*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | April 12th, 2017

14 अप्रैल से ग्रामीण इलाकों को 18 घण्टे, तहसील व बुन्देलखण्ड क्षेत्र को 20 घण्टे एवं सभी जनपद मुख्यालयों को 24 घण्टे की विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाए

Posted on 12 April 2017 by admin

  • विद्युत कर्मी गांव का भ्रमण कर बिजली से जुड़ी समस्याओं का मौके पर समाधान करें: मुख्यमंत्री
  • ग्रामीण इलाकों में वृहद अभियान चलाकर सितम्बर, 2018 तक अनमीटर्ड विद्युत उपभोक्ताओं के लिए मीटरिंग व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी
  • अक्टूबर, 2018 से 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति किए जाने की कार्य योजना मंत्रिपरिषद द्वारा अनुमोदित

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में 14 अप्रैल, 2017 से रात्रि कालीन विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था सहित ग्रामीण इलाकों को 18 घण्टे, तहसील व बुन्देलखण्ड क्षेत्रों को 20 घण्टे एवं सभी जनपद मुख्यालयों को 24 घण्टे की विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने का निर्णय लिया गया है।

मंत्रिपरिषद द्वारा अक्टूबर, 2018 से 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति किए जाने की कार्य योजना का भी अनुमोदन कर दिया गया है। ज्ञातव्य है कि बिजली जैसी जनोन्मुखी आधारभूत आवश्यकता की 24 घण्टे निरंतर आपूर्ति को लोक कल्याण संकल्प पत्र में सम्मिलित किया गया है, जिसके क्रियान्वयन के लिए मंत्रिपरिषद द्वारा यह फैसला लिया गया।

उल्लेखनीय है कि 14 अप्रैल, 2017 से प्रभावी होने वाले विद्युत आपूर्ति शेड्यूल के लिए वर्तमान अप्रैल-मई, 2017 विद्युत मांग के आंकड़ों से परिलक्षित स्थिति के आधार पर तथा ‘पावर फाॅर आॅल’ के समक्ष मांग के आंकड़ों के आधार पर डीबीएफओओ 3800 मेगावाॅट की प्राप्त बिड्स अथवा अन्य विद्यमान व्यवस्थाओं से उक्त निर्धारित विद्युत आपूर्ति शेड्यूल का अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

अक्टूबर, 2018 से 24 घण्टे विद्युत आपूर्ति किए जाने की कार्य योजना के सम्बन्ध में मंत्रिपरिषद द्वारा यह निर्णय लिया गया कि मांग एवं उपलब्धता का सही प्रक्षेपण कर एवं ऊर्जा की उपलब्धता सुनिश्चित कर माह अक्टूबर, 2018 से पूरे प्रदेश में 24ग7 विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। इसके लिए मांग एवं उपलब्धता के अनुरूप पारेषण एवं वितरण तंत्र विकसित करने की माहवार कार्य योजना बनाकर उसका अनुश्रवण करते हुए क्रियान्वयन सुनिश्चित कराया जाएगा।

अक्टूबर, 2018 से 24ग7 घण्टे बिजली उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 2017 की ग्रीष्मकाल अवधि में मांग के आधार पर, वर्ष 2019 की ग्रीष्मकाल अवधि की मांग का आंकलन उत्तर प्रदेश पाॅवर कारपोरेशन द्वारा किया जाएगा। इस आंकलन के आधार पर यदि अतिरिक्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित होनी है तो उसके लिए आवश्यक कार्यवाही केस-1 अथवा अन्य विकल्पों से, दीर्घकालीन अवधि हेतु अथवा अल्पकालीन अवधि हेतु, विद्युत क्रय करने की प्रक्रिया समय से सम्पादित की जाएगी।

ग्रामीण इलाकों में मीटरिंग के लिए वृहद अभियान चलाकर सितम्बर, 2018 तक अनमीटर्ड विद्युत उपभोक्ताओं के लिए मीटरिंग व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना (डी0डी0यू0जी0जे0वाई0) के अन्तर्गत स्वीकृत फीडर सेपरेशन के कार्य को प्राथमिकता पर प्रभावी अनुश्रवण करके सम्पादित एवं सुनिश्चित किया जाएगा। यह कार्य सितम्बर, 2018 तक पूरा किया जाना है।

भारत सरकार की ‘पावर फाॅर आॅल’ योजना के लिए उत्तर प्रदेश राज्य एवं भारत सरकार के मध्य हस्ताक्षरित किए जाने वाले एम0ओ0यू0 को 14 अप्रैल, 2017 को हस्ताक्षरित किया जाएगा। समझौता ज्ञापन (एम0ओ0यू0) का प्रपत्र मंत्रिपरिषद के समक्ष प्रस्तुत करते हुए हर घर को बिजली पहुंचाने की कार्य योजना भी प्रस्तुत की गई।

बाद में प्रेस से वार्ता करते हुए ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि वर्तमान राज्य सरकार गांव, किसान के साथ-साथ नौजवानों को हर सम्भव सुविधा उपलब्ध कराने के लिए कृत संकल्पित है। इसीलिए मुख्यमंत्री ने निर्देशित किया है कि ग्रामीण क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति के लिए बनाए गए रोस्टर का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने विद्युत कार्मिकों से अपेक्षा की है कि वे अब गांव का भ्रमण कर विद्युत से सम्बन्धित समस्याओं को जानें और उनका समाधान मौके पर ही करें। मुख्यमंत्री ने ग्रामीण क्षेत्रों के रोस्टर में विद्युत आपूर्ति पर छात्रों की परीक्षा को दृष्टिगत रखते हुए और अधिक सतर्क रहने का निर्देश दिया है।

Comments (0)

राज्य सरकार ने किसानों सहित सभी ग्रामीण एवं शहरी निम्न एवं मध्यम विद्युत उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी

Posted on 12 April 2017 by admin

घरेलू, वाणिज्यिक, निजी संस्थान, निजी नलकूप एवं लघु उद्योगों के लिए विलम्बित भुगतान अधिभार ऐमनेस्टी योजना को मंजूरी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में किसानों सहित सभी ग्रामीण एवं शहरी निम्न एवं मध्यम विद्युत उपभोक्ताओं को बड़ी राहत देते हुए घरेलू, वाणिज्यिक, निजी संस्थान, निजी नलकूप एवं लघु उद्योगों के लिए विलम्बित भुगतान अधिभार ऐमनेस्टी योजना को मंजूरी प्रदान की गई है।

इसके तहत ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के घरेलू, वाणिज्यिक एवं निजी संस्थानों को विद्युत के मूल बकाए के एकमुश्त भुगतान पर 100 प्रतिशत अधिभार माफ करने का फैसला लिया गया है। ग्रामीण क्षेत्र के निजी नलकूप, जो सिंचाई हेतु विद्युत का उपभोग करते हैं, उन्हें सरचार्ज में 100 प्रतिशत अधिभार माफ करने के साथ ही, भुगतान हेतु 04 किश्तों की सुविधा दी गई है, जिसमें प्रथम किश्त बकाए का 25 प्रतिशत या रुपए 10,000 जो भी अधिक हो। द्वितीय किश्त बचे बकाए का एक तिहाई, तृतीय किश्त बचे बकाए का एक तिहाई और चतुर्थ किश्त बचे बकाए का एक तिहाई। दूसरी से चैथी किश्तों का भुगतान दो माह के अंतराल में किया जा सकेगा।

लघु उद्योगों को मूल बकाए के एकमुश्त भुगतान पर 50 प्रतिशत अधिभार में माफी की योजना को मंजूरी प्रदान की गई है। अधिभार माफी योजना का लाभ प्राप्त करने वाले विभिन्न श्रेणियों के उपभोक्ताओं हेतु समयावधि भी निर्धारित की गई है। शहरी, शहरी वाणिज्यिक, शहरी निजी संस्थान तथा शहरी निजी नलकूप के लिए योजना प्रारम्भ की तिथि से 45 दिन, ग्रामीण, ग्रामीण वाणिज्यिक, ग्रामीण निजी संस्थान तथा ग्रामीण निजी नलकूप को योजना प्रारम्भ की तिथि से 60 दिन एवं लघु उद्योग के लिए 30 दिन का समय निर्धारित किया गया है।

ज्ञातव्य है कि प्रदेश की विद्युत वितरण कम्पनियों के खाते में दिसम्बर, 2016 तक छोटे और मझोले, घरेलू, वाणिज्यिक, निजी नलकूप, निजी संस्थान (75 किलोवाॅट से कम), लघु एवं मध्यम उद्योगों, विद्युत उपभोक्ताओं से 15,100.67 करोड़ रुपए धनराशि वसूली जानी थी। मंत्रिपरिषद के इस फैसले से विद्युत उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिली है।

Comments (0)

बुन्देलखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में पेय जल समस्या के समाधान की कार्य योजना को मंजूरी

Posted on 12 April 2017 by admin

मुख्यमंत्री ने बुन्देलखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में पेय जल की व्यवस्था के लिए ग्राम्य विकास राज्य मंत्री को कैम्प करके योजनाओं को त्वरित गति से पूरा कराने के निर्देश दिए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आज यहां लोक भवन में सम्पन्न मंत्रिपरिषद की बैठक में बुन्देलखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में पेय जल समस्या के समाधान की कार्य योजना को क्रियान्वित करने का निर्णय लिया गया है। इसके तहत बुन्देलखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रीष्म ऋतु में पेय जल समस्या के समाधान हेतु पी0एल0ए0 में रखी गई 47.36 करोड़ रुपए की धनराशि के सापेक्ष 47.03 करोड़ रुपए की कार्य योजना पर अमल किया जाएगा।

इसमें 31.80 करोड़ रुपए की लागत से बुन्देलखण्ड क्षेत्र के 07 जनपदों में पहले से स्थापित 3,815 हैण्डपम्पों की रीबोरिंग तथा 8.75 करोड़ रुपए की लागत से 1,174 नये हैण्डपम्पों का अधिष्ठापन कराया जाएगा। इस प्रकार इन दोनों कार्यों हेतु कुल 40.55 करोड़ रुपए धनराशि की कार्य योजना प्रस्तुत की गई, जिसे मंत्रिपरिषद ने मंजूरी प्रदान कर दी है। इसके अतिरिक्त बुन्देलखण्ड क्षेत्र के 07 जनपदों में उत्तर प्रदेश जल निगम द्वारा संचालित पाइप पेय जल योजनाओं को पूरी क्षमता पर क्रियाशील करने हेतु आवश्यकतानुसार नये नलकूप के निर्माण, खराब नलकूपों की रीबोरिंग, पम्प एवं पाइप लाइन इत्यादि कार्यों की मरम्मत हेतु 6.48 करोड़ रुपए की कार्य योजना पर भी सहमति प्रदान कर दी गई है।

बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज के अंतर्गत द्वितीय चरण में वर्ष 2013-14 में प्रस्तावित पाइप पेय जल योजनाओं की अवशेष परियोजनाओं को शीघ्र पूरा कराने का निर्णय भी लिया गया है। इनमें 20 योजनाएं जून, 2017 तक, 02 योजनाएं सितम्बर, 2017 तथा 01 योजना मार्च, 2018 तक पूरा कराने के लिए ग्राम्य विकास विभाग को निर्देशित किया गया है। इसी प्रकार राज्य ग्रामीण पेय जल योजना के तहत जनपद झांसी की 5.2202 करोड़ रुपए की लागत की स्वीकृत 02 ग्रामीण पाइप पेय जल योजनाओं की निविदा प्रक्रिया पूरा कर शीघ्र कार्य शुरू करने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए 2.0881 करोड़ रुपए भी अवमुक्त कर दिए गए हैं। वर्तमान में राष्ट्रीय ग्रामीण पेय जल कार्यक्रम के तहत बुन्देलखण्ड क्षेत्र के सभी 07 जनपदों में निर्माणाधीन 28 ग्रामीण पाइप पेय जल योजनाओं में से 17 परियोजनाओं को इसी वित्तीय वर्ष में पूर्ण कराकर पेय जल आपूर्ति प्रारम्भ करने के लिए कहा गया है।

बाद में प्रेस वार्ता में मंत्रिपरिषद के फैसलों की जानकारी देते हुए मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह एवं श्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री ने बुन्देलखण्ड के ग्रामीण क्षेत्रों में पेय जल की व्यवस्था के लिए ग्राम्य विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 महेन्द्र सिंह को आवश्यकतानुसार क्षेत्र में कैम्प करके योजनाओं को त्वरित गति से पूरा कराने के निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार नगरीय क्षेत्रों में पेय जल की समस्या के समाधान के लिए नगर विकास मंत्री श्री सुरेश खन्ना के स्तर से त्वरित निर्णय लेने की अपेक्षा की गई है।

Comments (0)

ग्रामीण क्षेत्रों में 48 घण्टे में क्षतिग्रस्त विद्युत ट्रांसफाॅर्मर को बदलने की नई व्यवस्था का प्रस्ताव मंजूर

Posted on 12 April 2017 by admin

किसानों के निजी नलकूप के क्षतिग्रस्त ट्रांसफाॅर्मर को विभागीय वाहन से 48 घण्टे में बदला जाएगा

मंत्रिपरिषद ने ग्रामीण क्षेत्रों में 48 घण्टे में क्षतिग्रस्त विद्युत ट्रांसफाॅर्मर को बदलने की नई व्यवस्था को मंजूरी प्रदान कर दी है। नवीन व्यवस्था 01 मई, 2017 से लागू की जाएगी। इस निर्णय के तहत, किसानों का विद्युत देयक बकाया नहीं होने की दशा में, उनके निजी नलकूप के क्षतिग्रस्त ट्रांसफाॅर्मर को विभागीय वाहन से 48 घण्टे में बदलने की व्यवस्था की जाएगी। जबकि वर्तमान व्यवस्था के अनुसार किसान को निजी नलकूप का क्षतिग्रस्त ट्रांसफाॅर्मर स्वयं उतार कर वर्कशाॅप लाना पड़ता है।

नई व्यवस्था में विभागीय वाहन निविदा द्वारा वर्कशाॅप डिवीजन में ही अनुबन्धित किए जाएंगे तथा उनके नियंत्रण में रहेंगे। सभी वाहनों में जी0पी0एस0 माॅनीटरिंग सिस्टम उपलब्ध रहेगा। ट्रांसफाॅर्मर के क्षतिग्रस्त होने पर विभिन्न स्रोतों से सूचना प्राप्त होने पर वर्कशाॅप द्वारा जिस क्षमता का ट्रांसफाॅर्मर क्षतिग्रस्त हुआ है उसी क्षमता का ट्रांसफाॅर्मर वाहन द्वारा, ट्रांसफाॅर्मर क्षतिग्रस्त होने के स्थान पर भेजा जाएगा। सम्बन्धित लाइनमैन/संविदा कर्मचारी उस स्थान में सम्बन्धित फीडर का शट-डाउन लेकर उपलब्ध रहेगा। वाहन के साथ मौजूद टीम द्वारा स्थानीय स्तर पर सम्बन्धित लाइनमैन/संविदा कर्मचारी के समन्वय से पुराना क्षतिग्रस्त ट्रांसफाॅर्मर उतार लिया जाएगा तथा मरम्मतशुदा ट्रांसफाॅर्मर स्थापित कर दिया जाएगा।

Comments (0)

विकास प्राधिकरणों, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण एवं उ0प्र0 आवास एवं विकास परिषद का महालेखाकर द्वारा किया जाएगा आॅडिट

Posted on 12 April 2017 by admin

विकास प्राधिकरणों, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण एवं उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद  की महालेखाकर (आर्थिक एवं राजस्व सेक्टर आॅडिट) से सम्परीक्षा कराने के सम्बन्ध में शासन द्वारा अब तक की गई कार्यवाही से मंत्रिपरिषद को अवगत कराया गया है। कार्यवाही के तहत गाजियाबाद विकास प्राधिकरण सहित आवास एवं शहरी नियोजन विभाग के अधीन गठित प्राधिकरणों, विशेष क्षेत्र विकास प्राधिकरण एवं उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद की आॅडिट कराने के सम्बन्ध में राज्य सरकार द्वारा स्वीकृति प्रदान की जा चुकी है।

Comments (0)

बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत प्रदेश में 487 रु0 प्रति कुन्तल की

Posted on 12 April 2017 by admin

दर से किसानों का एक लाख मीट्रिक टन आलू खरीदने की व्यवस्था

प्रदेश के आलू उत्पादक किसानों की विभिन्न समस्याओं के समाधान हेतु पूर्व में गठित मंत्रियों की समिति की रिपोर्ट पर की गई कार्यवाही से मंत्रिपरिषद को अवगत कराया गया है। उपलब्ध करायी गई जानकारी के अनुसार बाजार हस्तक्षेप योजना के तहत प्रदेश में 487 रुपए प्रति कुन्तल की दर से किसानों का एक लाख मीट्रिक टन आलू खरीदने के लिए शासन द्वारा भारत सरकार को प्रेषित प्रस्ताव की स्वीकृति 07 अप्रैल, 2017 को प्राप्त हुई। इसके क्रम में राज्य सरकार द्वारा क्रय एजेन्सियों-यू0पी0 एग्रो, पी0सी0एफ0, हाॅफेड तथा उ0प्र0 उपभोक्ता सहकारी संघ के माध्यम से किसानों का आलू क्रय करने का फैसला लिया गया है। किसानों से आलू क्रय करने में यदि नामित संस्थाओं को किसी प्रकार की हानि होती है तो उसे भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा 50ः50 के अनुपात में वहन किया जाएगा, जिसमें अनुमन्य ओवरहेड चार्जेज भी सम्मिलित है, किन्तु हानि क्रय लागत के 25 प्रतिशत की सीमा तक ही अनुमन्य होगी।

बाद में प्रेस वार्ता में मंत्रिपरिषद के फैसलों की जानकारी देते हुए मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह एवं श्री श्रीकांत शर्मा ने बताया कि इस वर्ष आलू की अच्छी पैदावार हुई है, लेकिन पिछली राज्य सरकार ने समय रहते आलू उत्पादक किसानों को लाभ उपलब्ध कराने के लिए कोई कार्ययोजना तैयार नहीं की, जिसके फलस्वरूप किसानों की कठिनाइयों को देखते हुए वर्तमान राज्य सरकार ने आलू खरीद का निर्णय लिया है। सभी जिलाधिकारियों से अपेक्षा की गई है कि वे किसानों की मांग के अनुसार तत्काल आलू क्रय केन्द्रों की स्थापना करते हुए किसानों को राहत पहुंचाने का काम करें।

Comments (0)

सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (प्रारम्भिक) परीक्षा, 2013 में सम्मिलित अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु सीमा में छूट देते हुए वर्ष 2017 एवं 2018 की सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (प्रारम्भिक) परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु 02 अतिरिक्त अवसर प्रदान किये जाने का निर्णय

Posted on 12 April 2017 by admin

मंत्रिपरिषद ने सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (प्रारम्भिक) परीक्षा, 2013 में सम्मिलित अभ्यर्थियों को अधिकतम आयु सीमा में छूट देते हुए वर्ष 2017 एवं 2018 की सम्मिलित राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा (प्रारम्भिक) परीक्षा में सम्मिलित होने हेतु 02 अतिरिक्त अवसर प्रदान किये जाने के प्रस्ताव को अनुमति प्रदान कर दी है।

ज्ञातव्य है कि शासन द्वारा निर्गत उत्तर प्रदेश सेवाओं में भर्ती (आयु सीमा) (दसवां संशोधन) नियमावली, 2012 के प्रख्यापन के फलस्वरूप राज्याधीन सेवाओं में अधिकतम आयु 35 वर्ष से बढ़ाकर 40 वर्ष कर दी गई। इसका लाभ वर्ष 2013 की परीक्षा में सम्मिलित अभ्यर्थियों को प्राप्त हुआ। वर्ष 2012 में जिन अभ्यर्थियों का अंतिम अवसर था, उन्हें आयु सीमा बढ़ाए जाने के कारण, वर्ष 2017 तक प्रारम्भिक परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर विद्यमान है। परन्तु वर्ष 2013 में आयु सीमा बढ़ने का लाभ उन अभ्यर्थियों को, जिनकी आयु 39 वर्ष या इससे अधिक थी, उनके लिए केवल एक अवसर वर्ष 2013 की परीक्षा सम्मिलित होने का विद्यमान रहा। इस सम्बन्ध में प्रतियोगी छात्रों/अभ्यर्थियांे द्वारा लगातार की जा रही मांग के दृष्टिगत मंत्रिपरिषद द्वारा यह निर्णय लिया गया। प्रेस वार्ता में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि मंत्रिपरिषद के इस फैसले से लगभग 40 हजार नौजवानों को लाभ होगा।

Comments (0)

बार्डर एरिया डेवलपमेंट कार्यक्रम के फण्डिंग पैटर्न में परिवर्तन का प्रस्ताव स्वीकृत

Posted on 12 April 2017 by admin

मंत्रिपरिषद ने बार्डर एरिया डेवलपमेंट कार्यक्रम के फण्डिंग पैटर्न में परिवर्तन सम्बन्धी प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान कर दी है। परिवर्तन के फलस्वरूप योजना की 60 प्रतिशत धनराशि भारत सरकार से प्राप्त होगी तथा 40 प्रतिशत धनराशि राज्य सरकार द्वारा वहन की जानी होगी। अर्थात विगत वर्षाें में प्राप्त केन्द्रीय सहायता के आधार पर औसतन 50 करोड़ रुपए प्रतिवर्ष की केन्द्र सरकार से अनुमोदित कार्य योजना के सापेक्ष अब लगभग 33 करोड़ रुपए की धनराशि राज्य सरकार को वहन करनी होगी।

वित्तीय वर्ष 2016-17 से भारत सरकार से प्राप्त धनराशि के सापेक्ष 40 प्रतिशत राज्यांश के समायोजन के लिए वित्तीय वर्ष 2017-18 की कार्य योजना संरचना में इस धनराशि (वर्ष 2016-17 में वांछित राज्यांश की सीमा तक) को अतिरिक्त धनराशि के रूप में जोड़ते हुए कार्य योजना तैयार कर, आगामी वर्षाें में भी तदनुसार कार्यवाही की जाएगी।

Comments (0)

उ0प्र0 राज्य की सड़कों को 15 जून, 2017 तक गड्ढा मुक्त करने का निर्णय

Posted on 12 April 2017 by admin

मंत्रिपरिषद ने उत्तर प्रदेश राज्य की सड़कों को 15 जून, 2017 तक गड्ढा मुक्त करने का निर्णय लिया है। इस क्रम में लोक निर्माण विभाग के विभिन्न श्रेणी के 85,943 कि0मी0 मार्गों को 4,502 करोड़ रुपए की लागत से गड्ढा मुक्त करने की अनुमति प्रदान की गई है।

मार्च, 2017 में इस प्रयोजन हेतु 282 करोड़ रुपए की धनराशि निर्गत की जा चुकी है, जबकि शेष 4,220 करोड़ रुपए की धनराशि का प्रावधान वर्तमान वित्तीय वर्ष 2017-18 के बजट में किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 3100 कि0मी0 नेशनल हाइवे की मरम्मत का कार्य भी लोक निर्माण विभाग द्वारा किया जाएगा। किन्तु इस पर आने वाले व्यय की धनराशि भारत सरकार द्वारा उपलब्ध करायी जाएगी। इस सम्बन्ध में कार्य योजना बनाकर एन0एच0ए0आई0 को पे्रषित करते हुए अधिक से अधिक धनराशि प्राप्त करने का प्रयास किया जाएगा।

लोक निर्माण विभाग के अतिरिक्त पंचायती राज, मण्डी परिषद, गन्ना एवं ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के अतिरिक्त स्थानीय नगर निकायों की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का कार्य सम्बन्धित विभागों द्वारा किया जाएगा। प्रेस वार्ता में ऊर्जा मंत्री श्री श्रीकान्त शर्मा ने बताया कि इसके साथ ही, यह भी निर्णय लिया गया है कि बरसात के दौरान एवं घरों से निकलने वाले पानी को सड़कों पर आने से रोकने के लिए सड़कों के किनारे डेªनेज सिस्टम पर भी ध्यान दिया जाएगा।

ज्ञातव्य है कि पूरे प्रदेश में सड़कों की लम्बाई लगभग 2,25,885 कि0मी0 है, जिनमें 7,147 कि0मी0 राज्य मार्ग, 7,637 कि0मी0 प्रमुख जिला मार्ग, 48,006 कि0मी0 अन्य जिला मार्ग तथा लगभग 1,63,035 कि0मी0 ग्रामीण मार्ग हैं।

Comments (0)

प्रदेश में इंसेफेलाइटिस एवं अन्य जल एवं विषाणु जनित

Posted on 12 April 2017 by admin

बीमारियों के रोकथान के लिए प्रभावी उपाय करने का निर्णय

मंत्रिपरिषद ने प्रदेश में इंसेफेलाइटिस एवं अन्य जल एवं विषाणु जनित बीमारियों के रोकथान के लिए प्रभावी उपाय करने का निर्णय लिया है, जिसके क्रम में प्रदेश के सभी मेडिकल काॅलेजों में 10 बेड जे0ई0/ए0ई0एस0 के मरीजों के लिए आरक्षित करने का निर्णय लिया गया है। इसी प्रकार प्रदेश के समस्त जिला चिकित्सालयों में 20 बेड की अतिरिक्त व्यवस्था करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी प्रदान कर दी गई है।

बाद में प्रेस वार्ता में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि इंसेफेलाइटिस से सर्वाधिक प्रभावित जनपदों के सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के चिकित्सकों को मस्तिष्क ज्वर से प्रभावित रोगियों के उपचार के लिए बाबा राघवदास मेडिकल काॅलेज, गोरखपुर में प्रशिक्षण दिलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि वेक्टर नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत फाॅगिंग एवं कीटनाशक छिड़काव तथा एण्टी लारवल स्प्रे का सतत् अनुश्रवण करने का निर्देश सभी जिलाधिकारियों एवं मुख्य चिकित्साधिकारियों को दिया गया है। मुख्यालय से भी छिड़काव के सम्बन्ध में फीडबैक प्राप्त करने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि लगभग दो सप्ताह पूर्व ही जनपद स्तरीय अधिकारियों को वीडियो काॅन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से इस रोग से निपटने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा करते हुए आवश्यक निर्देश दिए गए हैं।

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

April 2017
M T W T F S S
« Mar    
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
-->




 Type in