*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | मिर्जापुर्

पार्टी से निष्कासित

Posted on 15 January 2013 by admin

लखनऊ समाजवादी पार्टी, उत्तर प्रदेश द्वारा लखनऊ जनपद के समाजवादी पार्टी के जिला पंचायत सदस्य श्री सरोज कुमार यादव को अनुशासनहीनता तथा पार्टी के निर्देशों के विपरीत कार्य करने के कारण समाजवादी पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है।
————————————————–
समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव द्वारा जनपद मिर्जापुर के समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष पद पर श्री आशीष यादव के स्थान पर श्री अशोक यादव घुरहू पट्टी, सिविल लाइन, मिर्जापुर को जिलाध्यक्ष नामित किया गया है।
नई संशोधित कार्यकारिणी गठित होेने तक वर्तमान जिला कार्यकारिणी (श्री आशीष यादव को छोड़कर) कार्य करती रहेगी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

जो गंगा की बात करेगा, वही देश पर राज करोगा

Posted on 10 October 2012 by admin

चुनार -  गंगा समग्र यात्रा पर निकली साध्वी उमा भारती ने आज एक नया नारा दिया कि जो गंगा की बात करेगा, वही देश पर राज करोगा। यह नारा उन्होंने यहां गंगा तट पर सभा को संबोधित करते हुए दिया। उन्होंने खुदरा बाजार में एफडीआई पर केद्र सरकार को घेरते हुए कहा कि मनमोहन सिंह एफडीआई के चरणों मे झुकने के बजाय गंगा के चरणों में माथा टेकें और गंगा सरंक्षण के लिए कानून बनाएं तो मां गंगा पचास करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार देगी।
गंगा तट पर गुह्य राज निषाद की प्रतिमा के समक्ष सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कि देश की सरकारें वोट की भाषा समझती हैं। गंगा भक्तों को भी अब अपने वोट की ताकत दिखानी होगी। उन्होंने कहा कि देश के करोड़ों गंगा भक्त जिस दिन यह ठान लेंगे कि हमारा वोट वही पड़ेगा जो दल यह घोषणा करे कि वह सरकार मे आने पर गंगा संरक्षण के लिए कानून बनाएगा, उसी दिन सरकारें गंगा के चरणों में झुक जाएंगी फिर कानून बनाने में देर नहीं होगी।
खुदरा बाजार में एफडीआई के सवाल पर उन्होंने कहा कि सरकार लगातार यह झूठ बोल रही है कि खुदरा बाजार में विदेशी निवेश से रोजगार पैदा होगा, सरकार को अगर लोगों के रोजगार की चिंता है, तो वह विदेशी निवेशकों के चरणों में झुकने के बजाय गंगा के चरणों में झुक जाए और गंगोत्री से गंगासागर तक अविरल गंगा के लिए कानून बना दे तो गंगा पर आश्रित पचास करोड़ से ज्यादा लोगों को रोजगार मिल जाएगा। बालू उत्खनन के मुद्दे को उठाते हुए उन्होंने कहा कि बालू उत्खनन का अधिकार माफियाओं को नहीं, बल्कि गंगा पुत्र निषाद, केवट, मल्लाह आदि जाति के लोगों को मिलना चाहिए।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

माननीया मुख्यमंत्री जी ने पूर्वांचल के अतिवृष्टि प्रभावित जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया

Posted on 01 October 2011 by admin

  • अतिवृष्टि के कारण क्षतिग्रस्त सार्वजनिक सम्पत्तियों कीे  मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर तत्काल शुरू करने के निर्देश
  • क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत हेतु केन्द्र सरकार से  सी0आर0एफ0 के अन्तर्गत धनराशि की मांग की जाए
  • बचाव एवं राहत कार्यों के लिए धन की कोई कमी नहीं-माननीया मुख्यमंत्री जी
  • प्रभावित परिवारों को समुचित सहायता राशि शीघ्र वितरित की जाए

cm-flood-review-30sep2011उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी ने आज पूर्वांचल के भ्रमण के दौरान पिछले दिनों अतिवृष्टि से प्रभावित सोनभद्र, वाराणसी, चंदौली तथा मिर्जापुर जनपदों का हवाई सर्वेक्षण किया। हवाई सर्वेक्षण के दौरान उन्होंने पाया कि कई स्थानों पर अभी भी जल भराव की स्थिति बनी हुयी है तथा सड़कों की स्थिति भी खराब है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत हेतु केन्द्र सरकार से सी0आर0एफ0 के अन्तर्गत धनराशि की मांग की जाये।
इसके पश्चात माननीया मुख्यमंत्री जी ने वाराणसी के बाबतपुर हवाई अडडे पर वाराणसी तथा मिर्जापुर के मण्डलायुक्तों, आई0जी0 तथा जिलाधिकारियों के साथ बैठक करके अतिवृष्टि से उत्पन्न स्थिति की जानकारी प्राप्त की तथा संचालित किये जा रहे राहत एवं पुनर्वास कार्यों की समीक्षा भी की। उन्होंने अतिवृष्टि से प्रभावितों को समुचित सहायता तथा क्षतिग्रस्त मकानों का आकलन करके युद्धस्तर पर मुआवजा वितरित करने के निर्देश दिये। माननीया मुख्यमंत्री जी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि जिन लोगों के मकान ध्वस्त हो गये हैं, उन्हें पात्रता के आधार पर इंदिरा आवास आवंटित किये जायें। उन्हांेने कहा कि बचाव एवं राहत कार्य के लिए धन की कोई कमी नहीं है। उन्होंने लोक निर्माण विभाग, सिंचाई आदि विभागों की क्षतिग्रस्त सार्वजनिक सम्पत्तियों के मरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर तत्काल शुरू करने के निर्देश दिए।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने सोनभद्र, वाराणसी, चंदौली तथा मिर्जापुर के जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में बचाव व राहत कार्यों में किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये। उन्होंने कहा कि मूसलाधार बरसात से क्षतिग्रस्त मार्गों, पुलों, बन्धों आदि की शीघ्र मरम्मत कराकर आवागमन को सुचारू बनाया जाये। उन्होंने अतिवृष्टि से हुई फसलों की क्षति का आकलन करके यथाशीघ्र मुआवजा वितरित करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने प्रभावित जनपदों के जिलाधिकारियों एवं मण्डलायुक्तों को पूर्व में ही साफ तौर पर बताया जा चुका है कि बाढ़ पीड़ितों को हर सम्भव सहायता उपलब्ध करायी जाये।
माननीया मुख्यमंत्री जी ने प्रभावित क्षेत्रों में बाढ़ का पानी उतरने के बाद वहां टीमें बनाकर पेयजल के क्लोरीनेशन के साथ फाॅगिंग व ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करने के निर्देश दिये। इसके अलावा उन्होंने जलमग्न क्षेत्रों में दैनिक जरूरतों की सभी चीजों को उपलब्ध कराने तथा संक्रामक रोगों से बचाव के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध करने की हिदायत भी दी। उन्होंने कहा कि बाढ़ग्र्रस्त क्षेत्रों में साफ पेयजल की व्यवस्था तत्काल बहाल की जाये।
उल्लेखनीय है कि माननीया मुख्यमंत्री जी ने इन क्षेत्रों में अतिवृष्टि की जानकारी प्राप्त होते ही पिछले सप्ताह मुख्य सचिव को प्रभावित इलाकों में भेजकर स्थिति का मौके पर जायजा लेने और लौटकर तत्काल रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। मुख्य सचिव द्वारा उपलब्ध कराए गये फीडबैक के आधार पर माननीया मुख्यमंत्री जी ने प्रभावित जिलों में राहत एवं बचाव कार्य हेतु सोनभद्र व वाराणसी को 50-50 लाख, जौनपुर व गाजीपुर को 25-25 लाख तथा चन्दौली को 30 लाख रूपये की अतिरिक्त धनराशि तत्काल जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने अतिवृष्टि से हुई मौतों की स्थिति में मृतकों के परिवार को 01-01 लाख रूपये की अनुग्रह राशि तत्काल जारी करने के भी निर्देश दिये। इसी के साथ उन्होंने घायलों के समुचित इलाज की व्यवस्था करने के भी निर्देश दिये। उन्होंने मवेशियों को चारे आदि की व्यवस्था तथा बीमारी से बचाव हेतु टीकाकरण करने की व्यवस्था करने के निर्देश दिये।
बैठक में बताया गया कि माननीया मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर जनपद मिर्जापुर में मृतकों के परिजनों को 10 लाख रूपये की आर्थिक सहायता वितरित की गयी तथा 25 सितम्बर से अब तक 10 हजार खाने के पैकेट, 38400 पैकेट लाई चना, 06 हजार लीटर मिट्टी का तेल, 03 हजार माचिस के पैकेट एवं 68 हजार गृह अनुदान व 10 लाख रूपये की अनुग्रह सहायता वितरित की गयी। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में 37 बाढ़ चैकियाँ स्थापित की गयी हैं तथा 10 पी0ए0सी0 बोट लगायी गयी हैं। चिकित्सा सुविधा के लिए चिकित्सकों की टीम गठित कर आवश्यक दवाओं का वितरण करने के साथ ही 03 एम्बुलेंस भी लगायी गयी हैं।
जिलाधिकारी, चन्दौली ने बताया कि अतिवृष्टि से जनपद में कुल 74 ग्राम, करीब 28 हजार जनसंख्या एवं 1600 हेक्टेअर क्षेत्रफल प्रभावित हुआ है। 03 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। लगभग 1400 मकान गिरे हैं और 02 करोड़ की सरकारी सम्पत्ति का नुकसान हुआ है। 25.50 लाख रूपये की सहायता राशि वितरित की जा चुकी है। प्रभावित क्षेत्रों में 12 मोटर नाव और 35 सामान्य नावें राहत कार्य में लगी हैं। डाॅक्टरों की 41 टीमें गठित कर प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण किया जा रहा है। लगभग 5900 परिवारों को पिछले एक सप्ताह से दोनों समय पका हुआ खाना दिया जा रहा है और 6400 परिवारों को एक सप्ताह का राशन वितरित किया गया है।
जिलाधिकारी मिर्जापुर ने बताया कि अतिवृष्टि से प्रभावित गांवों की संख्या 247 है। प्रभावित जनसंख्या 14,800 तथा मृतकों की संख्या 10 है। करीब 17,956 हेक्टेयर क्षेत्र में 50 प्रतिशत से अधिक फसलें क्षतिग्रस्त हुई हैं। बाढ़ से अलग पड़े गांवों में आवश्यक सुविधायें, राहत सामग्री एवं दवाओं का वितरण किया जा रहा है। विस्थापित परिवारों को पका भोजन दिया जा रहा है। इसी प्रकार सोनभद्र जनपद में बाढ़ से प्रभावित राबर्ट्सगंज और धोरावल तहसीलों में बचाव एवं राहत कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है। क्षतिग्रस्त भवनों के अतिरिक्त प्रभावित कृषि क्षेत्र का भी सत्यापन कराया जा रहा है। अतिवृष्टि से प्रभावित गांवों की संख्या 150 है। करीब 8,147 हेक्टेयर कृषि क्षेत्रफल प्रभावित हुआ है।
जनपद वाराणसी में अतिवृष्टि के कारण 06 लोगों की मृत्यु हुई है। जल प्लावन वाले क्षेत्रों में बचाव एवं राहत कार्य निरन्तर किया जा रहा है। जल भराव वाले क्षेत्रों से पानी निकालने की व्यवस्था की गयी है। इसके साथ ही मृतकों के परिजनों को सहायता राशि उपलब्ध करायी जा रही है। अब तक 43.57 लाख रूपये की धनराशि वितरित की जा चुकी है। इस जनपद के चकिया, सदर, सकलडीहा तहसीलें ज्यादा प्रभावित हुई हैं। जिन क्षेत्रों में पानी उतर गया है वहां फाॅगिंग, दवा छिड़काव तथा मेडिकल टीम भेजने के निर्देश दिये गये हैं तथा जनपद को कुल 40 लाख रूपये की अतिरिक्त धनराशि आवंटित की गयी है। वर्तमान में गिरे हुए मकानों के संबंध में तहसील सदर में 35 लाख तथा पिण्डरा में 2,57,500 रूपये  की धनराशि वितरित की जा चुकी है। चन्दौली के प्रभावित गांवों में भी बचाव एवं राहत कार्य बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। जनपद जौनपुर में अतिवृष्टि से प्रभावित तहसीलों की संख्या 06 है और 18 लोगों की मृत्यु हुई है। राहत एवं बचाव कार्य किया जा रहा है तथा मृतकों के परिजनों को सहायता राशि उपलब्ध करायी जा रही है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

प्रदेश की मुख्यमन्त्री कु0 मायावती ने आज मिर्जापुर जिले के दौरे पर

Posted on 25 February 2011 by admin

प्रदेश की मुख्यमन्त्री कु0 मायावती ने आज मिर्जापुर जिले के लालगंज तहसील के अन्तर्गत निबावल अम्बेडकर ग्राम, विसुन्दरपुर में कांशीराम आवास तथा नगर में सिविल अस्पताल, तहसील सदर, शुक्लहां मलिन बस्ती तथा कटरा थाना का निरीक्षण किया जिसमें उन्होंने तहसील दिवसों, थाना दिवसों में आये मामलोें का तत्परता से निस्तारण करने तथा चुनें गये अम्बेडकर गांवों के लाभार्थियों का यदि पट्टा नही मिल पाया हो तो उन्हें आवास एवं कृषि योग्य भूमि के पट्टे प्राथमिकता पर देने के निर्देश दिये।

सर्व प्रथम मुख्यमन्त्री हलिया विकास खण्ड के निबावल अम्बेडकर ग्राम पहुंची जहां उन्होंने गांव का भ्रमण कर सम्पर्क मार्ग, सीसी रोड, केसी ड्रेन का निरीक्षण किया। बाद में प्राथमिक पाठशाला का निरीक्षण किया तथा कक्षा 4 व 5 के छात्रों से पढाई की गुणवक्ता व मिड-डे-मिल मिलने के सम्बन्ध में पूछताछ किया। उन्होंने आवास एवं कृषि पट्टा आवंटन का सत्यापन किया तथा उपजिलाधिकारी बैकुण्ठराज द्विवेदी को सरकार की प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों पर और तेजी लाने का निर्देश दिया। विद्यालय निरीक्षण के बाद मुख्यमन्त्री पुन: निबावल गांव में गई और वहां लाभार्थियों से वार्ता कर योजनाओं के गुणवक्ता की जांच की।

अम्बेडकर गांव के निरीक्षण के बाद मुख्यमन्त्री सीधे विसुन्दरपुर नगर क्षेत्र में बनाये गये मान्यवर कांशीराम आवास के निरीक्षण में पहुंची जहां उन्होंने बारिकी से कालोनी का निरीक्षण किया और लाभार्थियों से वार्ता कर जाना की उन्हें कोई परेशानी तो नही हैर्षोर्षो लोगों ने बताया कि उन्हें कोई परेशानी नही है।आवासों के गुणवक्ता के सम्बन्ध में अपर जिलाधिकारी श्रीश चन्द्र श्रीवास्तव ने अवगत कराया तो उन्होंने प्रसन्ता व्यक्त की और यहां पर बच्चों के पढ़ने की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी से पूछे जाने पर यह बताया की सभी खडंऩ्जों पर इन्टर लाकिंग पेवर ब्रिक्स से सड़क नगर पालिका द्वारा बनाई जायेगी व ओबर हैड़ टैक का कार्य 15 मार्च तक पूर्ण कराया जायेगा।

कांशीराम आवास के बाद मुख्यमन्त्री पुलिस लाइन पहुंची जहां से सिविल हॉिस्पटल गई जहां उन्होंने अस्पताल में इमरजेंसी कक्ष, इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण किया और मरीजों से पूछा कि दवाई मिल रही है पैसा तो नही मांगा जा रहा है तो मरीजों ने कहा कि नही पैसा नही मांगा जाता दवाएं भी अस्पताल से मिल रही है। मुख्यमन्त्री ने चिकित्सा अधीक्षक डा0 सी0एस0 मधुकर को और व्यवस्था सुदृढ़ करने के निर्देश दिये।

तहसील सदर मिर्जापुर के निरीक्षण में उन्होंने इस वर्ष के आवास एवं कृषि पट्टा आवंटन का काम पूर्ण होने पर प्रसन्नता जताई तथा पिछले वषोZ में जो लोग पट्टा पाने से छूटे हो उन्हें पट्टा प्राथमिकता से देने के निर्देश दिये। उन्होंने तहसील दिवस रजिस्टर का निरीक्षण कर शिकायतों का निस्तारण तत्परता से कराने के भी निर्देश दिये। रिकार्ड रूम/अभिलेखागार के रखरखाव पर सन्तोष व्यक्त किया।

शुक्लहां मलिन बस्ती के निरीक्षण में मुख्यमन्त्री ने जिलाधिकारी श्रीमती संयुक्ता समद्दार से पूछा कि यहां कितनी मलिन बस्तियां है। जिलाधिकारी के सात मलिन बस्तियां बताये जाने पर उन्होंने सभी के प्रोजेक्ट बनाकर सुधार कार्यक्रम चलाने के निर्देश दिये। तत्पश्चात् मुख्यमन्त्री ने थाना कटरा का निरीक्षण किया। उनके साथ आये प्रमुख सचिव गृह कुवर फतेह बहादुर सिंह ने थाने के अपराधों के पंजिकरण व उनके निस्तारण की स्थिति से अवगत कराया। मुख्यमन्त्री ने उप पुलिस अधीक्षक से पूछा कि अपने क्षेत्र के सभी थाने महीने में एक बार चेक कर लेते है तो उन्होंने बताया कि किसी-किसी महिने हो जाते है, किसी महिने नही हो पाते है। इस पर मुख्यमन्त्री जी ने कहा कि प्रतिमाह अपने क्षेत्र के थानों का निरीक्षण अवश्य करें। उन्होंने थाना दिवस के प्रकरणों तथा महिला उत्पीड़न के मामले प्राथमिकता पर निपटाने के निर्देश दिये। साथ ही पुलिस अधीक्षक के0सत्यनारायण को भी समय-समय पर सभी थानों का निरीक्षण करते रहने के निर्देश दिये।

मुख्यमन्त्री के अम्बेडकर गांव निबावल आगमन पर जिलाधिकारी संयुक्ता समद्दार व पुलिस अधीक्षक के0सत्यनारायण ने मुख्यमन्त्री का स्वागत किया तथा पुलिस लाइन जिला मुख्यालय आगमन पर मण्डलायुक्त श्री सजीव मित्तल ने स्वागत किया। मुख्यमन्त्री भ्रमण के समय उनके कैबिनेट सचिव श्री शशांक शेखर सिंह व प्रमुख सचिच गृह श्री फतेह बहादुर सिंह साथ में रहें तथा विभिन्न योजनाओं का निरीक्षण कराया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

पंचायत चुनाव की एक अनोखी चार भाईयों के परिवार में तीन-तीन भाई, भाभियां खड़ी एक दूसरे के आमने सामने

Posted on 19 October 2010 by admin

इसे पारिवारिक ईश्र्या द्वेश की मिशाल कहें या पंचायत चुनाव में पद पाने की लालसा, जिसमें एक परिवार के चार भाइयों में तीन भाई और तीन भातियां एक दूसरे के खिलाफ चुनाव मैदान में कूद पड़ी है। इनमें से जीत का सेहरा किसके सिर बधेगार्षोर्षो यह तो अभी कुछ नहीं कहा जा सकता, केवल
इतना ही कहा जा सकता है कि इस परिवार मे पंचायत चुनावों के इतिहास में एक अनोखी मिशाल अवश्य पेश की है।

मिर्जापुर जिले के छानबे विकास खण्ड के पटखोली गांव पंचायत के कसघना गांव के एक ही परिवार के सारे सदस्य चुनाव मैदान में उतर आये है। इसमें सबसे खास बात यह है कि परिवार के अधिकतर सदस्य अपने परिवार के प्रत्याशी के खिलाफ में चुनाव मैदान में उतरे है। परिवार क सभी सदस्यों का एक दूसरे के खिलाफ पंचायत चुनाव लड़ने से मुकाबला बेहद रोचक हो गया है जिसकी चर्चा गांव गली से लेकर जिला पंचायत तक पहुंच गई है।
कसघना गांव का रमेश कुमार बेलदार पिछली बार पंचायत चुनाव में जिला पंचायत सदस्य चुना गया था, इस बार भीवह छानबे वार्ड 4 से उसी पर लिये चुनाव लड़ रहा है। इनको इस बार सबक सिखाने के लिये रमेश कुमार की सगी भाभी श्रीमती उर्मिला देवी पत्नी रामनरेश बेलदार चुनाव मैदान में कूद पड़ी है।

एक तरफ जहां रमेश कुमार बेलदार चुनाव मैदान मं है वही उसकी पत्नी श्रीमती किरण देवी बेलदार सिटी वार्ड से जिला पंचायत का चुनाव लड़ रही है। इनके अलावा रमेश कुमार के भाई दिनेश कुमार बेलदार छानबे वार्ड दो से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रहे है। वहीं रमेश कुमार के एक अन्य भाई सुरेश चन्द बेलदार कसघना गांव से ही प्रदान पद के लिये मैदान में उतरे है। सुरेश चन्द्र बेलदार के विरोध में उनके सगे भाई दिनेश कुमार बेलदार की पत्नी श्रीमती सरस्वती देवी भी कसघना से प्रधान पद का चुनाव लड़ रही है।
कसघना ग्राम पंचायत की यह घटना अपने आपमें अनूठी है जो भविश्य में सम्भवत: ही देखने को मिले, हय विशय वृहद्ध चर्चा का विशय बना हुआ है।
सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

सिर चढ़कर बोल रहा पंचायत चुनाव पत्नी पति के और भाई-भाई के खिलाफ ठोक रहा है ताल

Posted on 19 October 2010 by admin

पंचायत चुनाव में लोगों ने इतना अधिक अकाशZण पैदा हो गया है कि पपारिवारिक सीमायें तो टूट ही रही है पति-पत्नी के खिलाफ दीवाल खड़ी हो गई है। वे एक -दूसरे के खिलाफ ताल ठोक रहे है।

ऐसे ही दिलचस्प मामले मिर्जापुर जनपद के विस्तरीय पंचायत चुनाव में देखने को मिल रहे है। बड़े-बुजुर्गो का कहना है कि यहां असली लोकतन्त्र उतर आया है। पंचायत चुनाव में रिश्ते ही नहीं, सात जनम् के रिश्तों के विरूद्ध बगावत का बिगुल फूकने को विवश कर दिया है।

अहरौरा क्षेत्र के बेलखरा में विश्वकर्मा परिवार के दो भाई नन्द किशोर और राजनाथ प्रधानी के चुनाव में एक दूसरे के खिलाफ उतर आये है। इतना ही नही नन्द किशोर की प्रवक्ता पत्नी अपनी पति देव से पल्ला झाड़ कर अपने दुलहवा देवर राजनाथ का प्रचार कर रही हैं। नन्द किशोर एक इण्टर कालेज में कर्मचारी है उसने स्वयं स्वीकार किया है कि उसकी पत्नी सुशीला विश्वकर्मा उसके विरोध में है। जबकि उसके बच्चे पिता के साथ में है। प्रधानी के चुनाव में पति के खिलाफ बगावत करने वाली श्रीमती विश्वकर्मा 2005 के पंचायती चुनाव में खुद अपनी देवरानी के खिलाफ चुनाव लड़ चुकी हैं बेलखरा गॉव पंचायत में लगभग 2800 मतदाता है। जिसमें 25 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है।

इसी प्रकार राजगढ़ क्षेत्र के मदिहानी गांव में बचन अपनी पत्नी श्रीमती छोटी देवी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतर आयी है जो क्षेत्र में चर्चा का विशय बना हुआ है। पति-पत्नी के इस चुनाव सभा मे सबसे दिलचस्प बात यह है कि दोनों सुबह भोजन करने के बाद साथ-साथ चुनाव प्रचार के लिये निकलते है और घर के बाहर अलग-अलग चुनाव प्रचार के लिये चले जाते है। पति-पत्नी के बीच चुनावी जंग चर्चा का विशय बनी हुई है।

मरिहानी गांव के बचन और उसकी पत्नी के चुनावी जंग में सबसे खासबात देखने लायक है कि वे चुनाव मैदान में तो अलग-अलग है किन्तु पारिवारिक पति-पत्नी के रिश्तों में कोई कड़वाहट नहीं है। दोनों चुनाव प्रचार से वापस आकर पति-पत्नी की तरह रहते है और अगले दिन सुबह फिर एक साथ घर से निकल कर अलग-अलग दोनों क्षेत्रों में चले जाते है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मिर्जापुर के युवकों ने सम्हाली पर्यटन विकास की कमान

Posted on 05 October 2010 by admin

कहते है कि युवा यदि कुछ ठान ले तो उसे अन्जाम तक पहुचाने से कोई नही रोक सकता। और यदि युवाओं को बुजुर्गो, बुद्धजीवियों व प्रशासन का सहयोग हो तो सोने में सहागा ही कहा जा सकता है। ऐसे ही कुछ उत्साही युवकों ने मिर्जापुर के पर्यटन विकास का जिम्मा सम्हाला है उनका कहना है कि ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, धार्मिक प्रागोतिहासिक प्राकृतिक और साहसिक पर्यटन से भरपूर विन्ध्याचल क्षेत्र प्रचार-प्रसार के अभाव में अत्यन्त पिछड़ा है जिसे विश्व पर्यटन मानचित्र पर स्थान दिलाने उनका मुख्य उद्देश्य है।
20वीं शताब्दी के अन्तिम दशक में उत्तर प्रदेश से उत्तरांचल के अलग हो जाने के बाद नये-नये पर्यटन क्षेत्रों की तलाश शुरू की गई थी इसी में विन्ध्य सिर्कट मिर्जापुर की घोशणा की गई थी जिसमें मिर्जापुर सोनभद्र और चन्दौली जिलों के पर्यटन स्थानों को शामिल कर पर्यटन परिपथ बनाया जाना है। पर्यटन परिपथ की घोशणा तो सरकार द्वारा कर दी गई और कुछ थोड़ा बहुत विकास भी प्रारम्भ कर दिया गया किन्तु इसका प्रचार-प्रसार नगण्य ही रहा।
विन्ध्याचल पर्यटन परिपथ के प्रचार-प्रसार तथा नये-नये प्राकृतिक एवं प्रागैतिहासिक शैल चित्रों से भरपूर स्थानों की खोज पर इन युवकों ने अपना ध्यान केिन्द्रत किया है। इन्होंने अपने अभियान का नाम “मिशन ड्रीम मिर्जापुर´´ रखा है जिसके प्रमुख दीपक कपूर है। मिशन का संयोजन विक्रम सिंह द्वारा किया जा रहा है।
अभियान प्रमुख दीपक कपूर और संयोजक विक्रम सिंह द्वारा बताया गया कि ये मिशन ड्रीम मिर्जापुर यद्यपि जलाई 2007 से चला रहे है किन्तु अभी तक हमने बेस वर्क तैयार किया है अब हमने “मिर्जापुर एक दशZन´´ आधा घण्टे की डाकूमेन्ट्री फिल्म तैयार की है जिसमें यहा के पर्यटन महत्व को दशाZया गया हैं। फिल्म में क्रमबद्ध ढंग से उन्ही अलग-अलग विशयों को लिया गया है जो मिशन ड्रीम में किये गये है । इनमें सभ्यता और सास्कृति के अवशेश प्रागैतिहासिक शैल चित्र, किले और प्राचीन स्मारक मन्त्र मुग्ध कर देने वाले जल प्रपात वस्तु कला के बेजोड़ नमूने जंगली जीव जन्तु, लोक संस्कृति तथा इस क्षेत्र के देवी देवताओ को दशाZया गया है जिसमें मां विन्ध्यवासिनी की महिमा को प्रमुखता से दशाZया गया। इस प्राजेक्ट को दिसम्बर 2011 तक पूर्ण करने का लक्ष्य रखा गया है।
विश्व पर्यटन दिवस के अवसर पर टीम प्रमुख दीपक कपूर ने प्रशासनिक अधिकारियों गणमान्य नागरिकों के समक्ष अपनी फिल्म का प्रदशZन व “मिशन ड्रीम मिर्जापुर´´ का खुलासा किया और सभी का सहयोग मांगा। वाराणसी क्षेत्र के क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी दिनेशकुमार ने अपने विभागीय सहयोग का आश्वासन दिया।

प्रधानों के आगे फीकी पड़ रही है महानगरों की चमक-दमक
बांदा। बुन्देलखण्ड के दूर-दराज ग्रामीण क्षेत्रों से रोजी-रोटी की तलाश में महानगरों में रहने वाले ग्रामीणों को प्रधानी का मोह सताने लगा है। ग्राम प्रधान क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत के ओहदेदार पदों के आगे अब उन्हेें महानगरों की चमक-दमक फीकी लगने लगी है इसीलिये अनेक लोग अपने बीबी, बच्चों केा लेकर गांव वापस आ रहे है और प्रधानी से लेकर क्षेत्र पंचायत सदस्य ग्राम पंचायत सदस्य और जिला पंचायत सदस्य का पर्चा भर रहे है। जहां महिलाअों के लिये आरक्षित सीट है और वे स्वयं चुनाव नही लड़ सकते वहां अपनी -अपनी पित्नयों या अन्य रिश्तेदारों को चुनाव लड़ज्ञ रहे हैं।

बांदा जिले महुआ किवास खण्ड के अन्तर्गत पनगार सबसे बड़ी ग्राम पंचायत है जहां ऐसा ही नजारा देखने को मिल रहा हैं। पनगरा ग्राम पंचायत विभिन्न पदों के आरक्षण के अनुसार अनुसूचित जाति महिला के लिये आरक्षित है जिसमें गॉव मे स्थायी रहने वाले लोगों के अलावा कई ऐसे उम्मीदवार अपनी-अपनी पित्नयों को खड़ा किये है जो वशोZ से दिल्ली, पंजाब और सूरत में रोजी रोटी कमाने के लिये गये थे और वही बस गये।
पनगरा ग्राम पंचायत में पहले चरण में होने वाले चुनाव के लिये कुल 22 महिलायें प्रधान पद की उम्मीदवार है जिसमें सबसे अधिक 8 प्रत्याशी चमार बिरादरी क है, 6-6 प्रत्याशी कोरी और धोबी बिरादरी के तथा 2 प्रत्याशी वाल्मीक समाज के है। इनमें सबसे अधिक संघशZ कोरी विरादरी में है। दसियों साल से दिल्ली में सपरिवार रहने वाले रामेश्वर कोरी विरादरी के ही है जो चुनाव लड़ने के लिये बच्चों सहित आ गये है और प्रधान पद के लिये अपत्नी को उम्मीदवार बना दिया हैं। ओमप्रकाश उर्फ मुन्ना पनगरा के चलते पुर्जा और समाज में अच्छी पैठ रखने वाले बाकर का नाती है जो कानपुर, बम्बई, सूरत घूमता रहा है और चुनाव के आकशZण में गॉव आ गया है।
कोरी बिरादरी को ब्राहा्रण समाज का समर्थन मिलने के कारण नत्थू की पत्नी सुन्दी की स्थिति काफी सुदृढ़ दिखायी देती है जो `बाकर´ के छोटे भाई जमुना प्रसाद का लड़का है। अन्य उम्मीदवारों में िशवप्रसाद पुत्र रामटहलू (बाकर के बहिने के नाती) रामकिशुन बाकर के अन्य बहिन के लड़के के दमाद तथा कल्लू की पत्नी चुनाव मैदान में है ये सभी अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे है।
सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)


Advertise Here

Advertise Here

 

February 2017
M T W T F S S
« Jan    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
2728  
-->




 Type in