*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | September 5th, 2017

प्रदेश में मत्स्य उत्पादन को बढ़ावा देने हेतु मत्स्य विशेषज्ञों/अनुभवी सलाहकारों को आमंत्रित करते हुये लखनऊ में प्रदेश स्तरीय कार्यशाला का आयोजन आगामी एक माह में कराया जाये: मुख्य सचिव

Posted on 05 September 2017 by admin

नीली क्रांति मिशन को प्रभावी रूप से प्रदेश में क्रियान्वित कराने हेतु
विस्तृत कार्य योजना बनायी जाये: राजीव कुमार

मत्स्य पालकों को नियमानुसार आवंटित ग्राम सभा के तालाबों/जलाशयों के पट्टों के
नवीनीकरण की अवधि उत्पादन क्षमता को दृष्टिगत रखते हुये नियमों के तहत
बढ़ाने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां प्राथमिकता से सुनिश्चित करायें: मुख्य सचिव

प्रदेश में मत्स्य पालकों को अधिक से अधिक लाभ दिलाने हेतु
आगामी अक्टूबर माह के अन्त तक नीली क्रान्ति के विजन हेतु
प्रस्तावित विस्तृत कार्ययोजना का प्रस्तुतिकरण किया जाये: राजीव कुमार

उत्तर प्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर प्राप्त तृतीय स्थान को बढ़ाकर उच्च मत्स्य उत्पादन वाले
राज्यों में प्रथम स्थान प्राप्त करने हेतु वर्तमान उत्पादन दर को
चार गुना कराये जाने हेतु व्यापक कार्य योजना बनायी जाये: मुख्य सचिव

लखनऊ: 05 सितम्बर, 2017

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव श्री राजीव कुमार ने निर्देश दिये हैं कि प्रदेश में मत्स्य उत्पादन को बढ़ावा देने हेतु मत्स्य विशेषज्ञों/अनुभवी सलाहकारों को आमंत्रित करते हुये लखनऊ में प्रदेश स्तरीय कार्यशाला का आयोजन आगामी एक माह में आयोजित कराया जाये, ताकि प्रदेश के मत्स्य पालकों को अधिक से अधिक जानकारी मत्स्य उत्पादन हेतु प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा कि नीली क्रांति मिशन को प्रभावी रूप से प्रदेश में क्रियान्वित कराने हेतु विस्तृत कार्य योजना बनायी जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि प्रदेश में मत्स्य पालन को बढ़ावा देने हेतु तालाबों एवं समस्त जल क्षेत्रों का सेटेलाइट/जी0आई0सी0 मैपिंग के माध्यम से आगामी अक्टूबर, जनवरी एवं मई माह की भौतिक स्थिति के आधार पर आंकड़ें एकत्र कर जनपदीय विभागीय अधिकारियों से स्थलीय भौतिक सत्यापन कराया जाये। उन्होंने कहा कि मत्स्य पालन हेतु मत्स्य पालकों को नियमानुसार आवंटित ग्राम सभा के तालाबों के पट्टों/जलाशयों के नवीनीकरण की अवधि उत्पादन क्षमता को दृष्टिगत रखते हुये नियमों के तहत बढ़ाने हेतु आवश्यक कार्यवाहियां प्राथमिकता से सुनिश्चित करायें।
मुख्य सचिव आज शास्त्री भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष के सभागार में ब्लू रिवोल्यूशन: इन्टीग्रेटेड डवलपमेंट एण्ड मैनेजमेंट आॅफ फिशरीज योजना (नीली क्रान्ति) की राज्य स्तरीय स्टेयरिंग कमेटी की प्रथम बैठक की अध्यक्षता कर आवश्यक निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मत्स्य पालकों को अधिक से अधिक लाभ दिलाने हेतु आगामी अक्टूबर माह के अन्त तक नीली क्रान्ति के विजन को प्रस्तावित विस्तृत कार्ययोजना का प्रस्तुतिकरण किया जाये। उन्होंने कहा कि अन्तस्र्थलीय मत्स्य उत्पादन में उत्तर प्रदेश को राष्ट्रीय स्तर पर प्राप्त तृतीय स्थान को बढ़ाकर उच्च मत्स्य उत्पादन वाले राज्यों में प्रथम स्थान प्राप्त करने हेतु वर्तमान उत्पादन दर को चार गुना कराये जाने हेतु व्यापक कार्य योजना बनायी जाये। उन्होंने कहा कि आगामी वर्षों में मत्स्य उत्पादन बढ़ाने हेतु वर्ष वार माइल स्टोन निर्धारित कर कार्य योजना को अंजाम दिया जाये।
श्री राजीव कुमार ने यह भी निर्देश दिये कि उ0प्र0 राज्य आजीविका मिशन द्वारा गठित महिला स्वयं सहायता समूहों को अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराने के लिये मनरेगा के तालाबों का उपयोग उ0प्र0 मत्स्य विकास निगम के सहयोग से मत्स्य फिंगरलिंग बीज उत्पादन का कार्य उनके माध्यम से कराया जाये। उन्होंने कहा कि इस कार्य में कृषि विभाग के गठित समूहों को भी जोड़ा जाये। उन्होंने कहा कि नदियों में प्राकृतिक मत्स्य संपदा को बढ़ाने एवं निकटवर्ती निवासियों को रोजगार उपलब्ध कराने हेतु रिवर रेन्चिंग जैसे कार्यक्रम चलाये जायें।
प्रमुख सचिव पशुधन एवं मत्स्य डाॅ0 सुधीर एम0 बोबड़े ने बताया कि मत्स्य विकास निगम द्वारा फिश हैचरी हेतु सोलर ऊर्जा सपोर्ट सिस्टम को विकसित करने एवं अन्तर्राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी पर आधारित कैट फिश हैचरी की स्थापना हेतु विस्तृत कार्य योजना का क्रियान्वयन भारत सरकार के सहयोग से वर्तमान वित्तीय वर्ष में कराया जायेगा। इसके अतिरिक्त वर्तमान वित्तीय वर्ष में ही मत्स्य विभाग की फ्रेश वाटर पर्ल (मोती) कल्चर के अभिनव कार्यक्रमों को भारत सरकार के सहयोग से कार्यान्वित कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि मत्स्य बीज उत्पादन हेतु विभागीय प्रक्षेत्रों एवं निगम की हैचरियों (मत्स्य बीज उत्पादन केन्द्र) की क्षमता के अनुरूप आवश्यक कार्यवाहियां प्राथमिकता से सुनिश्चित करायी जा रही है।
बैठक में प्रमुख सचिव सिंचाई श्री सुरेश चन्द्रा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।

Comments (0)

लखनऊ मेट्रो के चलने से नगर की आर्थिक एवं सामाजिक तस्वीर में तेजी से बदलाव आएगा: राज्यपाल

Posted on 05 September 2017 by admin

press-2-1प्रदेश के बड़े शहरों में मेट्रो रेल संचालन के लिए
यू0पी0 मेट्रो रेल काॅर्पोरेशन का गठन किया जाएगा: मुख्यमंत्री

06 सितम्बर, 2017 से मेट्रो की यात्रा आम जनता के लिए सुलभ हो सकेगी

प्रधानमंत्री जी के प्रयासों के फलस्वरूप लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना को यूरोपियन इन्वेस्टमेण्ट बैंक द्वारा आसान किश्तों में ऋण स्वीकृत हो पाया: मुख्यमंत्री

निर्धारित समय से पहले परियोजना को पूरी करने के लिए डाॅ0 ई0 श्रीधरन
जी के नेतृत्व में एल0एम0आर0सी0 की पूरी टीम बधाई की पात्र हैं: योगी जी

मेट्रो रेल संचालन से लखनऊ नगर के लिए विकास
की सम्भावनाओं का द्वार खुल जाएगा: केन्द्रीय गृह मंत्री

ट्रांसपोर्टनगर से चारबाग तक निर्मित प्राथमिक
सेक्शन पर लखनऊ मेट्रो रेल सेवा का उद्घाटन सम्पन्नpress-1-1
press-1

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक जी ने लखनऊ मेट्रो रेल के प्रथम चरण में ट्रांसपोर्टनगर से चारबाग तक संचालन के लिए आज ट्रांसपोर्ट नगर स्टेशन पर आयोजित उद्घाटन समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि मेट्रो के चलने से नगर की आर्थिक एवं सामाजिक तस्वीर में तेजी से बदलाव आएगा। लखनऊ नगर के नागरिक जीवन इतिहास में आज के दिन को स्वर्णिम दिन बताते हुए उन्होंने कहा कि लखनऊ मेट्रो रेल काॅर्पोरेशन (एल0एम0आर0सी0) परियोजना इस बात की गवाह है कि राजकीय प्रोजेक्ट भी निर्धारित समय से पहले तय धनराशि में पूरी की जा सकती है। उन्होंने परियोजना के लिए भारत सरकार एवं राज्य सरकार को श्रेय देते हुए कहा कि इसको सफल बनाने में डाॅ0 ई0 श्रीधरन के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्होंने एल0एम0आर0सी0 के प्रबन्ध निदेशक श्री कुमार केशव व निदेशक श्री दलजीत सिंह की सराहना करते हुए कहा कि इन दोनों इंजीनियरों ने आई0आई0टी0 कानपुर से अध्ययन किया है। इससे यह भी स्पष्ट होता है कि अवसर मिलने पर उत्तर प्रदेश के लोग विशाल परियोजनाओं को मूर्त रूप प्रदान कर सकते हैं।press-4
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने निर्धारित समय से कम अवधि में निर्मित किए गए लखनऊ मेट्रो रेल के प्रथम चरण के लिए एल0एम0आर0सी0 के प्रधान सलाहकार डाॅ0 ई0 श्रीधरन एवं अन्य पदाधिकारियों की सराहना करते हुए भरोसा जताया कि शेष परियोजना भी निश्चित समय में पूरी होगी। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं के समय से पूरा न होने पर राष्ट्र को काफी क्षति उठानी पड़ती है। अधिक समय लगने से जहां जनता के ऊपर अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ता है, वहीं परियोजना से मिलने वाले लाभ से लोग वंचित रहते हैं। इसलिए परियोजनाओं को समय से पूरा करके राष्ट्र की बहुत बड़ी सेवा की जा सकती है। निर्धारित समय से पहले परियोजना को पूरी करने के लिए डाॅ0 ई0 श्रीधरन जी के नेतृत्व में एल0एम0आर0सी0 की पूरी टीम बधाई की पात्र हैं। उन्होंने कहा कि 06 सितम्बर, 2017 से मेट्रो की यात्रा आम जनता के लिए सुलभ हो जाएगी।
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा लखनऊ मेट्रो रेल परियोजना के लिए दिए गए सहयोग का उल्लेख करते हुए योगी जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के प्रयासों के फलस्वरूप यूरोपियन इन्वेस्टमेण्ट बैंक द्वारा आसान किश्तों में ऋण स्वीकृत हो पाया। इस परियोजना के लिए जब यूरोपियन इन्वेस्टमेण्ट बैंक के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर की कार्रवाई सम्पन्न हो रही थी तो उस मौके पर श्री हरदीप सिंह पुरी भी उपस्थित थे। यह संयोग ही है कि आज श्री पुरी यहां भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) की हैसियत से स्वयं मौजूद हैं।press-5-1
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने भारत के करीब 50 शहरों में सार्वजनिक यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए मेट्रो रेल परियोजना के संचालन की बात कही है। प्रधानमंत्री जी द्वारा निर्धारित इस लक्ष्य के तहत उत्तर प्रदेश के बड़े शहरों में मेट्रो रेल परियोजना संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा यू0पी0 मेट्रो रेल काॅर्पोरेशन का गठन किया जाएगा। डाॅ0 ई0 श्रीधरन जी से इस काॅर्पोरेशन के प्रधान सलाहकार के रूप में कार्य करने का आग्रह करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार इनके सहयोग से राज्य के बड़े शहरों में आधुनिक, सस्ती एवं पर्यावरण के अनुकूल सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था विकसित करने के लिए तत्पर है।press-5
योगी जी ने कहा कि गाजियाबाद व नोएडा के अलावा अब लखनऊ में भी मेट्रो रेल परियोजना के संचालन से प्रदेश के विकास कार्यक्रमों को और अधिक गति प्रदान करने में मदद मिलेगी। उन्होंने एल0एम0आर0सी0 को लाभकारी परियोजना बताते हुए कहा कि इससे जहां प्रदेश की राजधानी में ट्रैफिक जाम की समस्या से छुटकारा मिलेगा, वहीं पर्यावरण की हिफाजत के साथ-साथ नगरवासियों को सस्ती, सार्वजनिक यातायात व्यवस्था भी उपलब्ध होगी। उन्होंने भरोसा जताया कि श्री कुमार केशव की यह टीम वर्ष 2019 के निर्धारित समय तक चैधरी चरण सिंह एअरपोर्ट से मुंशी पुलिया तक निर्माणाधीन उत्तर-दक्षिण काॅरिडोर का कार्य पूर्ण कर लेगी। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश के 07 नगरों को भारत सरकार के सहयोग से स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विकसित करने के लिए पूरी गम्भीरता से काम किया जाएगा।press-6
इस अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने एल0एम0आर0सी0 की इस परियोजना को देश की आधुनिकतम मेट्रो रेल परियोजना बताते हुए कहा कि इससे लखनऊ नगर के विकास की सम्भावनाओं का द्वार खुल जाएगा। उन्होंने कहा कि केन्द्रीय पब्लिक इन्वेस्टमेण्ट बोर्ड (पी0आई0बी0) द्वारा एल0एम0आर0सी0 परियोजना की स्वीकृति की जानकारी प्राप्त होने पर लखनऊ का सांसद होने के नाते उन्हें सर्वाधिक खुशी हुई थी। उन्होंने एल0एम0आर0सी0 परियोजना को पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को समर्पित करते हुए कहा कि लखनऊ को विश्वस्तरीय शहर बनने से रोका नहीं जा सकता है। लखनऊ के लिए संचालित अन्य विकास परियोजनाओं की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन रिंग रोड का कार्य 03 वर्ष में पूर्ण हो जाएगा।press-15
इसी प्रकार ट्रैफिक कंजेशन को कम करने के लिए 07 फ्लाईओवर के निर्माण भी कराए जाएंगे। चारबाग रेलवे स्टेशन पर कैण्ट की तरफ से दूसरा प्रवेश द्वार बनाने के लिए 81 करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं। साथ ही, इस रेलवे स्टेशन पर 04 अतिरिक्त टैªक व 02 नये प्लेटफाॅर्म तथा आलमनगर स्टेशन को सैटेलाइट स्टेशन के रूप में विकसित किया जाएगा। गोमतीनगर रेलवे स्टेशन के विकास के लिए 513 करोड़ रुपए स्वीकृत हो चुके हैं। टर्मिनल स्टेशन के रूप में विकसित हो रहे गोमतीनगर स्टेशन में 02 प्लेटफाॅर्म बन चुके हैं, जबकि 06 नये प्लेटफाॅर्म और बनाए जाएंगे।
भारत सरकार के आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया कि भारत के विभिन्न शहरों में इस समय 370 कि0मी0 मेट्रो ट्रैक संचालित हैं। जबकि 500 कि0मी0 से अधिक निर्माणाधीन हैं। उन्होंने कहा कि मेट्रो रेल परियोजनाओं का कार्य तेज किया जाएगा।
एल0एम0आर0सी0 के प्रधान सलाहकार डाॅ0 ई0 श्रीधरन ने परियोजना के लिए जिम्मेदार टीम की सराहना करते हुए कहा कि पहली बार मेट्रो के प्रथम चरण का कार्य निर्धारित 03 वर्ष से कम समय में पूरा हुआ। इस अवसर पर प्रमुख सचिव आवास एवं शहरी नियोजन श्री मुकुल सिंघल एवं प्रबन्ध निदेशक श्री कुमार केशव ने भी अपने विचार व्यक्त किए।
कार्यक्रम में एल0एम0आर0सी0 द्वारा तैयार की गई काॅफी टेबल बुक का विमोचन भी किया गया। इस मौके पर उपस्थित विशिष्टजनों का स्वागत स्मृति चिन्ह देकर किया गया। बाद में मुख्यमंत्री जी एवं अन्य उपस्थित विशिष्टजनों ने मेट्रो रेल की यात्रा भी की।
उद्घाटन समारोह में उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य व डाॅ0 दिनेश शर्मा सहित मंत्रिमण्डल के अनेक सदस्य, जनप्रतिनिधि एवं अन्य गणमान्य नागरिक भी उपस्थित थे।

Comments (0)

प्रदेश में आॅनलाइन नीट-2017 की प्रक्रिया सम्पन्न

Posted on 05 September 2017 by admin

एम0बी0बी0एस0 पाठ्यक्रम में 4223 अभ्यर्थी प्रवेशित

शैक्षणिक सत्र 2017-18 हेतु पूरे देश में सर्वप्रथम
उ0प्र0 में आॅनलाइन काउन्सिलिंग की व्यवस्था लागू की गई

एम0बी0बी0एस0 की सभी सीटों पर आवंटन/प्रवेश की कार्यवाही पूरी किए जाने से भविष्य में योग्य
चिकित्सकों की कमी को दूर करने में सहायता मिलेगी

उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री आशुतोष टण्डन द्वारा अवगत कराया गया है कि नीट यू0जी0-2017 के आधार पर वर्तमान शैक्षणिक सत्र 2017-18 में राजकीय मेडिकल काॅलेजों में एम0बी0बी0एस0 पाठ्यक्रम की 1673 सीटें तथा निजी क्षेत्र के मेडिकल काॅलेजों में एम0बी0बी0एस0 पाठ्यक्रम की 2550 सीटों पर आवंटन/प्रवेश की प्रक्रिया आॅनलाइन सम्पन्न की गई।
प्रदेश में प्रथम बार आॅनलाइन काउन्सिलिंग प्रक्रिया को सफलतापूर्वक सम्पन्न कराए जाने की सराहना स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा भी की गई है। इस काउन्सिलिंग हेतु लगभग 42000 अभ्यर्थियों द्वारा आॅनलाइन पंजीकरण कराया गया। शैक्षणिक सत्र 2016-17 में लगभग 1100 से अधिक एम0बी0बी0एस0 पाठ्यक्रम की सीटें रिक्त रह गई थीं, जबकि इस वर्ष मेरिट आधारित काउन्सिलिंग से सभी सीटें भरते हुए निजी क्षेत्र के मेडिकल काॅलेजों की मनमानी रोकने में सरकार कामयाब रही।
शैक्षणिक सत्र 2017-18 में के0जी0एम0यू0 की बी0डी0एस0 पाठ्यक्रम की सभी 51 सीटों पर प्रवेश प्रक्रिया सम्पन्न कर ली गई है, जबकि निजी क्षेत्र के डेण्टल काॅलेजों में वर्तमान में 2200 सीटों के सापेक्ष लगभग 1100 सीटों पर प्रवेश प्रक्रिया पूर्ण कर ली गई है तथा शेष लगभग 1100 सीटों पर आवंटन/प्रवेश की प्रक्रिया दिनांक 6-8 सितम्बर, 2017 तक माॅप-अप राउण्ड के माध्यम से पूर्ण कर ली जाएगी। सत्र 2016-17 में निजी क्षेत्र की बी0डी0एस0 पाठ्यक्रम की लगभग 1500 से अधिक सीटें रिक्त रह गई थीं।
चिकित्सा शिक्षा एवं प्रशिक्षण महानिदेशक डाॅ0 के0के0 गुप्ता द्वारा यह अवगत कराया गया है कि शासन द्वारा शैक्षणिक सत्र 2017-18 हेतु पूरे देश में सर्वप्रथम उत्तर प्रदेश में आॅनलाइन काउन्सिलिंग की व्यवस्था लागू की गई, जिससे पारदर्शिता के साथ-साथ छात्रों/अभिभावकों के समय तथा धन की बचत हुई। काउन्सिलिंग प्रक्रिया को इस प्रकार से सम्पन्न कराया गया कि जिससे मेरिट के आधार पर पात्र अभ्यर्थियों को प्रवेश मिल सका। शासन के अथक प्रयासों से प्रदेश की एम0बी0बी0एस0 पाठ्यक्रम की सभी सीटों पर आवंटन/प्रवेश की कार्यवाही पूर्ण की जा चुकी है, जिससे भविष्य में योग्य चिकित्सकों की कमी को दूर करने में सहायता मिलेगी।

Comments (0)

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय, लखनऊ की बर्न यूनिट को एक माह के अन्दर चालू करने के निर्देश दिए

Posted on 05 September 2017 by admin

आजमगढ़, जालौन, अम्बेडकरनगर, बांदा तथा झांसी के राजकीय मेडिकल काॅलेजों के 500 शैय्याओं के चिकित्सालयों के सभी
कार्य मार्च, 2018 तक प्रत्येक दशा में पूरे किए जाएं

उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री आशुतोष टण्डन ने किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय, लखनऊ की बर्न यूनिट को एक माह के अन्दर पूर्ण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने आजमगढ़, जालौन, अम्बेडकरनगर, बांदा तथा झांसी के राजकीय मेडिकल काॅलेजों के 500 शैय्याओं के चिकित्सालयों के सभी कार्याें को मार्च, 2018 तक प्रत्येक दशा में पूर्ण करने के निर्देश भी दिए हैं।
श्री टण्डन यहां आहूत एक बैठक में उ0प्र0 राजकीय निर्माण निगम द्वारा चिकित्सा शिक्षा विभाग की निर्माणाधीन परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे।
बैठक में अधिकारियों द्वारा चिकित्सा शिक्षा मंत्री को आश्वस्त किया गया कि किंग जाॅर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के परिसर में प्लास्टिक सर्जरी विभाग की बर्न यूनिट का निर्माण कार्य सितम्बर, 2017 तक पूर्ण करते हुए एक माह के अन्दर इसे चालू कर दिया जाएगा। ज्ञातव्य है कि शताब्दी अस्पताल फेज-2 का निर्माण कार्य माह अगस्त, 2017 में पूर्ण कराया जा चुका है।
बैठक में प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 रजनीश दुबे एवं महानिदेशक चिकित्सा शिक्षा डाॅ0 के0के0 गुप्ता भी उपस्थित थे।

Comments (0)

जनपद में 839प्रकरणों मे से 33 प्रकरणों का निस्तारण मौके पर किया गया

Posted on 05 September 2017 by admin

आम जनता की शिकायतों का निस्तारण त्वरित एवं समयबद्ध तरीके से करना सुनिश्चित करें-

जिलाधिकारी श्री कौशल राज शर्मा ने कहा कि सभी अधिकारी आम जनता की शिकायतों का निस्तारण त्वरित एवं समयबद्ध तरीके से करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि आम जनता की समस्याओं का निस्तारण करना सभी सम्बन्धित अधिकारियों की जिम्मेदारी है और जन समस्याओं का निस्तारण सकारात्मक होना चाहिए। आम जनता की समस्याओं का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर गुणवत्तापूर्ण ढंग से किया जाये। शिकायतों के निस्तारण में यदि कोई समस्या है तो उसका कारण स्पष्ट करते हुए अवगत कराना सुनिश्चित किया जाये।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद की सभी पांच तहसीलों में सम्पूर्ण समाधान दिवस आयोजित किये गये तथा आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवसों में कुल 839 प्रकरण प्राप्त हुए जिसमे से 33 प्रकरणों का निस्तारण मौके पर ही कर दिया गया, शेष प्रकरणों को निस्तारण हेतु सम्बन्धित विभागों को इस निर्देश के साथ उपलब्ध करा दिया गये हैं कि उनका निस्तारण एक सप्ताह में सुनिश्चित करें।
जिलाधिकारी ने बताया कि आज के आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस में तहसील सदर में 68 मे से 03 प्रकरण का निस्तारण, तहसील मलिहाबाद में 151 मे से 07 प्रकरण का निस्तारण, तहसील बी0के0टी में 236 मे से 01 प्रकरण का निस्तारण हो सका तथा मोहनलालगंज तहसील दिवस में 247 मे से 19 का निस्तारण हो सका, तहसील सरोजनीनगर में 127 मे से 03 प्रकरण का निस्तारण किया गया। शेष प्रकरणों को समयबद्ध निस्तारण हेतु सम्बन्धित विभागों को उपलब्ध करा दिये गये, जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद की पांच सम्पूर्ण समाधान दिवसों में पुलिस 122, राजस्व 369, विकास 135, शिक्षा 10, समाज कल्याण 27, चिकित्सा 05, तथा अन्य 171 प्रार्थना पत्र प्राप्त हुए है।

Comments (0)

मुख्यमंत्री ने राज्य अध्यापक पुरस्कार की धनराशि 10 हजार रु0 से बढ़ाकर 25 हजार रु0 करने की घोषणा की

Posted on 05 September 2017 by admin

इस पुरस्कार से सम्मानित शिक्षकों को 65 वर्ष की
आयु तक सेवा विस्तार भी दिया जाएगा

राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित
शिक्षकों में सभी जनपदों को प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए

राज्य सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक
बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध: मुख्यमंत्री

press-41शिक्षकों के चयन हेतु आॅनलाइन पारदर्शी व्यवस्था
बनाई जाए, जिससे पात्र शिक्षकों को ही सम्मान मिले

पात्र शिक्षकों को पुरस्कार देने से शिक्षा जगत में सकारात्मक बदलाव आएगा

दागी परीक्षा केन्द्रों को समाप्त करते हुए नकलविहीन
परीक्षा के लिए अभी से काम शुरू कर दिया जाना चाहिए

उच्च शिक्षा विभाग की वेबसाइट तथा बेसिक शिक्षा विभाग की ‘ई-बुक’ लाँच

मुख्यमंत्री ने शिक्षक दिवस पर 40 शिक्षकों सम्मानित किया

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने राज्य अध्यापक पुरस्कार की धनराशि को 10 हजार रुपए से बढ़ाकर 25 हजार रुपए करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा है कि इस पुरस्कार से सम्मानित शिक्षकों को 65 वर्ष की आयु तक सेवा विस्तार भी दिया जाएगा। press-3
मुख्यमंत्री जी आज शिक्षक दिवस के अवसर पर यहां लोक भवन में आयोजित राज्य अध्यापक सम्मान समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने उच्च, माध्यमिक एवं बेसिक शिक्षा विभाग के 40 शिक्षकों को सम्मानित किया। उच्च शिक्षा विभाग के 02 शिक्षकों को वर्ष 2016 तथा 03 शिक्षकों को वर्ष 2017 के लिए सरस्वती पुरस्कार तथा 04 शिक्षकों को वर्ष 2016 के लिए तथा 06 शिक्षकों को वर्ष 2017 के लिए शिक्षक श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। माध्यमिक शिक्षा विभाग के 08 शिक्षकों तथा बेसिक शिक्षा विभाग के 17 शिक्षकों को वर्ष 2016 के लिए राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
ज्ञातव्य है कि उच्च शिक्षा विभाग के सरस्वती पुरस्कार से सम्मानित शिक्षकों को 03 लाख रुपए की धनराशि, प्रशस्ति पत्र तथा प्रतीक चिन्ह् एवं शिक्षक श्री पुरस्कार से सम्मानित शिक्षकों को 01 लाख 50 हजार रुपए की धनराशि, प्रशस्ति पत्र तथा प्रतीक चिन्ह् प्रदान किया जाता है। इसी प्रकार, माध्यमिक शिक्षा एवं बेसिक शिक्षा विभाग के राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित शिक्षकों को 10 हजार रुपए की धनराशि एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाता है।
योगी जी ने कहा कि भारत में गुरू को सम्मान देने की परम्परा रही है। प्राचीन काल से ही व्यास पूर्णिमा को गुरू पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता रहा है। वर्तमान में शिक्षकों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के लिए भारतीय दर्शन एवं परम्परा के प्रति लगाव रखने वाले महान शिक्षाविद डाॅ0 सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयन्ती को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। वर्तमान प्रदेश सरकार के सम्मुख मौजूद चुनौतियों में से शिक्षा भी एक चुनौती है। राज्य सरकार शिक्षा के क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए प्रतिबद्ध है।press-21
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य अध्यापक पुरस्कार से सम्मानित होने वाले शिक्षकों की संख्या काफी कम है। इस संख्या को बढ़ाया जाना चाहिए। पुरस्कार हेतु चयन इस प्रकार होना चाहिए कि प्रदेश के सभी जनपदों को प्रतिनिधित्व मिले। पुरस्कार हेतु शिक्षकों के चयन हेतु केन्द्र सरकार द्वारा पद्म पुरस्कारों के चयन के लिए बनाई गई आॅनलाइन पारदर्शी व्यवस्था की भांति ही व्यवस्था बनाई जाए, जिससे पात्र शिक्षकों को ही सम्मान मिले। पात्र व्यक्तियों को सम्मान देने से युवा पीढ़ी को प्रेरणा मिलती है। अपात्र व्यक्तियों का सम्मान समाज के साथ धोखा है। उन्हांेने कहा कि पात्र शिक्षकों को पुरस्कार देने से शिक्षा जगत में सकारात्मक बदलाव आएगा।
योगी जी ने कहा कि विगत 05 महीने में बेसिक शिक्षा विभाग में अच्छा कार्य हुआ है। स्कूल चलो अभियान बहुत सफल रहा है। इस अभियान के तहत 1.36 करोड़ बच्चों के नामांकन के लक्ष्य के सापेक्ष 1.53 करोड़ बच्चों का नामांकन हुआ है, जो कि बेसिक शिक्षा विभाग की बड़ी सफलता है। अपने वाराणसी भ्रमण के दौरान गरीबी के कारण स्कूल न जा रहे बच्चों केे मिलने का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा संचालित स्कूलों में नामांकित विद्यार्थियों को पुस्तकें, बैग, यूनिफाॅर्म, जूता-मोजा, स्वेटर, मध्यान्ह् भोजन तथा निःशुल्क शिक्षा के बावजूद बच्चों का स्कूल में नामांकन न होना किसी भी दशा में उचित नहीं है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा विभाग में भी अच्छे कार्य की शुरुआत हो गई है। दागी परीक्षा केन्द्रों को समाप्त करते हुए नकलविहीन परीक्षा के लिए अभी से काम शुरू कर दिया जाना चाहिए। शिक्षा पर उंगली उठती है, तो समाज पर उंगली उठती है। उन्होंने शिक्षकों का आह्वान किया कि कठिन परिश्रम करके शिक्षा जगत में हो रही गिरावट को समाप्त करें। स्वतः स्फूर्त भाव से शिक्षा जगत की समस्याओं को दूर करने का प्रयास करें। नकल रोककर छात्रों को प्रतिस्पद्र्धा के योग्य बनाएं तथा शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन के सरकार के प्रयास में पूरा सहयोग प्रदान करंे।
समारोह को सम्बोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री डाॅ0 दिनेश शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार शिक्षा के क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन के लिए काम कर रही है। इसके लिए एन0सी0ई0आर0टी0 के अनुरूप बेहतर और नया पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है। शिक्षा के आधारभूत ढांचे को तैयार करने तथा तकनीक आधारित शिक्षा पद्धति विकसित करने पर भी बल दिया जा रहा है। राज्य सरकार का लक्ष्य सुखी मन शिक्षक, तनावमुक्त विद्यार्थी और गुणवत्तापरक शिक्षा का है। शिक्षा पद्धति को तभी बेहतर माना जा सकता है, जब गरीब और वंचित तबके के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्रीमती अनुपमा जैसवाल ने कहा कि शिक्षा राष्ट्र की सकल पूंजी होती है। राष्ट्र और समाज की दिशा और भविष्य शिक्षा पर निर्भर करता है। असत्य और अंधकार दूर करने के लिए शिक्षा बेहद आवश्यक है। समारोह को बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री श्री संदीप सिंह ने भी सम्बोधित किया। समारोह में अतिथियों का स्वागत करते हुए कृषि उत्पादन आयुक्त श्री आर0पी0 सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए लगातार प्रयास कर रही है। इस वर्ष शिक्षा के बजट में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी हुई है, जिससे स्कूलों में सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकें।
कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री जी ने उच्च शिक्षा विभाग की वेबसाइट तथा बेसिक शिक्षा विभाग की ‘ई-बुक’ को भी लाँच किया। इस अवसर पर एक डाॅक्यूमेण्ट्री फिल्म ‘शिक्षा के बढ़ते कदम’ भी प्रस्तुत की गई।
इस अवसर पर कृषि मंत्री श्री सूर्य प्रताप शाही, श्रम मंत्री श्री स्वामी प्रसाद मौर्य, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री श्री लक्ष्मी नारायण चैधरी, स्टाम्प तथा न्यायालय शुल्क मंत्री श्री नन्द कुमार नन्दी, अपर मुख्य सचिव माध्यमिक एवं उच्च शिक्षा श्री संजय अग्रवाल सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी, शिक्षकगण एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।
राज्य अध्यापक सम्मान समारोह में एम0जे0पी0 रुहेलखण्ड विश्वविद्यालय बरेली की प्रो0 नीलिमा गुप्ता तथा विद्यावती मुकुन्दलाल महिला महाविद्यालय गाजियाबाद की डाॅ0 शशि मलिक को वर्ष 2016 तथा लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रो0 ओमकार, राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय सैदाबाद इलाहाबाद के डाॅ0 अशोक कुमार वर्मा, उदय प्रताप महाविद्यालय वाराणसी के डाॅ0 गायड सिंह राठौर को वर्ष 2017 के ‘सरस्वती’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।
पं0 दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय गोरखपुर के प्रो0 एच0एस0 शुक्ल, लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रो0 अरविन्द कुमार, उ0प्र0 रा0ट0 मुक्त वि0वि0 फाफामऊ इलाहाबाद के डाॅ0 ज्ञान प्रकाश यादव, डी0ए0वी0 पी0जी0 काॅलेज आजमगढ़ की डाॅ0 गीता सिंह को वर्ष 2016 का ‘शिक्षक श्री’ पुरस्कार तथा लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रो0 राजीव मनोहर, डाॅ0 मोहम्मद सेराजुद्दीन, पं0 दीनदयाल उपाध्याय विश्वविद्यालय गोरखपुर के प्रो0 सौमित्र कुमार सेन गुप्ता, हे0न0ब0 राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय नैनी इलाहाबाद के डाॅ0 भाष्कर शुक्ल, कुलभाष्कर आश्रम पी0जी0 काॅलेज इलाहाबाद के डाॅ0 श्री प्रकाश तथा श्री गांधी महाविद्यालय सिधौली सीतापुर के डाॅ0 संजीव कुमार शुक्ल को वर्ष 2017 का ‘शिक्षक श्री’ पुरस्कार प्रदान किया गया।
माध्यमिक शिक्षा विभाग के श्री हनुमत इण्टर काॅलेज धम्मौर सुल्तानपुर के प्रधानाचार्य डाॅ0 वेद प्रकाश आर्य, राजकरन वैदिक पाठशाला इण्टर काॅलेज फैजाबाद के प्रधानाचार्य डाॅ0 नीलकान्त वर्मा, एम0डी0 शुक्ला इण्टर काॅलेज लखनऊ के प्रधानाचार्य श्री हरि नारायण उपाध्याय, राजकीय इण्टर काॅलेज अकबरपुर अम्बेडकरनगर के प्रवक्ता डाॅ0 नन्द लाल यादव, मदन मोहन कनोडिया बालिका इण्टर काॅलेज फर्रूखाबाद की सहायक अध्यापिका श्रीमती इन्द्रा राठौर, सेठ वृन्दावन इण्टर काॅलेज कोंच जालौन के प्रधानाचार्य श्री ब्रज बल्लभ सिंह संेगर, अन्नपूर्णा इण्टर काॅलेज गोस्वलिया कुशीनगर के प्रधानाचार्य डाॅ0 शक्ति प्रकाश पाठक तथा जनता इण्टर काॅलेज सूजरा बागपत के प्रधानाचार्य श्री कृष्ण पाल सिंह तंवर को वर्ष 2016 के लिए राज्य अध्यापक पुरस्कार प्रदान किया गया।
इसी प्रकार, बेसिक शिक्षा विभाग की पू0मा0वि0 बहलना मुजफ्फरनगर की सहायक अध्यापिका श्रीमती गीता रानी, पू0मा0वि0 उत्तरगावां जौनपुर के सहायक अध्यापक श्री लाल बहादुर वर्मा, प्रा0वि0 इस्माइलपुर सीतापुर की प्रधान अध्यापिका सुश्री इम्बिसा तुल हसन रिजवी, पू0मा0वि0 भिटिया उस्का बाजार सिद्धार्थनगर के प्रधान अध्यापक श्री अरूणेन्द्र प्रसाद त्रिपाठी, उ0प्रा0वि0 पांचली बुजुर्ग मेरठ के प्रधान अध्यापक श्री अय्यूब खान, पू0मा0वि0 पूरेमौहारी रायबरेली के सहायक अध्यापक श्री शिव शरण सिंह, प्रा0वि0 नं0-2 शाहजहांपुर मेरठ के प्रधान अध्यापक श्री शाहिद हसन, प्रा0वि0 सम्हई भदोही के प्रधान अध्यापक श्री मजीद उल्ला, पू0मा0वि0 उत्तरधोंना चिनहट लखनऊ की सहायक अध्यापिका कु0 पूर्णिमा श्रीवास्तव, पू0मा0वि0 साढ़ौली हरिया सहारनपुर की सहायक अध्यापिका श्रीमती विशाखा चैहान को वर्ष 2016 के लिए राज्य अध्यापक पुरस्कार दिया गया।
इसके अलावा, पू0मा0वि0 कौड़ीराम गोरखपुर के सहायक अध्यापक श्री अवधेश, छत्रपति शिवाजी स्मारक पू0मा0वि0 मुड़ियाखुर्द जीजाबाई नगर चिल्हिया सिद्धार्थनगर के प्रधान अध्यापक श्री राम चन्द्र चैधरी, पू0मा0वि0 पड़ैचा शाहजहांपुर के प्रधान अध्यापक श्री सुभाष चन्द्र मिश्र, उ0प्रा0वि0 सैदपुर कुरमियान बरेली के प्रधान अध्यापक श्री सन्तोष कुमार, प्रा0वि0 पिलख-2 कानपुर देहात के प्रधान अध्यापक श्री विक्रम सिंह, प्रा0वि0 काजीवाला बिजनौर की प्रधान अध्यापिका श्रीमती मिथलेश कुमारी तथा प्रा0वि0 कुन्हैड़ा गाजियाबाद के प्रधान अध्यापक श्री ईश्वर सिंह को भी वर्ष 2016 का राज्य अध्यापक पुरस्कार प्रदान किया गया।

Comments (0)

प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने तिलक लगाकर दी विधान परिषद प्रत्याशियों को विजयी होने की शुभकामना, जूलूस लेकर भाजपा कार्यालय से नामांकन कराने पहुंचे

Posted on 05 September 2017 by admin

मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी, उप मुख्यमंत्री श्री केशव मौर्या जी, उप मुख्यमंत्री श्री दिनेश शर्मा जी, परिवहन राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार एवं ऊर्जा राज्यमंत्री श्री स्वतंत्रदेव जी और विज्ञान एवं प्रोधोगिकी, इलेक्ट्रानिक्स, आईटी व व वक्फ राज्यमंत्री श्री मोहसिन रजा जी ने प्रदेश अध्यक्ष श्री महेंद्रनाथ पाण्डेय जी की मौजूदगी में आज विधान परिषद के लिए अपना नामांकन किया। विधान परिष्द के लिए भारतीय जनता पार्टी के ये सभी उम्मीदवार मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय में एकत्र हुए। यहां प्रदेश अध्यक्ष श्री महेंद्रनाथ पाण्डेय जी ने तिलक लगाकर सभी प्रत्याशियों को शुभकामनाएं दी, जिसके पश्चात जुलूस लेकर भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों का काफिला नामांकन के लिए पहुंचा।
प्रदेश प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाठी ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी के विधानपरिषद की पांच सीटों के लिए श्री योगी आदित्यनाथ जी, श्री केशव मौर्या जी, श्री दिनेश शर्मा जी, श्री स्वतंत्रदेव जी और श्री मोहसिन रजा जी को पार्टी का प्रत्याशी बनाया है। पार्टी प्रत्याशियों के नामांकन प्रक्रिया प्रदेश उपाध्यक्ष श्री जेपीएस राठौर और अशोक कटारिया जी की देखरेख में पूरी की गई। सुबह दस बजे के करीब मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्रियों समेत पार्टी के सभी प्रत्याशी भारतीय जनता पार्टी कार्यालय पहुंचे। पूजा अर्चना के बाद प्रदेश अध्यक्ष श्री महेंद्र पाण्डेय जी ने सभी प्रत्याशियों को विजयी होने की शुभकामानाएं दीं। जिसके बाद प्रदेश अध्यक्ष समेत सभी प्रत्याशी जुलूस लेकर विधानसभा के नामांकन कक्ष में पहुंचे और नामांकन प्रक्रिया पूरी की।
इस मौके पर प्रदेश महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल, कैबिनेट सुरेश खन्ना मंत्री,सतीश महाना, राजेश अग्रवाल गोपाल टण्डन, धर्मपाल सिंह, मुकुट बिहारी वर्मा, रीता बहुगुणा जोशी, दारा सिह चैहान, एसपी सिंह बघेल, रमापति शास्त्री, जय प्रताप सिंह, ओम प्रकाश राजभर, ब्रजेश पाठक, राजेन्द्र प्रताप सिंह, नन्दगोपाल गुप्ता‘नन्दी‘, सत्यदेव पचैरी, स्वतंत्र प्रभार राज्यमंत्री अनुपमा जायसवाल, उपेन्द्र तिवारी, डाॅ0 महेन्द्र सिंह, भूपेन्द्र सिंह चैधरी, धर्म सिंह सैनी, स्वाति सिंह, राज्यमंत्री गुलाबो देवी, जय प्रकाश निषाद, अर्चना पाण्डेय, गिरीश यादव, प्रकाश शर्मा, आशुतोष टण्डन, अश्वनी त्यागी, श्रीमती कान्ताकर्दम, जसवन्त सैनी, रामनरेश रावत, सुरेश राणा, बाबूराम निषाद, राकेश त्रिवेदी, प्रदेश महामंत्री, विजय बहादुर पाठक, विद्यासागर सोनकर, पंकज सिंह, अशोक कटारिया, सलिल विश्नोई, प्रदेश मंत्री संतोष सिंह, अनूप गुप्ता, श्रीमती गीता शाक्य, कौशलेन्द्र सिंह, गोबिन्द नारायण शुक्ला, श्रीमती रंजना उपाध्याय, अमर पाल मौर्य, कामेश्वर सिंह, महेशचन्द्र श्रीवास्तव, सुरेश अवस्थी, देवेन्द्र सिंह, धर्मवीर प्रजापति, सुभाष यदुवंश, श्रीमती मंजू दिलेर, शंकर गिरि, प्रदेश प्रदेश सह कोषाअध्यक्ष नवीन जैन, प्रदेश मीडिया प्रभारी हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव, प्रदेश प्रवक्ता डा0 मनोज मिश्रा, डाॅ0 चन्द्रमोहन, मनीष शुक्ला, शलभ मणि त्रिपाठी, राकेश त्रिपाठी, प्रदेश सम्पर्क प्रमुख मनीष दीक्षित, प्रदेश सहमीडिया प्रभारी आलोक अवस्थी, समीर सिंह, हिमांशु दुबे, प्रदेश सह सम्पर्क प्रमुख तरूणकान्त त्रिपाठी, नवीन श्रीवास्तव, प्रदेश मुख्यालय प्रभारी भारत दीक्षित, प्रदेश सह मुख्यालय प्रभारी चैधरी लक्ष्मण सिंह, अतुल अवस्थी और भारतीय जनता पार्टी के हजारों कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे।

Comments (0)

शिक्षक दिवस पर राज्यपाल की बधाई

Posted on 05 September 2017 by admin

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक ने शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षकों को हार्दिक बधाई दी है।
राज्यपाल ने शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर जारी अपने बधाई संदेश में कहा है कि महान शिक्षाविद् एवं पूर्व राष्ट्रपति डाॅ0 राधाकृष्णन का जन्मदिन शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश के विकास में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। शिक्षक बच्चों को शिक्षा एवं संस्कार प्रदान कर उनके व्यक्तित्व विकास में सहायक होते हैं। उन्होंने शिक्षकों का आह्वान करते हुए कहा कि शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाने तथा भावी पीढ़ी को अच्छा नागरिक बनाने में अपना सहयोग दें।
श्री नाईक ने आशा व्यक्त की सभी शिक्षक पूर्व राष्ट्रपति एवं महान शिक्षाविद्, डा0 राधाकृष्णन के विचारों के अनुरूप देश के भावी कर्णधारों को सुशिक्षित करने में सदैव अग्रणी भूमिका का निर्वहन करते रहेंगे।

Comments (0)

राज्यपाल की पहल पर मुख्यमंत्री ने लिया निर्णय

Posted on 05 September 2017 by admin

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के उद्घोष वाक्य के 101 वर्ष पूर्ण होने पर 29 दिसम्बर को लखनऊ में आयोजित होगा भव्य कार्यक्रम
—–
सभी राज्य विश्वविद्यालयों में सम्भाषण प्रतियोतिगा आयोजित होंगी

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक की पहल पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के स्वतंत्रता की अलख जगाने वाले अमर उद्घोष वाक्य ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा’ के 101 वर्ष पूर्ण होने पर भव्य समारोह आयोजित करने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस आशय का पत्र राज्यपाल को प्रेषित किया है।
राज्यपाल को प्रेषित पत्र में मुख्यमंत्री ने कहा है कि लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के अजर-अमर उद्घोष वाक्य ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा’ के 101 वर्ष पूर्ण होने पर प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक पर सम्भाषण प्रतियोगिता आयोजित कराई जायेंगी तथा 29 दिसम्बर 2017 को एक भव्य ‘स्मृति समारोह’ का आयोजन लखनऊ में किया जाएगा।
राज्यपाल ने 17 मई 2017 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखे अपने पत्र के साथ पुणे महानगर पालिका की महापौर तथा लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक के प्रपौत्र की पत्नी श्रीमती मुक्ता तिलक के पत्र को प्रेषित करते हुए कहा था कि बाल गंगाधर तिलक ने 29 दिसम्बर 1916 को लखनऊ में आयोजित कांग्रेस के अधिवेशन में प्रभावी भाषण देते हुए उद्घोष किया था कि ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा’। इसी घोषणा ने जाति-धर्म की भावना के परे सभी देशवासियों को आजादी के लिए एकजुट होकर लड़ने की प्रेरणा प्रदान की। लखनऊ शहर इस घटना का साक्षी था। इस उद्घोष वाक्य के शताब्दी वर्ष पूर्ण होने पर लखनऊ में एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया जाना औचित्यपूर्ण होगा।
इसके साथ ही राज्यपाल ने 1 अगस्त 2017 को महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं प्रखर राष्ट्रवादी विचारक बाल गंगाधर तिलक की पुण्य तिथि के अवसर पर लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में सम्मिलित होने गए थे। वहाँ उन्होंने बाल गंगाधर तिलक को अपनी एवं प्रदेश की जनता की ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करने के पश्चात् अपने सम्बोधन में कहा था कि वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बाल गंगाधर तिलक के लखनऊ में दिए गए उद्घोष ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा’ के 101 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर भव्य समारोह आयोजित करने पर चर्चा करेंगे। राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को 18 अगस्त 2017 को इस संबंध में विचार कर कार्यक्रम आयोजित करने हेतु पत्र लिखा था। राज्यपाल इस संबंध में पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव को भी पत्र लिखा था।
उल्लेखनीय है कि बाल गंगाधर तिलक ने 29 दिसम्बर 1916 को लखनऊ में आयोजित कांग्रेस के अधिवेशन में प्रभावी भाषण देते हुए उद्घोष किया था कि ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा’। बाल गंगाधर तिलक ने अपने समाचार पत्र ‘केसरी’ और ‘मराठा’ के अग्रलेख के माध्यम से भी लोगों में आजादी के लिए जागरूक करने का महत्वपूर्ण कार्य किया था। अंग्रेजों द्वारा उन्हें ‘भारतीय अशांति के जनक’ कहते हुए म्यांमार (बर्मा) की मंडाला जेल में निरूद्ध कर दिया गया था जहां उन्होंने ‘गीता रहस्य’ जैसी अभूतपूर्व पुस्तक की रचना की थी।

Comments (0)

जनपद फर्रूखाबाद के जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी व जिला महिला चिकित्सालय की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को स्थानांतरित करने के निर्देश

Posted on 05 September 2017 by admin

जनपद फर्रूखाबाद में नवजात शिशुओं की मृत्यु पर चिंता व्यक्त करते हुए जिम्मेदार कार्मिकों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश

शासन स्तर से उच्चस्तरीय टीम भेजकर घटना की तथ्यात्मक एवं तकनीकी छानबीन करायी जाएगी

उत्तर प्रदेश शासन के प्रवक्ता ने जनपद फर्रूखाबाद में नवजात शिशुओं की मृत्यु पर चिंता व्यक्त करते हुए जिम्मेदार कार्मिकों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि शासन स्तर से उच्चस्तरीय टीम भेजकर घटना की तथ्यात्मक एवं तकनीकी छानबीन करायी जाएगी ताकि बच्चों की मृत्यु की वस्तुस्थिति का पता चल सके। प्रवक्ता ने कहा कि घटना को गम्भीरता से लेते हुए राज्य सरकार ने जनपद फर्रूखाबाद के जिलाधिकारी तथा मुख्य चिकित्साधिकारी व जिला महिला चिकित्सालय की मुख्य चिकित्सा अधीक्षक को स्थानांतरित करने के निर्देश दिए हैं।

यह जानकारी देते हुए राज्य सरकार के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि 20 जुलाई से 21 अगस्त, 2017 के बीच जिला महिला चिकित्सालय फर्रूखाबाद में प्रसव हेतु 461 महिलाएं एडमिट की गईं, जिनके द्वारा 468 बच्चों को जन्म दिया गया। इनमें 19 बच्चे स्टिलबाॅर्न (पैदा होते ही मृत्यु हो जाना) थे। अवशेष 449 बच्चों में से जन्म के समय 66 क्रिटिकल बच्चों को न्यू बाॅर्न केयर यूनिट में भर्ती कराया गया, जिनमें से 60 बच्चों की रिकवरी हुई, शेष 06 बच्चों को बचाया नहीं जा सका।

इसके अलावा, 145 बच्चे विभिन्न चिकित्सकों एवं अस्पतालों से जिला महिला अस्पताल, फर्रूखाबाद के लिए रेफर किए गए, जिनमें से 121 बच्चे इलाज से स्वस्थ हो गए। इस प्रकार 20 जुलाई से 21 अगस्त, 2017 के बीच 49 नवजात शिशुओं की मृत्यु हुई, जिसमें 19 स्टिलबाॅर्न बच्चे भी हैं।

मीडिया में खबर आने के बाद जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी की अध्यक्षता में समिति बनाकर जांच करायी। समिति के निष्कर्षों से संतुष्ट न होने के बाद जिलाधिकारी द्वारा अपर जिलाधिकारी से मजिस्ट्रेटी जांच करायी गयी। उक्त के आधार पर जिलाधिकारी द्वारा प्राथिमिकी दर्ज करायी गयी है। डायरेक्टर जनरल मेडिकल हेल्थ ने बताया कि पैरीनेटल एस्फिक्सिया के कई कारण हो सकते हैं। मुख्यतः प्लेसेंटल ब्लड फ्लो की रुकावट भी हो सकती है। सही कारण तकनीकी जांच के माध्यम से ही स्पष्ट हो सकता है। प्रवक्ता ने कहा कि शासन स्तर से टीम भेजकर जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं ताकि बच्चों की मृत्यु के वास्तविक कारणों का पता लगाया जा सके।

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

September 2017
M T W T F S S
« Aug    
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
252627282930  
-->









 Type in