*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | गौतमबुद्ध नगर

निर्दोष किसानों के विरुद्ध पंजीकृत मुकदमों को जनहित एवं न्यायहित में वापस ले लिया गया है

Posted on 03 November 2012 by admin

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि मई, 2011 में जनपद गौतमबुद्धनगर के थाना दनकौर में ग्राम भट्टा व परसौल के निर्दोष किसानों के विरुद्ध पंजीकृत मुकदमों को जनहित एवं न्यायहित में वापस ले लिया गया है। सरकार के इस फैसले से भारी संख्या में निर्दोष किसानों को राहत मिली है। पिछली बसपा सरकार में निर्दोष किसानों का उत्पीड़न करने की नीयत से दर्ज किये गये मुकदमों को वापस लेने की घोषणा उन्होंने पहले ही कर दी थी।
ज्ञातव्य है कि संघर्ष समिति के नेतृत्व में ग्राम भट्टा व परसौल के किसान  मई, 2011 में अपनी जमीनों का मुआवजा बढ़ाए जाने के लिए शांतिपूर्ण आन्दोलन कर रहे थे। पिछली सरकार के इशारे पर प्रदर्शन के दौरान ही आन्दोलनरत किसानों के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के अन्तर्गत विभिन्न आरोप लगाकर झूठे मुकदमे दर्ज किए गए थे। इनमें से अधिकतर मुकदमे जनपद गौतमबुद्ध नगर के थाना दनकौर में श्री मानवीर सिंह तेवतिया, प्रेमवीर, काले सिंह, गजे सिंह, किरणपाल, धन सिंह व अन्य के विरुद्ध दर्ज किए गए थे। पिछली सरकार ने किसानों पर ये मुकदमे भूमि अधिग्रहण का विरोध करने तथा वाजिब मुआवजा मांगने पर उन्हें उत्पीडि़त करने की नीयत से लगाए थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पूर्व साईकिल यात्रा के दौरान किसानों की मांग पर उन्होंने किसानों पर दर्ज किए गए झूठे मुकदमे वापस लेने का वादा किया था। राज्य सरकार ने किसानों से किए गए वादे को निभाते हुए भट्टा व परसौल के निर्दाेष किसानों के विरुद्ध कपटपूर्ण ढंग से दर्ज किए गए मुकदमों को वापस ले लिया है। चुनाव के दौरान जनता से किए गए वादों में से एक और वादा राज्य सरकार ने पूरा कर दिया है।
श्री यादव ने कहा कि इन मुकदमों का विभिन्न स्तरों पर परीक्षण करने के उपरान्त ही इन्हें वापस लेने का निर्णय लिया गया। इन मुकदमों के सम्बन्ध में स्थानीय प्रशासन द्वारा शासन को उपलब्ध कराई गई आख्या से यह तथ्य संज्ञान में आया कि अधिग्रहीत जमीन का समुचित मुआवजा न मिलने के कारण ही किसान आन्दोलन के लिए बाध्य हुए थे। उन्होंने बताया कि सम्यक विचारोपरान्त भट्टा व परसौल प्रकरण में अभियुक्त बनाए गए किसानों को मुकदमेबाजी की प्रताड़ना से बचाने तथा जनहित एवं न्यायहित में इनके विरुद्ध दर्ज मुकदमे वापस ले लिए गए हैं। इन मुकदमों को वापस ले लेने से भारी संख्या में किसानों को राहत मिली है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

सनबर्न फेस्टिवल के आयोजन की घोषणा

Posted on 29 September 2012 by admin

परसेप्ट लि., भारत में मनोरंजन, मीडिया और संचार के क्षेत्र की अग्रणी कंपनी, ने 7 अक्टूबर 2012 को नोएडा में पहले सनबर्न फेस्टिवल के आयोजन की घोषणा की है। एशिया का नं. 1 और विश्व का नं. 9 (सीएनएन डाॅट काॅम) इलेक्ट्राॅनिक डांस म्यूजिक (ईडीएम) फेस्टिवल सनबर्न नोएडा में अपने शुभारंभ के लिये तैयार है तथा विश्व के महानतम कलाकारों के साथ उच्च उत्साही दर्शकों की उपस्थिति से युक्त एक श्रृंखला के साथ शानदार जीवन शैली उत्सव के अनुभव की पेशकश करने जा रहा है। पहली बार विश्व के नं. 7 सुपरस्टार डीजे, डीजे अफ्रोजैक सनबर्न नोएडा में परफाॅर्म करेंगे। इस उत्सव में दो विशाल मंच तैयार किये जायेंगे, जो सर्वश्रेष्ठ डीजे के परफाॅमेंस और दर्शकों के थिरकन के साक्षी बनेगे। डीजे अफ्रोजेक के अतिरिक्त यहां पर एवर इक्लेक्टिक मोगल और डायनेमिक द्वय प्रोक एंड फिच की धूम रहेगी, जो सनबर्न नोएडा में परफाॅर्म करेंगे। कनाडाई गौरव और 26वें आइडीएमए के ’’बेस्ट ब्रेक थ्रू आर्टिस्ट’’ अर्नेज इस फेस्टिवल के लिये रोमांचकारी टोन तैयार करेंगे। इस उन्माद में वृद्धि करने के लिये तथा इस उत्सव में हंगामा खड़ा करने के लिये एक अति प्रसिद्ध साइ ट्रांस बैंड एस्ट्रल प्रोजेक्शन, जो इजरायल से आ रहा है, को पेश किया जायेगा। भारत के नं.2 डीजे पर्ल अपने सांस रुका देने वाले सेट्स के साथ मंच पर तूफान मचा देंगे। डीजे मैग भारत के नं. 1 अर्जुन वागले, ऐश राॅय और मैश भी मंच पर धूम मचा देंगे, जबकि निखिल चिनप्पा इस उत्सव की मेजबानी करेंगे। प्रत्येक सनबर्न की बहु प्रतीक्षित खासियत सनबर्न पोस्ट पार्टी होती है, जो नोएडा में भी प्रमुख उत्सव के तुरंत बाद आयोजित की जायेगी। सनबर्न नोएडा 2012 का शुभारंभ खूबसूरत यूनिटेक गोल्फ कोर्स एंड कंट्री क्लब में अपरान्ह 3 बजे होगा। इस फेस्टिवल की थीम ’’कार्निवल-वेयर योर सनबर्न लुक’’ होगा तथा दर्शकों को आकर्षित और सम्मोहित करने में सफल होगा। इसका उद्देश्य लोगों को उन्माद के खुमार में डुबो कर सनकी स्टाइल के साथ प्रस्तुत होने के लिये प्रेरित करना है। यहां पर रोचक सनबर्न नोएडा लाइन भी होगी, जो कि इस फेस्टिवल के लिये प्रख्यात डिजाइनर्स नोएडा लाइन के सहयोग से लान्च की जायेगी। इन्हें फेस्टिवल में प्रदर्शित किया जायेगा तथा इन्हें इस आयोजन स्थल पर लाया जा सकेगा।

शैलेन्द्र सिंह, संयुक्त प्रबंध निदेशक, पर्सेप्ट लि., ने कहा कि, ’’पर्सेप्ट संचार एवं मनोरंजन व्यवसाय में अग्रदूत है और यह अपने ग्राहकों में अन्तर्निहित व्यावसायिक क्षमता को समझाता है। अपने 6वें वर्ष में प्रवेश के साथ सनबर्न एक मात्र भारतीय मनोरंजन इवेंट है, जिसके दर्शक और प्रशंसक समूचे देश में फैले हुये हंै। क्रिकेट और बाॅलीवुड के अतिरिक्त कोई अन्य चीज विभिन्न पृष्ठभूमियों वाले लोगों को एक साथ नहीं ले कर आ सकती। हमारा वास्तव में यह विश्वास है कि सनबर्न उत्तर भारत के लोगों को एकजुट करने इलेक्ट्राॅनिक डांस म्यूजिक के माध्यम से एक सशक्त मंच उपलब्ध करायेगा। सनबर्न प्रत्येक वर्ष भारत में त्योहार के मौसम के शुभारंभ का प्रतीक है।’’

सनबर्न न सिर्फ अपने दर्शकों को समूचे विश्व के संगीत व कलाकारों के सर्वश्रेष्ठ समूहों को उपलब्ध कराता है, बल्कि ऐसी आधुनिकतम तकनीक और प्रभाव का निर्माण करता है जो लोगों के लिये एक उत्तम नयनाभिराम दृश्य के समान होता है। लिक्विड नाइट्रोजन बस्टर््स, सीओ 2 कैनन, क्रायो-बोर्ग, पाइरोटेक्निक्स, एलईडी मेश, स्प्रे गन्स, 3डी प्रोजेक्शन मैपिंग जैसे अतिरिक्त आकर्षणों के रणनीतिक समायोजन के साथ यह विभिन्न कलाकारों के अभिनय का जरिया बन जायेगा। सनबर्न फेस्टिवल एशिया का अग्रणी इलेक्ट्राॅनिक डांस म्यूजिक (ईडीएम) फेस्टिवल है। यह पर्सेप्ट की उत्कृष्ट लाइफस्टाइल अनुभव प्रदान करने वाली वार्षिक संपत्ति है, जिसका शुभारंभ वर्ष 2007 में गोवा में हुआ था। संगीत, मनोरंजन, खान-पान, खरीदारी और जीवन शैली की सहक्रियात्मकता से युक्त इस 3 दिवसीय फेस्ट के जरिये गोवा संगीत पर्यटन को आकर्षित करता है। पिछले पांच वर्षों के अपने अस्तित्व के साथ सनबर्न दिसंबर में तीन दिन की अवधि में एक लाख से अधिक दर्शकों का मनोरंजन करने के लिये भारत तथा विश्व के प्रख्यात डीजेज को लेकर आता है। सनबर्न में परफार्म करने वाले कुछ पूर्ववर्ती वैश्विक ईडीएम हस्तियों में अर्मिन वाॅन ब्यूरेन, एक्सवेल, एबव एंड बियांड, पाॅल वाॅन डाइक, एविसी, स्काजी, इनफेक्टेड मशरुम, पीट टोंग, डैश बर्लिन इत्यादि शामिल हैं। यह भारत तथा अन्तर्राष्ट्रीय जगत के व्यापक दर्शकों की आवश्यकताओं की पूर्ति करता है तथा भारत को विश्व के एक डांस फेस्टिवल गन्तव्य के रुप में प्रदर्शित करता है। इसे वर्ष 2008 और 2010 में बेस्ट लाइव एंटरटेनमेंट इवेंट आॅफ दी ईयर के रुप में चिन्हित किया गया तथा साथ ही डब्लूओडब्लू अर्वाड्स के अन्तर्गत इसे वर्ष 2011 में बेस्ट फेस्टिवल आॅफ दी ईयर से नवाजा गया। पिछले 5 वर्षों से इलेक्ट्राॅनिक डांस म्यूजिक परिदृश्य पर राज करने के उपरान्त सनबर्न का अप्रैल 2012 में आयोजन किया गया था और यह 6 सितंबर को कोलंबो, श्रीलंका में आयोजित होगा। कैंडोलिम बीच के हृदयस्थल में आयोजित होने वाले इस फेस्टिवल में इसके विभिन्न संस्करणों के दौरान 90 प्रतिशत भारतीय एवं 10 प्रतिशत विदेशी दर्शकों की मिश्रित उपस्थिति दर्ज हुयी है। सनबर्न का स्वस्थ मनोरंजक आयोजन का इतिहास रहा है। गोवा पर्यटन परिषद तथा कानून व प्रवर्तन मंत्रालय द्वारा समर्थित सनबर्न ने अपने इवेंट के अबाध और मर्यादित तरीके से संचालन हेतु सरकारी नियमों और दिशा-निर्देशों का सख्ती से पालन किया है। सनबर्न गोवा में अपने शुभारंभ के समय से तथा इसके बाद के मुंबई व कोलंबो के परवर्ती संस्करणों द्वारा सदैव ही मादक द्रव्यों से मुक्त जोन्स का सृजन करने का गौरव प्राप्त किया है।

स्थानीय पुलिस और निजी गार्ड्स के रुप में अतिरिक्त सुरक्षा सदैव ही फेस्टिवल क्षेत्र की निगरानी रखती है। इवेंट के पहले और इसके दौरान एंटी नार्कोटिक सेल पूरी तरह सक्रिय रहता है, ताकि मादक द्रव्यों के प्रयोग को रोका जा सके। शानदार ग्राउंड प्लानिंग, प्रभावी, स्वास्थ्य व सुरक्षा के साथ ही साथ अवैध द्रव्यों के दुरुपयोग से मुक्त एक कंजक्शन फ्री जोन के साथ सनबर्न नोएडा के लिये सख्त उपाय किये गये हैं। इस वर्ष सनबर्न 27 से 29 दिसंबर 2012 तक एक बार फिर गोवा में आयोजित किया जायेगा। अगले 12 माह में सनबर्न दुबई, जकार्ता और सिंगापुर में धूम मचाने के लिये तैयार है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

एक्सप्रेस-वे से प्रभावित किसानों की सारी समस्याएं निस्तारित करने की मांग की है

Posted on 09 August 2012 by admin

राष्ट्रीय लोकदल के महासचिव व प्रवक्ता अनिल दुबे ने नोएडा से आगरा के बीच 165 कि0मी0 लम्बे यमुना एक्सप्रेस-वे को शुरू करने से पूर्व एक्सप्रेस-वे से प्रभावित किसानों की सारी समस्याएं निस्तारित करने की मांग की है।
आज जारी अपने बयान में श्री दुबे ने कहा कि प्रदेश सरकार ने सत्ता में आने से पूर्व और आने के बाद भी यमुना एक्सप्रेस-वे के किसानों की सारी समस्याओं, जिनमें एक्सप्रेस-वे पर सर्विस लेन बाजना में एक्सप्रेस-वे पर कट, जिन किसानों की जमीन एक्सप्रेस-वे में ली गयी है, उन्हें आजीवन टोल फ्री की सुविधा देने तथा जे0पी0 ग्रुप को दिये गये 500-500 एकड़ के लैण्ड पार्सल में जिन किसानों ने सहमति पत्र पर हस्ताक्षर नहीं किये थे, उनकी जमीन वापस दिलाने की मांगे प्रमुख थी, परन्तु इन समस्याओं के निराकरण के बगैर प्रदेश सरकार द्वारा इस एक्सप्रेस-वे का लोर्कापण किया जा रहा है, जोकि यहां के किसानों के साथ अन्याय है।
श्री दुबे ने इस एक्सप्रेस-वे पर प्रस्तावित 2.10 पैसे/कि0मी0 के हिसाब से टोल फ्री टैक्स की दर को भी बहुत अधिक बताते हुये राज्य सरकार से इस दर कोे आधा करने तथा एक्सप्रेस-वे के किसानों की समस्याओं का स्थायी निराकरण लोकार्पण से पूर्व कराने के साथ साथ एक्सप्रेस-वे के विरोध में बाजाना में आन्दोलन करने वाले किसानों पर दर्ज मुकदमें भी तत्काल वापस लेने की माँग करते हुये कहा है कि यदि सरकार ने इस पर ध्यान न दिया तो किसान आन्दोलन को मजबूर होंगे।
श्री दुबे ने बताया कि गन्ना मूल्य के बकाया भुगतान, खाद की काजाबाजारी, बिजली संकट, साम्प्रदायिक दंगे, बिगड़ती कानून एवं व्यवस्था, सूखा आदि समस्याओं को  लेकर प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर चेतावनी स्वरूप धरना व ज्ञापन प्रदेश अध्यक्ष बाबा हरदेव सिंह द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार कल 9 अगस्त को सभी जिलों में किया जायेगा। लखनऊ में प्रदेश अध्यक्ष बाबा हरदेव सिंह के नेतृत्व में पार्टी का 9 सदस्यीय प्रतिनिधि मण्डल अपरान्ह 12.00 बजें प्रदेश के महामहिम श्री राज्यपाल से मिलकर ज्ञापन देगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

राष्ट्रवादी विचारधारा से प्रेरित होकर भारतीय जनता पार्टी का जन्म हुआ

Posted on 08 April 2012 by admin

a1भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं ने बड़े ही धूम धाम के साथ ३२ वां स्थापना दिवस मनाया  इस दौरान शुक्रवार को सेक्टर २७ स्थित कैलाश अस्पताल के सभागार में एक गोष्टी का आयोजन हुआ    भारतीय जनता पार्टी के ३२वें स्थापना दिवस पर आयोजित गोष्टी में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ट नेता एवं पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कलराज मिश्र मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थे  उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के बारे में बताते हुए कहा कि १९५१ में पार्टी का सफ़र जन संघ के रूप में स्थापित पार्टी के साथ हुआ लेकिन  घटक दलों के साथ विचार धारा ना मिलने के कारण  ६ अप्रल सन १९८० में राष्ट्रवादी विचारधारा से प्रेरित होकर भारतीय जनता पार्टी  का जन्म हुआ  भारतीय जनता पार्टी ने विभिन्नता में एकता का नारा दिया और जब भारतीय संस्कृति को बढ़ावा देने की बात की तो अन्य राजनितिक पार्टियों ने इसे साम्प्रदायिकता वादी बताया  पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कलराज मिश्र ने कहा कि साल २०१४ में होने वाले लोक सभा चुनाव में सत्ता परिवर्तन होगा और भारतीय जनता पार्टी बहुमत के साथ जीत हासिल करेगी  सभा के दौरान विधयक महेश शर्मा,महानगर अध्यक्ष विजेंद्र नगर,महामंत्री दिनेश डिमरी,संजय बाली,अमित त्यागी,मस्टर रविंदर त्यागी,रमेश चन्द्र महावर,चन्दगी राम यादव,कुलदीप तंवर,सतीश गौतम,डिम्पल आनंद अध्यक्ष महिला मोर्चा,ब्रिजपाल चौहान,मोहन शर्मा,पप्पू बृजवासी,शम्भू प्रसाद पोखरियाल,उमेश त्यागी,गंगा जोशी,राम मल्होत्रा,एहसान खान,सरफराज अली,गिरीश कोट लाला,सरदार गुरुप्रीत सिंह,ए पी सक्सेना,रिंकू नम्बरदार,निखिल गुप्ता,डी एन सिंह, समेत भारतीय जनता पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्त्ता मौजूद थे

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

यूपी में जनता को गुमराह करने के लिए तकरार अब अधिक दिन नहीं चलने वाला

Posted on 26 February 2012 by admin

भारतीय जनता पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने आज यहां गौेतमबुद्वनगर के जेवर व दादरी विधानसभा में चुनावी जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस, सपा व बसपा का दिल्ली में प्यार और यूपी में जनता को गुमराह करने के लिए तकरार अब अधिक दिन नहीं चलने वाला। प्रदेश की जनता परिवर्तन चाहती है। उन्होंने दावा किया कि इस बार प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी। भाजपा ही एक ऐसी पार्टी है जो प्रदेश को सुशासन दे सकती है और भ्रष्टाचार, अपराध, महंगाई से मुक्ति दिला सकती है।
श्री सिंह ने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार की गलत नीतियों के कारण महंगाई बेकाबू हो गई है। उत्तर प्रदेश की बसपा सरकार ने भी भ्रष्टाचार के तमाम रिकार्ड तोड़ दिए है। सपा पर कटाक्ष करते हुए श्री सिंह ने कहा कि मुलायम सिंह के राज मंे प्रदेश में पूरी तरह गुंडाराज स्थापित हो गया था। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने पर भ्रष्टाचारियों व अपराधियों को किसी भी सूरत में नहीं बक्शा जायेेगा। उनको जेल जाना ही होगा। श्री सिंह ने कहा कि सपा सरकार ने खाद्यान्न घोटाले में हजारों करोड़ का घोटाला किया तथा जमकर गुंडागर्दी की। बसपा-सपा के दोषियों पर कार्रवाई का सपना दिखाकर सत्ता में है। अब बसपा ने प्रदेश में तथा कांग्रेस ने पूरे देश में घोटाले करते हुए जनता को जमकर लूटा।
श्री सिंह ने कहा कि भाजपा देश में सामाजिक सद्भाव व सामाजिक न्याय चाहती है परन्तु कांग्रेस सपा व बसपा मजहबी आरक्षण के नाम पर एक नए बटवारे की तस्वीर लिखते हुए पिछड़ों के साथ विश्वासघात कर रहे हैं। उन्होंने हिन्दू, मुस्लिम एकता की बात करते हुए कहा कि आरक्षण का माध्यम जाति न होकर सामाजिक शैक्षिक, आर्थिक व पिछड़ापन होना चाहिए। श्री सिंह ने कहा कि अब मौका आ गया है कि जेवर से भाजपा प्रत्याशी श्री सुन्दर सिंह राणा और दादरी से भाजपा प्रत्याशी श्री नवाब सिंह नागर को जीताकर प्रदेश में भाजपा को चुनकर साफ सुथरी सरकार बनाई जाए।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

पार्टी झण्डों से सजी साइकिलों पर सवार जोश से भरे हर उम्र, हर धर्म, हर व्यवसाय के जवान, अधेड़

Posted on 22 October 2011 by admin

हजारों नौजवानों की भीड़, चारों ओर लहराती लाल टोपियां, जिन्दाबाद के गगनभेदी नारे और पार्टी झण्डों से सजी साइकिलों पर सवार जोश से भरे हर उम्र, हर धर्म, हर व्यवसाय के जवान, अधेड़ और कुछ तो आखिरी पड़ाव की सीमा को छूते हुए भी लोग। सब अपने नेता समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव के एक इशारे पर दौड़ लगाने के लिए सन्नद्ध। चारों ओर गर्मजोशी के साथ उल्लास और उमंग का वातावरण।
21-10-b आज (21 अक्टूबर,2011) प्रातः से ही नोएडा के सेक्टर-16 में काफी गहमा- गहमी थी। युवकों का जोश थम नहीं रहा था। जैसे ही समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव यहां आए, अपने बीच अपने प्रिय युवा नेता को पाकर, समाजवादियों का जोश ठांठे मारने लगा। जिन्दाबाद के नारों से धरती आकाश गंूज उठा।
लगभग 10 हजार से ऊपर एकत्र जनसमूह को अपने समाजवादी क्रान्तिरथ से सम्बोधित करते हुए श्री अखिलेश यादव ने कहा कि प्रदेश की बसपा सरकार ने उत्पीड़न और भ्रष्टाचार का रिकार्ड कायम कर दिया है। एक ओर लोकतंत्र को तबाह करनेवाली ताकतें हैं तो दूसरी तरफ युवा शक्ति है जो परिवर्तन और क्रांति की संदेशवाहक है। उन्होने कहा कि नौजवानों का पसीना बेकार नहीं जाएगा। सत्ता परिवर्तन होने ही वाला है। समाजवादी पार्टी की ही अगली सरकार बनेगी।
श्री यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी की जन कल्याणकारी योजनाएं फिर से लागू की जाएगीं। किसानों की दशा से नेताजी श्री मुलायम सिंह यादव चिंतित हैं। प्रदेश का हर वर्ग त्रस्त हैं। महिलाओं की इज्जत सुरक्षित नहीं हैं। मुस्लिमों कों रोजी-रोटी और सम्मान नहीं मिल रहा है। बसपा के कुशासन से जनता निजात चाहती है।
श्री अखिलेश यादव, जो सत्ता परिवर्तन के साथ व्यवस्था परिवर्तन के संकल्प को लेकर साइकिल यात्रा पर निकले हैं, उन्हें साॅसद एवं राष्ट्रीय महासचिव श्री मोहन सिंह, प्रो0 राम गोपाल यादव तथा प्रदेश प्रवक्ता राजेन्द्र चैधरी ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होने प्रदेश में सत्तारूढ़ भ्रष्ट सरकार को उखाड़ने के लिए क्रान्तिरथ एवं साइकिल यात्रा पर निकले श्री अखिलेश यादव की सफलता के लिए शुभ कामनाएं दी। श्री मोहन सिंह एवं प्रो0 राम गोपाल यादव ने कहा कि श्री अखिलेश यादव परिवर्तन के लिए संघर्ष कर रहे हंै। नौजवान उनके साथ बड़ी संख्या में जुट रहे है। यह सत्ता में बदलाव की जन आकांक्षा का संकेत है।
श्री यादव के साथ साॅसद श्री नीरज शेखर एवं श्री धर्मेन्द्र यादव, श्री घनश्याम अनुरागी के अलावा हापुड़ की समाजवादी प्रत्याशी किरण जाटव भी साइकिल यात्रा में शामिल हुई।
21-10-e श्री यादव ने आज परिचैक के बाद ग्रेटर नोएडा के पास, कस्बा दनकौर और जेवर (जनपद गौतमबुद्वनगर) में विशाल जनसभाओं को सम्बोधित किया। वे जेवर में रात्रि विश्राम करेगें। कल शनिवार 22 अक्टूबर,2011 को श्री यादव टप्पल से सभा करके प्रस्थान करेगें। वे यहां बाजना कस्बा तथा भाट कस्बा में सभाओं को सम्बोधित करेगें।
पूर्व विधायक श्री नरेन्द्र भाटी ने श्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में यात्राओं की सफलता के लिए 21 लाख रूपए की सहयेाग राशि भेंट की।
युवा नेता के साथ युवा प्रकोष्ठों के नेता  सर्वश्री संजय लाठर, आनन्द भदौरिया, सुनील यादव, नफीस अहमद, नईमुल हसन, राम सागर यादव, राजेश यादव, नावेद सिद्दीकी एवं सुनील चैधरी भी चल रहे है।
साइकिल यात्रा की रवानगी के समय सर्वश्री कमाल फारूखी, राजीव राय, वीरेन्द्र सिंह, शाहिद मंजूर, सरोजनी अग्रवाल, डा0 यशवीर सिंह, बनवारी सिंह यादव आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय है।
समाजवादी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्री राजेन्द्र चैधरी ने बताया है कि  श्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी क्रान्तिरथ यात्रा का प्रदेश के सभी विधान सभा क्षेत्रों में जाने का कार्यक्रम है। समाजवादी क्रान्तिरथ 12 सितम्बर,2011 से चल रहा है। इस के साथ बीच-बीच में होनेवाली साइकिल रैली में श्री अखिलेश यादव स्वयं साइकिल चलाते है। विगत 13 सितम्बर,2011 को कानपुर के फूलबाग से उन्नाव तक एवं 2 अक्टूबर,2011 को गाजियाबाद से दिल्ली बार्डर तक साइकिल रैली का नेतृत्व स्वयं श्री अखिलेश यादव कर चुके है। 21 अक्टूबर,2011 से नोयडा से प्रारम्भ साइकिल रैली 23 अक्टूबर को आगरा में समाप्त होगी।

समाजवादी क्रान्तिरथ और साइकिल यात्रा में उमड़ी भीड़ और हर जगह समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव के भव्य स्वागत से बौखलाई बसपा सरकार आज अपनी मनमानी करने पर उतर आई। दनकौर की ओर जा रही साइकिल यात्रा को जिला प्रशासन ने, बिना किसी उत्तेजना के बावजूद, आगे बढ़ने से रोक दिया। यात्रा को हाईवे पर जाने से रोकने का कोई कारण नहीं बताया गया। यात्रा के मार्ग में अवरोध के लिए यहां चार कम्पनी पीएसी लगा दी गई। श्री अखिलेश यादव ने शांतिपूर्ण साइकिल यात्रा में बाधा डालने के लिए अधिकारियों से कड़ा विरोध जताया है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

14 अक्टूबर 2011 को माननीया मुख्यमंत्री जी ने दिल्ली से सटे जनपद गौतमबुद्ध नगर के अतिमहत्वपूर्ण नोएडा क्षेत्र में निर्मित ‘‘राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल एवं ग्रीन गार्डन तथा जनोपयोगी परियोजनाओं’’ का लोकार्पण किया

Posted on 15 October 2011 by admin

  • यमुना नदी के पश्चिमी तट पर जहां एक तरफ कांग्रेस पार्टी की केन्द्र सरकार द्वारा नेहरू और गांधी परिवार से जुड़े स्मारक व संग्रहालय स्थापित किये गये हैं, वहीं दूसरी तरफ बी0एस0पी0 सरकार ने यमुना नदी से लगे पूर्वी तट पर राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल एवं ग्रीन गार्डन का निर्माण किया
  • इस निर्माण के लिए खासतौर से दलितों एवं कमजोर वर्गों ने माननीया मुख्यमंत्री जी का स्वागत किया
  • इस मौके पर माननीया मुख्यमंत्री जी ने केन्द्र सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश के साथ अपनाये जा रहे सौतेले रवैये का भी पर्दाफाश किया
  • हर स्तर पर फैले भ्रष्टाचार व राजनीति में पनप रहे अपराधीकरण को भी खत्म करने पर माननीया मुख्यमंत्री जी ने जोर दिया और इस मुददे पर सभी विरोधी पार्टियों को आड़े हाथों लिया

3उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी ने आज दिल्ली से सटे जनपद गौतमबुद्ध नगर के अतिमहत्वपूर्ण नोएडा क्षेत्र में आयोजित लोकार्पण समारोह में देश में समय-समय पर दलित एवं पिछड़े वर्गों में जन्मे महान सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों के सम्मान में राज्य सरकार द्वारा बनवाये गये राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल व ग्रीन गार्डेन का लोकार्पण किया। उन्होंने इस अवसर पर विभिन्न जनोपयोगी परियोजनाओं को भी प्रदेश की जनता को समर्पित किया।

सुश्री मायावती जी ने इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज के ही दिन, दिनांक 14 अक्टूबर, 1956 को नागपुर में बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर ने विश्व-व्यापी सत्य, अहिंसा, भाईचारा एवं मानवता पर आधारित ‘‘बौद्ध धर्म‘‘ की दीक्षा ग्रहण की थी। उनके इस पवित्र दिवस पर देश में दलित एवं अन्य पिछड़े वर्गों में समय-समय पर जन्में महान् सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों के आदर-सम्मान में दिल्ली के समीप गौतमबुद्ध नगर के अति महत्वपूर्ण नोएडा क्षेत्र में, उनकी सरकार द्वारा निर्मित ‘‘राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल एवं ग्रीन गार्डेन‘‘ का तथा सम्बन्धित जिले के अन्य और महत्वपूर्ण कार्यों का लोकार्पण किया गया है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इन्हीं सन्तों, गुरूओं और महापुरूषों की प्रेरणा से आबादी के हिसाब से देश के सबसे बड़े प्रदेश, उत्तर प्रदेश की वे चार बार मुख्यमंत्री बनी हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने अपने चारों बार के शासनकाल में यहाँ ‘‘गैर-बराबरी वाली सामाजिक व्यवस्था को बदलने‘‘ व ‘‘समतामूलक समाज व्यवस्था की सही स्थापना’’ के लिए अपना सम्पूर्ण जीवन समर्पित कर देने वाले महान सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों में भी, खासतौर से ‘‘महात्मा ज्योतिबा फुले, छत्रपति शाहूजी महाराज, श्री नारायणा गुरू, बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर एवं मान्यवर श्री कांशीराम जी’’ आदि को विभिन्न रूपों में पूरा आदर-सम्मान दिया है, जिनकी जातिवादी मानसिकता में जकड़ी अन्य दलों की पूर्ववर्ती सरकारों ने सदैव उपेक्षा की।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि इन महान हस्तियों की अभूतपूर्व त्याग-तपस्या को ‘‘देश में पहली बार‘‘ उ0प्र0 की बी.एस.पी. सरकार ने विभिन्न स्तर पर पूरा-पूरा आदर-सम्मान दिया है, जो आगे चलकर निश्चित ही इतिहास के पन्नों में ‘‘स्वर्ण अक्षरों‘‘ में अंकित किया जायेगा। उन्होंने लखनऊ के अलावा नोएडा में ‘‘एक और भव्य स्थल व ग्रीन गार्डन‘‘ आदि बनवाने की जरूरत का औचित्य बताते हुए कहा कि जिन भी विरोधी पार्टियों की सरकारें उत्तर प्रदेश में रही हैं, उनमें से कांग्रेस पार्टी ने आजादी के बाद, सबसे पहले व सबसे ज्यादा लम्बे समय तक, अर्थात लगभग 38 वर्षों तक लगातार यहाँ उ0प्र0 में एकछत्र राज किया है। लेकिन इस पार्टी की सरकार ने भी यहाँ अन्य विरोधी पार्टियों की सरकारों की तरह ही उ0प्र0 के लोगों की गरीबी एवं बेरोजगारी को दूर करने के लिए कोई भी विशेष व ठोस कदम नहीं उठाये हैं।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इन्हीं कारणों से उ0प्र0 से बड़े-पैमाने पर ये लोग अपनी रोटी-रोजी की तालाश में मजबूरीवश देश के अन्य राज्यों के बड़े-बड़े शहरों व महानगरों में जाकर बस गये हैं। उन्होंने कहा कि देश की राजधानी दिल्ली, उ0प्र0 के एकदम नजदीक होने की वजह सेये लोग सबसे ज्यादा दिल्ली में आकर भारी संख्या में बस गये हैं।

1माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पश्चिमी उ.प्र. के ज्यादातर लोग अपनी रोजी-रोटी कमाने की व्यस्तता के कारण चाहते हुए भी लखनऊ में बने सभी प्रेरणादायक स्थलों व पार्कों आदि को खास मौको पर भी आसानी से नहीं देख पा रहे थे। इसलिए उनकी सरकार ने इनकी भावनाओं का सम्मान करते हुये दिल्ली व पश्चिमी उ.प्र. के नजदीक नोएडा में एक और ऐतिहासिक व भव्य राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल एवं ग्रीन गार्डन आदि बनाने का फैसला लिया है, ताकि इन दोनों क्षेत्रों के लोग, नोएडा क्षेत्र में निर्मित किये गये राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल व ग्रीन गार्डन को विशेष अवसरों पर आसानी से देख सके।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि यह स्थल व ग्रीन गार्डेन लगभग 80 एकड़ से भी ज्यादा भूमि पर निर्मित किया गया है और दिल्ली व पश्चिमी उ.प्र. की दूरी लखनऊ से काफी ज्यादा है। इन्हीं कारणों से ही उनकी सरकार द्वारा इसका निर्माण किया गया है। उन्होंने कहा कि यमुना नदी के पश्चिमी तट पर कई ऐतिहासिक इमारतें व हजारों एकड़ की कीमती जमीन पर नेहरू व गाँधी परिवार से जुड़े स्मारक आदि भी बने हुये हैं।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि देश में दलितों के प्रति शुरू से ही जातिगत द्वेष व हीन भावना रखने वाली कांग्रेस पार्टी की केन्द्रीय सरकार ने इस हजारों एकड़ की जमीन के कुछ हिस्से पर डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर तथा मान्यवर श्री कांशीराम जी इन दोनांे महापुरूषों के आदर-सम्मान में इनके स्मारक व संग्रहालय आदि बनवाना उचित नहीं समझा, जिसको लेकर पूरे देश में इनको मानने वाले लोग काफी ज्यादा दुःखी थे। इस कमी को अब उनकी सरकार ने दूर कर दिया है। इसीलिए दिल्ली में यमुना नदी के पश्चिमी तट पर जहाँ एक तरफ नेहरू व गाँधी परिवार से जुड़े स्मारक व संग्रहालय आदि स्थापित किये गये हैं। वहीं दूसरी तरफ उनकी पार्टी की सरकार ने यमुना नदी से लगे पूर्वी तट पर हमारे दलित महापुरूषों के स्मारक व संग्रहालय आदि भी अब निर्मित कर दिये हैं।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि इसमें उनके विरोधियों ने किस्म-किस्म की रूकावटे पैदा करके, लगभग एक साल तक इसके निर्माण को ‘‘सुप्रीम कोर्ट‘‘ के जरिये, रूकवा कर रखा था। लेकिन अन्त में सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में, उन्हंे न्याय दिया, जिसके लिए वह सर्वाेच्च न्यायालय की आभारी रहेंगी। उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टियों ने दलित एवं पिछड़े वर्ग में जन्में सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों को उचित आदर-सम्मान नहीं दिया। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी के बन जाने के बाद अब ये लोग अपने राजनैतिक स्वार्थ में, इन वर्गों के वोट हासिल करने के उद्देश्य से दिखावे के तौर पर इनके सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों की अपने मंचों पर कुछ इनकी फोटो जरूर रखने लगे हैं और साथ ही इनकी अब कुछ प्रतिमा आदि भी लगाने लगे हैं। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने पहली बार दलितों एवं अन्य पिछड़े वर्गों में जन्में महान सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों में भी खासतौर से ‘‘महात्मा ज्योतिबा फुुले, छत्रपति शाहूजी महाराज, नारायणा गुरू, बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर व मान्यवर श्री कांशीराम जी‘‘ आदि को पूरा-पूरा आदर-सम्मान दिया है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हीन भावना तथा जातिवादी मानसिकता के चलते विरोधी पार्टियां इन स्थलों के बारे में आयेदिन इसे सरकारी धन का दुरूपयोग बताकर प्रदेश की जनता को अक्सर गुमराह करने का प्रयास करती रहती हैं। जबकि इन पर बजट का लगभग 1 प्रतिशत धन ही व्यय किया गया है। उन्होंने कहा कि व्यय किया हुआ धन इसी ही महीने की पहली तारीख से टिकट के जरिये बहुत तेजी से उनकी सरकार के पास वापस आना शुरू हो गया है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि 9 अक्टूबर, 2006 को काफी लम्बी व गम्भीर बीमारी के कारण, इस देश के बहुजन नायक मान्यवर श्री कांशीराम जी की मृत्यु हुई थी। उस समय केन्द्र में कांग्रेस पार्टी और उ.प्र. में बी.एस.पी. को छोड़कर, लगभग सभी विरोधी पार्टियों के सहयोग से समाजवादी पार्टी की सरकार चल रही थी। उस दौरान लगभग सभी विरोधी पार्टियों के वरिष्ठ नेता दिखावे के तौर पर इनके मृतक शरीर पर फूल चढ़ाने व दाह-संस्कार में भी शामिल होने के लिए जरूर पहुँच गये थे, किन्तु केन्द्र व उ.प्र. की तरह देश की लगभग अन्य सभी राज्यों की सरकारों ने मान्यवर श्री कांशीराम जी की मृत्यु होने पर, इनके सम्मान में एक दिन का भी ‘‘राष्ट्रीय व राजकीय‘‘ शोक घोषित नहीं किया था।

2सुश्री मायावती जी ने कहा कि जब मान्यवर श्री कांशीराम जी अपने इलाज के लिए दिल्ली के एक प्राईवेट हाॅस्पिटल में दाखिल थे, तब उन्हंे अकेला व असहाय देखकर उस समय सन् 2003 में केन्द्र में बीजेपी के नेतृत्व में चल रही सरकार ने सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करके अपने राजनैतिक स्वार्थ में मुझे ‘‘ताज प्रकरण व इसकी आड़ में आय से अधिक सम्पत्ति‘‘ होने के मामले में जबरन गलत तरीके से फँसाकर सी0बी0आई0 के जरिये 8 अक्टूबर, 2003 को एक ही दिन में व एक ही समय पर उनके स्वयं के तथा सभी सम्बन्धियों के घरों पर एक साथ छापा डलवाया था।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि उसी दिन छापे के दौरान ही कांग्रेस पार्टी की ‘‘राष्ट्रीय अध्यक्षया श्रीमती सोनिया गाँधी‘‘ ने उन्हें अपनी ओर से टेलीफोन करके यह कहा था कि ‘‘आज बीजेपी की हरकतों को देखकर, हमें काफी ज्यादा दुःख है कि आपके साथ बीजेपी की केन्द्रीय सरकार अच्छा वर्ताव नहीं कर रही है।‘‘ उन्होंने यह भी कहा कि आप घबरायें नहीं, इस मुश्किल की घड़ी में कांग्रेस पार्टी उनके साथ खड़ी है। उन्होंने भरोसा दिया कि जैसे ही केन्द्र में कांग्रेस पार्टी की सरकार बनेगी, उन्हें इस प्रकरण में निश्चित रूप से न्याय दिलायेगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2004 से लेकर अब तक केन्द्र में लगातार कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व में ही सरकार चली आ रही है। फिर भी सन् 2004 से लेकर अब तक लगभग इन 8 वर्षों की इस लम्बी अवधि में भी उनके ताज से जुड़े आय से अधिक प्रकरण के मामले में कांग्रेस पार्टी के नेतृत्व में चल रही केन्द्र की सरकार ने आज तक भी उन्हें न्याय नहीं दिया है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि सम्बन्धित प्रकरण में खुद केन्द्रीय सरकार के आयकर विभाग ने लगभग सभी मामलों में और साथ ही इससे जुड़े कुछ मामलों में भी माननीय कोर्ट ने उन्हंे क्लीन चिट दे दी है। लेकिन इसके बावजूद भी कांग्रेस पार्टी ने अपने राजनैतिक स्वार्थ में केन्द्र की सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करके इस मामले को अभी तक भी सी0बी0आई0 के जरिये लटकाया हुआ है। उन्होंने कहा कि आयकर विभाग की रिपोर्ट के आधार पर ही केन्द्र में कांग्रेस पार्टी की सरकार ने अब तक कई लोगों के केस खत्म कर दिये हैं, लेकिन उनके खुद के मामले में कांग्रेस पार्टी भी बीजेपी की तरह ही सी0बी0आई0 का काफी ज्यादा दुरूपयोग कर रही है। इससे बीजेपी की भाँति कांग्रेस पार्टी की भी दलितों के प्रति हीन व जातिगत् द्वेष की भावना आज भी उन्हें साफतौर से स्पष्ट नजर आती है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि 13 मई, 2007 को जबसे उ.प्र. में अकेले अपने बलबूते एक दलित की बेटी के नेतृत्व मेें बी.एस.पी. की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनी है, तबसे यहाँ सभी विरोधी पार्टियाँ अन्दर-अन्दर आपस में मिलकर एक सोची-समझी एक राजनैतिक साजिश के तहत् उनकी पार्टी व सरकार की छवि को धूमिल करने की कोशिश में लगातार लगी रहती हैं और इस मामले में हमें कांग्रेस पार्टी सबसे ज्यादा आगे खड़ी नजर आती है। कांग्रेस पार्टी का रवैया उनकी पार्टी की सरकार के साथ शुरू से ही सौतेला रहा है। उन्होंने कहा कि संवैधानिक व्यवस्था के तहत् उ.प्र. को ‘‘केन्द्रीय अंश‘‘ का मिलने वाला धन भी केन्द्र सरकार द्वारा ‘‘समय‘‘ पर नहीं दिया गया।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उ.प्र. सरकार को यथासमय पर धन प्राप्त नहीं होता है, जिसके कारण प्रदेश का विकास व जनहित के कार्य काफी ज्यादा प्रभावित हुये हैं। उन्होंने कहा कि गत चार वर्षों के उपलब्ध आंकड़ों से साफ है कि 13 मई सन् 2011 तक की अवधि में विŸाीय वर्ष 2007-08 में 4,935 करोड़ रुपये, वर्ष 2008-09 में 3,266 करोड़ रुपये, वर्ष 2009-10 में 7,320 करोड़ रुपये, तथा वर्ष 2010-11 में 5,864 करोड़ रूपये, कुल मिलाकर 21,385 करोड़ रूपये बन जाते हैं। यह केन्द्रीय अंश उ.प्र. सरकार को समय पर प्राप्त नहीं हुआ है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि पूर्व की सरकारों में विरासत में मिले “उŸार प्रदेश के वर्षों पुराने पिछड़ेपन व ग़रीबी को दूर करने” तथा तेज़ी से विकास कार्यों को गति देने के लिये उनकी सरकार ने सन् 2007 में केन्द्र सरकार से 80,000 करोड़ रुपयों का विशेष आर्थिक सहायता पैकेज देने की अनेकों बार माँग की थी। इस माँग पर केन्द्र सरकार ने आज तक कोई सकारात्मक निर्णय नहीं लिया है। इसके बावजूद विरोधी पार्टियों द्वारा व अन्य विभिन्न स्तरों पर यह भ्रम फैलाने का लगातार प्रयास किया जाता रहा है कि केन्द्र सरकार द्वारा प्रदेश को निर्धारित मापदण्डों से हटकर ‘अतिरिक्त‘ सहायता दी जा रही है, जो कि पूर्णतयाः गलत व असत्य है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उ.प्र. के समस्त क्षेत्रों में ‘‘संतुलित व समग्र विकास‘‘ उपलब्ध हो तथा उ.प्र. की सम्पूर्ण जनता को बेहतर भविष्य मिले, इसके लिए उनकी पार्टी उ.प्र. का पुर्नगठन करके ‘‘पूर्वांचल, बुन्देलखण्ड व पश्चिमी उत्तर प्रदेश‘‘ को भी अलग से राज्य गठित करने की हमेशा ही पक्षधर रही है, जिनका गठन करना केन्द्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में आता है। उन्होंने अफसोस जताते हुए कहा कि इस मामले में भी केन्द्र में कांग्रेस व बीजेपी ने अपने-अपने शासनकाल के दौरान अभी तक भी कोई सार्थक कदम नहीं उठाये हैं।

सुश्री मायवती जी ने कहा कि इसके साथ ही उनकी पार्टी की सरकार ने प्रदेश में अन्य पिछड़े वर्गों की कुछ जातियों को ‘अनुसूचित जाति की सूची में,‘‘ तथा देश के ‘‘मुस्लिम व जाट समाज‘‘ के लोगों को, अन्य पिछड़े वर्गों की केन्द्रीय सूची में, इनके आरक्षण के कोटे को बढ़ाये जाने व उनकी आबादी के हिसाब से इनका अलग से कोटा निर्धारित करने की शर्त के साथ इन्हें शिक्षा, नौकरियों व अन्य और जरूरी क्षेत्रों में भी आरक्षण दिये जाने तथा देश में ‘‘अपरकास्ट समाज‘‘ में से गरीब लोगों को आर्थिक आधार पर सभी मामलों में, इन्हें अलग से आरक्षण दिये जाने के लिए भी उनकी पार्टी की सरकार ने केन्द्र सरकार को कई बार लिखित आग्रह किया है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इसके अलावा देश में ‘‘अनुसूचित जाति /जनजाति‘‘ की बढ़ी हुई आबादी के हिसाब से इनके आरक्षण के कोटे में बढ़ोत्तरी करने व इनका केन्द्रीय व देश के ज्यादातर राज्यों में राज्य स्तरीय सरकारी नौकरियों में वर्षों से अधूरे पड़े आरक्षण के कोटे को पूरा करने के लिए और साथ ही प्राईवेट सेक्टर व न्यायपालिका एवं अन्य जिन भी क्षेत्रों में, इन वर्गों को अभी तक भी आरक्षण की सुविधा नहीं मिली है। ऐसे सभी क्षेत्रों में, इनको आरक्षण की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु भी उनकी सरकार द्वारा केन्द्र सरकार को बार-बार लिखित अनुरोध किया गया है। लेकिन इन सभी मामलों को केन्द्र सरकार ने अभी तक भी ठण्डे बस्ते में डाला हुआ है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि प्रदेश में पूर्वांचल व बुन्देलखण्ड की तरह पश्चिमी उ.प्र. के विकास के लिये भी प्राईवेट सेक्टर के माध्यम से (पब्लिक प्राईवेट पार्टनरशिप - च्ण्च्ण्च्ण्) ‘‘जेवर अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट, गंगा एक्सप्रेस-वे एवं अपर गंगा कैनाल एक्सप्रेस-वे’’ आदि अनेकों अति महत्वपूर्ण योजनायें बनाई थी, जिनसे पश्चिमी उ.प्र. के विकास के साथ-साथ इस क्षेत्र के सभी जिलों के लोगों को भी काफी ज्यादा लाभ पहुँचता, जबकि इन परियोजनाओं में केन्द्र सरकार का कोई भी पैसा नहीं लगना था। केवल उनको कुछ मामलों में मंजूरी ही देनी थी, जो आज तक भी नहीं दी गयी है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इसके साथ ही पश्चिमी उ.प्र. में ‘‘माननीय इलाहाबाद उच्च न्यायालय’’ की एक खण्डपीठ की स्थापना का मामला भी केन्द्र सरकार के समक्ष अभी तक भी लम्बित पड़ा हुआ है। इसके साथ-साथ किसानों के हितों को ध्यान में रखकर देश में लागू पुरानी भूमि अधिग्रहण नीति को भी संशोधित करने के लिए अनेकों बार केन्द्रीय सरकार को कहा गया है, किन्तु इस पर भी काफी विलम्ब किया जा रहा है, जिसके कारण फिर उन्हें मजबूर होकर प्रदेश के किसानों के हितों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध उनकी पार्टी की सरकार ने प्रदेश में प्रगतिशील भूमि एवं पुर्नवास नीति लागू की है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि यही रवैया उत्तर प्रदेश के साथ केन्द्र सरकार का ‘‘बिजली‘‘ देने के मामले में भी बना हुआ है। इसके अलावा पूर्व की सरकारों की अति दयनीय व खराब ‘‘कानून-व्यवस्था‘ की स्थिति को भी सही पटरी पर लाने के लिए केन्द्र से समय-समय पर मांगा गया सहयोग भी ज्यादातर मामलों में नकारात्मक ही रहा है। इसके अलावा उनकी पार्टी के मुख्य दलित बैंक वोट को तोड़ने के लिए भी कांग्रेस पार्टी द्वारा किस्म-किस्म के नाटक कराये गये हैं। लेकिन इसमें भी जब कांग्रेस पार्टी को अब तक कुछ भी हासिल होता हुआ नजर नहीं आ रहा है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हताश होकर ऐसी स्थिति में कांग्रेस पार्टी केन्द्र में, खासतौर से भ्रष्टाचार के मुद्दे पर अपनी सरकार को चारों तरफ से घिरते हुये देखकर उ.प्र. में वि.सभा के आमचुनाव होने से पहले यहाँ दलितों के वोटों को लुभाने के उद्देश्य से न चाहते हुए भी जिस मीरा कुमार के पिता स्वर्गीय बाबू जगजीवन राम जी को उनके काफी संघर्ष करने के बावजूद भी इनको एक दलित होने के नाते, इन्हें इस देश का प्रधानमन्त्री नहीं बनाया था, जिसके कारण फिर इनको कांग्रेस पार्टी छोड़कर अपनी अलग से नई पार्टी भी बनानी पड़ी थी।

उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में बी.एस.पी. से घबराकर कुछ हद तक यह सम्भव हो सकता है कि कांग्रेस पार्टी अब इनकी ही बेटी श्रीमती मीरा कुमार को या फिर महाराष्ट्र से श्री सुशील कुमार शिन्दे को अपने दिल के ऊपर पत्थर रखकर किसी एक को कुछ समय के लिए इस देश का प्रधानमंत्री भी बना सकती है। उन्होंने कांगे्रस पार्टी व अन्य सभी विरोधी पार्टियों को चुनौती देते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी उ.प्र. में वि.सभा के आमचुनाव होने से पहले चाहे किसी भी दलित वर्ग के व्यक्ति को, कुछ समय के लिए इस देश का प्रधानमंत्री क्यों न बना दे। इसके बाद भी उन्हें अपने समाज के लोगों के ऊपर यह पूरा भरोसा व गर्व है कि ‘‘बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर व मान्यवर श्री कांशीराम जी‘‘ की आत्म-सम्मान व मानवतावादी मूवमेन्ट से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि बी.एस.पी. का दलित वोट बैंक उत्तर प्रदेश अथवा देश के किसी हिस्से से रत्तीभर भी वोट कांग्रेस पार्टी में जाने वाला नहीं है।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में, पूर्व में जिन भी विरोधी पार्टियों की यहाँ सरकारें रही हैं और साथ ही केन्द्र में भी अभी तक जिन भी पार्टियों की सरकारें रही हैं, ये सभी विरोधी पार्टियों की सरकारें अन्दर-अन्दर आपस में मिलकर यह कतई नहीं चाहती हैं कि उ.प्र. का हर मामले में सम्पूर्ण विकास हो। इनके इसी ही रवैये को देखकर इसके पीछे उन्हें इन सभी विरोधी पार्टियांे की एक सोची-समझी मिली-जुली स्वार्थभरी राजनैतिक साजिश नजर आती है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यदि यह प्रदेश पूर्णरूप से विकसित हो जाता है, तो फिर इस प्रदेश के लोग यहाँ हर मामले में, विशेषकर राजनीतिक मामले में स्वतन्त्र फैसला लेने लगेंगे। उन्होंने कहा कि जिससे फिर इन पार्टियों का सत्ता में आकर इन्हें अपनी मन-मर्जी करना प्रदेश में बहुत मुश्किल हो जायेगा। अपने इन्हीं स्वार्थाें के चलते सभी विरोधी पार्टियों की सरकारों ने व अब तक केन्द्र की सभी सरकारों ने जान बूझकर उ.प्र. को सम्पूर्ण रूप से विकसित नहीं होने दिया है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि इसी की वजह से ही उ.प्र. के लोग आजादी के बाद से लगातार अपनी रोजी-रोटी के लिए देश के कोने-कोने में मारे-मारे घूमते रहे हैं। उनकी पार्टी की सरकार देश की यह पहली और अकेली ऐसी सरकार है, जिसने हर मामले में व हर स्तर पर ‘‘सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय‘‘ की नीति के आधार पर चलकर उ.प्र. को सम्पूर्ण रूप से विकसित करने का ईमानदारी से फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि दलितों, पिछड़ों, धार्मिक अल्पसंख्यकों के साथ-साथ अपर कास्ट समाज में से गरीब लोगों व महिलाओं के हितों का हमारी पार्टी की सरकार ने हर मामले में प्राथमिकता के आधार पर पूरा-पूरा ध्यान दिया है। इनके उत्थान के लिए प्रदेश में पहली बार अनेकों जनहित की योजनायें शुरू की गई हैं।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने इसके अलावा प्रदेश के ‘‘किसानों, मजदूरों, कर्मचारियों, वकीलों, व्यापारियों एवं अन्य पेशों‘‘ में लगे लोगों के हितों का भी हर प्रकार से पूरा ध्यान रखा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा, चिकित्सा, ऊर्जा, परिवहन, ग्राम्य विकास, आवास, सिंचाई, कृषि, शहरी व लोक निर्माण, समाज कल्याण, औद्योगिक, श्रम एवं अवस्थापना विभाग आदि के जरिये भी प्रदेश के विकास एवं जनहित के मामले में अनेकों महत्वपूर्ण व ऐतिहासिक कार्य किये गये हैं। इसी प्रकार प्रदेश में हर मामले में बेहतर कानून-व्यवस्था बनाने के लिए भी हमारी सरकार ने अनेकों महत्वपूर्ण फैसले लिये हैं।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पूरे प्रदेश में हर स्तर पर फैले भ्रष्टाचार व राजनीतिक में लगातार पनप रहे अपराधीकरण को जिसका उ.प्र. भी काफी हद तक शिकार हुआ है। इसको समाप्त करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में पूर्व की सरकारों में वर्षों से फैली ये दोनों बहुत पुरानी बीमारियां उनकी सरकार को विरासत में मिली है, जिन्हें खत्म करने के लिए उनकी सरकार को काफी सख्त कदम उठाने पड़ रहे हैं। साथ ही उनकी सरकार के कई मन्त्रियों को भी अपने मन्त्री पद से हाथ धोना पड़ा है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि यदि भ्रष्टाचार को खत्म करने के मुद्दे पर ‘‘श्री अन्ना हजारे, बाबा रामदेव एवं अन्य कोई भी संगठन तथा राजनैतिक दल‘‘ बिना किसी व्यक्तिगत स्वार्थ के व राजनैतिक एवं जातिवादी द्वेष की भावना से ऊपर उठकर जनहित में उत्तर प्रदेश में भी अनुशासित तरीके से किसी भी रूप में अभियान छेड़ते हैं। तो इसका उनकी पार्टी व सरकार को कोई भी एतराज नहीं होगा।

सुश्री मायावती जी ने कहा कि इसी मुद्दे को लेकर श्री एल.के. अडवाणी के नेतृत्व में बिहार प्रदेश से जो रथयात्रा शुरू की गई है। उन्होंने कहा कि उन्हें यह रथयात्रा बिहार प्रदेश से शुरू करने की बजाय, वास्तव में कर्नाटक प्रदेश से शुरू करनी चाहिये थी, क्योंकि इस राज्य की मुख्यमंत्री को अपनी कुर्सी तक भी गवांनी पड़ी है। उन्होंने कहा कि बीजेपी की यह रथयात्रा भ्रष्टाचार के मुद्दे पर, देश की जनता की आँखों में धूल झोंकने वाली राजनैतिक नौटंकी मात्र नजर आती है।  सही मायने में इनकी इस रथयात्रा के पीछे, श्री आडवाणी की अपनी खुद की पार्टी में पिछले कुछ समय से इनकी प्रधानमंत्री के पद की कमजोर पड़ी दावेदारी को फिर से पुख्ता करने की यात्रा ही नजर आती है। उन्होंने कहा कि बीजेपी की इस रथयात्रा का देश की जनता कोई ज्यादा संज्ञान लेने वाली नहीं है।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि बीजेपी को उ.प्र. सरकार के बारे में कोई भी किताब लिखने व श्वेत पत्र  जारी करने के लिये बिना वजह अपनी एनर्जी खराब करने की बजाय इस पार्टी को कर्नाटक स्टेट में अपनी सरकार के बारे में श्वेत पत्र व किताब छापकर पूरे देश में बड़े पैमाने पर बांटनी चाहिये, तो बीजेपी के भविष्य के लिये ज्यादा बेहतर होगा। इसी प्रकार समाजवादी पार्टी व कांग्रेस पार्टी को भ्रष्टाचार के मुद्दे पर, यहाँ उनकी सरकार के बारे में कुछ भी बोलने की बजाय इन्हें पहले अपने गिरेबान मेें भी झांककर जरूर देखना चाहिये। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार के बारे में इस मुद्दे पर कुछ भी बोलना, इनके लिये मानो ‘900 चूहे खाकर, बिल्ली हज को चली’ हो।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने कहा कि उनकी सरकार द्वारा लखनऊ व नोएडा में जो भी ऐतिहासिक व भव्य स्थल तथा ग्रीन गार्डन आदि बनवाये हैं, उन्हें विरोधी पार्टियों के लोगों को जातिगत द्वेष की भावना के नजरिये से नहीं देखना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को कुछ ही वर्षों के अन्दर काफी अधिक आर्थिक लाभ होगा, जो प्रदेश के विकास व गरीब लोगों के उत्थान पर खर्च किया जायेगा।

सुश्री मायावती जी ने लोकार्पण के बाद इस स्थल को देखने के लिए उमड़ी भारी भीड़ के उत्साह को देखते हुए कहा कि इसे देर रात्रि तक खुला रखा जाए, ताकि यहां के लोग अनुशासनपूर्वक इस स्थल को देख सकें। उन्होंने नोएडा आॅथरिटी के चेयरमैन श्री बलविन्दर कुमार को इस स्थल से सम्बन्धित अवशेष कार्यों को शीघ्र पूरा कराने के निर्देश दिये है। नोएडा जैसे अति महत्वपूर्ण क्षेत्र में ‘राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल’ एवं ‘ग्रीन गार्डन’ निर्माण के लिए खासतौर से दलितों एवं कमजोर वर्ग के लोगों ने माननीया मुख्यमंत्री जी का हार्दिक स्वागत किया।

माननीया मुख्यमंत्री जी ने इस अवसर पर वरिष्ठ मंत्री श्री नसीमउद्दीन सिद्दीकी, श्री स्वामी प्रसाद मौर्य, श्री लालजी वर्मा, श्री इन्द्रजीत सरोज, ठाकुर जयवीर सिंह व श्री रामवीर उपाध्याय तथा पार्टी के सभी सांसदों, विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं, सांसद राष्ट्रीय महासचिव ‘‘श्री सतीश चन्द्र मिश्रा’’, कैबिनेट सचिव ‘‘श्री शंशाक शेखर सिंह‘‘, एडिशनल कैबिनेट सचिव ‘‘श्री रविन्द्र सिंह‘‘, माननीया मुख्यमंत्री के सचिव ‘श्री नवनीत सहगल व सूचना सचिव श्री प्रशान्त त्रिवेदी एवं इनके अलावा प्रमुख सचिव गृह श्री कुंवर फतेह बहादुर व ए0डी0जी0 (कानून व्यवस्था) श्री एस.के. सिंह के प्रति आभार प्रकट किया।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी द्वारा लोकार्पण किये गये राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल व ग्रीन गार्डेन एवं अन्य जन-उपयोगी परियोजनाओं का संक्षिप्त परिचय

Posted on 15 October 2011 by admin

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री माननीया सुश्री मायावती जी ने आज नोएडा में आयोजित एक लोकार्पण समारोह में समय-समय पर दलित एवं पिछड़े वर्गों में जन्मे सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों के सम्मान में अपनी सरकार द्वारा बनवाये गये राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल व ग्रीन गार्डेन के लोकार्पण किया। उन्होंने इस अवसर पर करोड़ों रूपये की लागत से तैयार की गयी विभिन्न जन-उपयोगी परियोजनाओं भी लोकार्पण किया। इनका संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया जा रहा है।
1.    नोएडा के सेक्टर-95 में राष्ट्रीय दलित प्रेरणा स्थल एवं ग्रीन गार्डेन यमुना नदी के किनारे 3.32 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में निर्मित यह ऐतिहासिक धरोहर अनुसूचित जाति/जनजाति एवं अन्य पिछड़े वर्गों में जन्में महान सन्तों, गुरूओं व महापुरूषों के आदर-सम्मान में बनाया गया है। यह प्रेरणा स्थल हरित पट्टिका में चयनित क्षेत्र को उच्चीकृत कर विकसित पार्क में एक सेन्ट्रल पार्क प्लाजा है, जिसमें 39 मीटर ऊँचा मुख्य स्तूप और 04 छोटे स्तूप बनाये गये हैं। मुख्य स्तूप में 03 महान विभूतियों की कांस्य प्रतिमायें स्थापित की गयी हैं। इसीप्रकार छोटे स्तूपों में महान विभूतियों का जीवन परिचय दर्शाते हुए ब्रान्ज के म्यूरल बनाये गये हैं। मुख्य स्तूप के दोनों तरफ 20 सैन्ड-स्टोन के एलीफैन्ट स्कल्पचर ग्रेनाइट के पैडस्टल पर स्थापित हैं।
पार्क के मध्य भाग में भारत के संविधान निर्माता परम् पूज्य भारत रत्न डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर प्लाजा के अन्तर्गत ब्रान्ज निर्मित उनकी 18 फीट ऊँची स्टैच्यू स्थापित की गयी है। पार्क के एक हिस्से में काॅलम प्लाजा, जिसमें 35 मीटर ऊँचा ग्रेनाइट का मुख्य स्तम्भ और उसके चारों तरफ 11 महान संतों की ब्रान्ज की 18 फीट ऊँची प्रतिमायें स्थापित हैं। पार्क में 75 प्रतिशत क्षेत्रफल में वृक्षारोपण एवं साफ्ट लैन्ड स्कैप का कार्य किया गया है और केवल 25 प्रतिशत भूमि पर भवन आदि का निर्माण किया गया है। इसके अलावा चबूतरे (हार्ड लैण्ड स्कैप) आदि का निर्माण भी किया गया है। उद्यान में विभिन्न प्रजाति के 7500 पेड़ और लगभग डेढ़ लाख स्रब लगाई गयी हैं। यह पार्क पर्यटन की दृष्टि से आंगतुकों के लिए आकर्षण का केन्द्र (गेटवे टू नोएडा) होगा।
2.    नोएडा सेक्टर-30 में स्थित 80 बेड मल्टीस्पेशलिस्ट के जिला अस्पताल को 60 करोड़ की लागत से आधुनिक बनाने के साथ ही उसका सुदृढ़ीकरण किया गया है। इसके अतिरिक्त लगभग 3500 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में 8 मंजिला ऊँचा अटेन्डेन्ट ब्लाक का भी निर्माण किया गया है। इस पूरी तरह से वातानुकूलित अस्पताल में गरीब एवं आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को उच्च स्तर के इलाज की व्यवस्था होगी। द्वितीय चरण में इस अस्पताल के परिसर में 300 बेड का मल्टीस्पेशलिटी अस्पताल भी शीघ्र क्रियाशील हो जाएगा। इस अस्पताल को बनाने में यहां के गरीब लोगों को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की चिकित्सकीय सुविधायें बहुत कम दरों पर मिल सकेगी।
3.    नोएडा के सेक्टर-91 में 233 करोड़ रूपये की लागत से पंचशील बालक इण्टर कालेज का निर्माण कराया गया है, जिसमें 1230 छात्रों के रहने के लिए छात्रावास की व्यवस्था है।
4.    नोएडा के सेक्टर-44 में लगभग 233 करोड़ की लागत से महामाया बालिका इण्टर कालेज का निर्माण कराया गया है, जिसमें लगभग 1300 छात्राओं के रहने के लिए छात्रावास की व्यवस्था है। इसके साथ ही पूरे टीचिंग स्टाॅफ के रहने हेतु कालेज कैम्पस में ही आवासीय सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। इन दोनों कालेज में शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के गरीब छात्र एवं छात्राओं को कर्म खर्च पर उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त होगी।
5.    नोएडा में ही लगभग 43 करोड़ रूपये की लागत से मास्टर प्लान मार्ग संख्या-1 पर 172 मीटर लम्बा रजनीगन्धा चैराहा अण्डरपास बनाया गया है, जिससे नोएडा से डी0एन0डी0 होते हुए दिल्ली आने-जाने वाली जनता को अत्याधुनिक सुविधा तथा रोज लगने वाले जाम से निजात मिलेगी। शीघ्र ही सेक्टर-37 व 44 चैराहे का अण्डरपास का निर्माण भी पूर्ण कर लिया जायेगा, जिससे नोएडा से कालिंदी कुन्ज होते हुए दिल्ली आने-जाने वाली जनता को अत्यधिक सुविधा तथा ट्रैफिक जाम से छुटकारा मिलेगा।
6.    कु0 मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर के नव-निर्मित शिक्षा संकाय पर 261 लाख रूपये के व्यय किये गये हैं।
7.    कु0 मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर के वाणिज्य संकाय पर 130.15 लाख रूपये के व्यय किये गये हैं।
8.    कु0 मायावती राजकीय महिला स्नातकोत्तर महाविद्यालय, बादलपुर के विज्ञान संकाय पर 227 लाख रूपये व्यय किये गये हैं।
9.    बादलपुर स्थित गौतमबुद्ध पार्क बनाया गया है, जिसमें महात्मा गौतमबुद्ध की 18 फीट ऊंची मूर्ति स्थापित की गयी है। पार्क में वाटर बाॅडी, फव्वारे आदि का निर्माण किया गया है। पार्क के अन्दर चारों ओर पैदल मार्ग बनाया गया है। इसके अलावा पार्क में बाउण्ड्रीवाल एवं जनसुविधा हेतु टाॅयलेट ब्लाॅक का निर्माण किया गया है। पार्क में विभिन्न प्रजातियों के वृक्ष एवं खुले क्षेत्र में घास लगायी गयी है। यह पार्क लगभग 40,600 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में बनाया गया है। इसके निर्माण पर 47.90 करोड़ रूपये की लागत आयी है।
10.    बाबा साहेब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर पार्क लगभग 01 लाख वर्ग मीटर क्षेत्रफल में बनाया गया है और इस पर 101.50 करोड रूपये की धनराशि व्यय हुई है। इस पार्क में बाबा साहेब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर जी की 18 फीट ऊंची एक मूर्ति स्थापित की गयी है। पार्क में वाटर बाॅडी, फव्वारे आदि का निर्माण भी किया गया है। पार्क के चारो ओर पैदल मार्ग बनाया गया है, जिसमें चारो स्थानों पर बाबा साहेब डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर, माननीया मुख्यमंत्री सुश्री मायावती जी, रमाबाई अम्बेडकर एवं मान्यवर श्री कांशीराम जी की मूर्तियां लगायी गयी हैं। पार्क में बाउण्ड्रीवाल, प्रशासनिक भवन एवं जनसुविधा हेतु टाॅयलेट ब्लाॅक का निर्माण किया गया है। पार्क में विभिन्न प्रजातियों के वृक्ष एवं खुले क्षेत्र में घास लगायी गयी है।
11.    डाॅ0 भीमराव अम्बेडकर हेली-पैड-बादलपुर का निर्माण लगभग 20200 वर्ग मीटर में किया गया है। हेलीपैड में बाउण्ड्रीवाल, काॅटेज, वाच टाॅवर्स, गार्डरूम आदि का निर्माण किया गया है। इस कार्य की कुल लागत 20.50 करोड़ रूपये है।
12.    विद्यार्थियों के सांस्कृतिक कार्यक्रमों, सभा आदि के लिए कुल 01 हजार की क्षमता के गौतमबुद्ध बालक इण्टर काॅलेज का प्रेक्षागृह, ग्रेटर नोएडा का निर्माण सितम्बर, 2011 में पूर्ण किया गया। इस पर 9.75 करोड़ रूपये की लागत आयी है।
13.    गे्रटर नोएडा में ही 01 हजार क्षमता का सावित्रीबाई फुले बालिका इण्टर कालेज का प्रेक्षागृह का निर्माण सितम्बर, 2011 में पूर्ण किया गया है, जिस पर 975 करोड़ रूपये की लागत आयी है।
14.    ग्रेटर नोएडा में ही गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय के वाह्य आगन्तुकों, विद्यार्थियों के अभिभावकों को ठहरने के लिए गौतमबुद्ध विश्वविद्यालय गेस्ट हाउस का निर्माण किया गया है। इस भवन में 100 नग सुसज्जित कमरें बनाये गये हैं। इसके अतिरिक्त इस भवन में 50 व्यक्तियों की क्षमता का एक सभाकक्ष भी है और इस पर लगभग 26.07 करोड़ रूपये की धनराशि व्यय की गयी है।
15.    गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय परिसर में 370 छा़त्राओं हेतु महामाया महिला छात्रावास का निर्माण किया गया है। इस छात्रावास में प्रत्येक छात्रा हेतु अलग-अलग कमरें की व्यवस्था की गयी है। छात्रावास के समीप डाइनिंग हाॅल का भी निर्माण कराया गया है। इस छात्रावास का निर्माण जुलाई, 2011 में पूर्ण किया गया है और इस पर कुल 22 करोड़ रूपये की धनराशि व्यय हुई है।
16.    गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय परिसर में 241 छात्रों हेतु गुरू घासीदास पुरूष छात्रावास का निर्माण किया गया है। इस छात्रावास में प्रत्येक छात्र हेतु अलग-अलग कमरें की व्यवस्था की गयी है। छात्रावास के समीप डाइनिंग हाॅल का भी निर्माण कराया गया है। इस छात्रावास का निर्माण जुलाई, 2011 में पूर्ण किया गया है और इस पर कुल 16 करोड़ रूपये की धनराशि व्यय हुई है।
17.    गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय परिसर में 246 छात्रों हेतु बिरसामुण्डा पुरूष छात्रावास का निर्माण किया गया है। इस छात्रावास में प्रत्येक छात्र हेतु अलग-अलग कमरें की व्यवस्था की गयी है। छात्रावास के समीप डाइनिंग हाॅल का भी निर्माण कराया गया है। इस छात्रावास का निर्माण जुलाई, 2011 में पूर्ण किया गया, और इस पर कुल 16.03 करोड़ रूपये की धनराशि खर्च की गयी है।
18.    गौतम बुद्ध विश्वविद्यालय परिसर में ही 350 छात्रों हेतु सन्त कबीरदास पुरूष छात्रावास का निर्माण किया गया है। इस छात्रावास में प्रत्येक छात्र हेतु अलग-अलग कमरें की व्यवस्था की गयी है। छात्रावास के समीप डाइनिंग हाॅल का भी निर्माण कराया गया है। इस छात्रावास का निर्माण जुलाई, 2011 में पूर्ण किया गया है और इस पर कुल 24.05 करोड़ रूपये की धनराशि खर्च की गयी है।
19.    गे्रटर नोएडा में 17.80 करोड़ रूपये की लागत से मान्यवर श्री कांशीराम मल्टीस्पेशलिटी हाॅस्पिटल के प्रशासनिक कार्यों के सम्पादन हेतु परिसर में ही प्रशासनिक भवन का निर्माण किया गया है। भवन का निर्माण कार्य जनवरी, 2011 में पूरा किया गया है।
20.    45 करोड़ रूपये की लागत से सेक्टर 62, नोएडा में 500 सीटों का अनुसूचित जाति जनजाति महिला छात्रावास का निर्माण अन्तिम चरण में है, जिसमें 500 अध्ययनरत/कार्यरत महिलाओं के रहने की व्यवस्था होगी। इस परियोजना से क्षेत्र की अनुसूचित जाति/जनजाति की छात्राओं/महिलाओं की नोएडा में रहने की समस्या का समाधान हो सकेगा तथा छात्रावास में रहने से उनकी शिक्षा के स्तर में भी सुधार होगा।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

भाजपा राष्ट्रीय सचिव डाॅ. किरीट सोमैया ने नोएडा प्राधिकरण के खिलाफ नोएडा समुह हाउसिंग स्कीम मे 8000 करोड रूपये के घोटाले के बारे में लोकायुक्त से शिकायत दर्ज की

Posted on 10 October 2011 by admin

नोएडा प्राधिकरण के अध्यक्ष के खिलाफ उत्तर प्रदेश लोकायुक्त के यहाॅं नोएडा समूह हाउसिंग स्कीम में 8000 करोड रूपये के घोटाले की शिकायत दर्ज की भाजपा का मानना है कि यह घोटाला मुख्यमंत्री सुश्री मायावती से संरक्षण में हुआ है। वह पूरी तौर पर इसके लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार है।

भाजपा के राष्ट्रीय सचिव डाॅ.किरीट सोमैया ने आज लखनऊ  में उत्तर प्रदेश स्वांलनाजं  के सामने श्री. मोहिन्दर सिंह  ;नोएडा प्राधिकरण के तत्कालीन अध्यक्षद्ध के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई. नोएडा समूह आवास योजना में 8000 करोड रूपये के घोटाले के बारे में ये शिकायत हैस उन्होंने कहा कि 2009-2010, 2010-2011 साल में नोएडा समूह आवास योजना में कुल   38.22 लाख वर्ग मीटर भूमि को बेच दिया गया था स.

1.    बाजार मूल्य नजरअंदाज कर दिया गया था , बिक्री के कुल लेन- देन रूपये था. 8131 करोड रूपये से अधिक / के खिलाफ बाजार मूल्य 16000 करोड हैस

2.    कुछ चुने बिल्डरांे चयन और आवंटन में लिप्त थेस

3.    संपूर्ण भूमि सौदे एक बहुत ही गुप्त तरीके में किया गया था. उचित प्रचार नहीं किया गयास

4.    23 महीने की अवधि के भीतर ,73 आवास भूखंडों बेचे गये हैस

5.    आंबटन बोली पैसे का केवल 5ः जमा करने पर उन्हें बनाया गया था ,फिर कब्जा 36 महीने के रूप में एक अधिस्थगन अवधि के साथ एक और 5ः  राशि जमा करने के बाद दिया गया थास

6.    आवंटन सर्किल दरों के बहुत नीचे से थे - सर्कल दरोंको पूरी तरी से नजरअंदात कर दिया गयास

7.    पूरे बोली प्रक्रिया और आंबटन जैसे पहले से तय हुयी थीस

8.    एक की पते वाली अलग कंपनियाॅं और एक ही निदेशकों होने वाले विभिन्न कंपनियों के लिए आंबटन किया गयास

9.    बोलीदाताओं की वित्तीय ताकत को नजर अंदाज किया गयास

डाॅ. सोमैया अपनी शिकायत का समर्थन करने के लिए आरटीआई के माध्यम से और कंपनियों के रजिस्टार से प्राप्त दस्तावेजों पेश किया। ऐसे ही प्रकरण पर कैप्टन विकास गुप्ता भाजपा पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक ने भी लोकायुक्त एक शिकायत दर्ज की।

उन्होंने एक समय बद्धा और सभी आंवटन की जांच रद्द करने के लिए अनुरोध तथा आग्रह किया कि घोटालेबाजों के खिलाफ सख्त कारवाई कियी जाऐंस

डाॅ. सोर्मैया ने आरोप लगाया की यह पुरा मामला गैर पारदर्शी, जोड तोड वाला, आंवटन की विधि मे और चयन में संदिग्धता से भरा हुआ है जिससे राज्य के राजकोष को रू. 8000 करोड रूपये की हानी हुई हैस

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

भट्टा पारसौल में किसान महापंचायत के लिए गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन द्वारा अनुमति न देने संबंधी कांग्रेस का बयान तथ्यों से परे

Posted on 03 July 2011 by admin

  • भट्टा पारसौल वासी अपने क्षेत्र में राजनैतिक हस्तक्षेप नहीं चाहते
  • जिला प्रशासन ने कांग्रेस पार्टी के अनुरोध पर रामलीला मैदान में किसान महापंचायत के आयोजन की अनुमति दी

गौतमबुद्ध नगर के जिलाधिकारी श्री हृदयेश कुमार ने कांग्रेस पार्टी के नेताओं द्वारा भट्टा पारसौल में किसान महापंचायत आयोजित किये जाने के लिए जिला प्रशासन गौतमबुद्ध नगर द्वारा अनुमति न दिये जाने संबंधी बयान को पूरी तरह से तथ्यों से परे बताते हुए कहा है कि ग्राम भट्टा पारसौल के निवासी इन गांवों के नाम पर कोई राजनीति नहीं चाहते।

जिलाधिकारी ने आज यहां बताया कि भट्टा पारसौल एवं आस-पास के गांवों के लोगों ने 02 जून, 2011 को लिखे गये एक पत्र के माध्यम से यह अनुरोध किया था कि इन गांवों के नाम पर कोई राजनीति न की जाये। वहां के ग्राम प्रधान एवं निवासी अपने गांव के साथ-साथ आस-पास के सभी गांवों में शान्तिपूर्ण माहौल तथा सामाजिक समरसता बनाये रखना चाहते हैं।

कांग्रेस पार्टी को भट्टा पारसौल में किसान महापंचायत के लिए अनुमति दिये जाने के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि  29 जून, 2011 को जिला अध्यक्ष कांग्रेस कमेटी गौतमबुद्ध नगर द्वारा भट्टा पारसौल अथवा जेवर ब्लाक में प्रदेश स्तरीय किसान महापंचायत आयोजित करने हेतु अनुमति दिए जाने विषयक पत्र जिला प्रशासन को प्राप्त हुआ था। इस सम्बन्ध में जिला प्रशासन ने कांग्रेस पार्टी के जनपद अध्यक्ष को अवगत कराया कि कांग्रेस पार्टी द्वारा आयोजित होने वाले प्रदेश स्तरीय किसान महापंचायत में बड़ी संख्या में विशिष्ट महानुभावों एवं जनता के भाग लेने की सम्भावना है। चंूकि इस रिमोट एरिया में अति विशिष्ट एवं विशिष्ट महानुभावों का बड़ी संख्या में पहले कभी आगमन नहीं हुआ है, जिसके दृष्टिगत महापंचायत में आने वाले अतिविशिष्ट एवं विशिष्ट महानुभावों की सुरक्षा एवं भीड़ के लिए आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने में जिला प्रशासन को कठिनाई होती। इसके अलावा विशिष्ट महानुभावों के आगमन के दौरान उनके जीवन भय के स्तर को देखते हुए सुरक्षा प्रबन्ध एवं अपरिहार्य स्थिति में चिकित्सा एवं अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने में काफी कठिनाई होती।    इसे दृष्टिगत रखते हुए गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन ने कांग्रेस पार्टी के स्थानीय नेताओं से यह अनुरोध किया था कि गौतमबुद्ध नगर जिले के किसी उपयुक्त स्थान पर यदि वे किसान महापंचायत करने की अनुमति मांगे तो उस पर नियमानुसार विचार किया जायेगा।

जिलाधिकारी ने कहा कि पुनः कांग्रेस पार्टी के जिला अध्यक्ष द्वारा 30 जून, 2011 को जिलाधिकारी को पत्र लिखकर जेवर ब्लाक में कार्यक्रम के आयोजन की अनुमति मांगी गयी। इसके पश्चात कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष की ओर से जिलाधिकारी को 02 जुलाई, 2011 को पत्र लिखकर गौतमबुद्ध नगर के भट्टा-पारसौल, जेवर, दनकौर, बिलासपुर एवं दादरी में से किसी एक जगह किसान महापंचायत करने के लिए जिलाधिकारी से अनुमति मांगी गयी थी। इस पर जिला प्रशासन द्वारा विचार किया ही जा रहा था कि तभी उनकी ओर से 02 जुलाई, 2011 को ही जिलाधिकारी को एक अन्य पत्र प्राप्त हुआ, जिसमें  कांग्रेस पार्टी ने नोएडा के सिटी सेन्टर अथवा रामलीला मैदान नोएडा स्टेडियम में किसान महापंचायत आयोजित करने की अनुमति देने का अनुरोध किया। जिला प्रशासन ने सम्यक विचारोपरान्त रामलीला मैदान में 09 जुलाई, 2011 को किसान महापंचायत करने की अनुमति प्रदान कर दी है।

श्री कुमार ने बताया कि प्रस्तावित किसान महापंचायत के आयोजन स्थल को लेकर कांग्रेस पार्टी के विभिन्न पदाधिकारियों द्वारा समय-समय पर पत्रों के माध्यम से आयोजन स्थल में बदलाव किया जाता रहा, जिसकी वजह से भ्रम की स्थिति बनी रही। ऐसा प्रतीत होता है कि किसान महापंचायत के आयोजन स्थल के सम्बन्ध में कांग्रेस के पदाधिकारी यह स्वयं तय नहीं कर पा रहे थे कि कार्यक्रम को किस स्थान पर आयोजित किया जाय। उन्होंनेे बताया कि जिला प्रशासन द्वारा कांग्रेस पार्टी को पहले ही अवगत करा दिया गया था कि यदि वे किसी उपयुक्त स्थान पर किसान महापंचायत के आयोजन की अनुमति का अनुरोध करेंगे तो उस पर सम्यक विचारोपरान्त निर्णय लिया जायेगा। चंूकि कांग्रेस पार्टी द्वारा सिटी सेन्टर/ रामलीला मैदान नोएडा स्टेडियम में किसान महापंचायत की अनुमति मांगी गयी थी, जिसके मद्देनजर जिला प्रशासन ने इस अनुरोध पर सम्यक विचारोपरान्त रामलीला मैदान में अविलम्ब किसान महापंचायत के आयोजन की स्वीकृति दे दी है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

December 2017
M T W T F S S
« Nov    
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031
-->









 Type in