*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | January, 2013

शहीद दिवस पर दीपदान

Posted on 31 January 2013 by admin

dsc05106ऽ    वैश्य फेडरेशन ने दी बापू को श्रद्धांजलि

अखिल भारतीय वैश्य महासम्मेलन ने शहीद दिवस पर 501 दीये जलाकर बापू को श्रद्धांजलि दी। हजरतगंज स्थित गांधी प्रतिमा पर संगठन के प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक राजेश अग्रवाल ने प्रथम दीप प्रज्ज्वलित किया।dsc05119
इस अवसर पर पूर्व महापौर डाॅ. दाऊजी गुप्त, प्रदेश महामंत्री नीरज गुप्ता, महिला इकाई की प्रदेश अध्यक्ष रीता मित्तल, युवा इकाई के प्रदेश अध्यक्ष अनूप अग्रवाल, डा.अनिल गुप्ता, मनीष खेमका, वरिष्ठ समाजसेवी होरीलाल गुप्ता, मीना वाष्र्णेय, रेनू जायसवाल, जे.पी.गुप्ता, के.सी. गुप्ता, मनीष खेमका, नवीन जायसवाल, अनिल जैन ‘गिरीश’, मनोज केषव, श्यामबिहारी शाह, मां कर्माबाई सेवा समिति के अध्यक्ष दिलीप साहू, गिरिजाशंकर जायसवाल, आशुतोष गुप्ता, आदि लोग उपस्थित रहे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

Maha kumbh 2013 attracts foreign devotees tremendously

Posted on 31 January 2013 by admin

•    Till now pilgrims from USA, Britain & France have visited the Kumbh
•    Foreign pilgrims engrossed in Indian culture
In the ongoing Maha Kumbh at Tirthraj Prayag, Allahabad, everyone is eager to have a holy dip in the confluence of Ganga & Yamuna and Saraswati; no matter if he is from the different districts and states of India or abroad.
Thousands of foreign pilgrims have already started to reach Allahabad for the bath of Mauni  Amavasya which will take place on the 10th of February, 2013. These foreigners are seeking shelter in the residents of the Dharmacharyas, monks and their Gurus. Most of the foreign devotees are arriving in the ashram of Peethadheeshwar Swami Chidananda Saraswati of Parmartha Niketan, Rishikesh.  People from Ashram said that so far, more than five hundred foreign devotees have reached their ashram and many more are anticipated to arrive.
Most of the foreign devotees reaching the Mahakumbha are from the USA, France, UK, Germany, Italy and Switzerland. Hundreds of foreign pilgrims have arrived in the camps of Juna Akhara, Niranjani Akhara, Mahanirvani Akhara and Yogi Satyam. Pilgrims from abroad reaching the Mahakumbh are embracing Indian culture and gastronomy entirely. Foreign devotees start their day with morning yoga and after that, they meditate and pray. Foreign devotees can be seen eating pulses, rice, vegetables, roti and salad in the dining hall of the ashram of Swami Chidanand Saraswati. The foreign devotees residing in the ashram are been taught to dress decently and to behave courteously.
Ashram devotees clean the vicinity of the Sangam area before they proceed for the holy dip. Swami Chidananda Saraswati told that the foreign devotees residing in his ashram regularly take part in the campaign to clean the river. He proclaimed that the purity of Ganga should remain intact. Uttar Pradesh government has made good arrangements for the Mahakumbha. They are fully satisfied with the arrangements made by the government and administration. He expected the administration to retain all the arrangements till the end of the fair. Swami Chidananda says that so far everything is going on well and we hope that by God’s grace it will continue. He wished all the success for the bath of Mauni Amavasya to the Uttar Pradesh government and all the officials related to the Mela.

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

सुरक्षा व्यवस्था में फोर्स के साथ हर क्षेत्र में तैनात है 4500 होमगार्डस के जवान

Posted on 31 January 2013 by admin

होमगार्डस के जवान सेवाभाव एवं लगन से निभा रहे है ड्यूटी।
गंगा यमुना और सरस्वती के इस समागम स्थल पर दुनियाँ के सबसे विषालतम् समागम हो रहा है, यहाँ पर देष-विदेष के कोने-कोने से आये हुए स्नानार्थियों की सुविधा व सुरक्षा के पुख्ता इन्तजाम किये गये है। इस कुम्भ मेला में आये हुए स्नानार्थियों की सुरक्षा में पुलिस, पी0ए0सी0, कमाण्डों तथा पैरामिलिट्री फोर्स जल पुलिस तैनात है, पुलिस बल के साथ उनके कंधों से कंधा मिलाकर उनकी सुरक्षा में उत्तर प्रदेष होमगार्डस के 1 कमांडेण्ट, 5 इंस्पेक्टर, 15 प्लाटून कमाण्डर, 40 ब्लाग अर्गेनाइजर, 50 हवलदार, 50 चतुर्थ श्रेणी के साथ 4500 जवान भी तैनात है।
कुम्भ मेला के होमगार्ड के कमाण्डेन्ट सुधारकराचार्य पाण्डेय ने बताया कि होमगार्डस पूरे कुम्भ मेला क्षेत्र व सभी थानों मंे अपनी सेवाए दे रहे है। होमगार्डो को रहने के लिए चार जगहो पर पुलिस लाइन बनायी गयी है। जो काली सड़क, आइजर ब्रिज, अरैल, और झँूसी में स्थापित है।
उन्होंने बताया कि सभी होमगार्डस पूरी मुस्तैदी के साथ सभी सेक्टर मजिस्ट्रेट, पुलिस के यातायात बैरियर, स्नानघाट, जल पुलिस, पाण्डालों व अखाड़ों आदि की सुरक्षा मंे तैनात किये गये है जो अपने कार्य को पूरे सेवाभाव, ईमानदारी एवं लगन के साथ अपनी ड्यूटी कर रहे है।
होमगार्डस की ड्यूटी आठ-आठ घण्टों के लिए लगाई जाती है परन्तु मुख्य स्नान पर्वो पर वे अपनी ड्यूटी से अधिक अपने दायित्वों एवं कर्तव्यों को ध्यान में रखकर अपना कार्य कर रहे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मण्डलायुक्त ने कुंभ मेला में किया विभिन्न सेक्टरों का निरीक्षण

Posted on 31 January 2013 by admin

कमियाँ शीघ्र पूर्ण कराने हेतु सम्बन्धित विभागों को दिये निर्देष।
मण्डलायुक्त इलाहाबाद श्री देवेष चतुर्वेदी ने गत दिवस कुंभ मेला क्षेत्र के सेक्टर 11,12,13 एवं 14 के विभिन्न स्नान घाटों एवं सफाई व्यवस्था का स्थलीय निरीक्षण किया। आयुक्त श्री चतुर्वेदी ने त्रिवेणी डाउन पाण्टून पुल के बीच निरीक्षण के दौरान पाया कि गंगा नदी के किनारे काफी अतिक्रमण कर पण्डाल लगा दिये गये है। वर्तमान मंे गंगा नदी में हो रही अत्यधिक कटान के कारण दुर्घटनायें हो सकती है अतः सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए सेक्टर मजिस्ट्रेट 11 को निर्देषित किया कि इस स्थान पर हुए अतिक्रमण को हटवायें।
उन्होंने पाया कि त्रिवेणी पाण्टून एवं जगदीष रैम्प से महाबीर पाण्टून तक अत्यधिक कटान होने के कारण कोई भी स्नान घाट बनाया जाना सम्भव नही हो पा रहा है। जगदीष एवं महावीर पाण्टून पुलों के बीच नदी के किनारे गाटा रोड पर कई स्थानों पर कीचड़ हो गया है। कीचड़ का कारण, नल का पानी रोड पर आने की वजह पायी गयी। उन्होेंने जल निगम विभाग को निर्देष दिया कि गढ्ढा बनाकर पानी एक स्थान पर एकत्रित करें, अथवा विकल्प के रूप में प्लास्टिक की पाइप डालकर पानी को सीवर लाइन से जोड़ा जाय।
जगदीष एवं महावीर पाण्टून के पुलों के बीच नदी के किनारे अत्यधिक गन्दगी भी पायी गयी। देखने से ऐसा प्रतीत हुआ कि कई दिनों से सफाई नहीं हुयी है, ब्लीचिंग न डालने के कारण बदबू आ रही है। आयुक्त ने स्वास्थ्य विभाग को निर्देष दिया कि अतिशीघ्र इस स्थान पर सफाई व्यवस्था सुनिष्चित करायें।
निरीक्षण के दौरान आयुक्त ने पाया कि महावीर मार्ग के उत्तरी पटरी पर गढ्ढा एवं ड्रेन का पानी सीधे गंगा नदी में जा रहा है। उन्होंने जल निगम को शीघ्र ही इस पानी को रोककर पानी के निस्तारण के वैकल्पिक व्यवस्था सुनिष्चित करने का निर्देष दिये।
सेक्टर नं. 12 के निरीक्षण के दौरान आयुक्त ने पाया कि महावीर पाण्टून और अक्षयवट पाण्टून के मध्य 600 फीट स्नान घाट उपलब्ध है परन्तु इस स्थान की चैड़ाई कम है। इस घाट पर कहीं भी यूरिनल नहीं बनाया गया है और न ही कोई चेन्ज रूम है। उन्होने स्वास्थ्य विभाग को  निर्देष दिया कि इस घाट पर शीघ्रातिषीघ्र यूरिनल बनाया जाना सुनिष्चित करें।
अक्षयवट पाण्टून पुल के आगे निरीक्षण करते हुए उन्होंने पाया कि लगभग 500 फीट का घाट कटान के कारण समाप्त हो गया हैं। कटान होने का मुख्य कारण यह था कि दिनांक 26 व 27 जनवरी को अतिरिक्त जल नदी में छोड़ा गया था। यह बताया गया कि माननीय उच्चन्यायालय के आदेषों के क्रम में यह जल छोड़ा गया है। स्नान के एक दिन के पहले जल स्तर का बढ़ना सुरक्षा की दृष्टिकोण से उचित नहीं है इसका प्रभाव यह होता है कि जो घाट स्नान के पहले तैयार किये गये है वह असुरक्षित हो जाते है। सिंचाई विभाग को निर्देषित किया गया कि माननीय उच्चन्यायालय के समक्ष पक्ष रखते हुए यह निवेदन करें कि स्नान के दो दिन पहले जल न बढ़ाया जाय। यदि माननीय उच्चन्यायालय द्वारा भी अतिरिक्त जल छोड़ने के लिए निर्देष दिये जाते है तो कम से कम पांच दिन पहले जल छोड़ने का अनुरोध किया जाय। जिससे कि पूर्व में बनाये हुए घाट को सुरक्षित बचाये जा सके।
निरीक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि सरस्वती घाट पर कटान की वजह से बोरियां बह गयी है और घाट का स्लोप समाप्त हो गया है। अतः  आवष्यक है कि 10 फरवरी के स्नान को दृष्टिगत रखते हुए यहां पर स्नान घाट हेतु स्लोप बनाया जाय जिससे तीर्थ यात्री सुविधापूर्वक स्नान कर सकें। उन्होंने सिंचाई विभाग को निर्देष दिये कि उक्त कार्य शीघ्र करायें।
सरस्वती मार्ग संगम लोअर से पूर्व डी0आर0डी0ओ0 द्वारा शौचालय स्थापित कराया गया है। निरीक्षण के समय आयुक्त ने कोई भी सफाईकर्मी व कार्य प्रभारी मौके पर उपस्थित नहीं पाया। शौचालय में अत्यधिक गन्दगी पायी गयी एवं बदबू भी आ रही थी जिसके कारण आस-पास का वातावरण दूषित हो रहा था। उन्होंने निर्देष दिये कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्थापित शौचालय की भांति गैर परम्परागत शौचालयों में सफाईकर्मी एवं कार्य प्रभारी का नाम एवं मोबाइल नम्बर अंकित कराये जाए।
सेक्टर नं. 12 के पुल नं. 17 के अपस्ट्रीम में लगभग 3500 फीट एवं डाउनस्ट्रीम में लगभग 2500 फीट अच्छा स्नान घाट उपलब्ध पाया गया। सेक्टर 14 के सेक्टर मजिस्ट्रेट द्वारा अवगत कराया गया कि लगभग 400 फीट स्नान घाट सोमेष्वर महादेव मन्दिर के सामने विकसित हो सकता है, क्योंकि नदी का जलस्तर दो से तीन फीट रहेगा। उचित होगा कि 10 फरवरी के स्नान हेतु घाट के निर्माण पर विचार किया जाय।
आयुक्त श्री चतुर्वेदी ने पाया कि डी0पी0एस0 स्कूल के सामने लगभग 800 फीट का स्नान घाट बना है क्योंकि यह स्नान घाट सबसे दूर का स्नान घाट है। उन्होने निर्देष दिया कि मुख्य मार्गों पर संकेत चिन्हों के माध्यम से स्नान घाट को इंगित किया जाय जिससे स्नानार्थी घाट का उपयोग कर सकें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

कल्पवासियों की संख्या में वृद्धि हो जाने के कारण राषन कार्ड निर्गत किये जाने हेतु दबाव बढ़ गया है

Posted on 31 January 2013 by admin

कुंभ मेला में 14 सेक्टरों में अखाड़ों/संस्थाओं के साथ-साथ कल्पवासी स्थापित हो चुके है। जिलापूर्ति अधिकारी कुंभ मेला आर0आर0 शुक्ला ने बताया कि 27-01-2013 को अचानक आये हुए कल्पवासियों की संख्या में वृद्धि हो जाने के कारण राषन कार्ड निर्गत किये जाने हेतु दबाव बढ़ गया है। प्रयास यह किया जा रहा है कि यथाषीघ्र सभी कल्पवासियों के राषन कार्ड नियमानुसार निर्गत कर दिये जाये। सभी क्षेत्रीय खाद्य अधिकारियों को निर्देष दिया गया है कि सभी क्षेत्रों में राषन कार्ड का लाभ निर्धारित करके प्रति-दिन उसकी मानीटरिंग करें। पूरे मेला क्षेत्र में 205 लेखपालों को राषन कार्ड बनवाने के लिए लगाया गया है। जो लगातार राषन कार्ड बना रहें है।
उन्होंने बताया कि 29 जनवरी  तक कुल 39287 राषन कार्ड जारी हो चुके है। जिसमें सेक्टर 1 में 230, 2 में 168, 4 में 1012, 5 में 604, 6 में 1997, 7 में 2575, 8 में 3088, व 9 में 7162, 10 में 5442, 11 में 2110, 12 मंे 711, 13 में 947, 14 में 261 कार्ड जारी हो चुके है, सभी कार्डधारकों को खाद्यान्न सामग्री उपलब्ध हो इसके लिए सभी सेक्टरों में सार्वजनिक वितरण प्रणाली की 125 दुकाने खुली है जहां से कार्डधारकों को प्रातः 8 बजे से 5 बजे तक चीनी, आटा, मिट्टी का तेल, चावल निर्धारित दर पर कार्डधारकों को दिया जा रहा है। वे अपने-अपने सेक्टरों की दूकानों पर राषन प्राप्त कर रहे है। सभी सेक्टर कार्यालय हेतु अब तक कुल 9205.05 कुन्तल आटा, 7637.00 कुन्तल चावल, 8320.10 कुन्तल चीनी, 312.00 कु0 गेहँू का परमिट गोदामों हेतु जारी किया जा चुका है।
कुकिंग गैस आदि से आग के बचाव हेतु सेक्टर वार बनायी गयी चेकिंग टीम के विषय में उन्होंने बताया कि टीमें संस्थाओं, षिविरों का निरीक्षण कर रहे है और जहाँ खराब पाइप आदि मिल रहे है उन्हे बदलवाया जा रहा है। मेले में 14.2 किलों के कुल 1696 नये कनेक्षन, 4275 सिलेण्डरों का रिफिल एवं 19 किलों के 237 नये कनेक्षन एवं 1486 सिलेण्डरों को रिफिल किया गया है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने अस्पतालों को सभी आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए

Posted on 31 January 2013 by admin

चिकित्सा सुविधाएं सस्ती एवं सुलभ होनी चाहिए: मुख्यमंत्री

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों के लोगों को उच्च स्तरीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए अस्पतालों को सभी आवश्यक संसाधनों से युक्त करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता को आधुनिक चिकित्सा उपलब्ध कराने के लिए राज्य के सभी शासकीय चिकित्सा संस्थानों को आवश्यकतानुसार चिकित्सक, स्टाफ तथा अन्य संसाधनों के प्रस्तावों पर तत्परता से कार्रवाई की जाए।
31मुख्यमंत्री आज यहां शास्त्री भवन में उ0प्र0 ग्रामीण आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान, सैफई तथा डाॅ. राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान, (आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट) लखनऊ की शासी निकायों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट में पैथोलाॅजी तथा रेडियोलाॅजी की जांच दरों को घटाने के निर्देश देते हुए कहा कि चिकित्सा सुविधाएं सस्ती एवं सुलभ होनी चाहिए। उन्होंने आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट में सर्जरी के लिए आवश्यतानुसार संजय गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान तथा के.जी.एम.सी. से चिकित्सक बुलाने की अनुमति देते हुए कहा कि संस्थान में उच्च स्तरीय इलाज के लिए हर सम्भव सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी।
श्री यादव नेे आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट में प्रस्तावित भवनों को आधुनिक डिज़ाइन के अनुरूप बनाए जाने की बात भी कही। उन्होंने कहा कि अस्पतालों के भवनों का निर्माण इस प्रकार होना चाहिए, जिसमें पर्याप्त स्थान के साथ-साथ प्राकृतिक रोशनी एवं हवा उपलब्ध हो सके और निर्माण खर्च में कमी भी आए। उन्होंने आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट के लिए प्रस्तावित एकेडमिक ब्लाॅक की डिज़ाइन पर पुनर्विचार करने एवं इसे आधुनिक मापदण्डों के अनुसार तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने संस्थान द्वारा प्रदेश के राजकीय चिकित्सकों हेतु कैंसर के इलाज एवं पहचान के लिए शुरु किए जा रहे प्रशिक्षण की सराहना की।
मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 ग्रामीण आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान, सैफई में उपलब्ध विभिन्न सुविधाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि यह संस्थान निःशुल्क उच्च स्तरीय चिकित्सकीय सुविधा उपलब्ध कराता है। इलाज के लिए आस-पास ही नहीं बल्कि दूर-दराज के क्षेत्रों के लोग भी सैफई आते हैं। उन्होंने संस्थान को अपनी नियमावली बनाने तथा शासी निकाय की आगामी बैठक में डीम्ड यूनिवर्सिटी का प्रस्ताव लाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने संस्थान के विभिन्न संकायों में छात्रों की संख्या बढ़ाने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने के लिए भी कहा।
बैठक में प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा श्री जे.पी. शर्मा, प्रमुख सचिव वित्त श्री आनन्द मिश्रा, सचिव मुख्यमंत्री श्री आलोक कुमार, उ0प्र0 ग्रामीण आयुर्विज्ञान एवं अनुसंधान संस्थान, सैफई के निदेशक मेजर जनरल डाॅ0 अजय के. दत्ता, आर.एम.एल. इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रोफेसर एम.सी. पंत, महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण डाॅ0 के.के. गुप्ता सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने बंदियों द्वारा बनाए गए चित्रों की प्रदर्शनी ‘काराकृति’ का उद्घाटन किया

Posted on 31 January 2013 by admin

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने आज बंदियों द्वारा बनाए गए चित्रों की प्रदर्शनी ‘काराकृति’ का उद्घाटन किया। इस अवसर पर कारागार मंत्री श्री रघुराज प्रताप सिंह ‘राजा भैय्या’ सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी मौजूद थे। दो दिवसीय इस प्रदर्शनी का आयोजन कारागार विभाग द्वारा राज्य ललित कला अकादमी में किया गया है।
11मुख्यमंत्री ने प्रदर्शनी में दर्शाए गए चित्रों की सराहना की। उन्होंने यह भी आशा व्यक्त की कि चित्र बनाने वाले बंदी भविष्य में भी अपनी इस प्रतिभा का विकास करते रहेंगे।
प्रदर्शनी के उद्घाटन के अवसर पर कारागार राज्य मंत्री श्री इकबाल महमूद, प्रमुख सचिव गृह एवं कारागार श्री आर.एम. श्रीवास्तव, महानिरीक्षक कारागार
श्री राजेश प्रताप सिंह, अपर महानिरीक्षक कारागार श्री योगेश कुमार शुक्ला सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।
ज्ञातव्य है कि प्रदेश के कारागारों में निरूद्ध बंदियों की प्रतिभा को उभारने के लिए चित्रकला प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया गया। इन प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट प्रविष्ठियों का चयन कर पहली बार प्रादेशिक स्तर पर कला प्रेमियों के सम्मुख काराकृति के रूप में प्रस्तुत किया गया है। ‘काराकृति’ में जिला जेल लखनऊ, गाजियाबाद, अलीगढ़, सहारनपुर, आगरा, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, नारी बंदी निकेतन, लखनऊ तथा केन्द्रीय कारागार आगरा, फतेहगढ़ एवं बरेली में निरूद्ध बंदियों की कलाकृतियों को प्रदर्शित किया गया है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर बापू को श्रद्धांजलि अर्पित की

Posted on 31 January 2013 by admin

press_r2_c1शहीद स्मारक पर दीपदान भी किया

051राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्य तिथि पर उत्तर प्रदेश के राज्यपाल  श्री बी.एल.जोशी एवं मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने आज शाम यहां शहीद स्मारक पर आयोजित दीपदान कार्यक्रम में भाग लिया। राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री ने गांधी जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर अपनी श्रद्धांजलि दी। उन्होंने इस अवसर पर गांधी जी के प्रिय भजनों को भी सुना।
032इसके उपरान्त राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री ने गोमती तट पर पहुंचकर दीपदान किया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, गांधीवादी संस्थाओं के प्रतिनिधियों, गणमान्य नागरिकों, उत्तर प्रदेश शासन, मण्डल व जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुख्यमंत्री से जर्मनी के राजदूत ने शिष्टाचार भेंट की

Posted on 31 January 2013 by admin

up-cm-with-german

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 30 जनवरी, 2013 को लखनऊ में अपने सरकारी आवास पर जर्मनी के राजदूत श्री माइकल स्टाइनर एवं उनकी पत्नी श्रीमती एलीज स्टाइनर का स्वागत करते हुए।

Comments (0)

बाबू, पेशकार, स्टेनो, लेखपाल आम जनता के शोषण और अधिकारियों के पोषक बने है

Posted on 31 January 2013 by admin

जनपद में क्लर्क ग्रेड और लेखपालो की स्थानान्तरण नीति ही डेड कर दी गई है जिसके चलते एक ही सीट पर वर्षो से डटे बाबू, पेशकार, स्टेनो, लेखपाल आम जनता के शोषण और अधिकारियों के पोषक बने है ।
हैरत है कि प्रदेश के सभी राज्य कर्रि्मयों का स्थानान्तरण गैर जनपद होता रहता है यहां तक कि शिक्षकों, चिकित्सको और इंजीनियरो का स्थानान्तरण भी होता जरुर है मगर जिले के राजस्व महकमे मे और स्वयं जिला कलेक्टर की कचेहरी मे बीसो वर्षो से बाबू और अन्य कर्मचारियों का स्थानान्तरण पूर्णतया डेड है जिसके चलते आम जनता का शोषण बढता जा रहा है ।
हालत यह है कि चाहे पी०सी०एस० अफसर हो चाहे आई०ए०एस०जिले में आते ही इन भ्रष्टाचारियों के काकस में घिर जाते है और जायज नाजायज कामो की डीलिंग इन्ही भ्रष्ट बाबुओं के जरिये होती है चाहे नजूल की जमीन हो राजस्व के गंभीर मुकदमे हो । जमीन जायदाद का बंटवारा हो, किरायेदार-मालिक का विवाद हो, खेती से कर्रि्मशियल का स्थानान्तरण हो, हदवरारी हो, शस्त्र का लाईसेंस हो, नवीनीकरण हो, पटटे का प्रहृी होल्ड हो, दाखिल खारिज हो, विरासत हो, कोटेदार का निलंबन बहाली हो लगभग सभी कार्यो की मुहमांगी और मंहगाई के  सूचकांक को देखते हुए सुविधा शुल्क फिक्स है।
एक प्रतिशत से सात प्रतिशत तक की वसूली लगभग सभी अदालतो मे वसूली जाती है जिसे यही बाबू, स्टेनो, पेशकार, हाकिम तक पहुचाते है यही नही कलेक्ट्रेट के कुछ अधिवक्ता भी इन अधिकारियों के दरबारी है जिन्हे कभी भी अधिकारियों के चैम्बर और बंगले मे देखा जा सकता है यही कारण है कि सत्ता चाहे जिसकी हो मुख्यमंत्री या कोई हो जिले मे जिलाधिकारी चाहे सीनियर हो चाहे जूनियर ईमानदार हो या बेईमान सभी को अपने सांचे मे ढालकर महाभ्रष्ट बाबू, लेखपाल और पेशकार आज तक अन्र्तजनपदीय स्थानान्तरण पर भी नही गये पूरी सेवा अवधि उन्होने यही जन शोषक बन कर गुजार दी ।
और तो और संम्पत्त्ति  का ब्यौरा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव दे सकते है मगर इन बाबुओं से आज तक कोई जिलाधिकारी मांगने की हिम्मत नही जुटा पाया कहने को ये अल्प वेतन भोगी है मगर पूरे शहर मे जायज नाजायज भवनो, जमीनो, वाहनो के मलिक है और राजपत्रित अधिकारी  की मालीत हैसियत को भी चुनौती देते है ये बाबू । इन बाबुओ की ही मेहरबानी है कि पूरे सिविल लाईन एरिया की नजूल जमीन को बिना प्रहृी होल्ड ही हवेलियों मे तब्दील कर दिया ।
बिना पटटे के ही एन.ओ.सी. के जरिये अवैध निर्माण करवा दिया न जाने कितने अपराधियो को अपनी बाबूगीरी के जरिये असलहो के लाईसेंस दिला दिये न जाने कितने अपराधियों को हैसियत जारी कर ठेकेदार बनवा दिया । वही लेखपालो का कहना ही क्या जैसे प्र्रदेश मे महामहिम राज्यपाल का रुतबा है वैसे ही जिले मे लेखपालो की तूती बोलती है ये कहने मात्र को लेखपाल है ये जिले के सबसे बडे भू माफिया है जिले की शायद ही एक इंच जमीन ऐसी हो जिसमें इनकी प्रापर्टी डीलिंग न हो अगर इनका हिस्सा न लगा तो जमीन क्रय विक्रय नही हो सकती ।
यही कारण है कि सिटी समेत ईद गिर्द  के लेखपालों की अवैध सम्पत्ति एक जमीनदार से कम नही रह गई है हालत यह है कि अगर डी०एम०भी चाहे तो इनकी मर्जी बगैर उन्हे यहां से हटाया नही जा सकता पूर्व के उदाहरण गवाह है एक लेखपाल की तो भूमि विवाद मे हत्या तक हो चुकी है ।
नगर की आम जनता ने मुख्यमंत्री और राजस्व मंत्री से जिले के इन वर्षो से जमें भ्रष्ट्राचारियों को गैर जनपद हटाने की मांग की है जिससे प्रशासन स्वच्छ एवं पारदर्शी बन सके और जनता का शोषण रुक सके ।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

January 2013
M T W T F S S
« Dec   Feb »
 123456
78910111213
14151617181920
21222324252627
28293031  
-->




 Type in