*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | बदायूँ

भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई होगी और दोषी जेल की सलाखों के पीछे होंगे

Posted on 02 March 2012 by admin

01-optimizedभारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अब यह बात खुलकर सामने आ गई है कि विेदशों में काफी बड़ी मात्रा में कालाधन जमा है। भारत की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सी.बी.आई. के निदेशक (डायरेक्टर) ने इस बारे में सार्वजनिक रूप से कहा है कि भारत का करीब 500 अरब डालर यानी 25 लाख करोड़ रूपए का कालाधन विदेशी बैंकों में जमा है।
श्री सिंह ने कहा कि यह सारा कालाधन भ्रष्टाचार और अन्य अवैध तरीकों से एकत्रित हुआ है। केन्द्र की यू.पी.ए. सरकार इस कालेधन को भारत वापस लाने के लिए गंभीर नहीं है। सरकार ने देश की संसद में कहा था कि विदेशों में बहुत कम कालाधन जमा है, जबकि इस सरकार के अन्तर्गत काम करने वाली एजेंसी सी.बी.आई. का दावा इसके ठीक विपरीत है। -प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह जी से यह देश जानना चाहता है कि सच्चाई क्या है ?
श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी एक तरफ यह दावा करती है कि उसे सपा और बसपा का समर्थन नहीं चाहिए। यदि कांग्रेस वाकई सच बोल रही है तो प्रधानमंत्री को तत्काल राष्ट्रपति को पत्र लिखकर सपा और बसपा से समर्थन लेने से इंकार करना चाहिए। उत्तर प्रदेश में चाहे सपा हो, बसपा हो या कांग्रेस पार्टी हो, सभी भ्रष्टाचार के मामले में एक दूसरे का साथ दे रहे हैं। जिस दिन प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई होगी और दोषी जेल की सलाखों के पीछे होंगे।
श्री सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी लगातार मजहबी आरक्षण की बात कर देश और प्रदेश में विभाजनकारी एजेंडा चला रही है। शैक्षिक, आर्थिक और सामाजिक दृष्टि से पिछड़े लोगों को आरक्षण दिया जाना चाहिए चाहे वह किसी भी मजहब, जाति या पंथ का हो मगर आरक्षण का आधार मजहब को नहीं बनाया जाना चाहिए। देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 1961 में ही मजहब आधारित आरक्षण का विरोध करते हुए कहा था कि ‘मजहबी आरक्षण न केवल एक गलती है बल्कि एक ऐसी भयंकर भूल है जिसका प्रभाव विनाशकारी सिद्ध होगा।’ कांग्रेस आज नेहरू जी की नीति को भूल चुकी है। यदि भाजपा की सरकार उत्तर प्रदेश में बनेगी तो मजहबी आरक्षण का कोटा समाप्त किया जाएगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

उत्तर प्रदेश की बसपा सरकार के शासनकाल में मर्यादाओं को तार-तार किया गया

Posted on 29 February 2012 by admin

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने आज कहा कि देश में लोकतंत्र सही तरीके से चले इसके लिए लोक-लाज और मर्यादाओं का पालन बहुत जरूरी है। जब इनका पालन नहीं होता है तो सत्ता निरंकुश हो जाती है और भ्रष्टाचार का बोलबाला हो जाता है।
श्री सिंह ने धुआंधार चुनावी सभाओं को संबोधित करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की बसपा सरकार के शासनकाल में मर्यादाओं को तार-तार किया गया। पहले तो पांच सालों तक प्रदेश को लूटा गया और जब चुनाव नजदीक आए तो मुख्यमंत्री ने 22 मंत्रियों को बर्खास्त कर खुद को पाक-साफ बताने की कोशिश की। जबकि बसपा के शासन में मंत्रियों की इतनी हिम्मत नहीं कि बिना मुख्यमंत्री की जानकारी के कोई घोटाला कर सके। उन्होंने कहा कि सपा के शासनकाल में गुंडाराज कायम हुआ। उसे हटाने के लिए जनता ने बसपा को सत्ता सौंपी थी मगर सर्वजन हिताय का नारा देने वाली बसपा सरकार के शासनकाल में अपराधों पर लगाम नहीं लग सकी।
श्री सिंह ने कहा कि दलितों की मसीहा होने का दावा करने वाली मुख्यमंत्री के शासन में सबसे अधिक उत्पीड़न दलितों का ही हुआ है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस फूट डालो और राज करो की नीति में विश्वास करती है। यही कारण है कि कभी वह कोटा में कोटा देने की बात करती है तो कभी मजहब के आधार पर आरक्षण देने की वकालत करती है। भाजपा, कांग्रेस की इस विभाजनकारी मंसूबे को कभी पूरा नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अगर भाजपा की सरकार बनी तो बसपा सरकार के शासनकाल में किए गए सभी घोटालों की जांच के लिए एक विशेष जांच आयोग बनाया जाएगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मंहगाई और भ्रष्टाचार में कांग्रेस-बसपा के बीच आपसी साठगांठ है

Posted on 26 February 2012 by admin

समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने आज मतदान के छठे चरण के मतदाताओं से अपील की कि वे एकजुट होकर समाजवादी पार्टी की बहुमत की सरकार बनाने के इरादे से विधान सभा के हो रहे चुनाव में सभी समाजवादी पार्टी प्रत्याशियों को जिताएं और बसपा के प्रत्याशियों की जमानतें जब्त करा दें। उन्होने कहा कि बसपा सरकार के कुशासन पर नजर रखे चुनाव आयोग ने बतौर सजा हाथी ढंक दिए हैं और मुख्यमंत्री की मूर्तिेयों के चारों तरफ लकडी लगा दी है। अब जनता ही असली सजा देनी है।
श्री यादव ने आज जनपद मुरादाबाद में तीन और बदायूॅ में पांच जनसभाओं में सघन चुनाव प्रचार किया। उन्होने इन जनपदो में 8 विधान सभा क्षेत्र के प्रत्याशियों को जिताने की अपील करते हुए कहा कि मंहगाई और भ्रष्टाचार में कांग्रेस-बसपा के बीच आपसी साठगांठ है। दोनों की सरकारें घोटालों में फंसी है। गांव गरीब से इनका कोई वास्ता नहीं। इनका काम मंहगाई बढ़ाना है ताकि गरीबों के घर में खुशहाली न आ सके।
समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि बसपा राज में किसान, नौजवान और मुसलमान सबसे ज्यादा उत्पीड़न के शिकार बने हैं। किसानों को मंहगी खाद ब्लैक में खरीदनी पड़ी है। बिजली, पानी का संकट रहा। फसल की लागत बराबर दाम भी नहीं मिले। नौजवानो को रोजगार नहीं मिला। प्रदेश में न तो नए उद्योग लगे और नहीं दूसरे विकास कार्य हुए। मुसलमानों को रोजी रोटी से वंचित रखा गया। उन्होने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार आते ही 50 हजार रू0 तक का किसानों का कर्ज माफ होगा। सिंचाई मुफ्त होगी। गांवो में बिजली 20 घंटे मिलेगी। नौजवानों को 35 वर्ष की उम्र तक सरकारी नौकरी मिलेगा अन्यथा मंहगाई भत्ता दिया जाएगा। मुस्लिमों को आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाएगा।
श्री अखिलेश यादव ने कहा कि बसपा राज में भयंकर लूट हुई है। जमीनों पर अवैध कब्जे हुए हैं। हर विभाग में बजट की लूट हुई है। स्वास्थ्य मिषन में भ्रष्टाचार के चलते अब तक कुल 6 अधिकारियों की मौतें हो चुकी है। तमाम अधिकारियों के यहां सीबीआई छापे डाल रही है। भ्रष्ट अधिकारियों को समाजवादी पार्टी सरकार में कड़ी सजाएं मिलेगी।
श्री यादव ने वायदा किया कि इन्टर पास को टेबलेट दिया जाएगा जो उर्दू-हिन्दी के अलावा अंग्रेजी में भी चलेगा। उन्होने कहा कि हम जो वायदे कर रहे है, उन्हें पूरा करेगें। जनता की जो गाढ़ी कमाई पत्थरों, पार्को, स्मारकों पर खर्च की गई है उतनी धनराशि से तो ये सब वायदे पूरे हो सकते हैं। उन्होने साइकिल रिक्शा को आम आदमी की सवारी बताते हुए उनके दाम सस्ते करने तथा इसका कारखाना लगाने की भी घोशणा की।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

संजरपुर बदायूं में फर्जी मुठभेड़ पर पीयूसीएल जांच दल की रिपोट

Posted on 15 January 2012 by admin

बदायूं जिले के उझानी थाना क्षेत्र के संजरपुर गांव के बृजपाल मौर्य पुत्र लीलाधर मौर्य की सात जनवरी 2012 की रात खेत की रखवाली पर जाने के बाद 8 जनवरी 2012 को यह पता चलने पर कि उनकी पुलिस द्वारा फर्जी मुठभेड़ के नाम पर हत्या दी गई है, मानवाधिकार संगठन पीपुल्स यूनियन फाॅर सिविल लिबर्टीज (पीयूसीएल) के तीन सदस्यी जांच दल ने 12 जनवरी 2012 को घटना स्थल का दौरा किया। जांच दल ने पाया कि एसटीएफ और पुलिस हत्या में लिप्त है। जहां उसने बृजपाल मौर्य को न सिर्फ डकैत बताकर फर्जी मुठभेड़ में मार डाला बल्कि उनकी पहचान मिटाने की नियत से षव को जलाने का भी प्रयास किया।
घटनाक्रम- 7 जनवरी 2012 की रात को रोज की तरह किसान बृजपाल मौर्य अपने खेतों के बीच बने नलकूप की झोपड़ी में सो रहे थे। रात को करीब 12 बजे एक दर्जन से अधिक संख्या में एसटीएफ-पुलिस वालों ने उन्हें गोली मार दी। घटना स्थल के निकट के गांव के चष्मदीद लोगों के मुताबिक पुलिस ने कई राउंड गोली चलाई जिससे आस-पास के गांवों तक में दहषत फैल गई। घटना स्थल के पास के गांव तिगौड़ा के चैकीदार षिषुपाल समेत ग्रामीणों ने तीन सदस्यीय पीयूसीएल जांच दल को बताया कि गोलियों की आवाज सुनकर गांव केे लोग घटना स्थल से थोड़ी दूर पर खड़े हो गए और वहीं से पूरी घटना को देखा। लेकिन डर के चलते कोई आगे नहीं बढ़ा। इसके बाद वर्दीधारी पुलिस के कुछ जवान गांव के चैकीदार षिषुपाल को षव की षिनाख्त कराने ले गए। षिषुपाल ने जांच दल को बताया कि उनसे पुलिस वालों ने षव को पहचानने के लिए कहा। जिसकी तस्दीक उन्होंने बृजपाल मौर्य के रुप में की इसके बाद पुलिस वालों ने उन्हें वहां से यह कहते हुए भगा दिया कि षव बृजपाल का नहीं पृथ्वी सिंह डकैत का है।
तदउपरान्त पुलिस ने मृतक की पहचान मिटाने की कोषिष के तहत झोपड़ी में आग लगा दी जिससे षव समेत झोपड़ी जलने लगी। इसी बीच कुछ पुलिस वाले संजरपुर गांव में मृतक बृजपाल के घर पहुंचे और दरवाजे पर ईंटा-पत्थर पीटकर खुलवाया और घर की तलाषी ली जब घर में मौजूद लोगों ने पुलिस से ऐसा करने की वजह पूछी तो पुलिस ने कहा कि हमने एक डकैत को मारा है। तुम्हें उसकी पहचान करनी है। पुलिस परिवारीजन समेत पांच लोगों को अपने साथ जीप पर ले गई वहां जाने के बाद मृतक की पत्नी चमेली देवी और प्रमिला ने अधजले षव की षिनाख्त अपने पति और पिता बृजपाल के रुप में की। पुलिस ने षव की षिनाख्त के लिए बृजपाल की बहन कलावती, पत्नी चमेली देवी, पुत्री प्रमीला, अनेकपाल और धर्मपाल को रात में जीप में बैठाकर घटना स्थल पर ले गई थी। इसके बाद पुलिस ने सभी को गाली देकर धमकाते हुए भगा दिया। संजरपुर गांव के विजय सिंह पुत्र मोहनलाल, धर्मेन्द्र पुत्र टीकाराम रामचन्द्र पुत्र खमारी राम ने जांच दल को बताया कि जब ग्रामीण और परिजनों ने  पुलिस वालों को बृजपाल का षव ले जाने से मना करने की कोषिष की तो पुलिस ने उनपर राइफलें तान दीं और धमकी दी कि कोई भी आगे बढ़ा तो मार देंगे। इसके बाद पुलिस अधजली लाष को घसीटते हुए अपने वाहन में लेकर चली गई।
आठ जनवरी को दिन में 12 बजकर 20 मिनट पर बृजपाल की पत्नी चमेली देवी ने वरिश्ठ पुलिस अधिक्षक को दी गई तहरीर में कहा कि दिनांक 8-1-2012 को करीब तीन बजे भोर में उझानी थाना के दरोगा जेपी परिहार व अन्य पांच पुलिस वाले प्रार्थिनी के घर आए और घर की तलाषी ली और तोड़-फोड़ किया। प्रार्थिनी समेत परिवार वालों और मुहल्ले के अन्य लोगों को गाड़ी में बिठाकर नलकूप पर ले गए। जब प्रार्थिनी व अन्य लोग नलकूप पर पहुंचे तो देखा कि बृजपाल पुलिस वालों की गोली लगने से मृत पड़े हैं। तब हम सब लागों ने पहचान कर कहा कि यह बृजपाल हैं। इतना सुनकर वहां उपस्थित करीब एक दर्जन पुलिस वालों ने हमें वहां से हटाकर हमारे सामने ही बृजपाल की लाष को दुबारा आग लगा दी। और साक्ष्य मिटाने की भरसक कोषिष की। जब हम लागों ने इसका विरोध किया तो पुलिस वालों ने हमें मार-पीटकर भगा दिया। और पुलिस वाले अधजली लाष को लेकर भाग गए। चमेली देवी ने तहरीर में दोशी पुलिस कर्मियों के खिलाफ अपने पति को गोली मारने और साक्ष्य मिटाने का शडयंत्र रचने का मुकदमा दर्ज करने की मांग की।
बृजपाल की हत्या के बाद षव को पुलिस द्वारा गायब किए जाने के विरोध में उझानी बाजार के चैराहे पर ग्रामीणों द्वारा जाम लगा दिया गया। उसके बाद पुलिस ने पोस्टमार्टम करावने के बाद षव देने की बात कही। इसके बाद परिजनों व ग्रामीणों पर दबाव डाला कि वे सादे कागजों पर अंगूठे और हस्ताक्षर करें। इस बीच पुलिस द्वारा षव को अज्ञात बनाने की भी कोषिष की गई जिसके तहत उसने षव का अज्ञात के बतौर पोस्टमार्टम करवाया। जिसपर ग्रामीणों और परिजनों ने यह कहते हुए विरोध किया कि जब षव की षिनाख्त बृजपाल के रुप में हो चुकी है और इस बाबत बृजपाल की पत्नी चमेली देवी द्वारा वरिश्ठ पुलिस अधिक्षक को तहरीर देकर बृजपाल के हत्यारे पुलिस कर्मियों पर हत्या और साक्ष्य मिटाने की मांग की जा चुकी है तब षव को नए सिरे से षिनाख्त कराने और उसे अज्ञात घोशित करने की कोषिष क्यों की जा रही है? परिजनों द्वारा सादे कागज पर अंगूठा लगाने और पुलिस द्वारा षव को अज्ञात बताने का विरोध किए जाने के बाद पुलिस ने ग्रामीणों को पीटने की धमकी दी। और ग्रामीणों की तरफ से बात कर रहे अधिवक्ता अषोक कुमार सिंह व पूर्व जिला पंचायत सदस्य राजेष्वर सिंह को पुलिस ने बुरी तरह पीटा। जिसमें राजेष्वर सिंह का हाथ फैक्चर हो गया और परिजनों और ग्रामीणों को पुलिस ने वहां से भगा दिया। जिसके वीडियो साक्ष्य भी मौजूद हैं।

पुलिसिया कार्यवाई से उठने वाले सवाल-

1- अगर एसटीएफ-पुलिस ने डकैत पृथ्वी सिंह को मारा तो फिर षव का पोस्मार्टम अज्ञात के रुप में क्यों करवाया?
2- षव का अज्ञात में पोस्टमार्टम करवाने के बाद षव और पोस्टमार्टम रिपोर्ट बृजपाल के परिजनों को क्यों सौंपा गया?
3- षव का पंचनामा मौके पर ही क्यों नहीं भरा गया? जबकि नियम है कि पुलिस मजिस्ट्रेट के सामने मौके पर ही पंचनामा भरेगी?
4- षव के पंचनामे पर क्षेत्रीय पांच लोगों के अंगूठा हस्ताक्षर क्यों नहीं लिए गए? आखिर पुलिस ने क्यों पचनामें पर थाने के पास के चाय वाले और वहां पर खड़े रिक्षा चालक से क्यों अंगूठा/हस्ताक्षर लिए गए?
5- सवाल यह भी है कि यदि पुलिस ने मुठभेड़ में पृथ्वी को मारा तो सूचना अलीगढ़ एसएसपी और पृथ्वी के परिजनों को क्यों नहीं दी गई? अखबारों में अलीगढ़ पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एनपी सिंह का यह बयान भी एसटीएफ और पुलिस के दावे को गलत साबित करता है जिसमें उन्होंने कहा कि यदि पृथ्वी मारा गया होता तो अलीगढ़ पुलिस को भी सूचित किया गया होता?

बृजपाल मौर्य को जिस तरह से पुलिस ने गोली मारने के बाद षव को घर वालों के सामने झोपड़ी में जलाकर परिजनों और गांव वालों को आतंकित किया यह मानवाधिकार हनन का गंभीर मसला है।
पीयूसीएल मांग करता है कि-

1- घटना की गंभीरता को देखते हुए मामले की सीबीआई जांच हो।
2- दोशी एसटीएफ और पुलिस कर्मियों पर हत्या और साक्ष्य मिटाने का मुकदमा दर्ज कर उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाय।
3- मृतक के परिजनों को बीस लाख रुपए मुआवजा दिया जाय।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

चन्द्रपाल सिंह कश्यप को आज पार्टी मुख्यालय पर पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई

Posted on 19 November 2011 by admin

भाजपा के प्रदेश महामंत्री विन्ध्यवासिनी कुमार ने मऊ  से विजय प्रताप सिंह तथा दातागंज बदायूं के चन्द्रपाल सिंह कश्यप को आज पार्टी मुख्यालय पर पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई। पिछली विधानसभा में बसपा प्रत्याशी के रूप में 63 हजार से अधिक मत पाने वाले विजय प्रताप सिंह ने आज भाजपा की नीतियों और कार्यक्रमों में आस्था जताते हुए पुनः भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। प्रदेश मीडिया प्रभारी हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव ने यह जानकारी देते हुए बताया कि विजय प्रताप सिंह 1996 में मऊ विधानसभा से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ चुके हैं प्रारम्भ से ही भाजपा के सदस्य रहे हैं तथा जिले के विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके हैं।
पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने वाले आंवला से पूर्व सांसद श्री जयपाल सिंह कश्यप के पुत्र कांगे्रस पार्टी के पूर्व प्रदेश सचिव चन्द्रपाल सिहं कश्यप ने आज पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। श्री चन्द्रपाल सिंह, कश्यप समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं तथा आॅंवला संसदीय क्षेत्र से 1996 में बसपा के टिकट पर एवं 1999 में कांगे्रस के टिकट पर संसदीय चुनाव लड़ चुके हैं। 1996 में इन्हें एक लाख सैतीस हजार तथा 1999 में 80 हजार मत प्राप्त हुए थे। श्री कश्यप बंदायू जनपद के दातागंज के निवासी हैं।     इस अवसर पर प्रदेश मुख्यालय पर मुख्यालय प्रभारी भारत दीक्षित, सहप्रभारी चै0 लक्ष्मण सिंह, लल्लन तिवारी, संयोजक पंचायत प्रकोष्ठ आदित्य नारायण मिश्र, खेल कूद प्रकोष्ठ के संयोजक नीरज सक्सेना उपस्थित थे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

अल्पसंख्यक समाज के लोग जनसभाओं में बड़ी तादाद में जुटे

Posted on 16 October 2011 by admin

15-10-aसमाजवादी क्रान्तिरथ आज बदायूॅ के चार विधान सभा क्षेत्रों में पहुॅचा। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव का अपनी रथयात्रा के पांचवे चरण में तीसरे दिन बरेली से देवचरा, आवंला, कुॅवरगांव, बदायूॅ और दातागंज पहुॅचने पर जगह-जगह भव्य स्वागत किया गया।
प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने बताया कि स्थानीय नौजवानों ने अपने प्रिय नेता को फूलमालाओं से लाद दिया। महिलाएं एवं अल्पसंख्यक समाज के लोग उनकी जनसभाओं में बड़ी तादाद में जुटे। साॅसद श्री धर्मेन्द्र यादव, साॅसद श्री वीरपाल सिंह यादव, पूर्व मंत्री श्री बनवारी सिंह यादव एवं विधायक श्री धर्मेन्द्र कश्यप, अताउर्रहमान भी क्रान्तिरथ में उनके साथ थे।
समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने आज यहां कहा कि बसपा सरकार में मुस्लिमों की सबसे ज्यादा उपेक्षा हुई है। मुख्यमंत्री मुस्लिमों के आरक्षण के लिए केन्द्र को चिट्ठी लिखकर झूठी हमदर्दी जताती हैं। उन्हें सचमुच मुस्लिमों से हमदर्दी होती तो वे राज्य विधान सभा में प्रस्ताव लातीं। उन्होने कहा सच्चर कमेटी ने माना है कि मुस्लिम बहुत पिछड़े है। गरीबी और बेरोजगारी के मारे हैं। कांग्रेस ने भी उनके साथ दगा की और सच्चर कमेटी तथा रंगनाथ मिश्र आयोग की सिफारिशें लागू नहीं की है।   श्री यादव ने भरोसा दिलाया कि समाजवादी पार्टी की सरकार बना दो तो इन सिफारिशों में उल्लेखित मुस्लिम हितों के कार्यो को हम लागू करेगें।
श्री यादव ने कहा कि मुस्लिमों के मुद्दों पर संसद और विधान सभा के अन्दर-बाहर समाजवादी पार्टी ही लड़ाई लड़ती रही है। समाजवादी इकलौती पार्टी है जिसने हिन्दू मुस्लिम खाई पाटने का काम किया है। जब उनके सम्मान की बात आई समाजवादी पार्टी ने ही उनका साथ दिया। हाईकोर्ट ने जब आस्थापरक निर्णय दिया तो मुस्लिमों के कानूनी हक के पक्ष में सिर्फ श्री मुलायम सिंह यादव ने ही सबसे पहले आवाज उठाई थी।
उन्होने याद दिलाया कि समाजवादी पार्टी की सरकार में मुस्लिमों को, और उर्दू भाषा को पूरा महत्व दिया गया था। पुलिस, पीएसी में 14 प्रतिशत मुस्लिमों की भर्ती की गई। उर्दू पढ़े लिखे लोगों को नौकरी दी गई। बसपा सरकार ने मुस्लिमों के कल्याण की तमाम योजनाएं, जो समाजवादी पार्टी के कार्यकाल में शुरू की गई थी, समाप्त कर दी है।
श्री यादव ने कहा कि मंहगाई, बेरेाजगारी और भ्रष्टाचार के मामलों में केन्द्र की कांग्रेस और प्रदेश की बसपा में साझेदारी है। दोनों एक दूसरे की मददगार है। मुख्यमंत्री कांग्रेस को समर्थन दे रही है और बदले में कांग्रेस राज्य में बसपा सरकार के काले कारनामों की अनदेखी कर रही है। प्रदेश में हाहाकार मचा हुआ है।  सरकारी खजाने की लूट हो रही है। सत्ता का ख्ुाला दुरूपयोग हो रहा है। प्रशासन बेलगाम है। ऐसी बुरी हालत प्रदेश में कभी नही देखी गई।
समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर भ्रष्ट मंत्रियों, अधिकारियों की खैर नहीं। वर्तमान मुख्यमंत्री को भी अपने किए का हिसाब देना होगा और लूट-वसूली तंत्र पनपाने के लिए सजा भी भुगतनी होगी। श्री अखिलेश यादव के साथ इस यात्रा में समाजवादी पार्टी प्रत्याशी सर्वश्री राम खिलाड़ी सिंह, आशुतोष मौर्य, ओंकार सिंह, विमल कृष्ण अग्रवाल, आबिद रजा, आशीष यादव, प्रेमपाल सिंह के अतिरिक्त श्री महिपाल सिंह यादव, फईम शाबिर, जाहिद हुसैन भी शामिल थे। समाजवादी क्रान्तिरथ 16 अक्टूबर,2011 को भी बदायूॅ में दौरे पर रहेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

आई.ए.एस. अधिकारियो का विभाग बदला

Posted on 19 March 2010 by admin

शैलेश कृष्ण प्रमुख सचिव मुख्य मंत्री बनाए गये,

transfer-ias-and-pcs

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com


Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

October 2017
M T W T F S S
« Sep    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
-->









 Type in