*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | सोनभद्र

कम्युनिटी पुलिसिंग के अन्तर्गत गरीब व असहाय लोगों को सामग्री का वितरण

Posted on 17 June 2013 by admin

दिनांक 13.06.13 को पुलिस अधीक्षक, सोनभद्र व उप सेनानायक सीआरपीएफ, क्षेत्राधिकारी ओबरा, प्रभारी निरीक्षक दुद्धी, थानाध्यक्ष बभनी सहित पर्याप्त पुलिस व सीआरपीएफ के जवानों के साथ जनपद की सीमा के अन्दर छत्तीगढ़ प्रान्त के निकटवर्ती सीमा क्षेत्रों में भ्रमण/काम्बिंग की कार्यवाही की गयी। उक्त के दौरान ग्रामीणों से मुलाकात कर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी कर उन्हें आश्वस्त किया गया कि पुलिस हर कदम उनके साथ है। उन्हें भी पुलिस प्रशासन का सहयोग करना चाहिये।
भ्रमण/काम्बिग के उपरान्त थाना दुद्धी क्षेत्रान्तर्गत ग्राम पंचायत लाम्बी के मजरा देवपुरा में कम्युनिटी पुलिसिंग कैम्प लगाकर उपस्थित गरीब व असहाय पुरूष/महिला ग्रामीणों को दैनिक वस्तुएं जैसे-125 अदद साड़ी, 100 मर्दानी धोती,  50 अदद छाता, 50 टार्च, 15 साइकिल, 150 स्कूल बैग, 150 ड्राईंग बाक्स, 150 अदद पैकेट बिस्कुट का वितरण किया गया। साथ ही देवपुरा में पानी की समस्या को दृष्टिगत रखते हुये पुलिस द्वारा पैरवी एवं प्रयास कर 02 हैडपम्प भी लगवाये गये। इससे ग्रामीणों का पुलिस के प्रति विश्वास बढ़ा। उपस्थित ग्रामीणों को सम्बोधित करते हुये बताया गया कि वे किसी के बहकावें में न आये। पुलिस सदैव उनके साथ है। किसी भी तरह की समस्या होने पर पुलिस को तत्काल अवगत करायें। जिससे आपकी समस्याओं के निदान हेतु पुलिस द्वारा स्वयं एवं संबंधित विभाग के अधिकारीगण के सहयोग से समस्या का समाधान कराया जा सके। नक्सलियों के संरचण व अपराध संबंधी कोई भी सूचना हो बिना हिचक स्थानीय पुलिस अथवा पुलिस अधीक्षक को अवगत करायें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

ट्रैक्टर-ट्राली पलटने से 07 लोगों की मृत्यु-07 लोग घायल

Posted on 12 December 2012 by admin

थाना राबर्ट्सगंज क्षेत्रान्तर्गत राजकीय पालीटेक्निक के पास धान काटकर ट्रैक्टर-ट्राली में बैठकर श्रमिक व परिजन जा रहे थे। रास्ते में पुलिया के पास ट्रैक्टर-ट्राली असंतुलित होकर पलट गयी। जिससे 07 श्रमिकों/बच्चों 1.राजन उम्र 15 वर्ष पुत्र नरेश बैगा, 2.बिरेन्द्र उम्र 30 वर्ष पुत्र नारायण बैगा, 3.श्रीमती इन्दू उम्र 30 वर्ष पत्नी कमलेश, 4.विक्रम उम्र 06वर्ष पुत्र बिरेन्द्र, 5.कु0अंजनिया उम्र 07 वर्ष पुत्री बिरेन्द्र, 6.कु0छोटी उम्र 02 वर्ष पुत्री बिरेन्द्र, निवासीगण ग्राम निगाई, थाना कोन, जनपद सोनभद्र व 7.ट्रैक्टर चालक वीरेन्द्र सिंह उम्र 30 वर्ष पुत्र रामनरेश, निवासी बेलगाई, थाना पन्नूगंज, जनपद सोनभद्र की मौके पर मृत्यु हो गयी तथा 07 लोग घायल हो गये। 05 लोगों की हालत गम्भीर होने के कारण बेहतर उपचार हेतु वाराणसी रेफर किया गया। शेष 02 लोगों का जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। विधिक कार्यवाही की जा रही है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

बसाहट के मुद्दे पर चिल्कादांड गोलबंद

Posted on 01 September 2012 by admin

युवाओं के द्वारा एक “उत्पीडन प्रतिरोध समिति” का गठन

नार्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड और नैशनल थर्मल पावर कारपोरशन के द्वारा पिछले २५
वर्षों से जारी उत्पीडन के खिलाफ स्थानीय जनता ने प्रतिरोध का बिगुल फूंक दिया
है. ३० अगस्त २०१२ दिन बृहस्पतिवार की शाम चिल्कादांड, निमिया दंड, दियापहरी
और रानीबाड़ी के ३०० से ज्यादा लोगो ने निमियादांड स्थित बरगद के नीचे ५ बजे
से एक सभा की जिसमे एक उत्पीडन प्रतिरोध समिति का गठन किया गया. वर्षों से
किसी सांगठनिक पहल के अभाव में स्थानीय जनता में दबा आक्रोश सभा के दौरान
थोड़ी थोड़ी देर पर उठने वाले नारों के माध्यम से झलक रहा था और ये नारे इस
बात का आभास दिला रहे थे की चिल्कादांड के निवासी सन ८५ के उस आन्दोलन की
यादें अपने दिलों में संजोय बैठे हैं जब इसी एन टी पी सी से लड़ कर उन्होंने
वो जमीन हासिल की थी जिस पर पिछले २५ वर्षो से वे रह रहे हैं और इन २५ वर्षों
में एन सी एल और एन टी पी सी के धीरे धीरे होते विस्तार ने लड़ कर छिनी गयी इस
जमीन को एक ऐसे क्षेत्र में तब्दील कर दिया है जहां मानव जिन्दगिया तो दूर,
कीड़े मकौड़े भी स्वेच्छा से जिन्दा रहना कबूल न करें.

बताते चलें की चिल्कादांड उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले के शक्तिनगर थाणे में
पड़ने वाले उन ५ गावों का एक सामूहिक नाम है, जिन्हें पहली बार १९६० में रिहंद
डैम बनाने के लिए और फिर १९७९ में एन टी पी सी के शक्तिनगर परियोजना के कारण
विस्थापित होना पडा है. दो बार विस्थापन का दर्द झेल चुके लगभग ३० हज़ार की इस
आबादी को १९८४ में एक बार फिर से विस्थापित करने की कोशिश की गयी थी जब एन सी
एल को कोयला खनन का ठेका दिया गया था. पहले से ही राष्ट्र के विकास के नाम पर
२ बार छले जा चुके लोगों ने तीसरी बार विस्थापन के खिलाप जबरदस्त आन्दोलन
किया, और अपनी जगह पर जमे रहे. आज चिल्कादंड एक तरफ एन सी एल की खदान से तो
दूसरी ओर शक्तिनगर रेल स्टशन से बुरी तरह घेरा जा चूका है.

चिल्कादांड पुनः संगठित हो रहा है. इस बार मुद्दा विस्थापन का विरोध नहीं, एक
बेहतर बसाहट है. दिन रात उडती कोयले की धुल, कोयला ले कर २४ घंटे आते जाते
बड़े बड़े डम्फर, ब्लास्टिंग से उड़ कर गिरते बड़े बड़े पत्थर, खान से रोजाना
निकलती मिटटी से बनते पहाड़ जिनकी रेडियो धर्मिता स्वयं में एक जांच का विषय
है, यह सब मिल कर चिल्कादांड को जोखिम और रोगों की हृदयस्थली बनाते हैं. ३०
अगस्त को हुई बैठक का मुख्य एजेंडा एक ऐसा संगठन बनाने का था, जिसके तहत उठने
वाली आवाज सभी ग्रामवासियों की हो, न की किसी समूह अथवा समुदाय विशेष की.

बैठक के अध्यक्ष के रूप में उपस्थित लोगो में सबसे वरिष्ठ और सम्मानित श्री
लक्ष्मण गिरी के नाम का प्रस्ताव आया जिसे स्वीकार कर लिया गया. चिल्कादांड के
ग्राम प्रधान … जी को बैठक के संचालन की जिम्मेदारी दी गयी.

नयी और बेहतर जगह पर बसाहट के सवाल को उठाते हुए सर्वप्रथम श्री नर्मदा जी ने
कहा की कम्पनी का काम रोके बगैर उसे अपनी बात सुनाने के लिए बाध्य नहीं किया
जा सकता. उन्होंने कम्पनी का काम रोकने की रणनीति का जिक्र करते हुए कहा की
मुख्य गेट से इनकी आवाजाही जब तक बंद न की जाये, बात नहीं बनेगी. उनकी इस बात
से वहाँ बैठे सभी आयु वर्ग के लोग सहमत हुए. स्थानीय श्री रहमत अली ने आन्दोलन
से जुड़े कार्यकर्ताओं में कटीबध्हता की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा की
क्षणिक जोश में आकर कोई निर्णय लेने से लड़ाई का नुकसान होता है. निमियादांड
के श्री सूरज जी ने कहा की सरकार पर छोड़ देने से कोई काम पूरा नहीं होता.
सरकार एक पत्थर होता है जिसे तराशने का काम जनता को ही करना पड़ता है.

३० हज़ार से भी ज्यादा आबादी के बेहतर बसाहट के मुद्दे को समर्थन देने के
लिए लोकविद्या जन आन्दोलन की तरफ से अवधेश, बबलू, एकता और रवि शेखर इस बैठक में उपस्थित थे.
अपना वक्तव्य रखते हुए रवि शेखर ने कहा की इन पूंजीपतियों के खिलाफ सन ८५ में
में शुरू हुई इस लड़ाई की दूसरी पारी को आगे बढाने के लिएचिल्कादांड की नयी
पीढ़ी को कुर्बानी देनी पड़ेगी. दुसरे राज्यों में जनता द्वारा सफलतापूर्वक
लड़ी गयी लड़ाइयों का उदहारण पेश करते हुए रवि ने कहा की संघर्ष से जुड़े
साथियों को अपना वर्ग और अपने हितैसियों को पहचानना होगा. उन्होंने आगे कहा की
लोकविद्या आधारित जीवन यापन करने वाले सभी समाजो की दशा दिशा को समझा जाये तो
इन सभी में एकता के अनेको बिंदु तलाशे जा सकते हैं, और लड़ाई को मजबूत बनाया
जा सकता है. अवधेश ने नौजवानों से यह अपील की आज के बैठक के उपरान्त वे जरूर
स्वेच्छा से एक संगठन बनाएं और इसके मार्फ़त तथा बुजुर्गों की सलाह पर आन्दोलन
को मजबूत करें. उन्होंने उपस्थित सभी युवाओं के समक्ष यह प्रस्ताव दिया कि अगर
युवा लड़के लड़कियां चाहें तो लोकविद्या आश्रम सबके लिए लोकविद्या विचार के
माध्यम से एक नेतृत्व प्रशिक्षण शिविर का आयोजन कर सकता है. इस प्रस्ताव को
हाथों हाथ लेते हुए नारों के साथ युवाओं ने अपनी सहमती दी. लोकविद्या आश्रम की
तरफ से बोलते हुए एकता ने कहा की चिल्कादांड को बचाने की पिछली लड़ाई में
महिलाओं का बड़ा योगदान रहा. उन्हें फिर से बाहर निकलने की आवश्यकता है,
अन्यथा आधी आबादी की अनुपस्थिति में किसी भी तरह की सफलता की अपेक्षा करना
स्वयं और आन्दोलन के साथ बेईमानी है.

चिल्कादांड के युवाओं के तरफ से बोलते हुए हीरालाल, संतोष, राजेश, विजय,
धर्मराज, जयप्रकाश, राहुल कुमार, आशुतोष, जोहर अली आदि ने यह आश्वासन दिया कि इस
आन्दोलन में सभी ५ गावों के युवा अपनी तरफ से कोई कमी नहीं रहने देंगे. अपने
वरिष्ठों से उन्होंने यह मांग की कि वे युवाओं का मार्गदर्शन करते रहे, तो
बसाहट की इस लड़ाई में जीत चिल्कादांड की होकर रहेगी.

अंत में चिल्कादांड के ग्राम प्रधान जी के आह्वान पर लगभग २० लडको ने स्वेच्छा
से अपने नाम और फोन न. नोट कराया, ताकि आगे तय होने वाली रणनीति में इन्हें
शामिल किया जा सके. सभा की अध्यक्षता कर रहे श्री लक्ष्मण गिरी ने लोकविद्या
आश्रम कार्यकर्ताओं के द्वारा चिल्कादांड की लड़ाई को संगठित किये जाने की पहल
का स्वागत करते हुए आश्रम से इन युवाओं के मार्गदर्शन की अपील की.
अध्यक्ष जी के इस अपील पर श्री अवधेश ने १२ सितम्बर को उन सभी युवाओं की बैठक
लोकविद्या आश्रम पर बुलाई है, जिन्होंने स्वेच्छा से अपने नाम नोट कराये थे.
सबकी उपस्थिति में आगे की रणनीति उसी दिन तय करने का निर्णय लिया गया.

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

अवैध खनन का यह गोरखधंधा प्रदेश की बसपा सरकार के संरक्षण में एक लम्बे अर्से से चल रहा है

Posted on 05 March 2012 by admin

s-1भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही ने आज सोनभद्र जिले के बिल्ली गांव का दौरा किया। जहाँ दिनांक 27 फरवरी 2012 को अवैध खनन के चलते की गयी ब्लास्टिंग में 13 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष घटना के तुरन्त बाद घटनास्थल का दौरा करना चाहते थे लेकिन प्रशासन की हठधर्मिता के कारण उस समय घटनास्थल पर नहीं जा सके। आज श्री शाही घटना में मौत के शिकार हुये लोगों के परिवारों से मिले और उनके परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की।
श्री शाही ने कहा कि अवैध खनन का यह गोरखधंधा प्रदेश की बसपा सरकार के संरक्षण में एक लम्बे अर्से से चल रहा है। जिसके चलते प्रदेश के राजस्व को लगभग 20 हजार करोड़ की क्षति हुई है। प्रेस से वार्ता करते हुये श्री शाही ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने मायावती के 100 घोटालों का एक तथ्यपरक दस्तावेज जारी किया था जिसमें खनिज घोटाले और अवैध खनन की प्रमुखता से चर्चा की थी। पार्टी को अपेक्षा थी कि सरकार अवैध खनन को सख्ती से रोकेगी और खनिज क्षेत्र में हो रहे इस घोटाले की जांच कर जिम्मेदार लोगोें के खिलाफ सख्त कार्यवाही करेगी। परन्तु सरकार के संरक्षण और मिलीभगत के कारण यह कार्य निरन्तर जारी है। जिसकी परिणामस्वरूप बिल्ली गांव की यह घटना घटित हुई।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि इस घटना में हुई 13 मौतों के लिये जिला प्रशासन, खनिज विभाग, पुलिस तथा बीएसपी सरकार जिम्मेदार है। उन्होनें घटना की न्यायिक जांच कराकर दोषियों के खिलाफ 302 का मुकदमा दायर करने की मांग की। श्री शाही ने कहा कि यह प्रशासनिक उदासीनता अकर्मण्यता और भ्रष्टाचार की पराकाष्ठा है। उन्होनें घोषणा की कि प्रदेश उपाध्यक्ष केदार नाथ सिंह की अध्यक्षता में एक 5 सदस्यीय समिति इस पूरे मामले की जांच करेगी। ताकि इससे जुड़े सारे तथ्य जनता के सामने आ सके।
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि केवल सोनभद्र जनपद में 100 से अधिक अवैध खनन चल रहे हैं और इस कार्य में 3500 ट्रक प्रतिदिन लगे हुये हैं। जिसके कारण प्रदेश राजस्व को लगभग 50 लाख रूपये प्रतिदिन के हिसाब से क्षति पहुँच रही है। उन्होंनें कहा कि जिला प्रशासन तथ्यों को छिपा रहा है। यही कारण है कि उनको घटनास्थल पर आने से रोका जा रहा है था। भाजपा अध्यक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि बचाव और राहत कार्य में शिथिलता बरती गयी और अभी भी पत्थरों के नीचे कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है।
भाजपा अध्यक्ष ने मृतकों के परिजनों को प्रतिव्यक्ति 10 लाख तथा घायलों को ढाई लाख मुआवजा देने की सरकार से मांग की है। श्री शाही ने पार्टी की तरफ से मृतकों के परिजनों को 25 हजार और घायलों को 10 हजार रू0 की दिये जाने की भी घोषणा की है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

देश व प्रदेश की स्थिति बहुत खराब है

Posted on 12 February 2012 by admin

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विनय कटियार ने आज जनपद मिर्जापुर के घोरावल वि0स0 में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि यह क्षेत्र बहुत पिछड़ा हुआ है। देश व प्रदेश की स्थिति बहुत खराब है। चारों तरफ भ्रष्टाचार एवं अराजकता का माहौल है। किसानों को खाद, बीज, बिजली, पानी एवं कीटनाशक नहीं मिल पाता है। किसान कर्ज से डूबा हुआ है। कर्ज अदा न कर पाने की हालत में आत्महत्या कर रहा है। सरकारी नितियां उद्योगपतियों को संरक्षण दे रही है। उद्योगपतियों को एक सु नियोजित तरीके से सब्सिडी देकर लाभ पहुंचाने का कार्य सरकार द्वारा किया जा रहा है। भाजपा की पूर्व की सरकार ने किसानों को न्याय व सुविधा दिलाने हेतु किसान दिवस एवं तहसील दिवस संचालित कराय था। वर्तमान सरकार लाठी दिवस चला रही है। प्रदेश में बुचड़खाने तेजी से बढ़ रहे हैं।
श्री कटियार ने कहा कि भाजपा सरकार में किसान खुशहाल था तथा पुनः भाजपा के सत्तासीन होने पर किसान खुशहाल बनेगा। सरकार बनने पर किसानों को 1 लाख रू0 तक का कर्ज माफ होगा। एक प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋण दिया जाएगा। युवाओं को रोजगार न मिलने तक 2000 रू0 मासिक बेरोजगारी भत्ता छात्रों को लैपटाप देंगे तथा गरीब परिवार को दूध पीने के लिए गाय देंगे। कांगे्रस अध्यक्ष सोनिया गांधी बटाला कांड में आतंकियों के मरने पर उनकी फोटो देखकर रोनक का कार्य करती हैं तथा बहादुर जवानों की मौत पर अफसोस भी व्यक्त नहीं करती हैं।
श्री कटियार ने कहा कि संसद पर हमले का आरोपी अफजल गुरू का ेबचाने का कार्य किया जा रहा है। हमले के आरोपी अफजल गुरू का बचाने का कार्य किया जा रहा है। आतंकी कांगे्रस के रिस्तेदार के समान सम्मान पा रहे हैं। बसपा अजगर के समान है जो दिन में श्वास लेकर 1 कु0 सोने के बराबर एवं पुनः रात्रि में 50 किग्रा सोने के बराबर अर्थात  24 घंटे में लगभग 45 करोड़़ रू0 की उगाही करते हैं। भाजपा सरकार बनने पर बोली लगाकर इन हाथियों की नीलामी होगी तथा उससे प्राप्त धन प्रदेश के विकास में खर्च होगा। सपा-कांगे्रस-बसपा ने मजहबी आरक्षण के खिलाफ नहीं है। मजहबी आरक्षण से अराजकता की स्थिति बनेगी। सरदाल पटेल ने भी कहा था कि धार्मिक आधार पर आरक्षण चाहने वाले पाक चले जाएं। देश में व्यापत महंगाई, भ्रष्टाचार, आतंकवाद के लिए कांगे्रस-सपा-बसपा ही जिम्मेदार है। इससे निजात पाने के लिए आप भाजपा को अपना मत दें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

कांगे्रस के ही 40 वर्ष शासन करने के कारण उ0प्र0 और कमजोर हुआ है

Posted on 09 February 2012 by admin

nसोनभ्रद/लखनऊ 8 फरवरी 2012, भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने आज सोनभद्र जनपद के ओबरा विधान सभा में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि आप उ0प्र0 में भाजपा के हाथों में सत्ता देकर रामराज्य की स्थापना करें। वर्तमान समय में किसान त्रस्त है। प्रदेश में सिंचाई के लिए पानी नहीं है। लोगों को बिजली नहीं मिल पा रही है। सड़के चलने योग्य नहीं रही तथा अनेकों जगह पीने के पानी की भी समस्या बनी हुई है। कृषि के उपयोग में आने वाले उपकरण महंगे हैं तथा उन पर अधिक कर लगाया गया है जबकि विलासिता का प्रतीक लक्जरी कारें कम दर लोगों को उपलब्ध हैं।  समुचे प्रदेश बिजली की घोर किल्लत है।
श्री गडकरी ने कहा कि राहुल गांधी कहते हैं कि कांगे्रस के शासन में विकास संभव है जबकि कांगे्रस के ही 40 वर्ष शासन करने के कारण उ0प्र0 और कमजोर हुआ है। जबकि केन्द्र व प्रदेश में दोनों जगह कांगे्रस का ही शासन था तथा उ0प्र0 से ही कांगे्रस पं0 जवाहर लाल नेहरू, इन्दिरा गांधी, राजीव गांधी प्रधानमंत्री के रूप में थे। वर्तमान समय मंे सोनिया के नेतृत्व में सरकार चल रही है। उ0प्र0 की पावन भूमि धार्मिक है तथा उ0प्र0 शिक्षा और संस्कृतिक संदेश रहा है। ऐसी परिस्थिति में उ0प्र0 में ही सर्वाधिक गरीब क्यों हैं। उ0प्र0 में गरीबी व भूखमरी के लिए प्रदेश में सत्ता चला रहे नेताओं के अलावा आप स्वयं जिम्मेदार हैं। क्योंकि आपके द्वारा लिए गए गलत निर्णय के कारण ऐसे ही लोग सत्तासीन हो गए। उ0प्र0 विधानसभा चुनावों में उम्मीदवारों को परख कर वोट दें तथा वोट देने के लिए किसी भी लालच या बहकावे में न आवें।
श्री गडकरी ने कहा कि  सपा के शासन में अराजकता, भ्रष्टाचार, गुण्डाराज से उबी जनता ने पिछले चुनाव में बसपा को सत्ता सौंपी कि वे उन्हें इस समस्या से निजात दिलाएगी। परन्तु समस्याएं और जटिल हुई हैं। लोकतंत्र के चारों स्तम्भों को इन सरकारों में अपमानित होना पड़ा एक तरफ जहां केन्द्र सरकार में अनेक घोटाले उजागर हुए वहीं प्रदेश सरकार ने भी जमकर प्रदेश को लूटा। इससे पूर्व बिहार को भी इसी तर्ज पर लूटा गया था परन्तु एन0डी0ए0 के शासन में आने के उपरान्त वहां पर लूट समाप्त हुई और वर्तमान में बिहार विकास युक्त सुशासन की सरकार चल रही है।
श्री गडकरी ने कहा कि उ0प्र0 में सत्ता में आने के बाद 1 करोड़ युवाओं को रोजगार दिया जाएगा, खेतो ंको पानी, प्रत्येक घरों को बिजली, स्तरीय शिक्षा, उचित चिकित्सा तथा किसानों को एक प्रतिशत ब्याज पर ़ऋण उपलब्ध होगा।  गांॅव, गरीब, किसान बदलेगा। आप भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में भारी मतदान करें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Congress will fight for Rights of Tribals in Uttar Pradesh

Posted on 21 January 2012 by admin

Shri Gandhi said on Saturday that when efforts were being made to snatch away the land owned by tribals in Niamgiri in Orissa, the Congress went there and fought for them. He said that the Congress would fight for the rights of tribals in Uttar Pradesh too.

Addressing a rally in Sonebhadra on Saturday , he said that LATE Indira Gandhi fought for the rights of tribals and he would fight for the same till he achieved the goals. Shri Gandhi said that the tribals came to him and said that they wanted a law for themselves and we gave them the tribal law which is in force across the country.He asked the crowd to raise their hands if anyone of them had benefited from the law. When no one raised a hand, Shri Gandhi said, “See in this state, no one has benefited.” Targeting the BSP and BJP, h said that in 2004, when the Congress formed government, the party did not talk about India Shining. “If their leaders had come to tribal areas and met the tribal women, they would not have found that India was shining,” he said.

Shri Gandhi said that the first thing that the Congress did was to launch MNREGA because we came to you and understood your problems. You told us that employment was your major problem and if you could get employment in your village, it would be better. We made sure that if anyone wanted work, he would be given 100 days work in his village and be paid Rs 120 per day which added up to Rs 12,000 per year.
20120121rks131
Shri Gandhi further said that UP chief minister Mayawati had denounced the scheme and said that it will not benefit anyone while the BJP asked where the money for this would come from. Whenever we talk of schemes for the poor, they raise these questions but not when the benefit has to be given to the rich. We have shown them that there is money for the poor.

Talking about farmers, Shri Gandhi said that the Congress gave the loan waiver scheme worth Rs 60,000 crore for farmers but the opposition termed it as ‘natak.’ He said that he was shocked to find that leaders in UP had no vision and no thought for development — all they knew was to practice the politics of communalism and casteism. Earlier, while addressing a public rally in Bara in Allahabad, Shri Gandhi said that the Samajwadi Party had announced that it would distributed free laptops if voted to power. “But

who will believe this party that unleashes a reign of chaos and anarchy when it comes to power,” he said.

Shri Gandhi said that he would not rest until every farmer gets food to eat and until prosperity reaches his doorstep.

Comments (0)

आदिवासी बच्चों का कब्रगाह बना यूपी ,सोनभद्र में ५०० से ज्यादा मौतें -आवेश तिवारी

Posted on 04 December 2011 by admin

1अकाल मौत  से भी भयावह होता है अकेले पड़ जाना !देश की उर्जा राजधानी कहे जाने वाले उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद  के आदिवासी -गिरिजन अकेले पड़ चुके हैं|पिछ्ले१५ दिनों के दौरान आदिवासी बहुल इस जनपद में अज्ञात बीमारी से 500 से ज्यादा बच्चों की मौत हुई है,वहीँ हजारों बच्चे अब भी जीवन -मौत से संघर्ष कर रहे हैं |शर्मनाक ये है कि मरने वाले शत -प्रतिशत बच्चे अनुसूचित जनजातियों के हैं |स्थिति की  गंभीरता का अंदाजा इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि 402 ग्राम सभाओं वाले सोनभद्र की  अकेली तीन ग्रामसभाओं में लगभग  115 मौतें हुई हैं |मौत के सर्वाधिक मामले जनपद के चोपन विकास खंड से सामने आये हैं | त्रासदी ये है कि अकाल मौतों के इस रौंगटे खड़ा कर देने वाले अध्याय में कई -कई परिवारों में एक से ज्यादा बच्चों की मौत हुई है |शायद जिन्दा कौमें यकीन न करे गरीब माँ  -बाप  इलाज के लिए पैसे न होने की स्थिति में अपने स्वस्थ बच्चों को सेठ -साहूकारों के यहाँ गिरवी रख दे रहे हैंमौत के इन गंभीर मामलों को लेकर उत्तर प्रदेश में इस एक वक्त जब मैडम मायावती विधान सभा चुनावों की गुना गणित में लगी हैं और नौकरशाही जैसे -तैसे गुड गवर्नेंस का माहौल बनाने की कोशिशों में  |सोनभद्र का काला पानी कहे जाने वाले इन  इलाकों में बच्चों की मौत के इन मामलों पर किसी की भी निगाह नहीं पड़ी है ,सरकारी चिकित्सक दुर्गम कहे जाने वाले इन इलाकों में जाने से पह्ले गुरेज करते थे ,निजी चिकत्सकों के लिए आदिवासियों का इलाज हमेशा से घाटे का सौदा है ,ऐसे में आदिवासियों के पास दो ही विकल्प शेष बचे हैं या तो वो अपने बच्चों का इलाज झोला झाप डाक्टरों से कराएँ या फिर उन्हें ओझाओं के भरोसे छोड़ दे |बच्चों की मौत के इन मामलों में जब जिलाधिकारी सोनभद्र से बात की गयी तो उन्होंने स्थिति की गंभीरता स्वीकार करते हुए कहा कि हमने इस सम्बन्ध में प्रमुख सचिव को सूचना प्रेषित कर दी है ,हमारी प्राथमिकता है कि पह्ले इस बात का पता लगाया जाए कि इन अकाल मौतों की मुख्य वजह  क्या है |हालाँकि वो बार -बार ये दलील देते रहे कि अधिकारियों को प्रभावित इलाके में भेजा गया है ,और अतिरिक्त दवाओं की मांग की गयी है |जबकि जमीनी हकीकत ये है कि अधिकारी  संक्रमण के भय और सड़कों के अभाव में मौके पर अभी तक नहीं पहुंचे हैं |इस सम्बन्ध में जब कुछेक चिकित्सकों से बात की गयी तो उन्होंने नाम न छापने कि शर्त पर बताया कि जिस तरहसे ये मौतें हो रही हैं उन्हें देखकर इन्सेफेलाइटिस की संभावनाओं से इनकार  नहीं किया जा सकता |चिकित्सक फिलहाल बीमार बच्चों का इलाज फाल्सिफेरुम  मलेरिया की दवाओं से कर रहे हैं  ,गौरतलब है कि सोनभद्र देश के सर्वाधिक मलेरिया प्रभावित इलाकों में से एक है |

देश की ऊर्जा जरूरतों को पूरा करते करते थक चूका उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जनपद या तो भ्रष्टाचार की वजह से सुर्ख़ियों में रहता है या फिर अकाल मौत की वजह से ,यहाँ अब तक अज्ञात बीमारियों से जानवरों की मौत होती थी इस बार मासूम बच्चों की बारी हैं ,गाँव के गाँव कब्रिस्तान में तब्दिल हो रहे हैं सोनभद्र के जुगैल ग्राम सभा के भीतरी गाँव के पप्पू के पास फिलहाल अपने मृत  बच्चे के अंतिम संस्कार के लिए  भी पैसे नहीं है उसका  ४ साल का बच्चा दो दिन पहले अचानक बीमार पड़ा और गाँव के अन्य १२ बच्चों की तरह उसने भी दम तोड़ दिया ,लगभग एक हजार की आबादी वाले इस गाँव में ज्यादातर आदिवासी  सीमांत कृषक है ,गरम पहाड़ वैसे भी सरकारी योजनाओं की तरह होते हैं जिनसे पेट नहीं भरा जा सकता ,इलाज कहाँ से हो ,गाँव के लोगों ने मनरेगा में काम किया लेकिन दो -दो साल की मजदूरी बाकी है ,ऐसे में इलाज के लिए आदिवासियों के पास महाजन से एक के दो सूद पर कर्ज लेने के अलावा कोई विकल्प शेष नहीं है |गाँव के तिवारी लाल बताते हैं कि हमारे  पास झोला छाप डाक्टरों से इलाज के अलावा कोई और रास्ता नहीं ,लगभग पांच किलोमीटर दूर पंचपेडिया में सामुदायिक स्वास्थय केंद्र  है ,लेकिन चिकित्सकों के अभाव में इस पर भी ताला लगा हुआ है ,इलाज की सुविधा जिस नजदीकी कस्बे ,ओबरा में मौजूद है वो तक़रीबन ३०  किलोमीटर दूर है ,लेकिन सुगम सड़क मार्ग न होने से रात तो क्या दिन में भी जाना वहाँ  असंभव है |श्यामलाल और पृथ्वीलाल ने तो अस्पताल ले जाते समय बीच रास्ते में ही दम तोड़ दिया  आदिवासियों के पास वाहन के रूप में खटिया और उसके चार पावे मौजूद हैं जिस पर लादकर बीमार को पहाड़ी रास्तों से ले जाना बेहद दुष्कर काम है |गाँव में एक दो झोला झाप डाक्टर मौजूद हैं वो अपने ज्ञान के अनुसार यथासंभव इलाज करते हैं |भीतरी के ही रामानुग्रह का बच्चा जब बीमार पड़ा तो उसने उसे टेक्सिम का इंजेक्शन लगा दिया और बच्चे की जान बच गयी |

dscn9877भीतरी से आठ किलोमीटर दूर घनघोर जंगल के बीचो-बीच बसे मुर्गीडांड गाँव में मरघट सा सन्नाटा पसरा हुआ है जिसे या तो रह-रह कर आने वाली महिलाओं की चीत्कार खंडित करती है ,या फिर थके हारे चक्की की आवाज ,लगभग १०० परिवारों वाले इस गाँव में महज दो दिनों के भीतर १२ मौतें हुई हैं |गाँव में घुसते ही राज्य के परिवार कल्याण विभाग द्वारा संचालित मुख्यमंत्री महामाया सचल  स्वास्थ्य परियोजना  की वैन  मिलती है | वैन में बैठे डाक्टर बताते हैं कि मलेरिया की दवा उपलब्ध नहीं है ,न ही  खून जांच के लिए बुनियादी सुविधाएँ |गाँव में घुसते ही पहला घर शिवकुमार   का है जिसके बच्चे की तीन दिनों पहले मौत हुई है ,शिवकुमार  का २ साल का दूसरा बेटा भी बीमार है शिवकुमार की पत्नी  कहती है हमारे पास न तो इलाज के पैसे हैं न तो सरकारी अस्पताल तक जाने की शरीर में  हिम्मत ,क्या करें ?मुर्गीडांड की ही रामरती जिसका पति दिल्ली में मजदूरी करता है के पांच बच्चों में से एक की मौत दो दिन पहले हो गयी ,घर चलाने के लिए न तो खेती| किसानी है और न ही और कोई जुगाड |रामरती ने मनरेगा में काम किया था लेकिन दो साल बीतने के बाद भी मजदूरी नहीं मिली ,गाँव वाले बताते हैं कि पूर्व प्रधान रामेश्वर ने मनरेगा के पैसे से मंदिर बनवा दिया |गाँव वाले बताते हैं कि पिछले १५ सालों से गाँव में दवा का छिडकाव नहीं हुआ है ,दवाई के लिए झोला छाप डाक्टर हैं जो ट्रेक्टर की मरम्मत का भी काम करते हैं या फिर ओझा जो गरीब आदिवासियों को तब तक चूसते हैं जब तक दम न निकल जाए |बच्चों के मौत से जुडी एक त्रासदी ये भी है कि आदिवासी समाज मौत के बाद के क्रिया -क्रमों को बेहद अनिवार्य मानता है |अब गरीब आदिवासी भोज -भात कराने के लिए कर्ज न ले या फिर अपनी छोटी जोत की खेती न बेचे तो क्या करे ?

म्योरपुर की कुल्डोमरी ग्राम पंचायत अब से कुछ समय -पहले एक अमेरिकी कंपनी द्वारा बिजली घर लगाएं जाने के कयासों के बाद चर्चा में आई थी ,बिजलीघर तो नहीं बना ,हाँ गाँव के आस -पास बच्चों के नए कब्रगाह जरुर बन गए हैं \यहाँ के हरिपुर गाँव में चहरों और मातम का माहौल है ,पिछले एक माह के दौरान यहाँ १७ से ज्यादा मौते हुई हैं |यहाँ के मेडरदह टोले में घर -घर मातम का माहौल है |यहाँ पर अज्ञात बीमारी ने बच्चों के साथ -साथ बड़ों को भी अपना निशाना बनाना शुरू कर दिया है ,गाँव के तमाम लोगों में हिमोग्लोबिन का स्तर अचानक तेजी से घटा है |गाँव वाले बताते है कि हमारे पस घरेलु इलाज के अलावा कोई विकाप्ल्प नहीं है ,अगर हम ओबरा पहुँच भी जाते हैं तो वाहन पर बिजलीघर का  अस्पताल भर्ती का ५०० रूपए और जांच का एक हजार रूपए मांगता है ,दवाई का खर्च अलग से |गरीब आदमी कहाँ से पैसे लाये |गाँव के शंकर बैगा बताते है कि मौत के भय से ज्यादातर ग्रामीणों ने पलायन शुरू कर दिया है लोग पानी खेती किसानी और अपने जानवरों को औने पीने दाम में बेंचकर जा रहे हैं ,न जाने किसकी नजर लग गयी गाँव को |

मौत के इन दिल दहला देने वाले मामलों में स्वयंसेवी स्तर पर भी किसी प्रकार की पहल नहीं की जा रही |जहाँ पर अधिकारी और एनजीओज पूरी तरह से संवेदनहीन साबित हुए हैं वहीँ ग्रामीणों की आपसी मददगारी से कुछ आशा बंधी है |रेणुका के प्रदुषण को लेकर ग्रामीण युवाओं द्वारा बांये गए “रेणुका बचाओ संघर्ष समिति ” के अध्यक्ष विश्वनाथ पांडे कहते है हम लोग जितना संभव हो सकता हैं कर रहे हैं कुछ लोगों को हमने आपस में पैसा इकठ्ठा कर अस्पतालों में भर्ती कराया है लेकिन ये नाकाफी है |पांडे कहते हैं “जब तक चिक्तिसक गाँवों में नहीं जायेंगे और ग्रामीणों तक दवाएं नहीं पहुंचेगी ,तब तक मौत के ये मामले रुकेंगे  कहना कठिन है |वो मांग करते हैं कि इन अकाल मौतों की वजह सीधे तौर पर जिला प्रशासन है ,दोषी अधिकारियों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए |निजी चिकित्सक डॉ गुप्ता कहते हैं कि अगर हम माने लें कि इन बच्चों को फाल्सिफेरम मलेरिया है तो भी एक बच्चे के इलाज और दवाओं में ४ से ५ हजार रूपए का खर्च आता है ,सोनभद्र के आदिवासी इतना पैसा कहाँ से पायेंगे ?फिलहाल राज्य सरकार मौत के इन आकडों पर चुप्पी साधे बैठी है ,राहुल गांधी भी पूर्वांचल आते हैं तो सोनभद्र नहीं आते ,मुख्यमन्त्री मायावती कभी आती हैं तो हेलीकाप्टर से ही आती है |आम आदिवासियों के नसीब में न तो जमीन है और न ही आस्मां ,सिर्फ मौत बदी है |

कुलडोमरी और जुगैल ग्रामसभा में मृतक बच्चों की सूची

छोटू                    8 माह                         अवध लाल                            जुगैल
गाड़िया                २ वर्ष                           अमर नाथ                             खोसी
विमलौती             १० वर्ष                          हरी प्रसाद                             पदीडाड
नगरा                  ८ वर्ष                            देवी चंद                               कडिया
गोलू                   ३ १/२  वर्ष                      देवी चंद                               कडिया
छोटू लाल             ५ वर्ष                            ह्रदय                                   कडिया
माया                   १ महिना                        शंकर                                   कडिया
टोली                   ५ वर्ष                             नारद                                   काशपानी
फूलमती               ५ वर्ष                            जगदीश                                काशपानी
अमर कुमार          २ वर्ष                            जगदीश                                काशपानी
राधे                     ५ वर्ष                            रामप्रीत                                काशपानी
फूल कुमार            ५ वर्ष                            छत्तर धारी                           काशपानी
अन्नू                   ४ माह                           संत कुमार                             जुगैना
सुदेवी                  ६ वर्ष                             राम सूरत                              करवनिथा
रजनी                 १० वर्ष                            सूरज                                    कडिया
फूल सिंह             ७ वर्ष                              राम नरेश                              चाडम
अतवरिया            ९ वर्ष                              ईश्वर                                    चाडम
अशोक वैगा         १ १/२ वर्ष                       अमृत लाल वैगा                      चाडम
दरोगा                ६ वर्ष                             हिंद लाल                               भितरी जुगैल
राम सुन्दर          ६ वर्ष                             रामबली                                भितरी जुगैल
विलिता               ६ वर्ष                            लल्लू                                    भितरी जुगैल
लड़का                ५ वर्ष                            सोबरन                                 भितरी जुगैल
लड़की                १ वर्ष                            कमलेश                                भितरी जुगैल
लड़का                ७ वर्ष                            पन्ना लाल                             भितरी जुगैल
लड़का                ५ वर्ष                            रामलाल                                भितरी जुगैल
लड़की                २ माह                           संतलाल                               भितरी जुगैल
लाती                  २ १/२ वर्ष                       लालजी                                 भितरी जुगैल
सावित्री                ६ माह                         राम सुभग                             भितरी जुगैल
फूल सिंह              ५ वर्ष                          राम नरेश                               भितरी जुगैल
टिक्कू                  १ वर्ष                          कैलाश                                   खोखरी डाड़
गीता                    ७ वर्ष                         सुग्रीव                                    जुगैल खोखरी
बल्लू                     २ वर्ष                        सुग्रीव यादव                            खोखरी डाड़
पुत्र                       २ दिन                       सूर्य बलि                                  मुर्गी डाड़
कलावती                ३ वर्ष                        शिव कुमार                               मुर्गी डाड़
सजवंती                 ४ वर्ष                        गीरज कुमार                             मुर्गी डाड़
संगीता                   ३ वर्ष                       बुधराम                                    मुर्गी डाड़
लड़का                    ५ वर्ष                       सीताराम                                  मुर्गी डाड़
लड़की                     १ १/२ वर्ष                रामजीत                                   घर हवहिया जुगैल
लड़की                     ३ वर्ष                     वाल गोबिंद                                कुराहनिया
सुनीता                     ७ वर्ष                    सुखरीभर                                  ठोघी
रिंकू                         ५ वर्ष                    राम निघरी                                 ठोघी
लड़का                      ५ वर्ष                    चेतू                                           रास्ते में
लड़का                      ३ माह                   पप्पू                                          भीतरी
भागीरथी                  6 वर्ष                    पप्पू                                          भीतरी
राहित                      ४ वर्ष                    रामलाल                                    भीतरी
विन्दु                       ६ वर्ष                    पृथ्वी लाल                                  भीतरी
पुत्री                         ८ वर्ष                    परसोतन गोंड                               हरिपुर
पुत्री                         ३ वर्ष                    छोटेलाल                                     हरिपुर
पुत्री                         ६ वर्ष                    राजकुमार गोंड                             हरिपुर
पुत्री                         १२ वर्ष                  बैजनाथ                                       हरिपुर
पुत्री                         ७ वर्ष                   राम चरण खरवार                         हरिपुर
पुत्री                         २ वर्ष                   जगत गोंड                                   हरिपुर
नाती                        ५ वर्ष                  गुलाब सिंह                                   हरिपुर
पुत्र                           १२ वर्ष                गुलाब सिंह                                   हरिपुर
पुत्र                           १ वर्ष                  जगत नारायण  सिंह गोंड                हरिपुर
पुत्र                           २० वर्ष                सुखलाल गोंड                               हरिपुर
पुत्री                          ५ वर्ष                  कुंज लाल खरवार                          हरिपुर
पुत्र                           ५ वर्ष                  ईश्वर सिंह गोंड                             हरिपुर

Comments (0)

उत्तर प्रदेश अ©र वैश्विक आय¨डीन न्यूनता दिवस

Posted on 21 October 2011 by admin

छत्तीसगढ़ राज्य की सीमा से लगे उत्तर प्रदेश क¢ स¨नभद्र जिले में सुदूरवर्ती गाँव बचरा अ©र वर हैं। अन्य बहुत से गाँव¨ं की तरह बचरा अ©र वर गाँव¨ं में ी आय¨डीनरहित पारम्परिक दर्रा नमक का इस्तेमाल ह¨ता था। बीते फरवरी 2011 में आय¨जित ग्रामीण स्वास्थ्य एवं स्वच्छता समिति की बैठक में इन गाँव¨ं क¢ ल¨ग¨ं ने मिलकर निर्णय लिया कि वे अपने गाँव¨ं में आय¨डीनरहित नमक का प्रय¨ग बंद कर देंगे।
आज यह स्थिति है कि गाँव की किसी ी दुकान पर आय¨डीनरहित नमक नहीं बिकता है अ©र इसका परिणाम यह हुआ कि इस गाँव क¢ 60 प्रतिशत से ज्यादा ल¨ग आय¨डीनयुक्त नमक का प्रय¨ग कर रह¢ हैं।
यही कहानी बहराइच क¢ संरक्षित वन्य जीवन क¢ लिए आरक्षित गाँव नयी बस्ती की है। यहाँ क¢ ग्रामीण¨ं ने ी अपने बच्च¨ं क¢ बेहतर विष्य क¢ लिए सिर्फ आय¨डीनयुक्त नमक का प्रय¨ग करने का निर्णय लिया है।
आय¨डीनयुक्त नमक क¢ प्रति जागरूकता में तेजी क¢ लिए 21 अक्टूबर 2011 क¨ वैश्विक आय¨डीन न्यूनता दिवस विश्व र में उत्सव क¢ रूप में मनाया जा रहा है। राज्य स्वास्थ्य संस्थान, उ.प्र. की अपर निदेषक डाइरेक्टर डा. प्रभा श्रीवास्तव कहती हैं कि आय¨डीन एक आवश्यक प©ष्टिक तत्व है अ©र शरीर की वृद्धि अ©र विकास क¢ लिए बहुत कम परन्तु एक निश्चित मात्रा में रोजाना आय¨डीन की आवश्यकता ह¨ती है। उनका कहना है कि आय¨डीन की कमी से शरीर में ऐसी विषमताएँ पैदा ह¨ सकती हैं कि जिन्ह¢ं ठीक नहीं किया जा सकता है, जैसे गर् में पलने क¢ द©रान शिशु क¢ मस्तिष्क में क्षति, उसक¢ आई क्यू क्षमता में कमी, मानसिक रूप से अक्षम, घ्¨ंघा(गर्दन में सूजन) अ©र विभिन्न प्रकार की बीमारियाँ ह¨ना।
बच्च¨ं क¢ मस्तिष्क क¨ बचाने, आई क्यू क¢ स्तर क¨ कम ह¨ने से बचाने अ©र घ्¨ंघा से बचाने क¢ लिए खाने में आय¨डीनयुक्त नमक का प्रय¨ग किया जाना आवश्यक है । लेकिन बहुत से परिवार आय¨डीन की सही मात्रा वाले नमक का प्रय¨ग नहीं कर रह¢ हैं। आय¨डीन की सही मात्रा क्या है, इस बारे में विश्¨षज्ञ¨ं का कहना है कि 15 पी.पी.एम.(पाट्र्स पर मिलियन) से ज्यादा मात्रा में आय¨डीनयुक्त नमक सही मात्रा वाला नमक है। इस प्रकार यह एक चुन©ती है कि बाजार में बिकने वाले नमक सही मात्रा वाले आय¨डीनयुक्त नमक की श्रेणी में आते हैं या नहीं।
राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण 2005-06 क¢ आंकड़े बताते हैं कि उत्तर प्रदेश में सिर्फ 36 फीसदी घर¨ं में सही मात्रा वाले आय¨डीनयुक्त नमक का प्रय¨ग ह¨ता है, इसका अर्थ है कि प्रदेश में प्रतिवर्ष पैदा ह¨ने वाले 55 लाख बच्च¨ं में से सिर्फ 20 लाख मिलियन बच्चे ही आय¨डीन की कमी से बचे रहते हैं। कम मात्रा में आय¨डीन वाले नमक का प्रय¨ग ग्रामीण जनसंख्या विश्¨षकर गरीबी की स्थिति म्¨ं रहने वाले परिवार करते हैं, नतीजतन इनक¢ बच्च¨ं क¨ आय¨डीन की कमी से ह¨ने वाले र¨ग¨ं का खतरा ज्यादा रहता है। इसक¢ लिए तुरन्त कदम उठाने की आवश्यकता है। यूनीसेफ उ0 प्र0 आॅफिस की चीफ एडेल खुद्र का कहना है कि वैश्विक आय¨डीन न्यूनता दिवस हमें याद दिलाता है कि हम आय¨डीन की कमी वाले ल¨ग¨ं तक पहुँच कर उन्ह¢ं जागृत कर इस आवश्यक प©ष्टिक आहार क¢ बारे में बतायें। वह कहती हैं कि सभी घर¨ं तक उचित मात्रा वाले आय¨डीनयुक्त नमक की पहुँच अ©र उपलब्धता सुनिश्चित करनी ह¨गी, विश्¨षकर 110 लाख  परिवार¨ं के जहां द¨ वर्ष तक के आयु के बच्चे रहते हैं और जिनके मानसिक स्वास्थ्य के लिए आय¨डीन सख्त आवश्यक है, ।
सही मात्रा वाले आय¨डीनयुक्त नमक का प्रय¨ग जागरूकता का बड़ा पहलू है। इस क्ष्¨त्र में कार्य कर रह¢ गैर सरकारी संगठन ’’देहात’’ क¢ जितेन्द्र चतुर्वेदी कहते हैं कि सुदूरवर्ती गाँव¨ं में इस नमक की उपलब्धता एक चुन©ती है।
वैश्विक आय¨डीन न्यूनता दिवस पूरे विश्व में मनाया जा रहा है, इसक¢ जरिये यह याद करने की जरूरत है कि आय¨डीन की कमी सभी आयु वर्ग क¢ ल¨ग¨ं क¢ लिए खतरनाक है, इसका प्रतिदिन सेवन करना ह¨गा, यह पैगाम स्पष्ट है कि नमक में आय¨डीन की सही मात्रा आपक¢ अ©र आपक¢ परिवार क¢ जीवन में मजबूत ढाल साबित ह¨गी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

घोटालों की सरकार

Posted on 15 October 2011 by admin

100_9021भारतीय जनता पार्टी राश्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने केन्द्र की यूपीए सरकार को घोटालों की सरकार बताते हुए कहा कि यूपीए सरकार के मंत्रियों ने बड़े-बड़े घपले-घोटालों को अंजाम देकर देष की जनता का पैसा लूट लिया। उन्होने प्रदेष की बसपा सरकार पर निषाना साधते हुए कहा कि अपनी मूर्तियों एवं स्मारकों पर लाखों करोड़ों रू0 खर्च कर मुख्यमंत्री मायावती दलित उत्थान के नाम पर आडम्बर कर रही है। श्री गडकरी आज सोनभ्रद में आयोजित वनवासी जनजाति अनुसूचित जाति की रैली को संबोधित कर रहे थे। कांगे्रस और बसपा षासन ने सर्वाधिक नुकसान दलित आदिवासियों को पहुंचाया।
रैेली को सम्बोधित करते हुये मुख्य अतिथि भारतीय जनता पार्टी के राश्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकडी ने कहा कि यह रैली वनवासी, जनजाति एवं अनुसूचित जाति के लोगो के अधिकार के लिये हो रही है। सोनभद्र में हजारो मेगा वाट बिजली पैदा करने के बाद भी सोनभद्र में लोगो को बिजली नही मिल पा रही है। इसके बारे में सरकार जबाब दे। सड़को की हालत अत्यन्त दैयनीय है। जिस पर चलना बहुत ही मुष्कील षिक्षा का स्तर निम्न है। इन सब समस्याओ के लिये कोई और नही बल्कि यहाॅ के लोग स्वयं जिम्मेदार है क्योकि यहाॅ के लोगो द्वारा अपने अधिकारो के लिये कोई सधर्श नही किया जाता रहा है। केन्द्र सरकार द्वारा अमीरी का मानक गाॅव में 26 रू0 एवं षहरो मंे 32 रू0 निर्धारित किया जाना बहुत ही हास्यपद व गैर जिम्मेदारा पुर्ण है। ऐसा करके केन्द्र सरकार द्वारा गाॅव व षहर के गरीब लोगो का माखौल उडाया जा रहा है। क्रागेस का यह नारा कि क्रागेस आई नयी रोषनी लाई खोखला सावित हुआ है वर्तमान समय मे ं देष मंे चारो तरफ अधेरा ही अंधेरा विद्वमान है। उ0प्र0 के मुख्य मंत्री मायावती द्वारा अपना ही मुर्तिया बनाया जाना हास्यापद हैं क्योकि किसी भी व्यक्ति का जिन्दा रहते मुर्ति नही बनवायी जाती और नही उस पर माल्यापर्ण किया जाता। जब कि मायावती द्वारा स्वयं अपनी बनवायी गयी मुर्ति पर माल्यापर्ण  किया गया। उ0प्र0 मंे गरीबो की हालत अत्यन्त दयनीय बनी हुयी है। यदि मुर्तियो पर खर्च होने वाला पैसा उ0प्र0 में गरीबो लोगो के कल्याण के उपर खर्च हो तो गरीबो की दषा में निष्चित ही सुधार होगा। उ0प्र0 में किसानो के लिये ठोस योजनाये नही है। उनको समय से खाद, बीज, बीजली व पानी उपलब्ध नही है जिससे किसान अपनी उपज का सही पैदावार नही ले पा रहा है। भारतीय जनता पार्टी द्वारा विकास की राजनिति की जाती है। राजग की बाजपई जी के सरकार के समय में गाॅव का विकास हुआ गाॅव के लिये प्रधान मंत्री सडक की योजना व अन्य योजनाये संचालित की गयी। जो अब ठप पडी हुयी है। वर्तमान केन्द्र सरकार घोटालो की सरकार है। रैली को सम्बोधित करते हुये प्रदेष के अध्यक्ष सुर्य प्रताप साही ने कहा कि वर्तमान समय मे उ0प्र0 विकास की दुश्टि से पिछडा हुआ है। तथा पिछड कर 17 वे नम्बर पर हो गया है। सपा व बसपा सरकार ने प्रदेष को लुटा व उसे फटे हाल बना दिया है सोनभद्र अभाव ग्रस्त जनपद है यहा पर अनेक प्रकार की समस्याए विद्वमान है बिजली, पानी, सडक, षिक्षा, चिकित्सा एवं रोजगार सभी के लिये यहा के लोग सघर्श करते रहे है। सोनभद्र में आदिवासी व जनजाति ठगा गया उसको मुल अधिकार से वंचित किया गया है। जनजातियों को पंचायत चुनाव लडने से वंचित करने का कार्य सपा व बसपा सरकारा द्वारा किया गया सर्वाधिका राजस्व देने के बावजूद यह जनपद का पिछडापन समझ से परे है भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेष मे सरकार बनने पर सोनभद्र वासियो को उनका अधिकार निष्चित मिलेगा।
100_9066श्री गडकरी ने कहा कि सच्चाई यह है कि केन्द्र सरकार के मंत्रीयो के वजह से ही वर्तमान केन्द्र सरकार का अस्त्तिव खतरे मे है। घोटाले के मामले मंे उ0प्र0 की मायावती सरकार भी केन्द्र सरकार से बहुत पिछे नही हेै। वर्तमान प्रदेष सरकार में भी अनके घोटाले किये गये प्रदेष सरकार द्वारा नोएडा में भूमि घोटाला व चीनी मिलो को कौडी के भाव व्रिकी आदि अनेक घोटाले किये गये सरकार द्वारा जाति वादी की राजनिति की जा रही है। मुलायम सरकार के गुण्डा राज से मुक्ति के लिये अस्त्तिव मे आयी माया सरकार द्वारा मुलायम के समय के गुण्डाराज के रिर्काड को पिछे छोड दिया गया है। प्रदेष के खनिज सम्पदाओ पर खनन माफियाओं एवं मंत्रीयों का अधिपत्य कायम है। भारतीय जनता पार्टी द्वारा विकास व राश्टवाद की राजनिति की जाति हैं भाजपा सरकार बनने पर हम गाॅव की दषा सुधारगे युवाओं को रोजगार देगंे। गरीबो की गरीबी दुर करेगें तथा वनवासी व जनजाति लोगो को उनका अधिकार दिलाने का कार्य करेगें प्रदेष को सपा, बसपा ने वदहाल बना दिया है।
रैली को सम्बोधित करते हुये प्रदेष के अध्यक्ष सूर्य प्रताप षाही ने कहा कि वर्तमान समय मे उ0प्र0 विकास की दुश्टि से पिछडा हुआ है। तथा पिछड कर 17 वे नम्बर पर हो गया है। सपा व बसपा सरकार ने प्रदेष को लुटा व उसे फटे हाल बना दिया है सोनभद्र अभाव ग्रस्त जनपद है यहा पर अनेक प्रकार की समस्याए विद्वमान है बिजली, पानी, सडक, षिक्षा, चिकित्सा एवं रोजगार सभी के लिये यहा के लोग सघर्श करते रहे है। सोनभद्र में आदिवासी व जनजाति ठगा गया उसको मुल अधिकार से वंचित किया गया है। जनजातियों को पंचायत चुनाव लडने से वंचित करने का कार्य सपा व बसपा सरकारा द्वारा किया गया सर्वाधिका राजस्व देने के बावजूद यह जनपद का पिछडापन समझ से परे है भारतीय जनता पार्टी की उत्तर प्रदेष मे सरकार बनने पर सोनभद्र वासियो को उनका अधिकार निष्चित मिलेगा।
राश्ट्रीय उपाध्यक्ष कलराज मिश्र ने कहा कि वनवासी जनजाति एवं अनुसूचित जाति के लोगो से उनका अधिकार छिना गया उन्हे चुनाव लडने से वचित किया जाना एवं जंगलो से सम्बन्धित समस्याए सपा व बसपा सरकार द्वारा जान बुझकर पैदा किया गया जंगल में वनवासी जनजाति के साथ अत्याचार किया जा रहा है।  उन पर अनेक तरह के फर्जी मुकदमे उन्हे परेषान करने की नियत से लादे जा रहे है जिससे वह परेषान व लाचर है। आवष्यकता है कि आदिवासीयो के नेता विरसा मुण्डा जी को आर्दष बनाकर वनवासियो द्वारा उनके अधिकारो के लिये सघर्श किया जाय। तभी वनवासी लोगो को उनका अधिकार मिल सकेगा।
100_9037पूर्व मुख्य मंत्री उमा भारती ने कहा कि आज हम सभी वनवासी, जनजाति एवं अनुसूचित जाति के लोगो क अधिकार के लिये आये हुये है गरीबो वनवासियो एवं जनजातियों को उचित सम्मान देकर ही उनका अधिकार दिया जा सकता है। सोनभद्र के लोग भगवान षंकर के समान है जो अपने को कश्ट देने वाले को भी सुखी रहने व उनके मंगल की कामना करते है भारतीय जनता पार्टी उ0प्र0 द्वारा निकाली गयी जन स्वाभिमान यात्रा उ0प्र0 के लोगो को कुषासन व भश्टाचार से मुक्त करने के लिये निकाली गयी है। जिसमें कलराज मिश्र जी जामवन्त की भूमिका में है जो उ0प्र0 की विषाल जनता का नेतृत्व कर प्रदेष को कुषासन व भश्टाचार से मुक्त कराने का कार्य करेंगे । उ0प्र0 में सता परिर्वतन बहुत जरूरी हैै क्योकि सता परिर्वतन से ही व्यवस्था का परिवर्तन होगा तभी आदिवासी को जंगल पर धरती पर किसान का नदी व तालाब पर मछुआरो का तथा प्रदेष जिसका जो अधिकार है वह मिल पायेगा।
सभा को रामविचार नेताम, पंचायत मंत्री छतीसगढ, जगन्नाथ सिंह गौड श्रम मंत्री मध्य प्रदेष , रजना बघेल मंत्री छतीसगढ, रामनाथ कोबिद, देवी सिंह राज्य मंत्री लक्ष्मण आर्चाय, हरिश द्विवेद्वी, यज्ञनरायण कनौजिया, धर्मवीर तिवारी, रामषकल, जय प्रकाष चतुर्वेदी, गोविन्द यादव आदि ने सम्बोधित किया ।
रैली में सिद्वार्थ  नाथ सिंह, षिव प्रताप षुक्ला, स्वतन्त्र देव सिंह, केदार नाथ सिंह, महेन्द्र नाथ पाण्डेय, विजय बहादुर पाठक, देवेन्द्र सिंह चैहान, ओम प्रकाष श्रीवास्वत, राकेष द्विवेदी, संजय राय, करूणेष षर्मा,  उत्तर कुमार मौर्य, राणा प्रताप सिंह, सुजित सिंह टिका, राकेष सिंह अलगू, सोमेष, भुपेष चैबे, रमेष मिश्रा, रामलखन सिंह, माला चैबे, अरविन्द पाण्डेय, पंकज पटेल, सन्तोश पाण्डेय, कमलेष चैबे आदि प्रमुख रहे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

March 2017
M T W T F S S
« Feb    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728293031  
-->




 Type in