरह धन्नासेठों के धन पर आश्रित नहीं है। इसीलिये उŸार प्रदेश में बी.एस.पी. की सरकार समाज के शोषित, उपेक्षित व ग़रीब लोगों के हित व सम्मान में बड़े-बड़े युग-परिवर्तनीय काम करके इन वर्गों के लोगों का जीवन सुधार कर, देश हित में, सामाजिक परिवर्तन की राह हमवार कर रही है।

बी.एस.पी. की राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहाकि देश की आज़ादी के बाद से अब तक अर्थात् पिछले लगभग 63 वर्षों में समाज के अनुसूचित जाति/ जनजाति, अन्य पिछड़े वर्ग, धार्मिक अल्पसंख्यकों में से ख़ासकर मुस्लिम, सिख, ईसाई, बौद्ध व अपरकास्ट समाज के ग़रीब लोगों की सामाजिक व आर्थिक स्थिति काफी ख़राब व दयनीय रही है, क्योंकि केन्द्र व राज्यों की सŸाा में रही पार्टियों ख़ासकर कांग्रेस व बी.जे.पी. की नीतियाँ बड़े पूंजीपतियों व धन्नासेठों को ही ध्यान में रखकर बनायी गयीं अर्थात् देश व विभिन्न प्रदेशों में सŸाा ज़्यादातर अप्रत्यक्ष तौर पर धन्नासेठों के हाथों में रही है, जिस कारण ही, अमीर और ज़्यादा अमीर व ग़रीब और ज़्यादा ग़रीब बनते जा रहे हंै। इस प्रकार की ग़लत आर्थिक नीति ने देश का बड़ा अहित किया है। यही कारण है कि  बी.एस.पी. के गठन की ज़रूरत पड़ी और तबसे अब तक “बी.एस.पी. मूवमेन्ट” के माध्यम से देश भर में इस प्रकार की जन-विरोधी नीति के खि़लाफ संघर्ष लगातार जारी है, जिसको देश के कोने-कोने में, ख़ासकर उŸार भारत में आपके राज्यों में और ज़्यादा मज़बूत करने की ज़रूरत है, जोकि एक राष्ट्रीय आवश्यकता है।

उन्होंने कहाकि बी.एस.पी. एक मानवतावादी मूवमेन्ट है, जिसका उद्देश्य दलित एवं अन्य पिछड़े वर्गों में समय-समय पर जन्में महान सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों में भी खासतौर से महात्मा ज्योतिबा फूले, छत्रपति शाहूजी महाराज, श्री नारायणा गुरू, बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर एवं मान्यवर श्री कांशीराम जी के बताये हुये रास्तों पर चलकर देश में समतामूलक समाज की स्थापना करना है।

माननीया सुश्री मायावती जी ने कहाकि ग़रीबी, बेरोज़गारी व आसमान छूती महँगाई से आज पूरे देश में हर वर्ग व हर समाज के लोग त्रस्त हैं, परन्तु कांग्रेस के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार इस राष्ट्रीय समस्या के प्रति उदासीन व लापरवाह है तथा उसके नेता केवल संकीर्ण व तुच्छ राजनीति करने पर अमादा हैं, जबकि उŸार प्रदेश में बी.एस.पी. की सरकार ने कई कारगर उपाय करके प्रदेश की जनता को इन मामलों में काफी राहत पहुँचायी है। स्थायी व अस्थायी रोज़गार के लाखों नये अवसर मुहैया कराये गये हैं तथा अपने स्तर पर विभिन्न करों आदि में कमी करके जानलेवा महँगाई से लोगों को थोड़ी राहत पहुँचायी गयी है। सर्वसमाज के 31 लाख अत्यन्त ग़रीब परिवारों की महिला मुखिया को “उŸार प्रदेश मुख्यमंत्री महामाया ग़रीब आर्थिक मदद योजना“ के माध्यम से 400 रुपये प्रतिमाह की दर से एक मुश्त छह माह की 2,400 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करके उनके आँसू पोंछने का काम कर रही है।

माननीया सुश्री मायावती जी ने कहाकि कांग्रेस के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोल की कीमत में, की गयी भारी वृद्धि के खिलाफ       बी.एस.पी. ने ‘‘देशव्यापी जन-आन्दोलन‘‘ छेड़ने का फैसला लिया है, जिसकी शुरूआत उत्तर प्रदेश के समस्त 72 ज़िलों के ज़िला मुख्यालय पर दिनांक 31 मई सन् 2011 को विशाल धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम करके की जायेगी। उन्होंने उŸारी राज्यों की पार्टी यूनिटों के प्रभारियों को भी निर्देंशित किया कि वे भी अपने-अपने राज्यों में भी केन्द्र सरकार की इस जन-विरोधी नीति के खि़लाफ धरना-प्रदर्शन आयोजित करें।

इससे पूर्व कार्यक्रम स्थल पर पहुँचने पर माननीया सुश्री मायावती जी का बी.एस.पी. जिन्दाबाद, बहन कुमारी मायावती जी जिन्दाबाद आदि जोरदार नारों के साथ स्वागत किया गया। स्वागत करने वालों में पंजाब, चण्डीगढ़ व जम्मू-कश्मीर राज्य यूनिट के केन्द्रीय संयोजक व राज्यसभा सांसद श्री नरेन्द्र कश्यप, हरियाणा राज्य के प्रभारी व राज्यसभा सांसद श्री राजाराम, हिमांचल प्रदेश के प्रभारी श्री मानसिंह मन्हेड़ा आदि प्रमुख थे। साथ ही विभिन्न प्रदेशों से आये हुये कलाकारों ने शानदार सांस्कृतिक कार्यक्रम पेशकर बी.एस.पी. की राष्ट्रीय अध्यक्ष का स्वागत किया। कार्यक्रम का संचालन श्री नरेन्द्र कश्यप ने किया।

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व कल दिनांक 28 मई को यहाँ चण्डीगढ़ पहुँचने पर माननीया सुश्री मायावती जी का बड़ी गर्मजोशी से स्वागत किया गया। स्वागत करने वालों में पंजाब, हरियाणा, चण्डीगढ़, हिमाचल व जम्मू-कश्मीर राज्य के बी.एस.पी. के वरिष्ठ पदाधिकारी व पार्टी की केन्द्रीय यूनिट की तरफ से इन राज्यों में नियुक्त को-आर्डिनेटर प्रमुख थे। माननीया सुश्री मायावती जी ने आज पाँचों राज्य यूनिट के कार्यकर्ताओं को कार्यकर्ता सम्मेलन में सम्बोधित करने से पहले इन सभी राज्यों के पदाधिकारियों व को-ओर्डिनेटरों से अलग- अलग मुलाक़ात कर, उन राज्यों में चल रही पार्टी संगठन से सम्बंधित गतिविधियों की जानकारी ली। बी.एस.पी. पंजाब यूनिट के अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य श्री अवतार सिंह करीमपुरी, हरियाणा राज्य यूनिट के अध्यक्ष श्री नरेश सारंग, हिमांचल प्रदेश राज्य यूनिट अध्यक्ष श्री विजय नायर एडवोकेट, चण्डीगढ़ यूनिट के अध्यक्ष श्री एम.सी. सुमन व जम्मू-कश्मीर राज्य बी.एस.पी. यूनिट के अध्यक्ष श्री तुलसी दास लंगे ने  पार्टी संगठन व उसकी तैयारी के सम्बन्ध में अपने-अपने राज्यों की रिपोर्ट पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष माननीया सुश्री मायावती जी को पेश की।

कई घण्टों तक चली इन बैठकों में माननीया सुश्री मायावती जी ने संगठन के कार्यों की समीक्षा के साथ-साथ, हर राज्य में पार्टी के जनाधार को बढ़ाने व पार्टी संगठन को उŸार प्रदेश के पैटर्न पर मज़बूत करने के लिये आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। इन कार्यों में होने वाली दिक़्क़तों का उन्होने तत्काल समाधान किया और आह्वान किया कि आपके राज्यों में जब भी विधानसभा का आम चुनाव होता है तो उसमें उŸार प्रदेश की तरह अच्छा प्रदर्शन करके जनता की उम्मीदों पर पूरा उतरने का प्रयास करें। उन्होंने कहाकि उŸार प्रदेश की तरह आप लोगों को भी अपने-अपने राज्यों में बी.एस.पी. को सŸाा में लाना है तो कैडर के आधार पर यहाँ भी पूरी तैयारी करनी पड़ेगी। इसके साथ ही, सर्वसमाज के लोगों को “सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय” की नीति के आधार पर बी.एस.पी. से जोड़ना होगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Ms. Mayawati ji calls upon party workers to strengthen BSP movement for removing poverty, unemployment and inflation from the country

Posted on 29 May 2011 by admin

Workers’ convention of BSP State units of Punjab, Haryana, Himanchal, J&K and Chandigarh concludes successfully in Chandigarh

BSP National President directs to launch agitation to protest hefty hike in petrol prices and inflation in northern states

Addressing workers’ convention of BSP State units of Punjab, Chandigarh, Haryana, Himanchal and J&K held at Chandigarh today, the BSP National President and Hon’ble Chief Minister of Uttar Pradesh Ms. Mayawati ji called upon her party workers to strengthen the party further and increase its base as well. She said that it was imperative to strengthen the BSP movement at all levels to get rid of poverty, unemployment and inflation.

Speaking at the convention of BSP units of five states attended by senior workers and office bearers, Ms. Mayawati ji said that there was an urgent need to strengthen the BSP movement to fight the anti-people policies of the Congress-led Central Government. Everybody knows that the BSP movement originated to protect the interests of poor, exploited and neglected sections of society. She said that BSP was active at all levels to expose the anti-people and anti-dalit mentality of Congress party and oppose its wrong policies. She pointed out that this party ruled at the Centre and most of the States so far. The BSP opposed BJP and other opposition parties in the same manner.

The Hon’ble Chief Minister of Uttar Pradesh Ms. Mayawati ji said that the unemployment and inflation were a curse for the country and it were weakening us. She said that Congress and BJP were solely responsible for it, because during their tenures they never made any serious effort to deal with these issues. There were serious allegations against the Governments of these parties ruling in the States of Northern India, besides the Central Government. Now, these opposition parties were hatching conspiracy to divert the minds of the people from these issues. She said that BSP was the only party which survived on the hard earned contributions of its workers and it did not depend on the capitalists like the opposition parties. Therefore, the BSP Government of Uttar Pradesh had been undertaking epoch-making efforts in the interests of exploited, neglected and poor sections of the society and making efforts to improve the living standards of these categories to usher in a social change in the country.

The BSP National President said that since Independence, viz. during the last 63 years, the socio-economic condition of SC/ST, OBC, religious minorities specially Muslims, Sikh, Christians, Buddhists and poor people of upper castes remained pitiable, because Congress and BJP, which ruled at the Centre as well as the States, formulated policies for the welfare of capitalists only. It indicated that the capitalists ruled country as well as States in an indirect manner. Owing to it the rich became richer, while the poor became poorer. This wrong economic policy has damaged the country to a great extent. This was the reason why the BSP was formed. Ever since its inception, the BSP movement had launched struggle against these anti-people policies continuously. There was a need to strengthen it in every nook and corner of the country, specially these northern states. It was a National need.

Ms. Mayawati ji said that BSP was a humanitarian movement with an objective to establish egalitarian society by following the path shown by saints, gurus and great men born in dalit and OBC like Mahatma Jyotiba Phule, Chhatrapati Shahu ji Maharaj, Shri Narayana Guru, Baba Saheb Dr. Bhimrao Ambedkar and Manyawar Sri Kanshi Ram ji.

The BSP National President said that all the sections of the society had been badly affected by poverty, unemployment and skyrocketing inflation, but the Congress-led Central Government was not concerned about it and its leaders were indulging in petty politics only, while the BSP Government of Uttar Pradesh had provided relief to the people of the State through its own efforts. Lakhs of temporary and permanent employment opportunities had been provided and the tax rates had been reduced to give some relief to the people from the inflation. The woman heads of 31,00,000 very poor families of Sarvasamaj were being provided an assistance of Rs. 400 p.m. through Uttar Pradesh Mukhyamantri Gharib Arthik Madad Yojana. They have been provided an amount of Rs. 2400 for six months under this scheme.

Ms. Mayawati ji said that the BSP had decided to launch ‘country-wide mass movement’ to oppose the hefty increase in petrol prices effected by Congress-led Central Government. She said that it would be initiated by holding demonstrations at all 72 district HQs of Uttar Pradesh on 31 May 2011. She directed the unit in-charges of northern states to hold demonstration against the anti-people policies of the Central Government in their respective states.

Earlier, Hon’ble Ms. Mayawati ji was given warm welcome on her arrival at the programme site. The party workers raised slogans in her support. Prominent among those who welcomed her included Central Co-ordinator of State units of Punjab, Chandigarh and J&K and Rajya Sabha M.P. Mr. Narendra Kashyap, In-charge of Haryana State and Rajya Sabha M.P. Mr. Rajaram, In-charge Himanchal Pradesh Mr. Man Singh Manheda etc. Besides, artists coming from various States presented cultural programmes to welcome her. The programme was conducted by Mr. Narendra Kashyap.

It may be recalled that Hon’ble Ms. Mayawati ji was accorded warm welcome upon her arrival in Chandigarh yesterday (May 28). Those who welcomed her included senior office bearers and co-ordinators of Punjab, Haryana, Chandigarh, Himanchal and J&K States. These co-ordinators have been appointed by the Central unit of BSP for these states. Hon’ble Ms. Mayawati ji, before addressing the workers of these five states, held meeting with the office bearers and co-ordinators of these states separately and inquired about the activities of the party organisation. The President of the BSP Punjab unit and Rajya Sabha M.P. Mr.  Avatar Singh Karimpuri, President of Haryana unit Mr. Naresh Sarang, President Himanchal Pradesh State unit Mr. Vijay Nayar Advocate, President Chandigarh unit Mr. M.C. Suman and President J&K BSP unit Mr. Tulsi Das Langey, presented the reports regarding party organisation and its preparation of their respective states before the BSP National President.

Hon’ble Ms. Mayawati ji, held meetings for several hours and reviewed the functioning of party organisation in these states. She gave directives for increasing the party base in these states and strengthen the party organisation on the pattern of Uttar Pradesh. She provided immediate solutions to the problems affecting these works. She called upon the workers to make serious efforts in the Vidhan Sabha election of these states so that the aspirations of the people could be fulfilled like Uttar Pradesh. She said that the cadre would have to make full preparations if BSP had to come to power in these states as well.  Besides, the people of Sarvasamaj had to be associated with the BSP on the basis of the policy of ‘Sarvajan Hitai and Sarvajan Sukhai’.

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

‘किसान घाट’ पर श्रद्धंाजलि सभा का आयोजन

Posted on 29 May 2011 by admin

भूतपूर्व प्रधान मंत्री किसान मसीहा चैधरी चरण सिंह की 24वीं पुण्यतिथि पर उनके समाधि स्थल ‘किसान घाट’ पर श्रद्धंाजलि सभा का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर उप राष्ट्रपति श्री हामिद अंसारी के साथ राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष एवं सांसद चैधरी अजित सिंह ने दिवंगत नेता की समाधि पर पुष्प अर्पित कर उन्हें भावभीनी श्रद्धंाजलि दी। इनके बाद राष्ट्रीय लोकदल के वर्तमान एवं निवर्तमान संासदों, विधायकों पार्टी पदाधिकारियांे एवं दिल्ली, पश्चिमी एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश, हरियाणा तथा राजस्थान से आये किसान मसीहा के सैकड़ों अनुयायियों ने ‘चैधरी चरण सिंह अमर रहें’ के स्वर घोष के साथ दिवंगत नेता की समाधि पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये। इस अवसर पर महामहिम राष्ट्रपति महोदया की ओर से दिवंगत नेता की समाधि पर पुष्प चक्र अर्पित किया गया।

समाधि स्थल पर सदैव की भंाति भक्ति संगीत एवं हवन का भी आयोजन हुआ, जिसमें चैधरी अजित सिंह, उनके परिजनों एवं चैधरी साहब के सैकड़ांे अनुयायियों ने यज्ञ में आहुति अर्पित की।

इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के जिला मुख्यालयों, शहरों-कस्बों में विभिन्न आयोजन सम्पन्न हुए, जिनमें कार्यकर्ताओं ने चैधरी साहब के आदर्शों पर चलने की शपथ ली।

बाद में 13-ए, फिरोजशाह रोड स्थित पार्टी कार्यालय में श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें वक्ताओं ने चैधरी साहब के जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला तथा उनके जीवन से पे्ररणा ग्रहण करने की अपील की।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

एफसीआई के असहयोग से प्रभावित हो रही गेहूँ खरीद 49 डिपो में से 11 डिपो पर नहीं हो रहा काम 362.50 करोड़ की धनराशि का भुगतान लम्बित

Posted on 29 May 2011 by admin

भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) के असहयोग के कारण प्रदेश में गेहूं खरीद में वांछित तेजी नहीं आ रही है। गेहूं क्रय केन्द्रों से प्रेषित गेहूं को एफसीआई द्वारा प्राप्त करने में विलम्ब करने के कारण खरीद प्रभावित हो रही है। एफसीआई के इस रवैये से कई डिपो पर ट्रकों की लम्बी-लम्बी लाईनें लग जाती हैं, जिससे समय एवं धन बर्बाद होता है। एफसीआई किसानों को समय से भुगतान भी नहीं कर रहा है। उस पर अब तक 5,41,478 मीट्रिक टन गेहूं और 676.6 करोड़ रू0 के एकनाॅलेजमेन्ट बकाया हैं।

राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। प्रवक्ता का कहना है कि विलम्ब से एकनाॅलेजमेन्ट मिलने के कारण क्रय एजेन्सियों को बिलिंग करने में कठिनाई हो रही है। यही नहीं जितनी धनराशि की बिलिंग हुई है उसका भी भुगतान एफसीआई द्वारा क्रय एजेन्सियों को नहीं किया गया। एफसीआई के इसी असहयोगात्मक रवैये का नतीजा है कि उसपर 362.50 करोड़ रूपये की भुगतान राशि बकाया है। जिससे क्रय केन्द्रों पर पर्याप्त धनराशि उपलब्ध नहीं हो पा रही है। इसके विपरीत उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एडवांस के रूप में अपने संसाधनों से 190 करोड़ रूपये क्रय एजेन्सियों को दिया गया तथा क्रय एजेन्सियों द्वारा अपने संसाधनों से 1989 करोड़ रूपये की धनराशि की व्यवस्था की गयी। इसके बावजूद कई स्थानों पर क्रय एजेन्सियों द्वारा भुगतान के लिये लगाये गये चेक कैश नहीं हुए।

प्रवक्ता का कहना है कि इन हालात में भी प्रदेश सरकार गेहूं की खरीद में कोई भी कोताही नहीं होने दे रही है। हालांकि क्रय एजेन्सी के रूप में एफसीआई द्वारा गेहूं खरीद में प्रभावी योगदान नहीं किया गया। उसको आवंटित लक्ष्य एक लाख मीट्रिक टन के सापेक्ष केवल 37 हजार मीट्रिक टन ही गेहूं खरीदा गया है, जो कि लक्ष्य का मात्र 37 प्रतिशत है। दूसरी ओर प्रदेश सरकार प्रदेश के 72 जनपदों में 4565 गेहूं खरीद केन्द्र संचालित कर किसानों से गेहूं खरीद करवा रही है। इसके लिए 9 क्रय एजेन्सियां संचालित हैं। अब तक 21.76 लाख मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की जा चुकी है। सभी केन्द्रों पर गेहूं की आवक तेजी से जारी है।

गौरतलब है कि खरीद गये गेहूं का भण्डारण एफसीआई को करना होता है और प्राप्त गेहूं का भुगतान भी यही एजेन्सी करती है। लेकिन एफसीआई की ओर से इस मामले में कोई गम्भीरता नहीं दिखायी जा रही है। गेहूं की आवक को देखते हुए इसके भण्डारण की व्यवस्था भी एफसीआई नहीं कर पा रही है। बस्ती, गोरखपुर, बरेली और आजमगढ़ मण्डल में भण्डारण की समस्या बनी हुई है। प्रदेश सरकार द्वारा ऐसे स्थानों पर जहां भण्डारण की कमी है, वहां से रैक मूवमेन्ट द्वारा प्रदेश के अन्दर ही गेहूं के संचरण के लिए एफसीआई से अनुरोध किया गया था परन्तु अभी तक कोई प्रभावी कार्यवाही इस दिशा में न होने से भण्डारण की समस्या उत्पन्न हो रही है।

एफसीआई के 49 डिपो में से 11 डिपो श्रमिक समस्या से ग्रसित होने के कारण अक्रियाशील हैं। इस सम्बन्ध में एफसीआई द्वारा कोई कार्यवाही न किये जाने से भण्डारण की समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। गेहूँ खरीद सीजन में भुगतान की व्यवस्था सुलभ करने के लिए एफसीआई से 07 अस्थायी भुगतान कार्यालय कुशीनगर, बस्ती, पीलीभीत, इटावा, हरदोई, फर्रूखाबाद एवं मिर्जापुर में खोलने का अनुरोध किया गया था, परन्तु अनेक प्रयासों के बाद भी किसी भी स्थान पर पूर्णरूपेण अस्थायी भुगतान कार्यालय नहीं खुले हैं, जिससे भी भुगतान प्रभावित हो रहा है। कई स्थानों पर एफसीआई के श्रमिकों द्वारा ‘‘वर्क टू रूल’’ से गेहूँ का उतार प्रभावित हुआ है। कई जगहों से यह भी शिकायतें मिली हैं कि एफसीआई के श्रमिक कार्य पर देर से आते हैं और जल्दी चले जाते हैं। प्रदेश के अधिकारियों ने इस सम्बन्ध में एफसीआई के उच्च स्तरीय अधिकारियों का ध्यानाकर्षण किया, परन्तु इस सम्बन्ध में कोई कार्यवाही नहीं की गयी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

चीन की शैक्षिक यात्रा से स्वदेश लौटे सी.एम.एस. छात्र दल का भव्य स्वागत

Posted on 29 May 2011 by admin

china-delegationसिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर के 10 सदस्यीय छात्र दल का चीन की शैक्षिक यात्रा से आज स्वदेश लौटने पर विद्यालय के शिक्षकों व अभिभावकों ने फूल-मालाएं पहनाकर एवं रोली चन्दन का टीका लगाकर चारबाग रेलवे स्टेशन पर भव्य स्वागत किया एवं विदेश में देश का गौरव बढ़ाकर लौटने पर बधाई दी। यह जानकारी सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने दी है। श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. गोमती नगर कैम्पस का 10 सदस्यीय छात्र दल ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय स्कूल-टु-स्कूल एक्सपीरियन्स एक्सचेन्ज प्रोग्राम (आई.एस.एस.ई.)’’ के अन्तर्गत तीन सप्ताह की शैक्षिक यात्रा पर चीन गया था। इस शैक्षिक यात्रा के दौरान छात्र दल ने चीन के छात्रों के साथ क्लास में बैठकर पढ़ाई की एवं खेलकूद व अन्य सांस्कृतिक गतिविधियों में बढ़चढ़कर भाग लिया, साथ ही साथ चीन के परिवारों में रहकर वहाँ की सभ्यता व संस्कृति से भी रूबरू हुए। श्री शर्मा ने बताया कि चीन से लौटे सी.एम.एस. गोमती नगर के इस छात्र दल में प्रद्युम्न बहुखण्डी, हर्षित त्रिपाठी, विश्वेन्द्र, दिव्यांशी जायसवाल, दिव्यांशी चैहान, दिव्यांशी पाण्डेय, ध्रुव अनन्त एवं चन्द्रगुप्त शामिल हैं। छात्र दल का नेतृत्व सी.एम.एस. गोमती नगर की शिक्षिका सुश्री नीना चोपड़ा ने किया जबकि सुश्री वंदना साही डेप्यूटी लीडर थीं।

चीन से लौटे इस छात्र दल ने एक अनौपचारिक वार्ता में प्रसन्नता व्यक्त करते हुए बताया कि चीन जाना हम सभी के लिए एक सपना सच होने के समान है। वहाँ की शिक्षिकाओं ने हमें बहुत प्यार दिया है। इस यात्रा से हमने सीखा कि विश्व एकता व विश्व शान्ति आज की पहली जरूरत है। हम सब मिलकर ‘विश्व एकता’ की आवाज उठायेंगे और सभी देशों में प्यार व शान्ति का बिगुल बजेगा। छात्र दल के एक सदस्य छात्र ने कहा कि चीन की इस यात्रा में बड़ों का आदर, छोटों को प्यार और सभी में प्यार व भाईचारा का जज्बात हमें प्रत्येक मेजबान परिवार में देखने को मिला।

श्री शर्मा ने बताया कि ‘‘अन्तर्राष्ट्रीय स्कूल-टू-स्कूल एक्सपीरियन्स एक्सचेन्ज प्रोग्राम (आई.एस.एस.ई.)’’ ऐसा अनूठा अन्तर्राष्ट्रीय प्रोग्राम है जो विभिन्न देशों के छात्रों को आमने-सामने विचारों के आदान-प्रदान का अवसर उपलब्ध कराता है। आईएसएसई प्रोग्राम का उद्देश्य छात्रों को आपसी मित्रता का प्रशिक्षण देकर विश्व बन्धुत्व, विश्व एकता एवं विश्व शान्ति की भावना को विकसित करना है। इस प्रोग्राम के तहत विभिन्न देशों के बच्चे मेजबान परिवारों में रहकर एक-दूसरे की संस्कृति, सभ्यता, भाषा, खेलकूद, रहन-सहन, खान-पान, रीति-रिवाज आदि का नजदीक से ज्ञान प्राप्त करते हैं। श्री शर्मा ने बताया कि सी.एम.एस. के कई छात्र दल मैक्सिको, आस्ट्रेलिया, मलेशिया, अमेरिका व जापान आदि देशों की शैक्षिक यात्रा पर जा चुके हैं। श्री शर्मा ने बताया कि सिटी मोन्टेसरी स्कूल अपने छात्रों को इस प्रकार की शैक्षिक यात्राओं में भाग लेने के अधिक से अधिक अवसर प्रदान कराता है। इस तरह के प्रयासों से देश तथा संसार के बच्चे एक-दूसरे के निकट आते हैं जिससे सारे विश्व में शान्ति एवं विश्व एकता स्थापित करने में तथा विश्वव्यापी दृष्टिकोण के विकास से उन्हें विश्व नागरिक के रूप में विकसित करने में सहायता मिलती है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

स्व0 चैधरी चरण सिंह जी की 24वीं पुण्यतिथि आज

Posted on 29 May 2011 by admin

राष्ट्रीय लोकदल द्वारा भूतपूर्व प्रधानमंत्री और किसानो के मसीहा स्व0 चैधरी चरण सिंह जी की 24वीं पुण्यतिथि आज पूरे उ0प्र0 में प्रेरणा दिवस के रूप में मनायी गई। इस अवसर पर लखनऊ में विधान भवन स्थित प्रतिमा पर प्रातः 9ः00 बजे रालोद महासचिव अनिल दुबे की अगुवाई मंे पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजली अर्पित की।

इस अवसर पर राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारियों और किसान मसीहा के सैकड़ो अनुयायियों ने ‘‘चैधरी चरण सिंह अमर रहे’’ तथा ‘‘जब तक सूरज चाॅंद रहेगा चैधरी चरण सिंह का नाम रहेगा’’ के नारों के साथ दिवंगत नेता को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये। इसके पश्चात् प्रतिवर्ष की तरह पार्टी मुख्यालय पर हवन का आयोजन किया गया जिसमें महासचिव अनिल दुबे, पूर्व मंत्री सच्चिदानंद गुप्ता, युवा राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष आरिफ महमूद सहित सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने आहुतियां डाली।

इस अवसर पर आयोजित विचारगोष्ठी को सम्बोधित करते हुये रालोद महासचिव अनिल दुवे ने कहा कि स्व0 चैधरी साहब ने राजनीति में जिन नैतिक मूल्यों की स्थापना की आज उन पर चलने की जरूरत है। उन्होंने जमीदारी उन्मूलन एवं भूमि सुधार विधेयक लागू करा कर किसानो को जमीदारी के आंतक से मुक्ति दिलाई। चकबन्दी कानून पटवारियों के शोषण से मुक्ति दिलाते हुये उन्होने इस देश के किसानो को सम्मान से जीने का अधिकार दिया। वे ग्रामीण भारत को शहर के समान सुविधाओं जैसा करना चाहते थे। आज चैधरी साहब के इन्हीं कामो से प्रेरणा लेने की जरूरत है। पूर्व मंत्री सच्चिदानंद गुप्ता ने कहा कि चैधरी साहब जातिवाद को समाज का कलंक मानते थे और इसीलिए उन्होने आर्य समाज को अंगीकार किया था। उन्होने जाति सूचक संस्थाओं को सरकारी अनुदान देना भी बन्द कर दिया था। युवा रालोद अध्यक्ष आरिफ महमूद ने स्व0 चैधरी साहब को पिछड़ो, गरीबोे और अल्पसंख्यको का मसीहा बताते हुये कहा कि उन्होंने इन वर्गो के उत्थान हेतु अनेको महत्वपूर्ण कार्य किये। विचारगोष्ठी को के.एन. सिंह यादव (एडवोकेट) प्रदेश सचिव, यज्ञदत्त शुक्ल , अभय प्रताप सिंह, वसीम हैदर, सुरेन्द्र नाथ त्रिवेदी ने भी सम्बोधित किया इस अवसर पर मनोज सिंह, रालोद जिलाध्यक्ष अम्बुज सिंह, आशीष शुक्ला, शशंाक सिंह, किरन सिंह, रमावती तिवारी, शकुन्तला कुरील, संजय लाल वाल्मीकि, अभिषेक दिक्षित, हरिपाल यादव, सफीक सिद्दीकी आदि ने चैधरी साहब को अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये और उनके आदर्शो पर चलने का संकल्प लिया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

सवाल के घेरे में सपा बसपा भाजपा कांग्रेस पार्टीयां सभी दाग

Posted on 29 May 2011 by admin

समाजवादी पार्टी भाजपा और कांग्रेस तीनों ही पार्टियों के नेता एक दूसरे की सियासी समीकरण पर दाग लगाने को पूरी तरह से तैयार है। सपा की सूची वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में भाजपा कांग्रेस छोड़कर शामिल नेताओं की लंबी सूची जारी की। सपा की जारी सूची का भाजपा नेता गलत बता रहे है। वहीं कांग्रेस पार्टी सूची में जारी नामो को कतई इंकार कर रही है। समाजवादी पार्टी व पूर्व मंत्री की अगुवाई में जारी सूची पर सैकड़ो लोगों पर भाजपा अध्यक्ष राजीव रंजन व कांग्रेस अध्यक्ष अजय ंिसह का कहना है कि वह लोग पाटी के स्थायी कार्यकर्ता या किसी पद पर कार्य नहीं कर रहे थे। राजनीतिक माहौल को बिगाड़ने की चाल हैं। सपा की जारी सूची में राजेंद्र सिंह यादव, अरविंद यादव, बसपा छोड़कर सपा में आने की बात रामेद्र सिंह पहले से ही सदस्यता तथा अरविंद मुलायम यूथ बिगे्रड के हरपालपुर के अघ्यक्ष है। इसी प्रकार समर सिंह यादव देशराज यादव आलोक यादव सपा के सदस्य है बसपा छोड़कर सपा में शामिल बताया गया। वह सभी सवायजपुर विधानसभा के बाहर के थे। सिलवारी के प्रधान रामपाल बसपा और कांग्रेस दोनो जगह दर्ज हैं अवनिकांत बाजपेई बसपा कांगे्रस दोनों पार्टियों के सक्रिय सदस्य है ं अब सपा की सूची में है। पूर्व जिला पंचायत सदस्य नत्थू लाल और कांगे्रस और सपा छोडने वाले कांगेे्रस बसपा छोड़ने वाले में दर्ज हैं इसी प्रकार सांडी विधानसभा के राजबहाुदर यादव जो सचिव हैं बसपा में शामिल है। जबकि संगठन सूत्रों के मुताबिक सपा के सक्रिय कार्यकर्ता है। सपा कांग्रेस व भाजपा के स्वयं नेता इस सूचियों का उपहास उड़ाकर पार्टी को संशय में डालने का काम कर रहे है परंतु डा. बाजपेई जारी सूची का शतप्रतिशत बता रहे है। कांग्रेस पार्टी के हाई कमान पदाधिकारी उनका कहना हैं कि कांग्रेस में जो तीन वर्ष पहले जिन्होंने काग्रंेस में शामिल हुए है। या दूसरी पार्टी छोडकरके चुनाव के समय कांग्रेस में अपनी निष्ठा दिखाने का काम कर रहे है पार्टी ऐसे लोगों को बाहर का रास्ता दिखाएगी। यह बात राष्ट्रीय स्तर के नेताओं का कहना हैं जो लोग वर्षो से कांग्रेस भाजपा सपा बसपा इस सभी के वष्रिठ नेता लोग को पार्टी जरूर उनके निष्ठा का सम्मान रखेगी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

कांग्रेस की दावेदारी फैसला गया मुख्यालय के हाथ

Posted on 29 May 2011 by admin

मिशन 2012 जंग की ताल ठोक रहे कांग्रेसी विधानसभा के दावेदान पार्टी हाईकमान के निर्देश पर पार्टी के विधायक श्याम किशोर शुक्ला सभी विधानसभा के क्षेत्रों से पांच पांच की सूची लेकर ब्यौरा दर्ज कराके । लौट गए। पर्यवेक्षक को सलाम ठोकने आशीर्वाद लेने पर्यवेक्षकी क्लास में शीश नवाने हा हुजूरी करके काम करने वाले कांग्रेसी की भीड़ में जिलाध्यक्ष पीसी सदस्य प्रकोष्ठो के अध्यक्ष एवं युवा लोक सभा एवं विधानसभा के अध्यक्षों की उपस्थिति होनी थी। परंतु दावेदारी में सभी का भरोसा एक दूसरे पर ना होकर अधिक स्वयं पर अधिक था। तो पहुंच गए अपने सिपहसलारों के साथ सारे युवा अगवाकारों की सलाह पर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अजय सिंह ही रहे। और अन्ततः पांच पांच की सूची बनाकर उन्हें रवाना कर दिया गया। सूत्रों के मुताबिक दावेदारी में पूर्व विधायक खालिद गौरी नेतम भारतीय, राशिद बिलग्रामी, बेगमइशरत रसूल राजपाल सिंह, बुधलाल शुक्ला तिलक चंद पासी रामबोली  सर्वेश जनसेवा आदि शामिल है। परंतु इन सबके पास एक सवाल पुराने कांग्रेसियों के अनुसार उन कर्मठ नेताओं का जो वर्षो से कांग्रेस का झंण्डा उठाएं पार्टी की नीतियों का प्रचार प्रसार जनपद में करते रहे। उसके लिए धरना प्रदर्शन करके आम जनता की समस्याओं को शहर में और जनपद में उठाते रहे ऐसे लोगों को पार्टी की दावेदारी में न प्रस्तुत करके पार्टी हाईकमान को क्या बताना चाहते है राहुल गांधी के यूपी मिशन 2012 वादा आयाराम गयाराम मौका परस्त चेहरों का लबादा पहनकर टिकट के लिए दावेदारी ठोकना पार्टी के हित में कितनी है। इसका तो फैसला आने वाला समय करेगा। ये नेतृत्व को सोचना है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

हरिहरपुर की पावर कारपोरेशन की सौगात, गन्ना धान किसान का वरदान

Posted on 29 May 2011 by admin

जनपद का अति पिछड़ा इलाका हरिहरपुर के किसानों की एक दशक पुरानी मांग पूरा करके पावर कारपोरेशन ने स्थानीय किसानों की मुराद को पूरा कर दिया। किसान अति प्रसंन्न है। 33 केवी पावर सब स्टेशन बनाने का फैसला जो लगभग 2 करोड़ 50 लाख का हैं हरिपुर गांव में ही जमीन चयन का काम पूरा हो गया है। इस प्रकार किसानों का सपना पूरा होगा। उन्हंे अब किसी दूसरे उपकेंद्र का मोहताज नही होना पडे़गा। इस कें्रद्र से हरिपुर के अलावा पिपरी सैदापुर बहोरवा सिहौना निबुआई तेलयानी कमालपुर सरवन भराउ के गांव अब इटौली उपकेंद्र से कटकर अब हरिपुर से जुड़ जाएगे। अधिशाषी अभियंता राजेश कुमार के अनुसार सब स्टेशन बन जाने पर ग्राव वासियों का भला होने के अलावा पावर कारपोरेशन की परेशान लोड समस्या काफी हद तक हो जाएगी। बिजली उपलब्ध न होेन के कारण पहले किसान गन्ना धान की खेती बहुत ही कम करते थें। परंतु अब पर्याप्त खेती करेगे। ग्रामीण मुख्य रूप से भारतीय किसान यूनियन से जुड़े रामऔतार बाजपेई कलमौरा सरदार प्ररगट सिंह शिवप्रसाद खिलौना के प्रधान आदि सभी बहुत खुश है ंकहते है कि हमारी मुराद पूरी हो गई।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

May 2011
M T W T F S S
« Apr   Jun »
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
-->









 Type in