*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | स्वास्थ्य

ओपन हाट्र्र सर्जरी द्वारा नया जीवन दिया

Posted on 09 December 2012 by admin

dsc_2934निजी क्षेत्र के शेखर हाट्र्र लंग सेन्टर में से दिल की बिमारी परेशान बनारस के लालता प्रसाद यादव का ओपन हाट्र्र सर्जरी द्वारा नया जीवन दिया गया। निजी क्षेत्र के शेखर हाट्र्र लंग सेन्टर में  धडकते दिल की सर्जरी की गयीdsc_2895
अखिल भारतीय स्तर पर धडकते दिल की सर्जरी काफी अच्छी मानी जाती है लेकिन निजी क्षेत्र मे ओपन हाट्र्र सर्जरी की सुविधा न होने से दिल की बिमारी से परेशान मरीजो को परेशान होना पडता था
डाॅ0 अम्बरीश कुमार के नेत्रत्व मे डाॅ0 अक्षय प्रधान डाॅ0 पी पी सिह की टीम ने  भूरि-भूरि प्रशंसा के लायक धडकते दिल की सर्जरी की साथ में डाॅ0 रिचा मिश्रा की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

निःशुल्क आयुर्वेदीय निदान एवं चिकित्सा शिविर

Posted on 08 December 2012 by admin

महोत्सव 2012 में स्टाल संख्या सी-160-162 में चल रहे निःशुल्क आयुर्वेदीय निदान एवं चिकित्सा शिविर में आज भी रोगियों की भीड़ उमड़ी। यह शिविर आयुर्वेद विभाग द्वारा आयोजित किया गया है। जिसमें रोगियों को निःशुल्क परामर्श दिया जा रहा है तथा आयुर्वेदिक औषधियाॅ भी निःशुल्क वितरित की जा रही है। प्रदेश में आयुर्वेद चिकित्सा के प्रचार-प्रसार हेतु इस शिविर में क्षेत्रीय आयुर्वेदिक एवं यूनानी अधिकारी लखनऊ एवं राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय लखनऊ के योग्य चिकित्सकों की एक टीम लगायी गयी है जिसमें राजभवन चिकित्सालय के राजवैद्य डा0 शिव शंकर त्रिपाठी, नटकुर के डा0 एस0के0 गुप्ता, गोसाईगंज के डा0 बृजेश कुमार, शाहमऊ की डा0 अनुभूति तथा आयुर्वेदिक कालेज के डा0 पी0के0 श्रीवास्तव एवं डा0 कमल सचदेवा आदि प्रमुख है।
नाड़ी विशेषज्ञ राजवैद्य डा0 शिव शंकर त्रिपाठी ने बताया कि खानपान की गड़बड़ी, अनियमित जीवन शैली तथा चिन्ता एवं क्रोध के अधिक करने के कारण हृदय रोगियों की संख्या में दिनों-दिन वृद्धि हो रही है। उन्होंने बताया कि अर्जुन की छाल का काढ़ा दूध के साथ बनाकर यदि प्रतिदिन खाली पेट पिया जाये तो हृदय रोगों से बचे रह सकते हैं तथा इसके नियमित सेवन से धमनी अवरोध दूर होकर बाईपास सर्जरी तक टल जाती है। उन्होंने कहा कि कोलेस्ट्राल को कम करने के लिये जरूरी है कि वसायुक्त भोजन कम करें, नियमित व्यायाम करें तथा रात्रि को जल्दी सोयें और सूर्योदय के पूर्व जगकर कम से कम तीन कि0मी0 भ्रमण करें। किन्तु ध्यान रहे कि अधिक ठंड के समय हृदय रोगियों को प्रातः भ्रमण से बचना चाहिये। पंचकर्म विशेषज्ञ डा0 एस0के0 गुप्ता ने बताया कि कटिशूल (कमर के दर्द) में दशमूल क्वाथ से कटिस्वेद कराने एवं सिंहनांद गुगुल के सेवन से शीघ्र आराम मिलता है। उन्होंने बताया कि साइनोसाइटिस के रोगियों को षड्बिन्दु तेल का नस्य कराने से स्थाई लाभ मिलता है। डा0 श्रीमती अनुभूति ने बताया कि शरीर में खून की कमी को दूर करने के लिये मौसमी फल तथा एक मुठ्ठी अंकुरित चने का सेवन तथा खाने के बाद गुड़ का लेना लाभकारी है। डा0 बृजेश कुमार ने बताया कि यकृत के रोगों में पुनर्नवा की जड़ का सेवन एवं मकोय के पत्ते का साग लेना अत्यन्त मुफीद है। आयुर्वेद महाविद्यालय के चिकित्साधिकारी डा0 पी0के0 श्रीवास्तव ने बताया कि अर्श (पाइल्स) के रोगियों को कब्ज को दूर रखना चाहिए उसके लिये पंचसकार चूर्ण का सेवन रात में गुनगुने पानी से करना चाहिए तथा अर्शोघ्नी वटी एक गोली का प्रातः सांय सेवन करना लाभकारी होता है। डा0 कमल सचदेवा ने बताया कि अम्लपित के रोगियों को उपवास से बचना चाहिए तथा अम्लता को कम करने के लिये अविपत्तिकर चूर्ण एक चम्मच रोज लेना हितकर रहता है।
जनसामान्य की स्वास्थ्य रक्षा हेतु तथा आयुर्वेद मंे वर्णित सद्ाचरण एवं आहार-विहार के बारे में जानकारी हेतु ‘‘आयुर्वेद और स्वास्थ्य’’ तथा ‘‘आयुर्वेदोऽमृतानाम्’’ नामक दो पत्रकों का निःशुल्क वितरण भी इस स्टाल द्वारा किया जा रहा है। क्षेत्रीय आयुर्वेदिक/यूनानी अधिकारी, लखनऊ, डा0 अरूणेश चन्द्र त्रिपाठी ने आह्वान किया कि आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन समाचार-पत्र, पत्रिकाओं, टी0वी0 एवं इण्टरनेट में दिये गये विज्ञापनों के माध्यम से करना स्वास्थ्य के लिये हानिकर है। अतएव किसी भी स्थिति में साध्य व असाध्य रोगों की चिकित्सा भ्रामक विज्ञापनों को पढ़कर न करें और किसी योग्य आयुर्वेद चिकित्सक की सलाह पर ही आयुर्वेदिक औषधियों का सेवन करें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

देश भर में रक्तदान का अभियान चलाया

Posted on 08 December 2012 by admin

एचडीएफसी बैंक ने शुक्रवार 7 दिसंबर 2012 को देश भर में रक्तदान का अभियान चलाया। बड़ी संख्या में स्वयंसेवकों ने 572 स्थानों में 974 केंद्रों पर रक्तदान कर इसे भारत का सबसे बड़ा एकदिवसीय रक्तदान अभियान बना दिया। बैंक ने इस अभियान में तकनीकी सहायता के लिए रेड क्रॉस, देश भर के बड़े अस्पताओं और ब्लड बैंकों का सहयोग लिया।

hdfc-bank-donation-campaign-2012ये रक्तदान केंद्र सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक खुले रहे। इन केंद्रों पर एचडीएफसी बैंक के अधिकारियों और ग्राहकों समेत बड़ी संख्या में लोग रक्त दान करने के लिए आगे आये। एचडीएफसी बैंक के उच्च प्रबंधन में से कई अधिकारियों ने दिन की शुरुआत में ही सबसे पहले रक्तदान किया। इस वर्ष पहली बार छात्रों ने भी रक्तदान शिविर में बड़ी भूमिका निभायी। देश भर के अग्रणी कॉलेजों में इन रक्तदान शिविरों को लगाया गया, ताकि नौजवानों को इस तरह की बेहद जरूरी पहल में भागीदारी के लिए प्रोत्साहित किया जा सके। अपने छठे वर्ष में यह अभियान बैंक के असरदार सामाजिक एजेंडा का एक हिस्सा है, जिससे सार्थक योगदान के साथ लोगों की जिंदगी में एक अंतर लाया जा सके।

बैंक ने शिविर लगाने की यह पहल 2007 में शुरु की थी, जब 4000 से ज्यादा स्वयंसेवी राष्ट्र हित के लिए आगे आये। तब से यह शिविर अपने आकार और क्षमता में बढ़ा है। शिविर लगने के पहले वर्ष में ही 4000 यूनिट से ज्यादा रक्त एकत्रित किया गया था। पिछले वर्ष इस रक्त संग्रहण की मात्रा दस गुना बढ़ कर 40,000 यूनिट से ज्यादा हो गयी है।

श्री भावेश ज़वेरी, कंट्री हेड, ऑपरेशन ऐंड कैश मैनेजमेंट प्रोडक्ट, एचडीएफसी बैंक ने कहा, “रक्त बहुमूल्य है, खास कर हमारे देश में, क्योंकि यहाँ इसकी माँग-आपूर्ति में काफी अंतर रहता है। लोगों की जिंदगी बदलने के प्रयासों के तहत हमने अपने रक्तदान अभियान का विस्तार किया है। इसमें बैंक से जुड़े लोग और अन्य लोग भी रक्तदान करने के लिए आगे आते हैं। हम उन सभी लोगों का धन्यवाद करते हैं जो इस बार के अभियान में आगे आये। हमें आशा है कि अगले वर्ष इस अभियान का और भी विस्तार होगा, जिसमें रक्तदान करने वालों की संख्या और रक्तदान की मात्रा भी बढ़ेगी।”

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

रूद्रक्ष सभी लोगों के मन और मस्तिष्क में एक विशिष्ट स्थान रखता है

Posted on 01 December 2012 by admin

रूद्रक्ष सभी लोगों के मन और मस्तिष्क में एक विशिष्ट स्थान रखता है क्योंकि इसका संबन्ध पीढि़यों से शक्तिशाली शिव के साथ है। यह निर्भयता, आत्मविश्वास, अच्छे स्वास्थ्य, रक्तचाप नियन्त्रण, तनाव और चिंता नियंत्रण की पेशकश करने के लिए माना जाता है। किस्मत, सफलता, विकास, आध्यात्मिकता, वैवाहिक/पारिवारिक आनंद, भौतिक लाभ और सुरक्षा, कम लोगों को पता है कि इन मोतियां में विद्युतचुम्बकीय, पैसमैग्नेटिक और आगमनात्मक गुण है जो वैज्ञानिकता से मापे गये और अपने आप पर एक सकारात्मक प्रभाव अनुभव होता है जब इन मोतियों को त्वचा से छूता हुआ पहना जाता है। सच्चे ज्ञान और अद्भुत मोती के आसपास के रहस्यों के द्वारा लोकप्रिय होने के बाद रूद्रालाइफ, तनय सीता द्वारा 2001 में अपने शानदार पिता कमल नारायण सीता के मार्गदर्शन के तहत सेमिनारों और प्रदर्शनियों के माध्यम से जनता को शिक्षित करने के लिए एक मिशन की शुरूआत की। रूद्रालाइफ 500 के बारे मंें आज तक भारत में और विदेशों में प्रदर्शनियों का आयोजन किया गया है। कई टीवी शो, साथ ही प्रिंट और इलेक्ट्राॅनिक मीडिया में विभिन्न लेख और प्रस्तुतियों के रुप अच्छी तरह से पता चलता है कि रूद्राक्ष पर बनाया गया जागरूकता के विशेषज्ञों ने दुनिया भर के लोगों से मुलाकात की है और उनके अनुभवों का अध्ययन, अंकज्योतिष/ज्योतिष पर आधारित संयोजन की सिफारिश की एक अनूठी रणनीति विकसित कर रहे है। इस रूद्रालाइफ से सिफारिशों का लाभ हुआ है कि दुयिा भर में लोगों को और रूद्रालाइफ के बहुत सारे असंख्य प्रशंसापत्र प्राप्त हुए है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

54 लाख लोगों की तम्बाकू के इस्तेमाल से मौत हो जाती है

Posted on 30 November 2012 by admin

smoking-cigrateविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक हर साल करीब 54 लाख लोगों की तम्बाकू के इस्तेमाल से मौत हो जाती है. स्मोकिंग धीरे-धीरे शौक से आदत बन जाती है. हालांकि ज्यादातर लोग स्मोकिंग से होने वाले नुकसान से अच्छी तरह वाकिफ होते हैं लेकिन एक बार लत लगने के बाद इससे छुटकारा पाना उनके लिए बेहद मुश्किल हो जाता है.

अगर आप भी स्मोकिंग छोड़ने की लाख कोशिशों के बावजूद इसे नहीं छोड़ पा रहे हैं तो हम आपकी मदद कर सकते हैं.

1. सबसे पहले अपनी विल पॉवर को मजबूत करिए और हर कोशिश से पहले खुद से किसी भी कीमत पर इससे छुटकारा पाने का वादा कीजिए.

2. 100 ग्राम अजवाइन के साथ 100 ग्राम मोटी सौंफ और 60 ग्राम काला नमक बारीक करके पीस लें और दो नींबू का रस निचोड़ कर अच्‍छी तरह से मिक्स कर लें. रात भर के लिए इसे ऐसे ही रहने दें. सुबह होने पर धीमी आंच पर तवे पर भून लें और फिर एक डिब्बे में रख दें. दिन में 5-6 बार या सिगरेट पीने की तलब होने पर एक चम्मच ये पाउडर लें.

3. सिगरेट, लाइटर, माचिश और ऐश ट्रे को खुद से बहुत दूर रखें. इन्हें ऐसी जगह पर रखें जहां से इसे तलाशना आपके लिए आसान न हो. हो सके तो घर पर इन्हें न ही रखें.

4. अपने पसंद के काम करें. खासतौर पर जब भी आपका मन सिगरेट पीने का करें तो खुद को व्यस्त कर लें. स्मोकिंग छूट जाने के बाद भी खाली वक्त में अपनी हॉबीज को वक्त दें. इससे आप बिजी रहेंगे और आपको खुशी भी महसूस होगी.

5. आपके दोस्तों और परिवार में अगर कोई और भी स्मोकिंग करता है तो उसे इससे होने वाले नुकसानों के बारे में समझाएं. उसे भी सिगरेट छोड़ने के लिए मनाएं. वैसे भी कहते हैं न एक से भले दो.

6. सिगरेट छोड़ने पर सिरदर्द, बेचैनी, जी मचलाना और थकान जैसी शिकायतें हो सकती हैं. इससे घबराएं नहीं. दो-तीन हफ्ते में आप पूरी तरह नॉर्मल महसूस करने लगेंगे.

7. इसके अलावा जब तक सिगरेट छूट न जाए, तब तक लो-टार और निकोटीन वाली सिगरेट पिएं. सिगरेट को बिल्‍कुल आखिर तक न पिएं और सिगरेट के कम कश लें. सिगरेट पीते वक्‍त अंदर सांस न खींचें. हर दिन सिगरेट गिनकर पिएं और रोज सिगरेट की संख्या में धीरे-धीरे कमी लाएं.

Vikas Sharma
Editor
www.upnewslive.com ,
www.bundelkhandlive.com ,
E-mail : vikasupnews@gmail.com,
editor@bundelkhandlive.com
Ph-  09415060119

Comments (0)

बीमारी दूर भगाए अंजीर

Posted on 30 November 2012 by admin

अगर आपका इम्यून सिस्टम मजबूत है तो आपको सेहत संबंधी समस्याओं का सामना कभी भी नहीं करना पड़ेगा. रोगों से लड़ने की क्षमता इस पर निर्भर करती है कि आप कितनी पौष्टिक और संतुलित डाइट लेते हैं. फलों में एंटीऑक्सीडेंट तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो संक्रमण और रोग से लड़ने की क्षमता बढ़ाते हैं. ऐसा ही एक फल है अंजीर. इसमें कैल्शियम और आयरन काफी मात्रा में पाया जाता है. ये दिमा़ग को शांत रखता है और शरीर को आराम देता है.

डायबिटीज में अंजीर बहुत उपयोगी होता है. अंजीर में आयरन और कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाए जाने के कारण ये एनीमिया में भी फायदेमंद होता है. अंजीर में विटमिन ए, बी1, बी2, कैल्शियम,आयरन, फॉस्फोरस, मैगनीज, सोडियम, पोटैशियम और क्लोरीन पाया जाता है. इसका सेवन करने से डायबिटीज, सर्दी-जुकाम, अस्थमा और अपच जैसी तमाम बीमारियां दूर हो जाती हैं. जानते हैं अंजीर की कुछ और खासियत-
1. अंजीर पोटैशियम का अच्छा स्रोत है, जो ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखता है.

2. अंजीर में फाइबर होता है जो वजन को संतुलित रखता है और ओबेसिटी को कम करता है.
3. सूखे अंजीर में फेनोल, ओमगा 3, ओमेगा 6 होता है. ये फैटी एसिड कोरोनरी हार्ट डिजीज के खतरे को कम करने में मदद करता है.
4. इसमें पाए जाने वाले फाइबर से पोस्ट मेनोपॉजल ब्रेस्ट कैंसर होने का भय नहीं रहता.
5. अंजीर में कैल्शियम बहुत होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाने में सहायक होता है.
6. कम पोटैशियम और अधिक सोडियम लेवल के कारण हाइपरटेंशन की समस्या पैदा हो जाती है लेकिन अंजीर में पोटैशियम अधिक होता है और सोडियम कम होता है इसलिए ये हाइपरटेंशन की समस्या होने से बचाता है.
7. दो अंजीर को बीच से आधा काटकर एक ग्लास पानी में रात भर के लिए भिगो दें. सुबह उसका पानी पीने और अंजीर खाने से रक्त संचार बढ़ता है

Vikas Sharma
Editor
www.upnewslive.com ,
www.bundelkhandlive.com ,
E-mail : vikasupnews@gmail.com,
editor@bundelkhandlive.com
Ph-  09415060119

Comments (0)

पोलियो एक गम्भीर बीमारी है

Posted on 04 November 2012 by admin

प्रदेश की जनता को इससे निजात दिलायी जाये, इसे समूल नष्ट किया जाय। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री अहमद हसन ने यह विचार अवन्तीबाई चिकित्सालय में नवजात शिशुओं को जिन्दगी के दो बून्द पिलाकर पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए व्यक्त किये। इस अवसर पर प्रचार वाहनों को हरी झंडी दिखाकर मंत्री जी ने रवाना किया।
स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम प्रदेश की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है तथा प्रदेश ने पोलियो उन्मूलन में अभूतपूर्व उपलब्धि हासिल की है। प्रदेश में पोलियो उन्मूलन के लिए पिछले एक दशक से अनवरत प्रयास किये जा रहे हैं और अब प्रदेश पोलियो उन्मूलन की लक्ष्य प्राप्ति के बहुत करीब है। श्री हसन ने कहा कि प्रदेश के इतिहास में पहली बार पिछले 2 वर्ष 6 महीनों में से एक भी पोलियो का मामला प्रकाश में नहीं आया है तथा खतरनाक पी-1 प्रकार का कोई भी पोलियो केस पिछले 2 वर्ष 11 महीनों में नहीं पाया गया है, जो कि पोलियो उन्मूलन कार्यक्रम की वृहत सफलता का संकेत है।
इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि देश में पोलियो का कोई भी मामला न होने पर भी बाहर के देशों से पुनः पोलियो संक्रमण का खतरा बना हुआ है। अतः उत्तर प्रदेश सरकार इस अभूतपूर्व उपलब्धि को बनाये रखने के लिए पोलियो अभियानों में अपने प्रयासों में कोई कमी नहीं आने देगी। राज्य एवं जनपद स्तर पर कार्यक्रम का सतत अनुश्रवण एवं क्रियान्वयन किया जा रहा है, जिससे कार्यक्रम की प्रगति का आकलन तथा कमियों को चिन्हित कर उन्हें दूर किया जा सके।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश के सभी 75 जिलों में सघन पल्स पोलियो अभियान चलाया जा रहा है जिसके तहत 3 करोड़ 82 लाख बच्चों को पोलियो खुराक पिलायी जायेगी। इस कार्य के लिए 4 नवम्बर, 2012 को 1,09,434 बूथों पर 0-5 वर्ष तक के बच्चों को दवा पिलायी जायेगी तथा 5 से 9 नवम्बर तक 62,445 टीमें घर-घर जाकर छूटे हुए बच्चों को दवा पिलायेगीं। श्री अहमद हसन ने प्रदेश की समस्त जनता से अपील की है कि वह अपने सभी नवजात शिशुओं एवं 5 वर्ष तक के सभी बच्चों को बूथ पर ले जाकर पोलियो की खुराक की 2 बूंद अवश्य पिलवायें, जिससे कि पोलियो की बीमारी को प्रदेश/देश में फैलने से रोका जा सके।
इस अवसर पर विशेष सचिव डा0 चिरंजी लाल, महानिदेशक स्वास्थ्य डा0 रमा सिंह, महानिदेशक परिवार कल्याण डा0 एस.टी हुसैन तथा मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एस0एन0एस0यादव सहित उच्चाधिकारी उपस्थित थे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

स्पताल में प्रतिदिन आने वाले मरीजों की संख्या 3000 से बढ़कर 10,000

Posted on 13 October 2012 by admin

उत्तर प्रदेष के चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अहमद हसन ने कहा है कि डा0 राम मनोहर लोहिया के विचारों से प्रेरणा लेकर हम सभी उन्नति के पथ पर अग्रसर हो सकते हैं। श्री हसन आज प्रात 9 बजे गोमती नगर स्थित डा0 राम मनोहर लोहिया संयुक्त चिकित्सालय में श्री लोहिया के निर्वाण दिवस पर उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण के पष्चात उपस्थित चिकित्सकों व कर्मचारियों को सम्बोधित कर रहे थे।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि गरीब जनता को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराना ही डा0 लोहिया के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। अस्पताल में प्रतिदिन आने वाले मरीजों की संख्या 3000 से बढ़कर 10,000 होने पर मंत्री जी ने संतोष व्यक्त किया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस अस्पताल को एक आदर्ष अस्पताल  बनाना होगा। सरकार की तरफ से बजट की कोई कमी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि 01 करोड़ 25 लाख की लागत से डिजिटल एक्सरे मषीन लगायी जायेगी, जो अब तक किसी अस्पताल में नहीं लगी है। मंत्री जी ने नर्सिंग स्टाफ से अपेक्षा की कि वे निर्धारित से अधिक समय देकर तथा मृदुभाषी बनकर गरीब मरीजों की सेवा करें।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

स्वाइन फ्लू की आषंका को दृष्टिगत रखते हुए अधिकारियों को निर्देंष दिये

Posted on 04 October 2012 by admin

प्रदेष के नगर विकास एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मोहम्मद आज़म खाॅं ने स्वाइन फ्लू की आषंका को दृष्टिगत रखते हुए अधिकारियों को निर्देंष दिये हैं कि समस्त नगरीय क्षेत्रों में सघन सफाई अभियान चलाया जाये। उन्होंने कहा है कि समय-समय पर जिलाधिकारियों एवं उप जिला मजिस्ट्रेट औचक निरीक्षण कर इस अभियान को सफल बनायंे। नगर आयुक्त अपने क्षेत्र में नियमित निरीक्षण कर उत्कृष्ट सफाई व्यवस्था सुनिष्चित करायें। उन्होंने कहा कि इस काम में किसी प्रकार की कोताही बर्दाष्त नहीं की जायेगी।
नगर विकास मंत्री ने जिलाधिकारियों को इस बीमारी के रोकथाम हेतु नियमित रूप से नगर पालिका परिषद एवं नगर पंचायतों के अधिषासी अधिकारियों के द्वारा चलाये जा रहे अभियान की समीक्षा करने के निर्देंष भी दिये है। उन्होंने कहा है स्वाइन फ्लू के कैरियर पषुओं तथा सुअरों को क्वारनटाइन करने की कार्यवाही भी आवष्यकतानुसार सुनिष्चित की जाय एवं बीमारी की रोकथाम हेतु सभी आवष्यक उपाय सुनिष्चित किये जायंे।
इस संबंध में शासन की ओर से समस्त जिलाधिकारियों तथा समस्त नगर आयुक्तों को परिपत्र द्वारा भी निर्देंष दे दिये गये हैं।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

वृहद रक्तदान षिविर का आयोजन किया गया

Posted on 02 October 2012 by admin

blood-donation1 अक्टूबर 2012 को किंग जार्ज चिकित्सा विष्वविद्यालय में राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान के अवसर पर एक संगोष्ठी एवम् वृहद रक्तदान षिविर का आयोजन किया गया।
उक्त समारोह में मुख्य अतिथि प्रोफेसर डी0के0 गुप्ता कुलपति किंग जार्ज चिकित्सा विष्वविद्यालय, श्री आषीष कुमार गोयल परियोजना निदेषक उ0प्र0 एड्स नियंत्रण सोसायटी लखनऊ, श्री अमित घोष मिषन निदेषक एन0आर0एच0एम0 उ0प्र0 शासन, डा0 एस0टी0हुसैन महानिदेषक परिवार कल्याण, उ0प्र0 शासन, डा0 रमा सिंह महानिदेषक चिकित्सा स्वास्थ्य उ0प्र0 शासन, उपस्थित थे।
डा0 आषोक शुक्ला संयुक्त सचिव, उ0प्र0 एड्स नियंत्रण सोसायटी, डा0 नरसिंह वर्मा एवम् डा0 तुलिका चन्द्रा ने कार्यक्रम का संचालन किया।
इस अवसर पर स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में कार्यरत राज्य की अग्रणी संस्थाओ को सम्मानित किया गया एवम् उनके कार्याे को सराहा गया।
जिन संस्थाओ को संम्मानित किया गया उनके नाम है,

राम स्वरूप मेमोरियल, इंजीनियरिंग कॅंालेज, लारसेन एण्ड टूब्रो, संत निरंकारी मण्डल, उदय वेलफेयर फाउण्डेषन, उ0प्र0 डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसियेषन, हरिओम सेवा केन्द्र, लायन्स क्लब, इण्टरनेषनल मण्डल, जार्जियन्स होप, सत्य साई सेवा समिति, रेड क्रास सोसायटी, इण्डियन आॅंयल कारपोरेषन, ईष्वर चाइल्ड वेलफेयर फाउण्डेषन, टाटा कन्सल्टेन्सी सर्विस,रिलायंन्स कम्युनिकेषन, एवम् भारत इन्फ्राटेल लिमिटेड।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

November 2017
M T W T F S S
« Oct    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  
-->









 Type in