*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | January 1st, 2018

संगठित अपराधो की कमर तोड़ने वाला वर्ष साबित हुआ 2017 - मनीष शुक्ला

Posted on 01 January 2018 by admin

लखनऊ 01 जनवरी 2018, यूपी के इतिहास में 2017 कई मायनों में याद किया जाएगा। कानून व्यवस्था से लेकर समूची सरकार से त्रस्त जनता ने भाजपा सरकार बनाई और योगी सरकार ने जनता की अपेक्षाओं पर खरा उतरने का कार्य कर रही है। 2017 में कानून व्यवस्था, बिजली और शिक्षा से लेकर लोक सेवा आयोग से भ्रस्टाचार खत्म करने की दिशा में योगी सरकार ने कठोर कदम उठाए हैं।
भाजपा प्रवक्ता मनीष शुक्ल ने कहा कि योगी सरकार को जंगलराज विरासत में मिला लेकिन सरकार की दृढ़ इच्छाशक्ति के आगे माफियाओं टूट गए। एक तो उन्हें राजनैतिक सरंक्षण मिलना बंद हुआ और दूसरा यह कि अपराधियों पर वही पुलिस नकेल कसने लगी जो गुंडों से सपा सरकार में पिटती थी। तमाम गुंडे अंडरग्राउंड हो गए और बाकी उत्तर प्रदेश छोड़ कर भाग गए। जिन अपराधियों ने पुलिस के काम मे व्यवधान उत्पन्न किया या करने की कोशिश कि उसे पुलिस ने ढेर कर दिया। इस प्रकार के करीब 29 दुर्दांत अपराधियों का पुलिस ने एनकाउंटर कर जनता को राहत दिलाने का काम किया है।
श्री शुक्ल ने आगे बताया कि कानून का राज स्थापित करना प्रदेश सरकार की प्राथमिकता में है। अपराधी कोई भी हो वो बचेगा नहीं। जो भी अपराधिक घटनाएं घटती हैं उनपर पुलिस बहुत तेजी से कार्यवाही करती है। योगी सरकार ने यूपीकोका जैसे कानून को लाकर यह बता दिया है कि वह किसी भी तरह के अपराध को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 2017 में योगी सरकार ने सँगठित अपराध की कमर तोड़ दी है। 2018 में भी इसके लिए प्रयास अनवरत जारी है।

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

January 2018
M T W T F S S
« Dec    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
-->









 Type in