*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | अन्तराष्ट्रीय

लाहौर के शादमान चैक को शहीदे आज़म भगतसिंह चौक के नाम से घोषणा

Posted on 01 October 2012 by admin

pak1pak2pak3pak4पाकिस्तान के लाहौर में शादमान चैक को भगतसिंह चैक बनाने की घोषणा स्थानीय सरकार द्वारा की गई है। यह वहीं जगह है जहां भगतसिंह को फांसी दी गई थी जो कि पहले लाहौर जेल का फांसी घर था।  अब से इस जगह को भगतसिंह चौक के नाम से जाना जाएगा। पाकिस्तान के प्रगतिशील और मज़दूर आंदोलनों व साथ साथ करोड़ों भारतवासीयों के लिए यह एक महत्वपूर्ण उपलिब्ध है। पाकिस्तान के विभिन्न संगठन व पार्टी खासतौर पर लेबर पार्टी पिछले कई वर्षो से इस मांग को उठाते रहे हैं। क्योंकि उनका मानना है कि भगतसिंह पाकिस्तान का सबसे बड़े शहीद हैं। भगतसिंह लाहौर शहर में ही  पले-बढ़े व उन्होंने अपना राजनैतिक संघर्ष वहीं शुरू किया व उसी शहर में ही उनकी शहादत हुई। वे इस पूरे उपमहाद्वीप के साझी विरासत के प्रतीक है जिसे दोनों ही मुल्क हिन्दुस्तान व पाकिस्तान काफी शिद्दत से मानते हैं। ज्ञातव्य रहे कि इस वर्ष मई में राष्ट्रीय वनजन श्रमजीवी मंच के राष्ट्रीय सम्मेलन में पाकिस्तान के प्रतिनिधि मंड़ल आया था उन्होंने तय किया था कि लाहौर में शादमान चैक पर भगतसिंह के जन्मदिन पर इस चैक को भगतसिंह के नाम से बनाने के लिए दोनों देशों के लोगों द्वारा एक मुहिम शुरू की जाएगी। इस मुहिम की शुरूआत लेबर पार्टी द्वारा शुरू की गई। इसी मांग को पूरा करने के लिए 28 सितम्बर 2012 को लाहौर के सर दयाल सिंह लाईब्रेरी हाल में भगतसिंह का जन्मदिन बनाने का व्यापक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसका आयोजन वहां के 40 संगठनों द्वारा किया गया था। उसी समारोह में भारत से भी 32 लोगों को शिष्ट मंड़ल जाना था लेकिन पाकिस्तान की फैडरल केन्द्रीय सरकार ने वीज़ा नहीं दिया। इस के कारण यह शिष्ट मंड़ल वहां नहीं पहुंच पाया। वीज़ा न दिए जाने पर दोनों देशों के जनसंगठनों में काफी रोष था। भारत से इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए शिष्ट मंड़ल तो नहीं पहुंच पाया लेकिन शहीदे आज़म भगतसिंह चैक की घोषणा ने उनके उत्साह को और भी बढ़ा दिया है। इस कार्यक्रम को पाकिस्तान के प्रगतिशील संगठनों ने सफल कार्यक्रम बनाया व भगतसिंह के जन्मदिन के उपलक्ष्य में केक भी काटा गया। इस कार्यक्रम का पाकिस्तान की मीडिया ने भी सराहना की, द डाॅन ने शादमान चैक को शहीदे आज़म भगतसिंह चैक के नाम की घोषणा को प्रमुखता से प्रकाशित किया है । इसी की वजह से लाहौर के स्थानीय प्रशासन व पंजाब के प्रांतीय सरकार के निर्देश पर चैक का नामकरण शहीदे आज़म भगतसिंह के नाम से किया गया। सरहद के दोनों पार के आम लोगों के लिए यह बेहद ही खुशी का मौका है और संजयगर्ग (पूर्व राज्य मंत्री), अशोक चौधरी, किरणजीत संधु (भगतसिंह के भतीजे) व रोमा ने पाकिस्तान की पंजाब की प्रोविन्शियल सरकार एवं लाहौर जिला प्रशासन का आभार व्यक्त किया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

भारत और चीन के विचारों का आदान प्रदान करते हुए भारत चीन मित्रता में सहयोगपूर्ण वातावरण बनाने का प्रयास करेगा

Posted on 09 September 2012 by admin

चीन की सत्तारूढ़ पार्टी ‘‘कम्युनिस्ट पार्टी आॅफ चाइना’’ की केन्द्रीय समिति के आमन्त्रण पर जनता दल (यूनाइटेड) का एक प्रतिनिधि मण्डल पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा0 शरद यादव जी के नेतृत्व में दिनाॅक-13.09.2012 दिन बृहस्पतिवार को एयर चाइना की उड़ान से नई दिल्ली के इन्दिरागाॅधी हवाई अड्डा से रवाना होगा । पाॅच सदस्यीय इस महत्वपूर्ण प्रतिनिधि मण्डल के साथ जनता दल (यूनाइटेड) उत्तर प्रदेष के प्रदेष अध्यक्ष सुरेष निरंजन भइया जी भी चीन जा रहे हैं जो उत्तर प्रदेष का प्रतिनिधित्व करेंगें । यह प्रतिनिधि मण्डल चीन के अलग-अलग प्रान्तों में एक सप्ताह (13.09.2012-19.09.2012) तक प्रवास करेगा और वहाॅ की सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक गतिविधियों का गहनतापूर्वक अध्यन करेगा तथा विष्व के सबसे बड़े आबादी एवं बुद्ध के विचारो से ओत-प्रोत देष चीन की प्रगति और वहाॅं की तीव्र गति के विकास का अध्यन एवं भारत और चीन के विचारों का आदान प्रदान करते हुए भारत चीन मित्रता में सहयोगपूर्ण वातावरण बनाने का प्रयास करेगा और वहाॅं के विष्वस्तरीय धरोहरों तथा वहाॅं की सांस्कृतिक विरासतों का भी  अवलोकन करेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

भारत की बुनियादी ढाँचों एवं रियल इस्टेट बाजार में दिनों-दिन महत्वपूर्ण रूप से विस्तार हो रहा है

Posted on 09 August 2012 by admin

जर्मनी की उच्च क्षमता कंक्रीट मशीनों के नंबर एक निर्माता ’पुत्ज्मेइस्टर’ जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसित सभी श्रेणी की उपकरण और मशीनरी बनाते हैं, अब यह भारतीय बाजारों में उपलब्ध हैं और इनका कारखाना गोवा में स्थित है। ये निर्माण उपकरण बहुमंजिली इमारतों, विद्युत संयंत्रों, बंदरगाहों, रिफाइनरी, मेट्रो रेलों, सड़कों एवं पुलों, हवाई अड्डों और अन्य बड़े पैमाने पर निर्माण परियोजनाओं के लिए अत्यन्त आवश्यक है।

जर्मनी की यह विशाल कम्पनी भारत के निर्माण स्थलों में अधिक स्वचालित और मशीनीकृत सुविधाओं को प्रदान कर यहाँ के निर्माण परिदृश्य को बदलने के एक मिशन पर हैं, इस प्रकार से समय और लागत दोनों में भारी बचत की अपेक्षा की जाती है। पुत्ज्मेइस्टर द्वारा आपूर्ति की गई आधुनिक निर्माण मशीनें उन घातक दुर्घटनाओं की जोखिम को भी कम करती है जो मानव श्रमिक हाथ से जुड़े निर्माण कार्यों में शामिल हैं।

उपरोक्त बातों का उल्लेख करते हुए, मि. विलफ्राइड थेईसेन, प्रबंध निदेशक, पुत्ज्मेइस्टर कंक्रीट मशीन्ज प्रा. लि. ने कहा, ‘‘देश को आर्थिक विकास के लिए बधाई, भारत की बुनियादी ढाँचों एवं रियल इस्टेट बाजार में दिनों-दिन महत्वपूर्ण रूप से विस्तार हो रहा है। भारत में इन निर्माण गतिविधियों में से केवल 10 प्रतिशत ही मशीनों द्वारा किया जाता है। पारंपरिक हस्त निर्माण तरीकों में समय, लागत और खतरों की बहुत अधिक संभावना रहती है। इसलिए भारत में हमारे नवीनतम मशीनों के लिए भारी वृद्धि के अवसर हैं।

पुत्ज्मेइस्टर के कार्य पूरे भारत भर में चल रहे हैं और इनकी मशीनों का उपयोग देश में सबसे बड़े बुनियादी ढांचे के विकास परियोजनाओं में किया जा रहा है, जैसे गुजरात में रिफाइनरी का निर्माण, दिल्ली और बैंगलोर में हवाई अड्डा निर्माण, जल विद्युत शक्ति संयंत्र, थर्मल पावर स्टेशन, दिल्ली रेल मेट्रो काॅर्पोरेशन और विभिन्न अन्य परियोजनाओं को पुत्ज्मेइस्टर के नवीनतम कंक्रीट उपकरणों के उपयोग द्वारा लाभ प्राप्त हुआ है। इसके परिणामस्वरूप देश भर के सभी परियोजनाओं से कम्पनी को भारी प्रतिक्रिया मिली है, इस प्रकार यह कम्पनी भारत में अपने गतिविधियों के विस्तार के लिए प्रेरित है।

यह कम्पनी भारत में अपने कार्यों को आक्रामक तरीके से बढ़ाने के लिए और पूरे देश में रियल इस्टेट एवं बुनियादी ढांचे के आधुनिकीकरण में योगदान देने के लिए अग्रसर है। पुत्ज्मेइस्टर देश में अपने निवेश को बढ़ाने की ओर ध्यान दे रही है और इस प्रकार से कई रोजगार के अवसर पैदा हो रहे हैं।

गतिविधियों के बारे में आगे व्याख्या करते हुए मि. विलफ्राइड थेईसेन ने वर्णन किया, ‘‘इससे मुझे अपार खुशी मिलती है कि हम भारत की प्रगतिशील और गतिशील अर्थव्यवस्था को बनाने में सक्षम हुए हैं। हम मानते हैं कि अभी तक भारत के लिए नवीनतम विश्व स्तरीय तकनीक को लाने और भारत के विकास की कहानी में योगदान की दिशा में यह एक और कदम है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

मुसलमानों के साथ हो रही ज्यादती पर गहरी चिन्ता जताई

Posted on 30 July 2012 by admin

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मुलायम सिंह यादव ने अपने एक बयान में म्यांमार (बर्मा) में मुसलमानों के साथ हो रही ज्यादती पर गहरी चिन्ता जताई है और भारत सरकार से तत्काल उनकी जानमाल की सुरक्षा के संबंध में कदम उठाने का आग्रह किया है।
श्री यादव ने कहा है कि म्यांमार में 50,000 के करीब मुसलमानों को बेरहमी से मारे जाने की खबर बहुत गम्भीर घटना है। म्यांमार में सैनिकतंत्र हावी है इसके बावजूद भारत सरकार ने उससे बेहतर रिश्तें कायम करने की कोशिश की है। किन्तु मुसलमानों पर जो बीत रही है उस पर भारत की चिन्ता और आक्रोश स्वाभाविक है।
श्री मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि म्यांमार में जुल्म के शिकार मुसलमानों की भारत सरकार को सहायता करनी चाहिए। इस सम्बन्ध में विदेश मंत्रालय को त्वरित कार्यवाही करनी चाहिए। जो संस्थाएं म्यांमार के मुसलमान भाइयों की मदद करना चाहें उन्हें इसकी भी इजाजत मिलनी चाहिए।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

A writer who does not address to the truth of his times Finds himself in the dustbin of History – Pradeep Saurabh

Posted on 08 July 2012 by admin

(London) – Lord King of West Bromwich honoured the Hindi novelist from New Delhi – Mr. Pradeep Saurabh in the House of Commons in London with the coveted 18th International Indu Sharma Katha Samman. Lord King said, “Only a writer can bring change in the society. Culture can survive only when it has the backing of a language. On this occasion he presented the 13th Padmanand Sahitya Samman to Mr. Sohan Rahi of Surrey for his collection of Ghazals and Geets. The host for the evening was MP. Virendra Sharma.
MP Virendra Sharma, while commenting on the novel of Pradeep Saurabh, said, “Some of our traditions have lost their relevance in the 21st century. They are not more acceptable. One such tradition is our attitude towards eunuchs. We must learn from countries like Britain how to treat such people.” He fondly remembered his association with Sohan Rahi which dates back to their childhood memories.
Accepting his award, Pradeep Saurabh emphatically pronounced, “A writer should be evaluated through his writings and not his personal life.” He further clarified, “To earn a living I must have committed any number of wrongdoings or must have compromised. I do accept that openly. I am a journalist and work for a TV channel. I am supposed to be carrying a torch of truth, but the fact is that I am only an agent for the owner of my newspaper. But when I create literature, I have complete freedom to myself. Every man has many masks for his face; but in my case, I am a museum of masks.”
Deepti Sharma presented a dramatic reading of a portion of Teesri Taali to an extremely appreciative audience.
Councillor Zakia Zubairi was extremely encouraged by the presence of young Aditi Maheshwari of Vani Prakashan. She declared, “Her arrival on the scene is a good news for Hindi literature. Now young and well educated youth is joining the field of Hindi publication. This would certainly bring a positive change in the scenario. I have always impressed upon the need of research in the field of novel and story writing. Teesri Taali is an example of the depth of research that Pradeep must have carried to finally bring it onto paper. She termed Sohan Rahi has a genuine lyricist of Hindi as well as Urdu language.
Tejendra Sharma, the General Secretary of Katha UK, explained the process of selection of the books for the award. He suggested to Francesca Orsini of SOAS University that an interaction between students, teachers and creative writers could be extremely beneficial for Hindi literature in the UK. This could actually give a new direction to the scenario. As a moderator he introduced the audience to the award winning books.
Francesca Orsini reacted positively to the suggestions of Tejendra Sharma and suggested that the dates for the award function be changed to the working time table of the Universities. The event could be held alongside other literary activities of English literature.
Kailash Budhwar, the Chairman of Katha UK, read a few comments made by Indian critics on Teesri Taali. The comments were made by Sudhees Pachori, Hiralal Nagar and Niranjan Kshotriya.
Reading her paper on Sohan Rahi’s is award winning book, the poetess Jai Verma from Nottingham said, “Sohan Rahi does not belong to a particular generation. From youth to experience everyone feels one with the thoughts of Sohan Rahi. Through his poetry, Sohan Rahi tries to solve the complex problems of life through is sensitive and poignant poetry.”
Sohan Rahi thanked the judges of Katha UK for selecting his book for the award. He said, “Poetry is not a hobby for me, in fact it is my way of worshipping. Poems and lyrics are my life, I live them… I breathe them. He also sang one of his own composed lyric.
Mr. Gauri Shankar (Dy. Director, Nehru Centre) was proud of the fact that now questions on Katha UK award are asked in the UPSC, Railway Board and Banking Board exams. The Nehru Centre, Air India and TRS were the main sponsors for this year’s Katha UK award function.
Noted singer Nishi rendered the traditional Saraswati Vandana; Sohan Rahi’s citation was read by Madhu Arora who flew specially for this event from Mumbai; Mr. Anand Kumar (Hindi and Culture Officer) read the citation for Pradeep Saurabh. Moderator for the evening was Tejendra Sharama.
Among others Councillor K.C. Mohan, Councillor Grewal, Mrs. Padmaja, Prof. Amin Mughal, Ayub Aulia, Jitendra Billu, Ram Sharma Meet, Achala Sharma, Usha Raje Saxena, Govind Sharma, Neena Paul, Mahendra Dwesar, Padmesh Gupta, Nikhil Kaushik, Vijay Rana, Mira Kaushik, Pervaiz Alam, Pushpa Rao, Kavita Vachaknavi, Shanno Agrawal, Ved Mohla, Dr. Mahipal Verma, and K.B.L. Saxena were presend in the programme.

pradeep-saurabh-awardPradeep Saurbh receiving International Indu Sharma Katha Samman.
(From Left to right: Cllr. Zakia Zubairi, Pradeep Saurabh, Kailash Budhwar, Virendra Sharma (MP), Tejendra Sharma, Lord King, Sohan Rahi)

sohan-rahi-awardSohan Rahi receiving the award
(From left: Lord King, MP Virendra Sharma, Tejendra Sharma, Sohan Rahi, Cllr. Zakia Zubairi, Kailash Budhwar.)

group-1Sitting from Left:
Pradeep Saurabh, Cllr. Zakia Zubairi, Virendra Sharma MP, Lord King, Sohan Rahi
Standing from left:
Aditi Maheshwari, Cllr. K.C. Mohan, Frencesca Orsini (S.O.A.S.), Deepti Sharma, Madhu Arora, Neena Paul, Kailash Budhwar

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

प्रदेश का माहौल बदलने तथा निवेश का वातावरण बनाने हेतु राज्य सरकार शीघ्र नई औद्योगिक नीति लागू करेगी: मुख्यमंत्री

Posted on 09 June 2012 by admin

  • जनता से जुड़ी मदों में वर्तमान सरकार ने प्रस्तुत बजट में काफी बढ़ोत्तरी की
  • प्रदेश में भण्डारण क्षमता बढ़ाने तथा साइलोज स्टोर की स्थापना हेतु केन्द्र सरकार तथा नाबार्ड से मदद ली जायेगी
  • वर्तमान सरकार प्रस्तुत बजट के माध्यम से गत सरकार द्वारा व्यय किये गये तमाम अनाप-शनाप खर्चों की भरपाई कर रही है: मुख्यमंत्री

untitled-6उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश का माहौल बदलने तथा निवेश के लिए वातावरण बनाने हेतु शीघ्र नई औद्योगिक नीति लागू करेगी। उन्होंने कहा कि राज्य में निवेश करने वाले उद्यमियों को हर सम्भव सहायता उपलब्ध करायी जायेगी, ताकि राज्य के नौजवानों को रोजगार के अवसर उपलब्ध हो सकें।
मुख्यमंत्री आज विधान सभा में वर्तमान वित्तीय वर्ष 2012-13 के लिए प्रस्तुत बजट पर चर्चा का जवाब दे रहे थे। प्रस्तुत बजट राज्य के इतिहास का सबसे बड़ा बजट है। विपक्षी सदस्यों ने बजट में सरकार द्वारा चुनाव के दौरान जनता से किये गये वायदों को अहमियत देने की बात स्वीकार की है। उन्होंने कहा कि चर्चा के दौरान विपक्षी दलों के सदस्यों ने भी प्रदेश की खराब आर्थिक स्थिति, सरकारी अस्पतालों में चिकित्सकों की अनुपस्थिति, दवाओं की अनुपलब्धता, खराब विद्युत आपूर्ति आदि का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार को सत्ता में आए अभी तीन माह भी पूरे नहीं हुए हैं। इससे साफ जाहिर है कि बसपा सरकार ने प्रदेश के हित में कोई काम नहीं किया तथा उस दौरान भ्रष्टाचार चरम पर था।
श्री यादव ने बताया कि प्रदेश सरकार प्रस्तुत बजट के माध्यम से गत सरकार द्वारा व्यय किये गये तमाम अनाप-शनाप खर्चों की भरपाई कर रही है। पिछली सरकार ने भूमि अधिग्रहण, विद्युत खरीदने में आये खर्च तथा उत्तराखण्ड सरकार की देनदारियों को बिना भुगतान किये छोड़ दिया था, जिसे वर्तमान सरकार को बजट के माध्यम से पूरा करना पड़ रहा है। उन्होंने स्पष्ट किया कि पिछली सरकार की लम्बित देनदारियों को पूरा करने के बावजूद उनकी सरकार जनता से किये गये वायदो को पूरा करेगी। उन्होेंने कहा कि वर्तमान सरकार अनावश्यक खर्चों को रोक कर राज्य के विकास पर खर्च करने के लिए दृढ़ संकल्प है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गत सरकार ने हेलीकाॅप्टर खरीदने जैसी अनावश्यक मदों पर जनता की गाढ़ी कमाई को बर्बाद किया। बसपा सरकार ने पत्थर और मूर्तियों पर करोड़ों रुपये लगा दिये। इस प्रकार से काफी धन एवं संसाधन का दुरुपयोग किया गया। लेकिन वर्तमान सरकार ने प्रस्तुत बजट में कई महत्वपूर्ण मदों के लिए धनराशि बढ़ाने का प्रस्ताव किया है। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक कल्याण, पिछड़ा वर्ग कल्याण, नगरीय विकास, पंचायती राज, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, बेसिक, माध्यमिक तथा उच्च शिक्षा जैसे जनता से जुड़े मदों में वर्तमान सरकार ने काफी बढ़ोत्तरी की है। उन्होंने कहा कि यह कार्य उनकी सरकार ने तब किये हैं जब सरकार को राज्य का खजाना खाली मिला। उन्होंने कहा कि प्रयास किया गया है कि उपलब्ध संसाधनों के दायरे में ही जनता के कल्याण के लिये काम किये जाएं।
किसानों की चर्चा करते हुए श्री यादव ने कहा कि राज्य सरकार कृषि को विशेष महत्व देती है। विकसित देशों में भी किसानों को हर सम्भव मदद उपलब्ध कराई जाती है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में उनकी सरकार किसानों को समय से उर्वरक, विद्युत तथा सिंचाई की पर्याप्त व्यवस्था करायेगी। राज्य सरकार द्वारा गन्ना किसानों को मदद उपलब्ध कराने के लिए काम किया जायेगा। इसी प्रकार किसानों से उनकी उपज खरीदने के लिए पर्याप्त व्यवस्था की जायेगी। वर्तमान समय में चल रही गेहूं खरीद में आ रही समस्याओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पिछली सरकार ने गेहूं खरीदने के लिए बोरों की आपूर्ति हेतु समय से केन्द्र सरकार से आग्रह नहीं किया। इसी प्रकार गत सरकार ने अन्न भण्डारण की क्षमता में वृद्धि के लिए भी प्रयास नहीं किया। अपनी सरकार द्वारा किसानों के हित में लिये गये निर्णयों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि प्रस्तुत बजट में खाद के पूर्व भण्डारण के लिये 300 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया गया है। अगले 6 माह में राज्य के कई क्षेत्रों में साइलोज स्टोर बनाने का काम शुरु कर दिया जायेगा। इसमें केन्द्र सरकार एवं नाबार्ड की मदद भी ली जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ने बालिकाओं के लिए कन्या विद्या धन योजना, बेराजगार नौजवानों के लिए भत्ते की व्यवस्था प्रस्तुत बजट के माध्यम से की है। राज्य में पिछली सरकार द्वारा कोई उद्योग स्थापित न कराने के कारण बेरोजगारों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसीलिए उनकी सरकार राज्य का औद्योगिक वातावरण सुधारने का प्रयास कर रही है। पिछली सपा सरकार के दौरान चीनी मिलों की स्थापना के लिए किये गये प्रयासों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि कई अन्य राज्यों की तरह उद्यमियों को छूट दी जा सके। इसीलिए उनकी सरकार एक ऐसी उद्योग नीति बनाने का प्रयास कर रही है, जिससे उद्यमियों को राज्य में उद्योग लगाने में हिचक न हो। इस अवसर पर उन्होंने राज्य सरकार द्वारा छात्रों को टैबलेट एवं लैपटाप देने के कारणों का उल्लेख करते हुए कहा कि इससे गांव के छात्रों के मन से कम्प्यूटर को लेकर भय समाप्त हो जायेगा और उन्हें विभिन्न क्षेत्रों की पर्याप्त जानकारी मिल सकेगी।
मुख्यमंत्री ने राज्य में विद्युत आपूर्ति का उल्लेख करते हुए कहा कि गत सरकार ने 9 मेमोरेण्डम आॅफ अण्डरस्टैण्डिंग (एम0ओ0यू0) पर हस्ताक्षर किये लेकिन इनमें से किसी एक प्रस्ताव को मूर्त रूप नहीं दिला पाई। यहां तक कि इनके लिए कोल लिंकेज की व्यवस्था नहीं की गई। विद्युत वितरण में भी गत सरकार द्वारा कोई सुधार नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार अब इस दिशा में गम्भीर प्रयास कर रही है। विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था सुधारने हेतु 1800 करोड़ रुपये के माध्यम से राज्य के 29 जनपदों में घरेलू एवं कृषि हेतु अलग-अलग फीडर की व्यवस्था का कार्य शुरु हो गया है। नए विद्युत घर लगाने के लिए आवश्यकता पड़ने पर बाहर से भी कोयला आयात किया जायेगा। इसके अलावा उनकी सरकार शीघ्र ही सोलर पाॅलिसी लाने जा रही है, जिससे सौर ऊर्जा उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि किसानों एवं घरेलू उपभोक्ताओं की विद्युत दरों में बढ़ोत्तरी नहीं की जायेगी।
मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य एवं शिक्षा की पिछली सरकार द्वारा की गई उपेक्षा की चर्चा करते हुए कहा कि पिछली सपा सरकार ने लोहिया चिकित्सा संस्थान, गोमती नगर में कैंसर के इलाज की व्यवस्था की थी। 100 करोड़ रुपये के सामान एवं उपकरण खरीदे गये थे लेकिन गत बसपा सरकार द्वारा जनता की भलाई के लिए कैंसर के इलाज की इस व्यवस्था का प्रयोग करना उचित नहीं समझा। यहां तक कि इनके संचालन के लिए चिकित्सकों की भी व्यवस्था नहीं की गई। पिछली सरकार द्वारा न तो कोई नया मेडिकल कालेज ही बनाया गया और न ही पैरामेडिकल कालेज की व्यवस्था की गई। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार राज्य में ऐवियेशन विश्वविद्यालय एवं 3 आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) बनाने के लिए जमीन देने को तैयार है। इसके विपरीत बसपा सरकार द्वारा एम्स के लिए जमीन नहीं उपलब्ध कराई गई।
श्री यादव ने कहा कि उनकी सरकार कानून व्यवस्था को सर्वोच्च वरीयता देती है। उन्होंने कहा कि अधिक अपराध वाले स्थानों पर सी0सी0टी0वी0 कैमरे लगाये जायेंगे तथा कानून व्यवस्था के मामले में ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जायेगी। प्रजातंत्र में जन प्रतिनिधि का महत्वपूर्ण स्थान होता है। इसलिए अधिकारियों को जन प्रतिनिधियों का सम्मान करना चाहिये। इस अवसर पर उन्होंने एक स्पष्टीकरण का जवाब देते हुए कहा कि अभी बजट पर विभागवार चर्चा होना शेष है। उन्होंने कहा कि उचित समय पर विधायक क्षेत्रीय विकास निधि के सम्बन्ध में निर्णय लिया जायेगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

Sahara India Pariwar enters Bangladesh’s housing & infrastructure sector; signs MoU with Bangladesh Government

Posted on 29 May 2012 by admin

Forms ‘Sahara Matribhumi Unnayan Corporation Limited’ to develop a satellite township, affordable housing & integrated townships in and around Dhaka
The company plans to enter the power & healthcare sector and other welfare programs in Bangladesh at later stages

pic-final-4Dhaka, May 25, 2012: Sahara India Pariwar, a major business conglomerate in India has today announced its entry into the housing & infrastructure sector of Bangladesh. The group’s, newly formed Bangladesh based company ‘Sahara Matribhumi Unnayan Corporation Limited’ has signed a Memorandum of Understanding (MoU) with the Ministry of Housing and Public Works of Bangladesh Government, to invest in the development of housing industry in Bangladesh. ‘Sahara Matribhumi Unnayan Corporation Limited’ will conceptualize, design and plan a new city near Dhaka, i.e. Notun Dhaka (New Dhaka) and will build affordable housing for low income groups with Housing Finance support for majority applicants. The newly formed company will also conceptualize, design and plan various integrated satellite townships under the Ministry of Housing & Public Works (MOPW) of the Government of Bangladesh.

The MoU was signed by Saharasri Subrata Roy Sahara, Managing Worker & Chairman, Sahara India Pariwar and Mr. Nurul Huda, Chairman, Rajdhani Unnayan Kartripakkha (RAJUK). The event was witnessed by Mr. Abdul Mannan Khan, State Minister for Housing & Public Works and other top bureaucrats, politicians and senior officials of the Bangladesh Government.

pic-1The eventful 4 day visit of Saharasri Subrata Roy Sahara was concluded with positive notes after having meetings with Dr. S. A. Samad, Executive Chairman of Board of Investments (BOI), Dr. Atiur Rahman, Governor of Central Bank and the Shri Hasan Mahmood Khondokar, Inspector General (IG) of Bangladesh Police.

Hon’ble Prime Minister of Bangladesh Sheikh Hasina had also met Saharasri Subrata Roy Sahara to discuss about the intended projects and further opportunities in Bangladesh.

Saharasri Subrata Roy Sahara has urged the Government of Bangladesh to ease conditions about availability of housing finance and to remove the difference in tax rates between listed and unlisted companies in Bangladesh. The newly formed company ‘Sahara Matribhumi Unnayan Corporation Limited’s plans are to build integrated and satellite townships which will be heavily intensive on infrastructure unlike regional real estate projects. He requested both Dr. S. A. Samad and Dr. Atiur Rahman that a classification of a section be created midway between housing and infrastructure so that the taxation policy is relooked at Bangladesh.

Speaking at the press conference, Saharasri Subrata Roy Sahara, Managing Worker & Chairman, Sahara India Pariwar, said, “I am extremely proud to extend our business interests in Bangladesh. The Government of Bangladesh and its people have provided us a wonderful support and this in effect will help us to contribute towards the development of Bangladesh.”

ABOUT SAHARA INDIA PARIWAR
Sahara India Pariwar is a major business conglomerate in India with operations in multiple sectors, including financial services, life insurance, mutual funds, housing finance,  infrastructure & housing, print and television news media, entertainment channels, cinema production, consumer merchandise retail, healthcare, hospitality, manufacturing, sports, and information technology.

http://www.growthindia.org/?p=4807

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

ईरान में बहाई नेता बंदियों की 20 साल की सजा बहाल होने पर भारत के बहाई स्तब्ध

Posted on 04 April 2011 by admin

भारत एवं संपूर्ण विश्व का बहाई समुदाय ईरान में बंदी सात बहाई नेताओं के 20 साल की पूर्व सजा बहाल होने पर स्तब्ध है। अभी छः महीने पहले ही ईरान की अपील कोर्ट द्वारा यह सजा घटाकर 10 वर्ष किए जाने की सूचना इन बंदी नेताओं को दी गई थी। संयुक्त राष्ट्र संघ में अन्तर्राष्ट्रीय बहाई समुदाय की प्रमुख प्रतिनिधि सुश्री बानी दुग्गल ने बताया कि यह निश्चित है कि जेल के अधिकारियों ने इन सात लोगों को सूचित किया है कि अपील कोर्ट के फैसले को रद्द कर दिया गया है। हालाँकि उन्हें अभी तक इसकी कोई लिखित सूचना नहीं मिली है, इसलिए हम यह नहीं बता सकते कि किस आधार पर उनकी कम की गई सजा रद्द की गई, शायद ईरान के महाधिवक्ता ने अपील कोर्ट के फैसले को शरीयत के विरुद्ध पाते हुए इसके खिलाफ अपील की थी।

डा. भारती गाँधी, प्रमुख बहाई धर्मावलम्बी, लखनऊ ने आज बताया कि पिछले महीने ही ईरानी दूतावास ने ब्रुसेल्स में दस्तावेज पेश कर पूरी दुनिया को सूचित किया था कि जासूसी, राष्ट्रीय सुरक्षा हेतु खतरा एवं अवैध धर्म स्थापित करने के झूठे आरोपों के साबित न होेने पर इन सातों बहाई नेता बंदियों की सजा 20 वर्ष से घटाकर 10 वर्ष कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इस 10 वर्ष की सजा को पुनः 20 वर्ष कर देने में ईरानी सरकार की गलत मंशा, धोखा एवं धूर्ततापूर्ण कार्यवाही जगजाहिर है जो उनके द्वारा इस केस में दिखाई जा रही है। उनकी सजा के प्रारम्भिक काल में भी उन्हें 30 महीनों के लिए बंदी बनाकर रखा गया था जबकि उन्हें या उनके वकील को आरोप पत्र भी नहीं दिया गया।

भारत के करीब 2 करोड़ बहाइयों ने इन सात ईरानी बहाई नेताओं की 2008 में गिरफ्तारी पर कड़ा विरोध जताया तथा भारत के विभिन्न प्रदेशों में रहने वाले बहाई न्यायिक पदाधिकारियों, धार्मिक नेताओं, शिक्षाविदों, फिल्म जगत, स्वयंसेवी संस्थाओं इत्यादि ने इसे मानवाधिकार का उल्लंघन बताया। डा. भारती गाँधी ने कहा कि हम सभी बहाई समुदाय के लोग संपूर्ण भारतवासियों एवं विशेषकर भारत सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह ईरानी सरकार पर दबाव डालें कि वह इन निर्दोष बहाई बंदी नेताओं की सुरक्षित रिहाई सुनिश्चित करायें क्योंकि उनके इस कृत्य पर पूरी दुनिया की नजर है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

India-Pakistan cricket diplomacy being witnessed at United States “Saharasri”

Posted on 03 April 2011 by admin

final-1Subrata Roy Sahara, Managing Worker & Chairman, Sahara India Pariwar (second from right in the picture) along with (from left to right) Dr. Palitha T.B Kohona, Ambassador of Sri Lanka to United Nations, Mr. Hardeep Singh Puri, Ambassador of India to the United Nations, Major General Shavendra Silva of Sri Lanka & Mr. Abdullah Hussain Haroon, Ambassador of Pakistan to the United Nations (extreme right)* enjoying India-Pakistan world cup semi-final match* *at the Permanent Mission of India to the United Nation’s office in New York, United States of America  *

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

हारवर्ड बिजनेस स्कूल और हारवर्ड कैनेडी स्कूल मे सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय

Posted on 30 March 2011 by admin

बोस्टन से एक समाचार एजेंेंसी ने जारी समाचार में बताया है कि  सहारा सहारा समूह के प्रमुख सुब्रत रॉय ने हारवर्ड विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों कोग जिन्दगी और फलसफे के बारे में कुछ बाते बतायी और व्यापार तथा जन नीति पाठ्यक्रम के छात्रों को स्वत: प्रेरित होने तथा निजी और पेशेवर तरक्की के लिये सकारात्मक मानवीय माहौल निर्मित करने की सलाह दी। हारवर्ड बिजनेस स्कूल और हारवर्ड कैनेडी स्कूल के विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुये रॉय ने कहा कि खुद से प्रेरित होना कर्मचारियों के लिये महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इससे कार्यस्थल पर अधिक काम हो पाता है। रॉय ने हारवर्ड द्वारा कल आयोजित इडिया कांफ्रेन्स के दौरान दिये मुंख्य सम्बोधन में कहा किसी भी नेता को सबसे पहले एक आदशZ संरक्षक और सक्षम िशक्षक होना चाहिये।
saharasri_r3_c1सहारा समूह हारवर्ड विश्वविद्यालय से करार की कोिशशे कर रहा है ताकि वहां के िशक्षक भारत स्थित सहारा के प्रबन्धकों से संवाद साध सकें। रॉय ने कहा कि उनकी कम्पनी की बिजनेस स्कूल से एमबीए के करीब 30 विद्यार्थियों को समूह मे शामिल करने की योजना है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

October 2017
M T W T F S S
« Sep    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
-->









 Type in