*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | Latest news

मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में ’स्वच्छ उ0प्र0, स्वस्थ उ0प्र0’ के तहत स्वच्छता अभियान की शुरुआत की

Posted on 19 August 2017 by admin

dsc_0039मुख्यमंत्री ने मलिन बस्ती की सड़कों पर
झाड़ू लगाकर लोगों को स्वच्छता के प्रति प्रेरित किया

स्वच्छता जेई/एईएस बीमारी से बचाव के लिए एक अच्छा उपाय: मुख्यमंत्री

इंसेफलाइटिस बीमारी से बचाव के लिए
38 जनपदों में 93 लाख बच्चों का टीकाकरण किया गया

31 दिसम्बर, 2017 तक गोरखपुर को तथा 02 अक्टूबर, 2018 तक
प्रदेश को खुले में शौच से मुक्त करने की समय सीमा तय की गयी है

स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छ उ0प्र0 का
विशेष अभियान 17 से 25 अगस्त, 2017 तक चलाया जा रहा हैdsc_0037

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज गोरखपुर के गोरखनाथ क्षेत्र में मलिन बस्ती अंधियारीबाग मोहल्ले से ’’स्वच्छ उत्तर प्रदेश, स्वस्थ उत्तर प्रदेश’’ के तहत स्वच्छता अभियान की शुरुआत की। इस अवसर पर उन्होंने बाबा साहब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया तथा मलिन बस्ती की सड़कों पर झाड़ू लगाकर लोगों को स्वच्छता के प्रति प्रेरित किया।
इस अवसर पर वहां पर उपस्थित जनसमूह हो सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्वच्छता जेई/एईएस बीमारी से बचाव के लिए एक अच्छा उपाय है। जेई/एईएस बीमारी के तथ्यों की जांच करने पर ज्ञात हुआ कि इसका प्रमुख कारण गंदगी एवं दूषित जल है। स्वच्छता से जेई/एईएस के विषाणुओं को पनपने से रोकने में काफी मदद मिलेगी, जिससे मासूम बच्चों की असमय होने वाली मौत पर काबू पाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि इंसेफलाइटिस बीमारी से बचाव के लिए 38 जनपदों में 93 लाख बच्चों का टीकाकरण किया गया है।dsc_0028-1
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि 31 दिसम्बर, 2017 तक जनपद गोरखपुर को तथा 02 अक्टूबर, 2018 तक प्रदेश को खुले में शौच से मुक्त (ओ0डी0एफ0) करने की समय सीमा तय की गयी है। प्रदेश में सरकार बनने के बाद से ही लगातार लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करने के लिए कार्य किया जा रहा है। ओ0डी0एफ0 अभियान के तहत खुले में शौच से मुक्त करने के तहत गंगा के तट पर बसे गांवों को ओ0डी0एफ0 करा दिया गया है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता का एक विशेष अभियान चलाकर डेंगू व कालाजार जैसी भयानक बीमारियों से बचाव किया जा सकता है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छ उत्तर प्रदेश का एक विशेष अभियान 17 से 25 अगस्त, 2017 तक चलाया जा रहा है। इस अभियान में आमजन की सहभागिता बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि जनपद के विभिन्न मोहल्लों/वाॅर्डों में विभिन्न संगठनों, समाज सेवियों, स्वंय सेवकों एवं आमजन को जोड़ते हुए कमेटी का वाॅर्डवार गठन किया जाए, जिससे यह समिति अभियान चलाकर लोगों में सफाई के प्रति जारूकता लाए। उन्होंने कहा कि नगर निगम, गोरखपुर विकास प्राधिकरण, जिला प्रशासन एवं स्वयंसेवी संगठन मिलकर इस अभियान में काम करेंगे तो निश्चित रूप से अभियान में सफलता मिलेगी। उन्होंने कहा कि उनके (मुख्यमंत्री जी के) अगले दौरे पर जनपद में ऐसा प्रतिस्पर्धा का माहौल रहे कि कौन सा वाॅर्ड सफाई में सबसे आगे है तथा अच्छी सफाई वाले वाॅर्ड को पुरस्कृत भी किया जायेगा।
इस अवसर पर जनप्रतिनिधि तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने जनपद सिद्धार्थनगर में बाढ़ प्रभावित परिवारों को खाद्यान्न एवं राहत सामग्री वितरित की

Posted on 18 August 2017 by admin

press4बाढ़ प्रभावित परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही, प्रत्येक पीड़ित परिवार को पर्याप्त मात्रा में
खाद्यान्न एवं राहत सामग्री उपलब्ध करायी जाए: मुख्यमंत्री

कोई भी बाढ़ प्रभावित व्यक्ति किसी भी दशा में भूखा न रहने पाए

सभी प्रभावित परिवारों को खाद्यान्न, राहत सामग्री का
वितरण बिना किसी भेदभाव के किया जाए

बाढ़ प्रभावित परिवारों को किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े

किसानों की फसलें बाढ़ से प्रभावित होने की दशा में
सर्वे कराकर उन्हें मुआवजा दिया जाए

मुख्यमंत्री ने 02 मृतक आश्रितों को आर्थिक सहायता प्रदान कीpress-23

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने अधिकारियों को निर्देश दिये हंै कि बाढ़ प्रभावित परिवारों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही, प्रत्येक पीड़ित परिवार को पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न एवं राहत सामग्री उपलब्ध करायी जाए। कोई भी बाढ़ प्रभावित व्यक्ति किसी भी दशा में भूखा न रहने पाए। सभी प्रभावित परिवारों को खाद्यान्न, राहत सामग्री का वितरण बिना किसी भेदभाव के किया जाए। बाढ़ प्रभावित परिवारों को किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े।
मुख्यमंत्री जी ने ये निर्देश आज जनपद सिद्धार्थनगर के लोहिया कला भवन में बाढ़ प्रभावित परिवारों को खाद्यान्न एवं राहत सामग्री वितरित करने के दौरान दिये। उन्होंने कहा कि जनपद सिद्धार्थनगर से गुजरने वाली सभी नदियां पहाड़ों से निकली हैं। ऐसी स्थिति में भारी वर्षा होने के पश्चात बाढ़ की भयावह स्थिति उत्पन्न हो जाती है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए प्रदेश सरकार स्थायी समाधान के लिए कार्य योजना तैयार कर रही है।img-20170818-wa0083
योगी जी ने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि बाढ़ पीड़ित परिवारों को पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न सामग्री उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने कहा कि हेलीकाप्टर की मदद से जनपद में बाढ़ग्रस्त गांवों में राहत सामग्री उपलब्ध करायी जा रही है। उन्होंने बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश भी दिये। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देश दिये कि जिन किसानों की फसलें पानी में डूब गयी हैं, उनका सर्वे कराकर उन्हें मुआवजा दिया जाए।img-20170818-wa0084
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जनपद के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के क्षतिग्रस्त मकानों का सर्वे कराकर उनकी क्षतिपूर्ति की जाए और मकान निर्माण हेतु धनराशि उपलब्ध करायी जाए। बाढ़ पीड़ितों को सहायता उपलब्ध कराये जाने में पूरी पारदर्शिता बरती जाए। भ्रष्टाचार की शिकायत मिलने पर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बाढ़ में जिन लोगों के मकान क्षतिग्रस्त हुए हैं, प्रशासन उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाना सुनिश्चित करे।
योगी जी ने कहा कि बाढ़ से घिरे व्यक्तियों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए जनपद में एन0डी0आर0एफ0 और पी0ए0सी0 बटालियन की टीमें युद्धस्तर पर कार्य कर रही हैं। उन्होंने जनपद के सभी जनप्रतिनिधियों से अपेक्षा की कि वे राहत कार्याें की माॅनीटरिंग करते हुए बाढ़ पीड़ित परिवारों को खाद्यान्न सामग्री एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने में प्रशासन का सहयोग करें। स्थिति सामान्य होने तक सभी जनप्रतिनिधिगण द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में निरन्तर भ्रमण किये जाने से राहत कार्याें में सुविधा होगी।
वितरण कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री जी ने स्वयं श्रीमती गीता देवी पत्नी स्व0 अखिलेश कुमार तथा अयोध्या पुत्र सूरत को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की। उन्होंने पीड़ितों को खाद्यान्न सहित अन्य आवश्यक राहत सामग्री जैसे मोमबत्तियां, माचिस के पैकेट, नमक के पैकेट इत्यादि भी उपलब्ध कराए। इस अवसर पर जिला प्रशासन द्वारा एक हजार बाढ़ पीड़ित परिवारों को खाद्यान्न एवं राहत सामग्री वितरित की गयी।
इसके उपरान्त मुख्यमंत्री जी द्वारा जनपद सिद्धार्थनगर की तहसील शोहरतगढ़ के तहत सिसवा गांव में भी बाढ़ प्रभावित परिवारों को राहत सामग्री उपलब्ध करायी गयी। उन्होंने जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक को निर्देशित किया कि वे यह सुनिश्चित करें कि बाढ़ पीड़ितों को कोई समस्या न हो। सभी पीड़ित परिवारों को पर्याप्त मात्रा में राहत सामग्री उपलब्ध करायी जाए।
इस मौके पर उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्रिगण श्री जय प्रताप सिंह, श्री सुरेश राणा सहित जिला प्रशासन के अनेक वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Comments (0)

अन्त्योदय के प्रणेता पं0 दीन दयाल उपाध्याय जी ने समाज के अन्तिम व्यक्ति के उत्थान के लिए जिन मूल्यों को 5 दशक पहले हमारे समक्ष रखा, राज्य सरकार उन्हीं पर आगे बढ़ रही है: मुख्यमंत्री

Posted on 17 August 2017 by admin

press-12अन्त्योदय ऐसी अवधारणा है जो अपनी शाश्वतता को सदैव बनाये रखेगी जन-धन योजना अन्त्योदय का बेमिसाल नमूना

प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में आज वातावरण को युगानुकूल
और लोगों के अनुकूल बनाने का काम चल रहा है

इतिहास से हमें अतीत के सुखद और
दुःखद दोनों पक्षों का पता लगता है

राजनीति पर लोकशाही का नियंत्रण होना चाहिए
और लोकनीति पर सभी को चलना चाहिए

अन्त्योदय के माध्यम से शासन की कार्यपद्धति
भ्रष्टाचारमुक्त और समाज सापेक्ष हो पाएगी

मुख्यमंत्री ने ‘केशव संवाद’ पत्रिका के
‘अन्त्योदय की ओर’ विशेषांक का विमोचन किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि अन्त्योदय के प्रणेता पं0 दीन दयाल उपाध्याय जी ने अपने चिन्तन में समाज के अन्तिम व्यक्ति के उत्थान के लिए जिन मूल्यों को 5 दशक पहले हमारे समक्ष रखा था, राज्य सरकार आज उन्हीं पर आगे बढ़ रही है। अन्त्योदय ऐसी अवधारणा है जो अपनी शाश्वतता को सदैव बनाये रखेगी। जिस समय पं0 उपाध्याय जी ने अपनी यह अवधारणा समाज के सामने प्रस्तुत की, उस समय देशवासियों के सामने विभिन्न विचारधाराएं प्रस्तुत कर भ्रम की स्थिति पैदा कर दी गयी थी।press-2
मुख्यमंत्री जी ने यह विचार आज यहां के0जी0एम0यू0 के कन्वेन्शन सेण्टर में आयोजित ‘केशव संवाद’ पत्रिका के ‘अन्त्योदय की ओर’ विशेषांक के विमोचन के अवसर पर व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा जो जन-धन योजना लागू की गयी है, वह अन्त्योदय का एक बेमिसाल नमूना है। जिस गरीब का पहले खाता नहीं खुल पाता था आज इस योजना के तहत 25 करोड़ ज़ीरो बैलेंस खाते खोले जा चुके हैं। इसका लाभ अब गरीबों को मिल रहा है। आज देश में लगभग 45 करोड़ खाते हैं, जिनमें से 25 करोड़ वर्तमान केन्द्र सरकार के कार्यकाल के दौरान खोले गये हैं।
योगी जी ने कहा कि पहले किसी दैवी आपदा से प्रभावित होने पर गरीबों को 800, 900 या 1000 रुपये के चेक सहायतास्वरूप दिये जाते थे और जब वह बैंक में खाता खुलवाने जाता था तो उससे 1000 रुपये से खाता खोलने की बात कही जाती थी। जन-धन योजना ने आज स्थिति पूरी तरह से बदल दी है। यह कार्य पहले भी किया जा सकता था, परन्तु पिछली सरकारों ने इस दिशा में कोई कार्य नहीं किया। इस योजना को लागू करने के लिए प्रधानमंत्री जी बधाई के पात्र हैं। उनके नेतृत्व में आज वातावरण को युगानुकूल और लोगों के अनुकूल बनाने का काम चल रहा है। जन-धन योजना का लाभ गरीबों को मिल रहा है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों के लिए मकान बनवाये जाने हैं। इस योजना के तहत उन्हें सब्सिडी उपलब्ध करायी जानी है। जन-धन योजना के तहत खोले गये खातों में यह सब्सिडी आज सीधे अन्तरित की जा रही है और लाभार्थी को पूरा लाभ मिल रहा है। पहले बिचैलिये इस सब्सिडी में से काफी बड़ा हिस्सा हड़प जाते थे। इस योजना ने भ्रष्टाचार पर लगाम लगा दी है।
इतिहास अध्ययन पर बोलते हुए योगी जी ने कहा कि सन् 1947 में देश आजाद हुआ, अब यह इतिहास है। उससे 200 साल पहले देश की क्या स्थिति थी यह भी जानना आवश्यक है। विदेशी आक्रान्ताओं ने किस तरह से देश को लूटा यह भी जानना जरूरी है। इतिहास से लोगों को अतीत के सुखद और दुःखद दोनों पक्षों का पता लगता है। सुखद पक्ष अच्छे होते हैं, जबकि दुःखद पक्षों से हम सबको सीख लेनी चाहिए।press1
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पं0 दीन दयाल उपाध्याय व डाॅ0 राम मनोहर लोहिया, दोनों ही महान विचारक थे। उनका मानना था कि राम और कृष्ण ने भारत को एक सूत्र से जोड़ा। मर्यादा पुरुषोत्तम राम और भगवान श्रीकृष्ण पर हमें गर्व होना चाहिए। इन्होंने उत्तर से दक्षिण तक और पूरब से पश्चिम तक पूरे भारत को जोड़ने का काम किया।
योगी जी ने कहा कि यह अत्यन्त चिन्ताजनक है कि लोग न्यायालय के निर्णय का पालन नहीं करना चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट और एन0जी0टी0 ने मानक तय करते हुए यह निर्देश दिये थे कि जो बूचड़खाने मानकों को पूरा न करते हों उन्हें तुरन्त बन्द कर दिया जाए, परन्तु पिछली सरकारों ने इस निर्णय को सख्ती से लागू करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखायी, जिसके चलते तमाम अवैध बूचड़खाने खुल गये। 19 मार्च, 2017 को वर्तमान सरकार का गठन होते ही 48 घण्टे में अवैध बूचड़खानों को बन्द करने के निर्देश दिये गये, ताकि सुप्रीम कोर्ट और एन0जी0टी0 के निर्देशों का पालन हो सके। यह निर्णय पूरे प्रदेश में सख्ती से लागू किये गये।
कांवड़ यात्रा के विषय में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इस वर्ष गाजियाबाद से हरिद्वार तक लगभग 4 करोड़ कांवड़ियों ने यात्रा की। राज्य सरकार ने कांवड़ यात्रा पर कोई प्रतिबन्ध नहीं लगाया और न ही कोई अप्रिय घटना घटित हुई। पं0 दीन दयाल उपाध्याय और लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक जैसे महानुभावों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इन दोनों का धर्म पर स्पष्ट मत था। लोकमान्य तिलक ने कहा था कि भारत विपरीत परिस्थितियों में भी इसलिए टिका है क्योंकि इसका आधार धर्म है और वह अत्यन्त मजबूत है। उन्हीं की पहल पर पूरे देश में आज गणेश महोत्सव मनाया जाता है। धर्म के अनुपालन में कानून का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। इस वर्ष पुलिस विभाग द्वारा जन्माष्टमी मनाये जाने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह उत्सव पूरी शालीनता के साथ मनाया गया।
योगी जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में सरकार बनते ही 86 लाख सीमान्त और लघु किसानों के फसली ऋण माफ किये गये। इसका बोझ जनता के ऊपर नहीं डाला गया, बल्कि भ्रष्टाचार को रोककर और मितव्ययिता के जरिए इस पैसे का इन्तजाम किया गया। राज्य सरकार प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के तहत 2 लाख लोगों के लिए आवासों का प्रबन्ध करने जा रही है।
प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना तथा दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज गरीबों के घर में महिलाएं गैस के चूल्हे पर खाना बना रही हैं और घर बिजली से रौशन हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि यही अच्छे दिन हैं। पिछली सरकारें बड़े-बड़े नारे लगाती थीं, परन्तु उन्होंने गरीबों को बिजली का कनेक्शन देने के लिए कुछ नहीं किया, जबकि वर्तमान सरकार ने अपने छोटे से कार्यकाल में 7 लाख लोगों को मुफ्त बिजली कनेक्शन देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि अन्त्योदय का यही मतलब है। इसका तात्पर्य गांव के लोगों के उत्थान के विषय में सोचने से है और फिर इसका समाधान करने से है।
नई उद्योग नीति के विषय में योगी जी ने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश की ओर निवेश को आकर्षित करने और नौजवानों के लिए रोजगार के अवसर सृजित करने के उद्देश्य से यह नीति बनायी है। उन्होंने कहा कि अब प्रदेश के नौजवान को रोजगार के लिए प्रदेश से बाहर नहीं जाना पड़ेगा।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अन्त्योदय के माध्यम से शासन की कार्यपद्धति भ्रष्टाचारमुक्त और समाज सापेक्ष हो पाएगी। हर हाल में गरीब के उत्थान पर ध्यान केन्द्रित करना होगा। वर्ष 2014 के बाद से देश में समाज सापेक्ष योजनाएं बनना शुरू हुई हैं। जनप्रतिनिधि को जनता के प्रति जवाबदेह होना चाहिए। आज नीति निर्माण में जनता की भी भागीदारी सुनिश्चित की जा रही है। केन्द्र सरकार अपनी नीतियों को लागू करने से पहले उसे पब्लिक डोमेन और पोर्टल पर डालती है और जनता के सुझाव लेती है। प्रदेश में भी यही पद्धति अपनायी गयी है। अब इसके अच्छे परिणाम मिल रहे हैं।
योगी जी ने कहा कि आजादी से पहले उत्तर प्रदेश का जी0डी0पी0 अधिक था, परन्तु आज उत्तर प्रदेश पिछड़ गया है। इसके लिए पिछली सरकारें जिम्मेदार हैं। पं0 दीन दयाल उपाध्याय का अन्त्योदय गरीबों के उत्थान और समाज में समरसता लाने के लिए आज भी प्रासंगिक है। हमें उनका अनुसरण करना चाहिए।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलित कर किया। आयोजकों की तरफ से मुख्यमंत्री जी को अंगवस्त्र और स्मृति चिन्ह भेंट किया गया। मुख्यमंत्री जी ने ‘केशव संवाद’ पत्रिका के विशेषांक का विमोचन भी किया।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर राजकीय बाल गृह (शिशु) के बच्चों से मुलाकात कर उन्हें उपहार दिए

Posted on 16 August 2017 by admin

बच्चों ने मुख्यमंत्री को कविताएं व गीत सुनाए

press-1-3उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने सरकारी आवास पर उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) के तत्वावधान में आयोजित एक कार्यक्रम के तहत राजकीय बाल गृह (शिशु), लखनऊ के बच्चों से भेंट कर उन्हें उपहार दिए।press-2-4
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बच्चे एक बीज की तरह होते हैं। इसीलिए उन्हें प्रारम्भ से ही सही शिक्षा और अच्छे संस्कार दिये जाने अति आवश्यक हंै, ताकि देश का भविष्य उज्ज्वल बन सके और वे समाज की सेवा करते हुए निरन्तर आगे बढ़ते जायें। उन्होंने कहा कि निराश्रित बच्चे समाज मेें अपना योगदान दे सकें, इसके लिए प्रदेश सरकार संकल्पबद्ध है।
योगी जी ने निराश्रित बच्चों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए बच्चों को उपहार स्वरूप स्कूल बैग, पेंसिल व कापी भेंट कियेे। उन्होंने प्रत्येक बच्चे से व्यक्तिगत परिचय प्राप्त करते हुए उन्हें स्वयं मिठाई भी खिलाई। इस अवसर पर बच्चों ने मुख्यमंत्री जी को कविताएं व गीत सुनाए, जिनकी उन्होंने सराहना भी की। उन्हांेने कहा कि आने वाले समय में वे राजकीय बाल गृह (शिशु) जाएंगे।press-3-5
मुख्यमंत्री जी ने जिन बच्चों को उपहार दिए उनमें मास्टर कन्हैया, शानू, विकास, अन्नू, इरफान, रेहान, आनन्द कुमार, अभय मिश्रा, साधना, मीनाक्षी, लक्ष्मी, सौम्या, मुस्कान, तान्या, खुशी, नान्या, साक्षी, बब्लू, संजय, गौरव, आयुष, साहिल, अनूप, शालू तथा प्रीति शामिल थे। उन्होंने कहा कि संस्थान के शेष बच्चों को भी यह उपहार दिए जाएंगे।
इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने अपने सरकारी आवास पर आम और जामुन के दो पौधे भी रोपित किए। उपमुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा ने आम का पौधा रोपित किया।
इस अवसर पर यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं प्रमुख सचिव सूचना श्री अवनीश कुमार अवस्थी, जिलाधिकारी लखनऊ श्री कौशल राज शर्मा सहित शासन-प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Comments (0)

राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने रिजर्व पुलिस लाइन्स में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में शिरकत की

Posted on 16 August 2017 by admin

press-18उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने मंगलवार को यहां रिजर्व पुलिस लाइन्स में आयोजित ‘श्रीकृष्ण जन्मोत्सव’ में शिरकत की। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।

press-5कार्यक्रम की शुरुआत पुलिस माॅडर्न स्कूल, पुलिस लाइन्स के छात्र-छात्राओं द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वन्दना से हुई। इसके पश्चात् पण्डित मुरारी लाल तिवारी व साथी कलाकारों द्वारा कान्हा व राधा जी की ब्रज की लट्ठमार व फूलों की होली प्रस्तुत की गयी। पुलिस माॅडर्न स्कूल, पुलिस लाइन्स के छात्र-छात्राओं द्वारा कान्हा ग्रुप डांस मुकुन्दा-मुकुन्दा भी प्रस्तुत किया गया।
राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री जी ने कुछ देर रुक कर इन कार्यक्रमों का आनन्द लिया और उनकी सराहना भी की। कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री को पुस्तक, स्मृति चिन्ह के साथ-साथ अंग वस्त्र भी भेंट किए गए।
इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा, अध्यक्ष राजस्व परिषद श्री प्रवीर कुमार, प्रमुख सचिव गृह श्री अरविन्द कुमार, पुलिस महानिदेशक श्री सुलखान सिंह सहित शासन-प्रशासन तथा पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, मीडियाकर्मी व बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के दौरान आपातकालीन वाहनों हेतु वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए

Posted on 16 August 2017 by admin

जिलाधिकारी/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनिश्चित करें कि किसी भी परिस्थिति में वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के दौरान आपातकालीन वाहनों का मार्ग अवरूद्ध न हो: मुख्यमंत्री

वी0वी0आई0पी0 मार्ग निर्धारित करने के दौरान आपातकालीन वाहनों के
प्रमुख अस्पताल तक पहुंचने हेतु वैकल्पिक मार्ग भी अवश्य निर्धारित किए जाएं

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के दौरान फाॅयर सर्विस वाहन, एम्बुलेन्स आदि आपातकालीन वाहनों हेतु वैकल्पिक मार्ग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को निर्देशित किया है कि किसी भी परिस्थिति में वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के दौरान आपातकालीन वाहनों का मार्ग अवरूद्ध नहीं होना चाहिए।
मुख्यमंत्री जी ने शासन के वरिष्ठ अधिकारियों को इस व्यवस्था का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री जी के निर्देश के क्रम में प्रमुख सचिव गृह द्वारा सभी जिलाधिकारियों/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को विस्तृत दिशा-निर्देश निर्गत कर दिए गए हैं। इस सम्बन्ध में स्पष्ट किया गया है कि प्रधानमंत्री जी की सुरक्षा के सम्बन्ध में प्रख्यापित दिशा-निर्देशों में अतिविशिष्ट महानुभाव के भ्रमण के अवसर पर उनकी फ्लीट के आवागमन के समय 02/03 मिनट के लिए ट्रैफिक रोके जाने/डायवर्ट किये जाने के सम्बन्ध में विस्तृत प्रावधान किये गए हैं, जिससे की आम नागरिकों को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के दौरान आपातकालीन सेवाओं के वाहनों के आवागमन में व्यवधान की घटनाएं प्रकाश में आयीं हैं। उन्होंने वी0वी0आई0पी0 भ्रमण के अवसर पर इस सम्बन्ध में निर्गत निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने पर बल दिया है। उन्होंने अधिकारियों से अपेक्षा की है कि वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के समय वी0वी0आई0पी0 मार्ग निर्धारित करने के दौरान आपातकालीन वाहनों के प्रमुख अस्पताल तक पहुंचने हेतु वैकल्पिक मार्ग अवश्य निर्धारित किए जाएं, जिससे वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट भी निर्बाध रूप से हो सके और ऐसे समय में आपातकालीन जनसेवाएं भी बाधित न हों।
इस सम्बन्ध में अधिकारियों से अपेक्षा की गई है कि वी0वी0आई0पी0 विजिट से एक दिन पहले ट्रैफिक डायवर्जन का प्लान सभी प्रमुख समाचार-पत्रों में प्रकाशित कराया जाए, जिससे जनता को ट्रैफिक डायवर्जन की समुचित जानकारी मिल सके। यातायात पुलिस के वेब पेज एवं एप पर भी इस निमित्त एलर्ट जारी किया जाए तथा फेसबुक एवं व्हाट्स-एप पर पोस्ट डाली जाए। साथ ही, आपातकालीन वाहनों को वी0वी0आई0पी0 रूट पर जाने से पहले ही उनके आवागमन के लिए निर्धारित किए गए वैकल्पिक मार्ग पर सिग्नल जंक्शन के ट्रैफिक प्रभारी द्वारा उक्त वाहनों को डायवर्ट कर दिया जाए।
इस ट्रैफिक डायवर्जन प्लान को सभी प्रमुख अस्पतालों के सी0एम0एस0, महत्वपूर्ण नर्सिंग होम्स तथा नर्सिंग होम एसोसिएशन, आई0एम0ए0 के पदाधिकारियों तथा आपातकालीन एम्बुलेंस सेवा ‘108’ व ‘102’ के राज्य स्तरीय कन्ट्रोल रुम तथा ‘108’ व ‘102’ के जनपदीय प्रभारी/समन्वय अधिकारी को भी एक प्रति उपलब्ध कराते हुए यह अनुरोध कर लिया जाए कि अपने एम्बुलेंस के ड्राइवरों को तद्नुसार ब्रीफ कर दें कि वी0वी0आई0पी0 मूवमेन्ट के समय वे वैकल्पिक मार्गों का ही प्रयोग करेें।
मुख्यमंत्री जी ने सभी सम्बन्धित अधिकारियों से इस आदेश का कड़ाई से अनुपालन करने की अपेक्षा की है।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने जनपद लखीमपुर खीरी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाने के निर्देश दिए

Posted on 16 August 2017 by admin

प्रभावित क्षेत्रों में एन0डी0आर0एफ0 और पी0ए0सी0 की फ्लड पलाटून को पर्याप्त संख्या में लगाया जाए

कोई भी बाढ़ प्रभावित राहत प्राप्त करने से वंचित न रहने पाए

मुख्यमंत्री ने 07 कटान प्रभावित व्यक्तियों को
गृह अनुदान स्वीकृति पत्र प्रदान किए

बाढ़ पीड़ितों को खाद्यान्न किट भी वितरित

press-13आपदा राहत कोष में पर्याप्त धनराशि उपलब्ध: मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने प्रत्येक बाढ़ पीड़ित को राहत सामग्री समय से उपलब्ध कराने तथा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्य युद्धस्तर पर चलाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि राहत कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। यदि किसी भी स्तर पर लापरवाही की बात सामने आती है, तो दोषियों के खिलाफ शासन स्तर पर कठोर कार्रवाई की जाएगी।
मुख्यमंत्री जी आज जनपद लखीमपुर खीरी की तहसील धौरहरा के ओ0एन0जी0सी0 मैदान में बाढ़ पीड़ितों का हाल चाल जानने और राहत सामग्री वितरण के उपरान्त अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बाढ़ एक प्राकृतिक आपदा है। इस आपदा की पहले ही व्यवस्थित तैयारी करके समाधान निकला जाना चाहिए। इसलिए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में वह स्वयं, प्रभारी मंत्री, सिंचाई मंत्री निरन्तर दौरे कर रहे हैं। इसके अलावा, अधिकारियों को भी भेजा रहा है, जिससे बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदा का समयबद्ध ढंग से स्थायी समाधान निकाला जा सके।
योगी जी ने कहा कि सीमावर्ती जनपद होने कारण नेपाल से नदियों में पानी छोड़े जाने से जनधन की भारी हानि होती है। इसके स्थायी समाधान की दिशा में ठोस प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने जिला प्रशासन को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि बाढ़ और कटान के कारण कहीं भी जनहानि न होने पाए। जहां बचाव कार्य हो सकते हैं, वहां राहत कार्य युद्धस्तर पर किए जाएं। उन्होंने कहा कि बाढ़ राहत एवं बचाव कार्यों हेतु धन की कमी किसी भी जिले में नहीं होनी चाहिए। इसके लिए प्रदेश सरकार ने पूर्व में ही धनराशि उपलब्ध करायी है। उन्होंने कहा कि आपदा राहत कोष में पर्याप्त धनराशि उपलब्ध है।press-22
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि किसी भी जनपद में आपदा से पीड़ित कोई भी व्यक्ति कहीं भी अभाव में न रहने पाए। इस कार्य को जिला प्रशासन स्वयं सुनिश्चित कर ले। जनपद के प्रभावित क्षेत्रों में खाद्यान्न प्रत्येक दशा में पर्याप्त मात्रा में वितरित किए जाएं। आवश्यकतानुसार प्रभावित क्षेत्रों में लंगर चलाकर पीड़ितों को खाने की व्यवस्था करायी जाए तथा रात्रि में प्रकाश हेतु पर्याप्त मात्रा मंे कैरोसिन की उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाए।
योगी जी ने कहा कि इस आपदा में जिनके घर टूट अथवा नष्ट हो गये हैं उनकी अस्थायी व्यवस्था कराते हुए प्लास्टिक तिरपाल तात्कालिक रूप से उपलब्ध करायी जाएं। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि ऐसे लोगों को सूचीबद्ध कराते हुए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आच्छादित कराते हुए समयबद्ध ढंग से आवास उपलब्ध कराने की कार्यवाही की जाए।। उन्होंने जिला प्रशासन को निर्देशित करते हुए कहा कि राहत कार्यों को युद्धस्तर पर चलाया जाए। एन0डी0आर0एफ0 और पी0ए0सी0 की फ्लड पलाटून को प्रभावित क्षेत्रों में पर्याप्त संख्या में लगाया जाए। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से भी राहत और बचाव कार्य में सहयोग प्रदान करने का आह्वान किया।
मुख्यमंत्री जी ने जिला प्रशासन को निर्देशित करते हुए कहा कि प्रत्येक दशा में यह सुनिश्चित करे कि कोई भी बाढ़ प्रभावित राहत प्राप्त करने से वंचित न रहने पाए। उन्होंने कहा कि बाढ़ पीड़ितों को शुद्ध पेयजल, खाद्यान्न, दवाइयां, पशुओं के लिए चारा सहित अन्य सभी जरूरी वस्तुओं की उपलब्धता प्रत्येक स्थिति में सुनिश्चित की जाए।
योगी जी ने 07 कटान प्रभावित व्यक्तियों को गृह अनुदान स्वीकृति पत्र वितरित किए। इनमें से बाढ़ से आवासीय झोपड़ी के नष्ट होने के कारण 05 लाभार्थियों को 4,100 रुपए का गृह अनुदान तथा 02 लाभार्थियों को पक्का आवासीय मकान नष्ट होने के कारण 95,100 रुपए की गृह अनुदान स्वीकृति पत्र प्रदान के साथ-साथ खाद्यान्न किट भी वितरित किए। कार्यक्रम के उपरान्त तहसील धौरहरा के कटान प्रभावित क्षेत्रों के कुल 500 लाभार्थियों को खाद्यान्न किट का वितरण किया गया।
इस अवसर पर समाज कल्याण राज्यमंत्री श्रीमती गुलाबो देवी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने जनपद पीलीभीत के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया

Posted on 16 August 2017 by admin

बाढ़ राहत एवं बचाव कार्याें की समीक्षा भी की

1-1बाढ़ राहत चौकियांे पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाएं

बाघ के हमले की घटनाओं को रोकने के
लिए अधिकारी हर सम्भव उपाय करंे

जंगल के किनारे स्थित लगभग 232 गांवों के परिवारों को
उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस के सिलेण्डर उपलब्ध कराए जाएं

इन ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालयों की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए

लखनऊ: 16 अगस्त, 2017
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद पीलीभीत के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद जनपद मुख्यालय पहुंचकर बाढ़ राहत एवं बचाव कार्याें की समीक्षा की। इस सम्बन्ध में आहूत एक बैठक में उन्होंने जिला प्रशासन के प्रबन्धों की जानकारी लेते हुए अधिकारियों को निर्देशित किया कि बाढ़ राहत चौकियांे पर सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। इसमंे किसी भी स्तर पर शिथिलता नहीं होनी चाहिए।press2
मुख्यमंत्री जी ने जनपद में बाघ के हमले की घटनाओं पर चिन्ता व्यक्त करते हुए अधिकारियों को ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए हर सम्भव उपाए करने के निर्देश दिए। उन्होंने जंगल के किनारे स्थित लगभग 232 गांवों के परिवारों को उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस के सिलेण्डर उपलब्ध कराने को कहा। साथ ही इन ग्रामीण क्षेत्रों में शौचालयों की व्यवस्था को भी सुनिश्चित करने के लिए निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि जंगल के किनारे तार फेसिंग की व्यवस्था भी अतिशीघ्र करवाई जाए। उन्होंने बाघ के हमले की हाल ही की घटना के पीड़ित चार परिवारों को पांच-पांच लाख रुपए के राहत स्वीकृति पत्र भी प्रदान किये।
इसके तहत मुख्यमंत्री जी ने तहसील अमरिया के ग्राम डांग निवासी श्रीमती रेशमा बेगम, ग्राम सरैदा पट्टी निवासी श्रीमती साबिया तथा इसी तहसील के ग्राम बेहरी निवासी श्रीमती ओम देवी तथा सदर तहसील के ग्राम शिवपुरिया निवासी श्रीमती भागवती को सहायता राशि के स्वीकृति पत्र प्रदान किए।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी द्वारा दैवीय आपदा से पीड़ित चार परिवारों को सहायता अनुदान भी प्रदान किया गया। इसमें तहसील पूरनपुर के ग्राम नहरोसा निवासी गुरनाम सिंह, श्रीमती प्यार कौर तथा तहसील कलीनगर के ग्राम मझारा निवासी श्री पुरपेज सिंह तथा इसी गांव के श्री हरजीत सिंह को दैवीय आपदा राहत दी गई।
मुख्यमंत्री जी ने बैठक में उपस्थित विधायकगण से भी बाढ़ की आपदा के सम्बन्ध में जानकारी हासिल की। उन्होंने अधिकारियों को शारदा नदी द्वारा हो रही कटान की दैनिक रूप से निगरानी करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में किसी भी दशा में लापरवाही न बरती जाए, अन्यथा दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस पर विधान भवन के मुख्य द्वार पर ध्वजारोहण किया

Posted on 15 August 2017 by admin

press-41

मुख्यमंत्री ने आजादी की लड़ाई व देश की रक्षा के लिए शहीद
सभी ज्ञात-अज्ञात देशभक्तों एवं सेनानियों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए

वर्ष 2017 से 2022 तक ‘संकल्प से सिद्धि’ तक अभियान चलाया जाएगा

उ0प्र0 श्रेष्ठ और स्वच्छ प्रदेश बनने के साथ ही,
गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदायवाद तथा जातिवाद से मुक्त होगा

प्रदेश सरकार कानून का राज स्थापित कर प्रत्येक
नागरिक को सुरक्षा की गारन्टी देने का प्रयास कर रही है: मुख्यमंत्री

वर्तमान सरकार ने वी0आई0पी0 संस्कृति को समाप्त
कर प्रदेश के सभी क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की है

सरकार प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा
में बड़े पैमाने पर सुधार के लिए काम कर रही है

ग्रेजुएशन स्तर तक की सभी बालिकाओं को निःशुल्क शिक्षा दिलाने
के लिए ‘अहिल्याबाई निःशुल्क शिक्षा योजना’ संचालित करने का निर्णय

सरकार के प्रयासों से प्रदेश में चतुर्दिक परिवर्तन का माहौल बनेगा

कोई घटना/दुर्घटना देश एवं समाज के लिए सबक हो सकती है,
लेकिन ऐसी दुर्घटनाओं/घटनाओं की पुनरावृत्ति दृढ़ता के साथ रोकी जानी चाहिए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज 71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर यहां विधान भवन के मुख्य द्वार पर ध्वजारोहण करने के बाद उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोई घटना/दुर्घटना देश एवं समाज के लिए सबक हो सकती है, लेकिन ऐसी दुर्घटनाओं/घटनाओं की पुनरावृत्ति दृढ़ता के साथ रोकी जानी चाहिए। यह देश अनेकों बार संकटों से घिरा, लेकिन देशवासियों की प्रतिबद्धता से पुनः जीवन्त होकर आगे बढ़ा। उन्होंने सन् 1857 के प्रथम स्वतंत्रता आन्दोलन का उल्लेख करते हुए कहा कि इस पहले संयुक्त प्रयास से यह साबित हुआ कि एक प्रतिबद्ध समाज ब्रिटिश साम्राज्य जैसे सशक्त दुश्मन को भी नतमस्तक कर सकता है। उन्होंने कहा कि जीवन हताशा या निराशा का नहीं, बल्कि जीवन्तता का नाम है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा नये भारत के निर्माण के लिए दिए गए सूत्र में विकास के नित नए आयाम जुड़ रहे हैं। जिसके फलस्वरूप भारत दुनिया की सबसे बड़ी उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री जी ने 09 अगस्त, 2017 को एक महत्वपूर्ण संकल्प लिया है। इसके तहत वर्ष 2017 से वर्ष 2022 तक ‘संकल्प से सिद्धि’ तक अभियान चलाया जाएगा। प्रधानमंत्री जी की मंशा के अनुरूप वर्तमान प्रदेश सरकार ने भी जनता के सहयोग से वर्ष 2022 तक एक नए प्रदेश के निर्माण का गम्भीरता से प्रयास करने का संकल्प लिया है।press-17
उत्तर प्रदेश भी नए भारत की तरह श्रेष्ठ और स्वच्छ प्रदेश बनने के साथ ही गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदायवाद तथा जातिवाद से मुक्त होगा। उन्होंने जनता का आह्वान किया कि नए भारत व उत्तर प्रदेश के निर्माण के संकल्प की सिद्धि के लिए मन, वचन और कर्म से जुट जाएं, क्योंकि देश की प्रगति का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर जाएगा। वर्तमान राज्य सरकार ने प्रदेश में परिवर्तन, विकास और गरीबों के सशक्तिकरण के लिए एक नए युग की शुरुआत कर दी है। उन्होंने बल देकर कहा कि भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टाॅलरेंस की नीति अपनायी जाएगी।
योगी जी ने कहा कि अपनी जड़ों से कटने वाला देश एवं समाज त्रिशंकु की तरह लटक जाता है। ऐसा समाज संसार में सम्मान पाने का हकदार नहीं होता। इसीलिए वर्तमान राज्य सरकार प्रदेश को अपनी वर्तमान जड़ों से जोड़ने का काम कर रही है। इस सरकार ने प्रदेश के धार्मिक स्थलों व आस्था केन्द्रों के विकास का कार्य आरम्भ किया है। अयोध्या में रामलीला मंचन की पुनः शुरुआत के अलावा मथुरा में कृष्ण संग्रहालय की स्थापना का भी फैसला लिया है। अयोध्या में रामायण सर्किट, वाराणसी के सारनाथ सहित कुशीनगर, कपिलवस्तु व श्रावस्ती में बौद्ध सर्किट एवं मथुरा में कृष्ण सर्किट के तहत विकास कार्य करने की व्यवस्था की गई है। सभी बड़े धर्मिक स्थलों को चार लेन की सड़कों से जोड़ने के साथ-साथ नैमिषारण्य, विन्ध्याचल एवं ऐसे सभी पवित्र स्थलों के विकास का संकल्प लिया गया है, जो देश एवं जनता की आस्था के केन्द्र हैं।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि स्वतंत्रता के 70 वर्ष बीत जाने के बाद भी प्रदेश की 22 करोड़ जनता को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पायी हैं। वर्तमान राज्य सरकार ने पूरी प्रतिबद्धता एवं तन्मयता से प्रदेश के असहाय एवं गरीब लोगों तथा नौजवानों के कल्याण के लिए काम शुरू कर दिया है, जिससे गांव, गरीब एवं किसान व महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार हो, उन्हें अच्छी बुनियादी सुविधाएं एवं सेवाएं मिल सकें। आर्थिक कठिनाइयों के बावजूद राज्य सरकार ने लघु एवं सीमान्त किसानों के 31 मार्च, 2016 तक के 01 लाख रुपए तक के फसली ऋण को माफ करने का ऐतिहासिक फैसला लिया।
इस निर्णय के फलस्वरूप प्रदेश सरकार पर 36 हजार करोड़ रुपए का व्यय भार आया, जिसे सरकार ने वित्तीय अनुशासन कायम रखते हुए बिना कोई अतिरिक्त कर लगाए, अनावश्यक खर्चों की कटौती कर पूरा करने का संकल्प लिया। राज्य सरकार के इस निर्णय का लाभ प्रदेश के 86 लाख से अधिक लघु एवं सीमान्त किसानों को प्राप्त होगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस फैसले से किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार होगा और उनका जीवन स्तर ऊपर उठ सकेगा। इसी प्रकार किसानों को उनकी उपज का लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए सीधे किसानों से करीब 37 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदा गया।
योगी जी ने कहा कि प्रदेश सरकार कानून का राज स्थापित कर प्रत्येक नागरिक को सुरक्षा की गारन्टी देने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि अपराधमुक्त, भयमुक्त और अन्यायमुक्त वातावरण सृजित किए बिना प्रदेश का चतुर्दिक विकास सम्भव नहीं है। इसीलिए हमने कानून-व्यवस्था पर जीरो टाॅलरेन्स की नीति अपनाते हुए सबसे पहले अपराधियों के बढ़े हौसले पर लगाम लगाने का काम किया है। कानून-व्यवस्था के मामले में प्रदेश सरकार की सोच स्पष्ट है कि दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा। यह सरकार महिलाओं की सुरक्षा एवं सम्मान के लिए पूरी तरह सजग है। वर्तमान राज्य सरकार पुलिसिंग को नई दिशा देते हुए प्रदेश में अमन-चैन कायम करने के लिए काम कर रही है। विगत चार माह में प्रदेश की एस0टी0एफ0, ए0टी0एस0 एवं अन्य पुलिस के जवानों ने कई सफलताएं अर्जित की हैं। अच्छा कार्य करने वाले पुलिस कार्मिकों के प्रोत्साहन के लिए उनकी पुरस्कार राशि को दोगुना करने, आउट आॅफ टर्न प्रमोशन का कार्य किया जाएगा।
उत्तर प्रदेश को सर्वाधिक युवा आबादी का प्रदेश बताते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि कतिपय कारणों से इसका लाभ अभी तक प्रदेश को नहीं मिल पा रहा है। लेकिन वर्तमान राज्य सरकार, एक सुविचारित औद्योगिक निवेश एवं रोजगार प्रोत्साहन नीति लागू कर इस दिशा में गम्भीरता से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि विगत 20 वर्षों से उनके द्वारा अनुभव किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश और विशेष रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश में बड़ी संख्या में नौनिहाल, वेक्टर जनित रोगों का शिकार हो रहे हैं। इस समस्या के निदान के लिए केन्द्र सरकार द्वारा संचालित स्वच्छ भारत मिशन को पूरी प्रतिबद्धता के साथ अपनाना होगा। स्वच्छता के महत्व को स्वीकार करते हुए प्रदेश सरकार स्वच्छता मिशन को सर्वोच्च प्राथमिकता दे रही है। इसके तहत पर्याप्त धनराशि की व्यवस्था की गई है। लेकिन इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सभी की सहभागिता आवश्यक है। तभी उत्तर प्रदेश को स्वस्थ एवं मजबूत राज्य बनाया जा सकता है।
योगी जी ने कहा कि कृषि, उद्योग सहित गुणवत्तापरक जीवन-यापन के लिए ऊर्जा की उपलब्धता अत्यन्त जरूरी है। वर्तमान राज्य सरकार ने इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए वी0आई0पी0 संस्कृति को समाप्त कर प्रदेश के सभी क्षेत्रों में पर्याप्त विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की है। जनपद मुख्यालयों को 24 घण्टे, तहसील मुख्यालयों को 20 घण्टे तथा ग्रामीण क्षेत्रोें में 18 घण्टे विद्युत आपूर्ति की जा रही है। बाबा साहब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर के जन्म दिवस के अवसर पर राज्य सरकार ने केन्द्र सरकार के साथ 24ग7 पावर फाॅर आॅल से सम्बन्धित सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया है, जिससे सभी को चैबीसों घण्टे बिजली मिल सके। राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के बी0पी0एल0 परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन देने के साथ ही, पं0 दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत 18 हजार मजरों में विद्युतीकरण का कार्य पूरा कराया गया। करीब 07 लाख परिवारों को बिजली कनेक्शन दिए गए।
मुख्यमंत्री जी ने शिक्षा को समाज की उन्नति एवं खुशहाली का आधार बताते हुए कहा कि राज्य सरकार प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा में बड़े पैमाने पर सुधार के लिए काम कर रही है। जिससे प्रदेश के छात्र-छात्राओं को अखिल भारतीय परीक्षाओं में नुकसान न उठाना पड़े एवं प्राथमिक स्कूलों में पढ़ने वाले किसान, मजदूर, अल्पसंख्यक व गरीब के बच्चे हीन भावना के शिकार न हों। राज्य सरकार ने बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संचालित विद्यालयों के छात्र-छात्राओं को निःशुल्क सुविधाएं उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। इसके अन्तर्गत लगभग 01 करोड़ 92 लाख छात्र-छात्राओं को निःशुल्क यूनीफाॅर्म, पाठ्य पुस्तकें, बैग, एक जोड़ी जूता, दो जोड़ी मोजा आदि की व्यवस्था की जा रही है।
राज्य सरकार बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए कृतसंकल्पित है। इसीलिए सरकार ने ग्रेजुएशन स्तर तक की सभी बालिकाओं को निःशुल्क शिक्षा दिलाने के लिए ‘अहिल्याबाई निःशुल्क शिक्षा योजना’ संचालित करने का निर्णय लिया है। इसके अलावा विद्यालयों में छात्र-शिक्षक अनुपात सुधारने के साथ-साथ कई अन्य निर्णय भी लिए गए हैं।
योगी जी ने कहा कि प्रदेश सरकार जन कल्याणकारी योजनाओं के साथ-साथ राज्य में अवस्थापना सुविधाओं का ऐसा ढांचा तैयार करने का प्रयास कर रही है, जिससे उत्तर प्रदेश को विकसित राज्यों की श्रेणी में लाया जा सके। प्रदेश के पूर्वांचल एवं बुन्देलखण्ड क्षेत्र को जोड़ने के लिए एक्सप्रेस-वे परियोजनाओं को संचालित किया जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने भरोसा जताया कि सरकार के इन प्रयासों से प्रदेश में चतुर्दिक परिवर्तन का माहौल बनेगा। यहां की जनता रचनात्मक कार्यों में लगकर प्रदेश को विकास के रास्ते पर आगे ले जाने में सहयोगी बनेगी।
योगी जी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सभी प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि इस मौके पर वर्ष 2022 तक विकसित देश एवं प्रदेश बनाने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा कि सन् 1857 में स्वतंत्रता आन्दोलन की शुरुआत उत्तर प्रदेश की धरती से ही हुई थी। आजादी की लड़ाई और देश की सीमाओं की रक्षा के लिए शहीद हुए सभी ज्ञात-अज्ञात देशभक्तों एवं सेनानियों को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि जिन्होंने देश को गुलामी की बेड़ियों से मुक्त कराकर देश को आजादी दिलाने में अग्रणी भूमिका निभाई उनके सपनों का देश एवं प्रदेश बनाने के लिए सभी को संकल्पबद्ध होना होगा।
इस अवसर पर राज्य सरकार के अनेक मंत्रिगण, जनप्रतिनिधिगण, वरिष्ठ अधिकारी, मीडिया प्रतिनिधि सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने सरकारी आवास पर ध्वजारोहण किया

Posted on 15 August 2017 by admin

हमें संकल्प लेना होगा कि वर्ष 2022 में आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर हमारा देश दुनिया में एक विकसित व खुशहाल राष्ट्र बन सके

press-7उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आज अपने सरकारी आवास 5, कालिदास मार्ग पर ध्वजारोहण किया।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जिस प्रकार से सन् 1857 की क्रांति में संकल्प लिया गया था और उसकी सिद्धि 15 अगस्त, 1947 को आजादी के रूप में प्राप्त हुई। उसी प्रकार हमें संकल्प लेना होगा कि वर्ष 2022 में जब देश आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तब हमारा देश दुनिया में एक विकसित व खुशहाल राष्ट्र बन सके। इसके लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में देश आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि लोक कल्याण संकल्प पत्र के माध्यम से राज्य सरकार समाज के अन्तिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को शासन की योजनाओं का लाभ देने के लिए संकल्पित है।
योगी जी ने कहा कि देश को स्वतंत्र कराने वाले अमर शहीदों ने जिस भारत का सपना संजोया था उसे पूरा करना हम सबकी जिम्मेदारी है। इसके लिए हमें भ्रष्टाचार का समूल नाश करने के साथ ही आतंकवाद, नक्सलवाद, क्षेत्रवाद और भाषावाद जैसी संकीर्णताओं से ऊपर उठकर सोचना होगा।
इस अवसर पर शासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

August 2017
M T W T F S S
« Jul    
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  
-->







 Type in