*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | July, 2017

मुख्यमंत्री ने जनपद आगरा की दुर्घटना में बच्चों की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया

Posted on 19 July 2017 by admin

मृतक बच्चों के परिजनों को
आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने जनपद आगरा के फतेहाबाद थाना क्षेत्र की दुर्घटना में बच्चों की मृत्यु पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोकग्रस्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना भी व्यक्त की है। मुख्यमंत्री जी ने मृतक बच्चों के परिजनों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।
ज्ञातव्य है कि बीती रात आलू से लदी एक ट्रक शमशाबाद रोड स्थित गोदना की घड़ी गांव में अनियंत्रित होकर एक खोखे पर गिर गई, जिसकी चपेट में आकर इन बच्चों की मृत्यु हो गई।

Comments (0)

हजारों की संख्या में युवा बेरोजगार हो रहे हैं

Posted on 19 July 2017 by admin

उत्तर प्रदेश में विगत 33 सालों से प्रदेश की राजधानी लखनऊ में संचालित टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज(टीसीएस) की लखनऊ इकाई प्रदेश की योगी सरकार की अकर्मण्यता और गलत नीतियों के चलते बन्द होने की कगार पर पहुंचने से हजारों की संख्या में इंजीनियर, कर्मचारी परेशान हैं उनके परिवार पीडि़त हैं, लेकिन केन्द्र और प्रदेश की मोदी और येागी सरकार पूरी तरह संवेदनहीन बनी हुई है।
प्रदेश कंाग्रेस के प्रवक्ता संजय बाजपेयी ने आज जारी बयान में कहा कि एक तरफ जहां लखनऊ में यह कम्पनी बन्द हो रही है जिससे हजारों की संख्या में युवा बेरोजगार हो रहे हैं वहीं दूसरी तरफ यही कम्पनी उड़ीसा के भुवनेश्वर में तीन हजार भर्तियां करने जा रही है। उत्तर प्रदेश की जनता को चुनाव के दौरान रोजगार देने का वादा करने वाली योगी सरकार रोजगार देना तो दूर अब रोजगार खत्म करने पर अमादा है क्योंकि प्रदेश सरकार के अनिर्णय की स्थिति के चलते टीसीएस की इस इकाई के बन्द होने की संभावना है। जिससे प्रदेश के हजारों नौजवानों के बेरोजगार होने और उनके परिवारों के भरण-पोषण की समस्या पैदा हो गयी है।
प्रवक्ता ने कहा कि केन्द्र में जहां मोदी की सरकार ने रोजगार सृजन के मौके समाप्त करने का कार्य किया है वहीं प्रदेश की योगी सरकार उत्तर प्रदेश में उद्योग लगाने के प्रति कोई कदम नहीं उठा रही है जो उद्योग चल रहे हैं सरकार की गलत नीतियों के चलते बन्द होने की कगार पर पहुंच रहे हैं। योगी सरकार द्वारा उ0प्र0 के बजट में पांच वर्षों में जीडीपी दस प्रतिशत ले जाने का जो लक्ष्य निर्धारित है और उद्योगों के जाल बिछाने के लिए कोई प्रभावशाली कदम नहीं उठाया है, इस कदम से उ0प्र0 के युवा और बेरोजगारों में घोर निराशा व्याप्त हो गयी है। ऐसा प्रतीत होता है कि टीसीएस ने जो उत्तर प्रदेश से इस इकाई को हटाने का निर्णय लिया है उसका एक प्रमुख कारण योगी सरकार की उद्योग विरोधी नीति भी जिम्मेदार है।

Comments (0)

उ0प्र0 कंाग्रेस संगठनात्मक चुनाव के पी0आर0ओ0(पूर्वांचल), पूर्व मंत्री व पूर्व प्रदेश अध्यक्ष उत्तराखण्ड, श्री किशोर उपाध्याय जी की प्रेस वार्ता के प्रमुख अंशः

Posted on 19 July 2017 by admin

श्री किशोर उपाध्याय जी ने कहा कि उन्हें उ0प्र0 और उत्तराखण्ड प्रदेश में काम करने का सौभाग्य मिला है। उ0प्र0 में संगठनात्मक चुनाव के सिलसिले में आने पर मैं गोरखपुर, वाराणसी, अयोध्या आदि स्थानों पर गया। अयोध्या देश की राजनीति का टर्निंग प्वाइन्ट है ऐसा मेरा अनुभव रहा है। उन्होने कहा कि मैंने पहले अविभाजित उ0प्र0 और आज उत्तराखण्ड में विभाजित होने पर उ0प्र0 देख रहा हूं और मेरा जो अनुभव रहा है उसको साझा करना चाहता हूं। उन्होने कहा कि गोरखपुर में गोरखनाथ पीठ में मेरी भी आस्था है। उत्तराखण्ड में गोरखनाथ पीठ का बहुत सम्मान है और सदैव पूजा होती है। मैं जब गोरक्षपीठ पर गया तो वहां जो देखा उससे आश्चर्यचकित हुआ। मैंने वहां कहा कि इस पीठ पर योगी नहीं जोगी हुआ करते हैं किन्तु उस पीठ पर जो बैठे हैं उन्होने कुछ योग करके खुद को योगी बना लिया होगा। किसी भी राजनैतिक विचारधारा को मानने वाले लोगों का पीठ पर आस्था रहता है। ऐसे में योगी जी को दो में से एक स्थान पर रहना चाहिए या तो महन्थ रहें अथवा मुख्यमंत्री, जब तक मुख्यमंत्री हैं। क्योंकि सन्त परम्परा में जो कर्मकाण्ड, संस्कार करता है दीक्षा देता है। उन्होने कहाकि उनका मानना है कि हर जो लोग उसमें आस्था रखते हैं वहां हर व्यक्ति जा सके। किन्तु मुख्यमंत्री के रूप में गोरक्ष पीठ का राजनैतिक दुरूपयोग किया जा रहा है। किसी भी पीठ को राजनीति का अखाड़ा नहीं बनाना चाहिए। इससे लाखों लोगों की आस्था को अघात पहुंच रहा है।

श्री उपाध्याय ने कहा कि वह अयोध्या गये थे और उन्हें बड़ा कष्ट हुआ यह देखकर कि जो भगवान श्रीराम हम सबके जीवन के कष्टों से मुक्ति दिलाते हैं तारणहार हैं वह जेल के तरीके से रामजन्मभूमि में हैं जिसके लिए पूरी तरह भारतीय जनता पार्टी दोषी है। भाजपा की गलती की वजह से आज वह स्थल जेल के रूप में परिवर्तित हो गया है, ऐसे में करेाड़ों लोगों की आस्था का क्या होगा।
श्री उपाध्याय ने कहा कि उ0प्र0 की विचारधारा ने देश को दिशा दी है। मोदी जी के वाराणसी में चुनाव लड़ने से वाराणसी के स्थानीय भारतीय जनता पार्टी के लोगों के हितों पर कुठाराघात हुआ है। क्येांकि जब वहां के लोगों ने वाराणसी में चुनाव के बावत पूछा तो उन्होने कहाकि मां गंगा ने मुझे बुलाया है। उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड मां गंगा की जन्मस्थली है और उनकी स्वयं की पैदाइश भी मां गंगा के जन्मस्थली में हुआ हैं। नमामि गंगे में विगत 3 वर्ष में कोई काम नहीं हुआ है। ऐसा लगता है कि भाजपा एक तो राम जन्मभूमि मसले को सुलझाना नहीं चाहती क्योंकि उनके लिए यह एक मुद्दा है जो दुधारू गाय के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। चाहे गौ, गंगा और धारा 370 हो, यह सारे मुद्दे भाजपा ने राजनीतिक लाभ के लिए उपयोग किया है। आज तो उ0प्र0 और केन्द्र में भाजपा की सरकार है प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री उ0प्र0 से हैं। ऐसे में देश की जनता जानना चाहती है कि जिन्होने वर्ष 1985 से धार्मिक उन्माद को फैलाने का काम किया है उसका समाधान कब होगा। जुमलों पर भी स्पष्टीकरण मांगे जाने चाहिए।

श्री उपाध्याय ने कहा कि उन्होने अयोध्या में देखा कि सड़कों और गलियों में गंदगी व्याप्त है। ऐसे में भाजपा सबसे पहले स्वच्छ भारत की शुरूआत अयोध्या, गोरखपुर और काशी से करे। आज के समय में इन तीनों स्थानों पर गंदगी की जो स्थिति है उसे बयां नहीं किया जा सकता। जिस तरह भाजपा ने भगवान राम को धोखा दिया अब वह उत्तराखण्ड की बेटी मां गंगा को धोखा देने का काम कर रहे हैं।

श्री उपाध्याय ने अन्त में कहा कि उत्तर प्रदेश कंाग्रेस का संगठन चुनाव चल रहा है। पहला शिड्यूल जारी हो चुका है। हर जिले में डीआरओ पहुंच गये हैं। ब्लाक निर्वाचन अधिकारी बीआरओ का गठन हो रहा है। आगामी 05 अगस्त को ब्लाक के निर्वाचन अधिकारियों की बैठक आयेाजित करेंगे। कंाग्रेस एक अकेला ऐसा दल है जिसमें ग्रास रूट के कार्यकर्ता को भी जो कि प्राथमिक सदस्य होते हैं वह भी अ0भा0 कंाग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ सकते हैं। ब्लाक, जिला, प्रदेश और एआईसीसी के अध्यक्ष का चुनाव होता है। गांधीजी के समय में संगठन चुनाव की जो परिपाटी शुरू हुई जो वह गौरवशाली इतिहास रहा, आज भी कंाग्रेस में परिपाटी चल रही है। उसी परिपाटी को आगे बढ़ाने के लिए उ0प्र0 कंाग्रेस के कांग्रेसजनों को शुभकामनाएं देता हूं। उन्होने कहा कि उनकी कोशिश होगी कि जिन्होने सदस्यता की है मेहनत की है उन्हें संगठन में जरूर मौका मिले।

Comments (0)

राजभवन से बाहर आकर राज्यपाल ने यातायात खुलवाया

Posted on 19 July 2017 by admin

राहगीरों को परेशानी नहीं होनी चाहिये - श्री नाईक

dsc_9196आज दोपहर में अचानक तेज हवा और बारिश से राजभवन के गेट नं0 2 के पास महात्मा गांधी मार्ग पर लगा पुराना सेमल का पेड़ गिर गया। पेड़ के गिरने से राजभवन की चाहरदीवारी भी क्षतिग्रस्त हुई और बाहर महात्मा गांधी मार्ग पर यातायात बाधित हो गया। राज्यपाल श्री राम नाईक को जैसे ही यह ज्ञात हुआ तब संवेदनशीलता का परिचय देते हुये वे स्वयं राजभवन से बाहर निकलकर आये और समस्या का जायजा लिया। श्री नाईक ने सड़क पर गिरे पेड़ को तुरंत हटाने के लिये वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये तथा साथ ही साथ यातायात को सुचारू करने हेतु यातायात पुलिस को भी निर्देश दिये।
राज्यपाल के निर्देश पर वन विभाग द्वारा गिरे पेड़ को तत्काल काटकर मार्ग से हटाया गया जिसके पश्चात् महात्मा गांधी मार्ग पर यातायात का आवागमन सुचारू हो सका।

Comments (0)

मा0 मंत्री, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य (श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह) का विधान सभा में सामान्य बजट पर वक्तव्य

Posted on 19 July 2017 by admin

माननीय अध्यक्ष जी मैं आपका आभारी हूॅं कि आपने मुझे बजट की चर्चा में बोलने का समय दिया। नेता विपक्ष ने बजट पर चर्चा के दौरान कहा था कि यह बजट दिशाहीन है, किसान विरोधी है, छात्र विरोधी ह,ै महिला और मजदूर विरोधी है।
अध्यक्ष जी, समस्या यह है कि माननीय नेता विपक्ष टी-20 का मैच खेलना चाहते हैं लेकिन यह पाॅंच दिवसीय मैच है जो हर एक साल के समान होता है पाॅंचवा साल निर्णायक होता है और ठोस होता है। ‘‘इसलिए जनता के लिए जिसके मन में प्यार नहीं होता, जनतन्त्र में वह कुर्सी का हकदार नहीं होता है‘‘। यह शब्द मेरे नहीं हैं। यह शब्द श्री अखिलेश यादव जी के हैं। जब उन्होंने 2016-17 का बजट पेश किया था। शायद उन्हें अपनी कथनी और करनी में अन्तर दिख गया था जिसके कारण उन्होंने इन शब्दों का इस्तेमाल किया, लेकिन मेरा आग्रह है कि बजट का विश्लेषण टी-20 की तरह नहीं पाॅंच दिवसीय क्रिकेट मैच की तरह करना चाहिए।
मा0 अध्यक्ष जी, बजट कोई सत्ता पक्ष या विपक्ष का नहीं होता यह 22 करोड़ उत्तर प्रदेश की जनता की मेहनत की कमाई पर जो टैक्स लगता है उससे बजट की धनराशि बनती है। जनता हम सब को चुन कर भेजती है इस पवित्र मंदिर में क्योंकि उन्हें विश्वास होता है कि हम उनके हित में सही निर्णय करेंगे और उनके पैसों को सही योजनाओं पर खर्च  करेंगें।
मा0 अध्यक्ष जी, कहते हैं थ्पहनतमे क्वदश्ज स्पम (आंकड़े गलत नहीं बोलते)
शिक्षा-
ये आंकड़े मेरे नहीं नीति आयोग के हैं।
कक्षा-5 के बच्चे कितने प्रतिशत गुणा-भाग कर सकते हैं।
नागालैण्ड-80.4ः
मिजोरम-87.4ः
हरियाणा-74.8ः
उत्तर प्रदेश-46.7ः
- प्राथमिक स्तर पर ड्राप आॅउट रेट-भारत के नीचे के 100 जिलों में से उत्तर प्रदेश के 21 जिले हैं।
- अध्यापक/छात्र अनुपात-(प्रतिकूल) भारत के नीचे के 100 जिलों में से उत्तर प्रदेश के 32 जिले हैं।
शिशु मातृ-दर/1000 बच्चे- भारत-50, उत्तर प्रदेश-78,
मातृ मृत्यु दर/100,000- भारत -178, उत्तर प्रदेश-285,
पाॅंच वर्ष से नीचे शिशु जो बौने होते हैं- भारत-38.4ः, उत्तर प्रदेश-46.3ः, भारत के नीचे के 100 जिलों में से उत्तर प्रदेश के 29 जिले हैं।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (ॅण्भ्ण्व्) कहता है कि 1000 की जनसंख्या पर एक डाॅक्टर होना चाहिए जबकि वर्तमान में उत्तर प्रदेश में 1000 की जनसंख्या पर सरकारी और प्राइवेट डाॅक्टर मिलाकर 0.63 ही हैं।
-हाॅस्पिटल बेड/1000 जनसंख्या-उत्तर प्रदेश में 1.5 से कम है।
-गरीबी अनुपात-कुल जनसंख्या के आधार पर  ठच्स् परिवार-
नीचे से भारत के 100 जिलों में से 22 उत्तर प्रदेश के हैं। (छैैव्-2011)
लघु सिंचाई-16 राज्यों में से उत्तर प्रदेश का स्थान 13वां है। उत्तर प्रदेश के 0.38 हेक्टेयर ही क्षेत्रफल लघु ंिसंचित हैं, जबकि क्षमता 107.89 लाख हेक्टेयर है।
यह उत्तर प्रदेश का आइना है और इस पर हम सभी को चिन्तित होना चाहिए।
‘‘कहो तो चल दें तुम्हारी ही राह पर, लेकिन गरीबी न होगी ऐसे कम,
उसे मिटाने के लिए चलाना ही होगा-योगी मंत्र ‘‘
मा0 अध्यक्ष जी, सम्मानित नेता विपक्ष में इस बजट को छोटा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी और अर्थशास्त्री बनकर ऐसे-ऐसे तर्क दिये कि बड़े-बड़े अर्थशास्त्री भी चकित रह गये होंगे। पहले तो उन्होंने कर्जमाफी के रू0 36000 करोड़ और सातवें वेतन के रू0 35000 करोड़ घटा दिये। बजट के अन्दर जब ये व्यवस्था की गयी है तो वह व्यय का भाग बनता है जिसे हम साधारण अंग्रेजी में म्गचमदकपजनतम बोलते हैं। दूसरा उन्होंने मुद्रास्फीति का हवाला देते हुए उसकी गणना की और पिछले बजट से उसकी तुलना भी कर दी। कहीं हम हर बजट को इसी तरह करें तो 2016-17 का रू0 3,40,255 करोड़ मुद्रास्फीति ( ॅच्प् इन्फ्लेशन-1.7ः) के आधार पर रू0 305,475 करोड़ बन जाता है जोकि 2015-16 का बजट रू0 3,03,049 लाख करोड़ से कुछ ही अधिक है। बजट का यह नया विश्लेषण सीखा है मा0 नेता विपक्ष से । व्यय आज के प्दसिंजपवद (इन्फ्लेशन) पर और ठनकहमज डपदने पदसिंजपवद तंजमण्
मा0 अध्यक्ष जी, किसानों की सबको चिन्ता होती है और होनी भी चाहिए। क्योंकि जब 70 प्रतिशत उत्तर प्रदेश की जनता कृषि पर आधारित है, तो चिन्ता स्वाभाविक है। लेकिन राज्य की ळक्च् में कृषि का 23ः ही योगदान है। जहां 70 प्रतिशत लोग कृषि पर आधारित हों वहाॅं पर योगदान क्या 23ः ही होना चाहिए? 2017-18 का बजट विशेष रूप से चिन्ता करता है कि कृषि उत्पादन कैसे बढ़े, किस प्रकार से किसानों के लिए ‘स्वाएल हेल्थ कार्ड‘ की व्यवस्था हो, 20 जनपदों में कृषि विज्ञान केन्द्र और खोले जाएं, किसानों को सिंचाई की सुविधा अच्छी मिले और बिजली की निरन्तर उपलब्धता सुनिश्चित हो।
मा0 अध्यक्ष जी, जो लोग रू0 36000 करोड़ ऋण माफी को पचा नहीं पा रहे हैं और अनेक तर्क, संकल्प पत्र के माध्यम से दे रहे हैं, क्या उन्हें आत्मचिन्तन नहीं करना चाहिए कि इतना बड़ा ऋण किसानों के ऊपर कैसे हुआ?, कारण ढूंढ रहे हैं हम पर उंगली उठाने का लेकिन भूूल जाते हैं कि जब एक उंगली उठाओगे तो दोे उंगली अपनी ही ओर इंगित करेगी।
कानून व्यवस्था-मा0 नेता विपक्ष ने सही कहा ‘‘कि कानून व्यवस्था कोई पुड़िया नहीं है कि कोई उसे बाजार से खरीद लाए और उसे ठीक कर दे।‘‘ साथ ही साथ उन्होंने कहा कि ‘‘हमारी मंशा क्या है, कानून व्यवस्था को ठीक करने की। मा0 अखिलेश यादव की सरकार ने यह काम किया था’’।
विषय आंकड़े देने का नहीं है या जवाहर बाग की बात करने का या सीतापुर में 2016 में धनतेरस के दिन जिलाधिकारी के घर के सामने व्यापारी की हत्या जिसका आरोपी हमारी सरकार के दौरान पकड़ा गया। मैं इन चीजों पर सदन का समय बर्बाद नहीं करूंगा। कानून-व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए यह आवश्यक है कि उसके इन्फ्रास्ट्रक्चर को हम मजबूत करें। थानों के अन्दर चेन प्रक्रिया में पारदर्शिता एवं गुणवत्ता का ध्यान रखें। जब ढांचा ठीक होता है तो कानून-व्यवस्था पर नियंत्रण भी होता है। दुर्भाग्य है कि सपा सरकार के समय 1526 थानों पर 50 प्रतिशत से ज्यादा जो नियुक्तियाॅं हुई थी वह जाति के आधार पर हुई थी।  उदाहरण के रूप में बंदायूॅं में 22 पुलिस थानों में 16 एक ही जाति के ैण्व्ण् की नियुक्तियां, कानपुर में 36 में से 25 थानों पर वही विशेष जाति, फर्रूखाबाद में 14 में से 7 एक ही जाति के और इसी प्रकार से यह लिस्ट बढ़ती गई सपा सरकार में।
बहुजन समाज पार्टी के नेता मा0 लालजी वर्मा जी को याद होगा कि उनकी सरकार  2004 से 2007 में 21,000 कान्स्टेबिल की भर्ती को सुप्रीम कोर्ट ले गये थे। लेकिन जब 2012 में समाजवादी सरकार आई तो बहुजन समाज पार्टी सरकार की ैस्च् को वापस कर लिया और भ्रष्ट प्रक्रिया को मान्यता दी।
मा0 अध्यक्ष जी, यही नहीं 2013 में 86 ैक्ड मे से 56 ैक्ड की नियुक्तियां भी विशेष जाति के आधार पर हुई है। यहां तक की लोक सेवा आयोग को नहीं छोड़ा। उच्चतर शिक्षा सेवा चयन बोर्ड, माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड, उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग, उत्तर प्रदेश को-आॅपरेटिव इन्स्टीट्यूशनल सेवा बोर्ड को भी इसी विशेष जाति में सीमित कर दिया।
मा0 अध्यक्ष जी, जब किसी इन्स्टीट्यूशन को और विशेष रूप से कानून-व्यवस्था की संस्था को जाति के आधार पर ध्वस्त किया जायेगा तो उस व्यवस्था को ठीक करने में समय लगेगा।
स्वास्थ्य-मा0 नेता विपक्ष ने कहा कि ‘‘गांॅव के मरीज क्या करेंगे व्यवस्था तो है। लेकिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को मा0 मंत्री जी दिखवा लीजिए कि कितने डाॅक्टर हैं ?‘‘
मा0 अध्यक्ष जी, मैं एक छोटा सा उदाहरण देना चाहता हूॅं, 2011 में बहुजन समाज पार्टी की सरकार थी, उन्होंने 2091 डाॅक्टरों का लोक सेवा आयोग को अधियाचन भेजा था। 2012 में समाजवादी पार्टी की सरकार आयी उसमें से 860 डाॅक्टर नियुक्त हुए। 2014-15 में समाजवादी पार्टी की सरकार ने 3260 डाॅक्टरों का अधियाचन लोक सेवा आयोग को भेजा। जब मैंने यह जिम्मेदारी सम्भाली तो देखा कि  2014-15 के अधियाचन पर कार्यवाही चल रही है। मेरी तो घण्टी बज गयी कि यह चलेगा नहीं, लेकिन 2012 में समाजवादी पार्टी के मंत्री की घण्टी क्यांे नहीं बजी? इसका जवाब नेता विपक्ष को देना चाहिए? इसलिए मैंने डाॅक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए कुछ कदम उठाए। डाॅक्टरों की रिटायरमेन्ट की आयु 60 वर्ष से 62 वर्ष कर दी। जिससे 500 से 1000 डाॅक्टर मिल जायंेगे। दूसराः- 1000 डाॅक्टरों का वाॅक-इन इण्टरव्यू कैबिनेट से अनुमोदित किया और आने वाले समय में टेलीमेडिसिन लेकर आ रहा हूॅं। मैं इस पर विस्तार से विभागीय बजट पर चर्चा करूंगा।
मा0 अध्यक्ष जी, यहां पर बजट की चर्चा के दौरान शेरो-शायरी अच्छी हुई है तो मेरा भी दिल करता है कि एक शेर अर्ज कर दूॅं, यह शेर विपक्ष की ओर है।
‘‘महसूस यह होता है कि दौरे तबाही है,
पत्थर की अदालत में शीशे की गवाही है,
दुनिया में ऐसी तफ्शीश नहीं मिलती,
कि कातिल ही लुटेरा है और कातिल ही सिपाही है‘‘
बहुत-बहुत धन्यवाद।

Comments (0)

13 डेंटल कालेजों तथा 23 मेडिकल कालेजों की निर्धारित की गई फीस

Posted on 19 July 2017 by admin

प्रदेश के निजी क्षेत्र के 13 डेंटल कालेजों तथा 23 मेडिकल कालेजों की फीस

प्रथम बार निर्धारित की गई है। जनसामान्य को शिक्षा की सुगमता हेतु
एम.बी.बी.एस. पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए 8.50 से लेकर 11.50 लाख रुपये
निर्धारित की गई है जबकि  बी.डी.एस. के लिए 1.37 लाख रुपये से लेकर 3.65 लाख
रुपये निर्धारित की गई है।
यह जानकारी प्रदेश सरकार के चिकित्सा शिक्षा एवं प्राविधिक शिक्षा मंत्री श्री
आशुतोष टंडन ने आज यहां विधान सभा सचिवालय स्थित अपने कार्यालय कक्ष में दी
है। उन्होंने बताया कि यह फीस शैक्षणिक सत्र 2017-18, 2018-19 व 2019-20 के
लिए निर्धारित की गई है। प्राइवेट मेडिकल कालेजों के मनमानी फीस पर अंकुश
लगाने के लिए फीस नियमन समिति भी बनाई गई है।
शैक्षणिक सत्र, 2016-17 हेतु निजी क्षेत्र द्वारा संचालित एम.बी.बी.एस.
पाठ्यक्रमों हेतु 11.30 लाख रुपये एवं बी.डी.एस. पाठ्यक्रम हेतु 3.25 लाख
रुपये अन्तरिम शुल्क समस्त संस्थानों हेतु निर्धारित थी।

Comments (0)

मुंशी, मौलवी, आलिम, कामिल एवं फाज़िल परीक्षा वर्ष 2017 का परीक्षाफल घोषित

Posted on 19 July 2017 by admin

उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद द्वारा संचालित मुंशी, मौलवी, आलिम, कामिल
एवं फाज़िल परीक्षा वर्ष 2017 का परिणाम घोषित कर दिया गया है।
यह जानकारी आज यहां मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार श्री राहुल गुप्ता ने दी।
उन्होंने बताया कि परीक्षाफल परिषद की अधिकारिक वेबसाइट ूूूण्नचइउमण्मकनण्पद
पर अपलोड कर दिया गया है। परीक्षार्थी अपना परीक्षाफल इस वेबसाइट पर देख सकते
हैं।
कुल 371054 अभ्यर्थियों में 262076 अभ्यार्थी सफल घोषित किये गये। 70007
अभ्यार्थी अनुपस्थित रहें। उन्होंने बताया कि इस परीक्षा में भाग लेने वाले
कुल परीक्षार्थियों के सापेक्ष 87.5 प्रतिशत अभ्यार्थी सफल घोषित किये हैं।
कुल 38841 अभ्यर्थी असफल घोषित किये गये।

Comments (0)

सहकारिता मंत्री ने वर्ष 2017-18 में गेहूं खरीद में उत्कृष्ट कार्य करने वाले 19 कार्मिकों को पुरस्कृत किया

Posted on 19 July 2017 by admin

प्रदेश के सहकारिता मंत्री श्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि अच्छे कार्य
करने वालों को पुरस्कृत किया जाना चाहिए। इससे एक नई परम्परा की शुरूआत होगी।
हर किसी को दण्डित करने के स्थान पर पुरस्कृत करने की सोच विकसित की जाए।
उन्होंने कहा कि सहकारिता विभाग की संस्थाए नये उद्यम स्थापित करने पर भी
कार्य करें। इसके लिए कार्य योजना बनाये।
press-2-2श्री वर्मा आज यहां सहकारिता भवन के सभागार में मूल्य समर्थन योजना के
अन्तर्गत वर्ष 2017-18 में गेहूं खरीद में उत्कृष्ट कार्य करने वाले सहकारिता
विभाग के 19 कार्मिकों को पुरस्कृत करने के लिए आयेाजित कार्यक्रम में मुख्य
अतिथि के रूप में बोल रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने मृदा परीक्षण कराने पर बल
दिया। इसमंे साधन सहकारी समितियां अग्रणी भूमिका निभा सकती हैं। उन्होंने कहा
कि इस विभाग को भ्रष्टाचारमुक्त बनाये तथा किसानों को हरसम्भव खाद एवं बीज
उपलब्ध करायें, इससे कृषि उत्पादन में बढ़ोत्तरी होगी। उन्होंने कहा कि गेहूं,
धान खरीद में जो कठिनाई हो रही है उसे दूर किया जायेगा। उन्होंने कहा कि
सहकारिता विभाग द्वारा पिछले वर्षों में सबसे अधिक गेहूं खरीद किया गया है। इस
क्षेत्र में जो कार्य कर रहे हैं वह बधाई के पात्र हैं।
इस अवसर पर राज्य मंत्री सहकारिता श्री उपेन्द्र तिवारी ने कहा कि वर्ष
2017-18 में कुल 37 लाख मीट्रिक टन गेहूं का क्रय सभी एजेन्सियों द्वारा किया
गया जिसमें से 19.25 लाख मीट्रिक टन गेहूं का क्रय केवल सहकारिता विभाग की
एजेन्सियों द्वारा खरीदा गया। आगे उन्होंने कहा कि सभी क्षेत्रों में
प्रतिस्पर्घा होनी चाहिए इससे अच्छे कार्य करने वाले व्यक्ति पुरस्कृत होते
हैं। गेहूं एवं धान खरीद में पारदर्शिता के साथ सही योजना बनाकर कार्य करें।

इस अवसर पर पी.सी.एफ के जिला प्रबन्धकों में सर्वश्री होनेश्वर दयाल सिंघल,
सतीश चन्द्र, संदीप कुमार, अभय राज सिंह, अशोक कुमार बिसारिया, सुरेश बाबू,
सौरभ कुमार, दिव्यांशु वर्मा, परशुराम, सौरभ यादव, प्रशान्त त्रिवेदी, अमित
कुमार चैधरी  तथा सुशील कुमार को सम्मानित किया गया।
इस तरह पी.सी.यू. के तीन अधिकारियों में सर्वश्री अजय कुमार गुप्ता, श्रीमती
शहना बेगम तथा दिलीप कुमार को भी सम्मानित किया गया। प्रदेश के तीन जनपदों में
सर्वाधिक गेहूं खरीद पर वहां पर तैनात सहायक निबन्धक सर्वश्री मंगल सिंह
लखीमपुर खीरी, नवीन चन्द्र शुक्ला बहराइच तथा अनूप द्विवेदी ललितपुर को भी
सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर सहकारिता विभाग के शीर्ष संस्थाओं के प्रबन्ध निदेशक, पी.सी.एफ. के
अध्यक्ष श्री आदित्य यादव, अपर मुख्य सचिव सहकारिता श्री हरि राजकिशोर सहित
विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Comments (0)

उद्यान विभाग की पौधशालाओं में वृक्षारोपण हेतु पौधे उपलब्ध

Posted on 19 July 2017 by admin

उद्यान विभाग की राजकीय पौधशाला, सरोजनी नगर, लखनऊ में वृक्षारोपण हेतु फलदार
पौधे, कलमी पौधे, बीजू पौधे तथा शोभाकार पौधे जन सामान्य के लिए बिक्री हेतु
उपलब्ध हैं।
यह जानकारी उद्यान निदेशक, श्री एस.पी.जोशी ने दी है। उन्होंने बताया कि इस
पौधशाला में नीबू, अंगूर, अनार, आडू, अमरूद, कटहल, बेल, चांदनी, गुड़हल,
हरसिंगार, बोगेनविलिया, शतरानी, सावनी, देशी गुलाब आदि के पौधे उपलब्ध हैं,
इच्छुक व्यक्ति/कृषक जिला उद्यान अधिकारी, राजकीय शीतगृह परिसर, सेक्टर जी,
अलीगंज, लखनऊ के यहां भी सम्पर्क कर नगद मूल्य पर पौध प्राप्त कर सकते हैं।

Comments (0)

कुछ जनजातीय इलाकों में ऐसी दुर्लभ औषधियाँ मौजूद हैं जो भविष्य में तमाम रोगों से निजात में काम आ सकती हैं

Posted on 18 July 2017 by admin

audience-in-the-programme‘‘उत्तर पूर्व के कुछ जनजातीय इलाकों में ऐसी दुर्लभ औषधियाँ मौजूद हैं जो भविष्य में तमाम रोगों से निजात में काम आ सकती हैं। इन पर शोध किये जाने की आवश्यकता है।’’ यह जानकारी आज डाॅ0 एस के बारिक, निदेशक, नेशनल बाॅटेनिकल रिसर्च इंस्टीच्यूट ने प्राचीन भारत में विज्ञान विषय औषधीय पौधों के महत्त्व को रेखांकित करते हुए राज्य स्तरीय गोष्ठी में बोलते हुए दी। पूर्वोत्तर के कुछ जनजातीय इलाकों में ऐसी दुर्लभ औषधियाँ मौजूद हैं जो भविष्य में तमाम रोगों से निजात में काम आ सकती हैं। इन पर शोध किये जाने की आवश्यकता है।
ब्रेकथ्रू साइंस सोसाइटी, लखनऊ व आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित ‘‘प्राचीन भारत में विज्ञान’’ विषय पर बोलते हुए पद्मश्री डाॅ0 नित्यानन्द ने वैज्ञानिक दृष्टिकोण और मानव जीवन में विज्ञान की महत्ता पर व्यापक रूप से प्रकाश डाला।
बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर डाॅ0 राणा प्रताप सिंह ने पुरातन भारत के पर्यावरण प्रबंधन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि आज पर्यावरण के संरक्षण एवं संवर्धन हेतु हमें प्राचीन पद्धतियों से सीखने की आवश्यकता है।
सेण्टर फाॅर पाॅलिशी रिसर्च के वैज्ञानिक डाॅ0 विवेक के मौर्य ने पुरातन विज्ञान प्रौद्योगिकी द्वारा सिल्क रोड द्वारा वैश्विक व्यापार के महत्त्व पर प्रकाश डाला। एन.बी.आर.आई. के पूर्व वैज्ञानिक डाॅक्टर ए.के.एस. रावत ने पश्चिम हिमालय के औषधीय पौधों के प्राचीन एवं आधुनिक उपयोगों पर अपनी बात रखी। उन्होंने बताया कि अभी भी तमाम किस्म की औषधियों का मूल्यांकन एवं मानव जीवन में उनकी उपयोगिकता पर शोध करने की जरूरत है। भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण के पूर्व वैज्ञानिक डाॅ0 बी.एस.रावत ने कहा कि पुरातन दौर के भूगर्भीय प्रमाणों के आधार पर आधुनिक विज्ञान में क्रांतिकारी शोध किये जा सकते हैं।20170716_103706
कार्यक्रम के मुख्य वक्ता भटनागर पुरस्कार से सम्मानित विशिष्ट वैज्ञानिक डाॅ0 सौमित्रो बनर्जी, भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान (प्प्ैम्त्) कोलकाता के प्रोफेसर और ब्रेकथ्रू साइंस सोसाइटी के अखिल भारतीय महासचिव ने वैदिक और उत्तर वैदिक (सैध्दान्तिक) युग, ईसा पूर्व छठीं शताब्दी से लेकर ग्यारहवीं शताब्दी (लगभग सत्रह सौ साल) के दौरान विज्ञान और गणित- शून्य की खोज, चरक एवं सुश्रुत के हाथों आर्युवेद एवं शल्य चिकित्सा, पाणिनी के हाथों संस्कृत व्याकरण, आर्यभट, ब्रह्मगुप्त और भास्कराचार्य द्वारा बीजगणित, त्रिकोणमित और खगोलविज्ञान- के क्षेत्र में असाधारण प्रगति की चर्चा की। डाॅ0 बनर्जी ने भौतिकीय गणित के साथ भाषा विज्ञान में पुरातन भारत के गणितज्ञों व भौतिक शास्त्रियों के अवदान की चर्चा करते हुए ग्यारहवीं शताब्दी के बाद भारतीय विज्ञान में गिरावट की भी व्यापक चर्चा की।
ब्रेकथ्रू साइंस सोसाइटी के राज्य अध्यक्ष डाॅ0 पी.के.श्रीवास्तव, आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ के संयोजक डाॅ0 राज मेहरोत्रा, बायोटेक पार्क के पूर्व सी.ई.ओ. डाॅ0 पी.के.सेठ, आई.आई.टी.आर. के वरिष्ठ वैज्ञानिक डाॅ0 वी.पी.शर्मा, लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डाॅ0 सरजित सेनसर्मा, जियोलाॅजी विभाग व डाॅ0 मधु त्रिपाठी, जूलाॅजी विभाग आदि जैसे तमाम गणमान्य उपस्थित रहे।
कार्यक्रम की शुरुआत व समापन प्रख्यात संगीत शिक्षक श्री असीम सरकार के द्वारा गाये गीतों के जरिये हुई। कार्यक्रम का संचालन बीरबल साहनी पुरातत्व विज्ञान संस्थान के पूर्व वैज्ञानिक डाॅ0 सी.एम. नौटियाल ने व अंत में धन्यवाद ज्ञापन संगठन के राज्य सचिव इं0 जय प्रकाश मौर्य ने किया।

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

July 2017
M T W T F S S
« Jun    
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  
-->







 Type in