*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Archive | चित्रकूट

महाकुम्भ की तैयारिया

Posted on 29 August 2012 by admin

उत्तर प्रदेश सरकार के तत्वावधान में महाकुम्भ की तैयारियाॅं जोरों पर हैं। यह मेला दुनिया भर से आने वाले सैकड़ों लोगों की आस्थाओं और विश्वासों का संगम है जो त्रिवेणी की पवित्र भूमि पर फलित होता है। सरकार द्वारा जहाॅं इलाहाबाद में मेले की तैयारियाॅं की जा रही हैं। वहीं इलाहाबाद के आस-पास के  क्षेत्र जहाॅं पर्यटकों के आने की प्रबल संभावना रहती है, को भी पर्यटकों की सुविधाओं को देखते हुए विकसित किया जा रहा है।
इलाहाबाद के करीबी तीर्थों में अयोध्या एवं चित्रकूट ऐसे स्थल हैं जहाॅं देशी-विदेशी सभी पर्यटकों के जाने की संभावना बनती है। पर्यटन द्वारा जानकारी दी गई है कि अवस्थापना सुविधाओं के अन्तर्गत पर्यटन आवास गृह अयोध्या यात्री निवास अयोध्या, चित्रकूट के पर्यटन आवास गृह एवं यात्री निवास का उच्चीकरण पर्यटन विभाग द्वारा किया जा रहा है, ताकि बाहर से आने वाले पर्यटकों के आवास की सुनियोजित व्यवस्था की जा सके। अयोध्या और चित्रकूट में मेले के दौरान होने वाली भीड़भाड़ और गन्दगी को नियंत्रित करते हुए शहरों में साफ-सफाई बनाये रखने की व्यवस्था को भी ठीक किया जा रहा है।
इसके अतिरिक्त अध्योध्या में राम की पैड़ी एवं कुण्डों का सौन्दर्यीकरण, चित्रकूट में रामघाट का विस्तारीकरण, शीघ्रता से किया जा रहा है ताकि जनवरी में होने वाले कुम्भ मेले के दौरान पर्यटकों के लिए सुव्यवस्थित वातावरण बनाया जा सके।
अयोध्या एवं चित्रकूट में पुलिस की व्यवस्था भी चाक चैबन्द रखी जायेगी। इसके साथ ही यात्रियों की सुविधा के लिए दोनों ही शहरों में सूचना पटों की व्यवस्था भी की जा रही है।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
agnihotri1966@gmail.com
sa@upnewslive.com

Comments (0)

प्रदेश में भ्रष्टाचार और अराजकता का हाहाकार मचा है

Posted on 21 October 2011 by admin

dsc_6407भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं जनस्वाभिमान यात्रा के नायक श्री कलराज मिश्र ने आज यात्रा के 8वें दिन अतर्रा, बबेरू की जनसभाओं में बोलते हुए कहा कि जिस तरह से प्रदेश में भ्रष्टाचार और अराजकता का हाहाकार मचा है। यह किसी पापाचारी शासक के शासन में ही संभव है। बसपा मंत्री दद्दू प्रसाद द्वारा दुराचार की घटना ने बुदेलखंड को शर्मसार किया है। उन्होंने ने कहा कि मायावती ने अपने साढे़ चार वर्ष के कार्यकाल में अपने मंत्रियों और विधायकों तक से महिलाओं की आबरू की रक्षा नहीं कर सकी। दद्दू प्रसाद को मंत्रिमंडल से बर्खास्तगी की मांग करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश लगातार गर्त में जा रहा है। बांदा के अपर मुख्य पंचायत अधिकारी की हत्या में बसपा नेताओं की संलिप्तता और उनको प्रदेश सरकार के कद्दावर लोगों की शह की बात आई है। यह सरकार पता नहीं अभी कितने अधिकारियों की बलि लेगी। उ0प्र0 में अपराधी और लूटेरों का एक गैंग काम कर रहा है। जो पहले साइकिल पर चढ़कर जन-धन की लूट कर रहा था वही लोग अब हाथी पर चढकर कर रहे हैं।
उच्च न्यायालय द्वारा स्थानीय निकाय चुनाव पर दिए गए फैसले पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की निचली ईकाई पंचायत और निकाय के चुनाव समय पर होने चाहिए दरअसल dsc_6398जब-जब प्रदेश की जनता को राहत मिली है उसमें कहीं न कहीं न्यायालय की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। चाहे शीलू काण्ड हो अथवा एन0आरएच0एम0 घोटाला हर बार न्यायालय के हस्तक्षेप के कारण ही कार्यवाही सम्भव हो पाई है। बसपा सरकार के मंत्री द्ददू प्रसाद और विधायक नीरज मौर्य के प्रकरण में भी न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद ही एफआईआर दर्ज हुई। उन्होंने कहा कि उच्च न्यायालय के निर्णय के बाद अब लगता है कि स्थानीय निकाय के चुनाव हो जायेंगे। दरअसल जनाक्रोश, अलोकप्रियता से डरी सहमी यह सरकार विधानसभा चुनाव से पहले किसी भी ऐसी शक्ति परीक्षण से बचना चाहती है। जिससे यह सन्देश न जाये कि यह सरकार जनादेश खो चुकी है। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड में सवार्धिक समर्थन पाने वाले दल के पास इसके (बुन्देलखण्ड) विकास का कोई एजेण्डा नहीं है। जिसका परिणाम है कि बुन्देलखण्ड में पहुंचने के लिए सड़के नहीं है। मुख्य मार्ग बदहाल है, अस्पताल खस्ताहाल है, जनता बेहाल है, फिर भी मंत्री मालामाल है। सरकार गठन से अवैध वसूली का प्रारम्भ हुआ यह सिलसिला आज भी जारी है। जिसमें इं0 मनोज गुप्ता की हत्या से लेकर कल बुन्देलखण्ड में हुई अपर मुख्य नगर पंचायत अधिकारी आनन्द चैहान तक जारी है।
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा कि पिछले कई वर्षों से सूखे का दम झेल रहे बुन्देलखण्ड में सूखा राहत राशि मजाक का पर्याय बन गयी है। मुझे बताया गया कि 35 रूपये का एकाउंट पेयी चेक की राहत राशि के लिए 500 रूपये से पहले बैंक में खाता खोलना पड़ता है किसान के साथ विडम्बना नहीं तो और क्या है कि वह जब ऋण लेने जाता है तो उससे फसल बीमा के नाम पर धनराशि की कटौती की जाती है। जब फसल बर्बाद हो जाती है तो उसका कोई पुरसाहाल नहीं है। वीरों की भूमि बुन्देलखण्ड का युवा, किसान आज हताश और निराश है उसके सामने कोई रास्ता नहीं दिखाई पड़ रहा है। जिन लोगों पर यह जिम्मेदारी है वे अपने कर्तव्यों के निर्वहन से ज्यादा उसमें राजनैतिक रोटी सेंक रहे हैं।
जनसभाओं को संबोधित करते हुए पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और यात्रा प्रभारी डा0 रमापति राम त्रिपाठी ने कहा कि मायावती को पत्थर की मूर्तियों की मुस्कान तो दिखती है लेकिन आम आदमी की मुस्कान से उनका कोई मतलब नही। मायावती का बहुजन हिताय और सर्वजन सुखाय का नारा अब बहुजन दुखाय और सर्वजन लुटाए में बदल गया है।
पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं पूर्व सांसद रामनाथ कोविन्द ने अपने संबोधन में मायावती के दलित पे्रम पर प्रहार करते हुए कहा कि मायावती के राज में दलित उत्पीड़न की सर्वाधिक घटनाएं हुई तथा सरकारी नौकरियों में बिना पैसा दिए दलितों को भी अवसर नहीं मिला।  श्री कोविन्द ने मायावती द्वारा भाजपा पर दलित विरोधी होने के आरोप का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा की 1980 में हुई स्थापना के लिए ज्योतिबाफुले नगर बसाकर भाजपा की स्थापना और उसकी रीति-नीति तय हुई और भाजपा ही ऐसी पार्टी है जिसका लक्ष्य और सूत्र वाक्य अन्त्योदय है।
यात्रा के साथ पूर्व प्रदेश मंत्री तथा पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष शिवप्रताप शुक्ल, राधेश्याम गुप्त, स्वतंत्र देव सिंह, प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक, किसान मोर्चे के महामंत्री दिनेश दुबे, प्रभुनाथ चैहान, बांदा के भाजपा जिलाध्यक्ष तथा अनेक नेता और कार्यकर्ता साथ हैंे।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

बुंदेलखण्ड में त्राहि-त्राहि मची हुई है

Posted on 22 May 2011 by admin

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कलराज मिश्र ने कहा कि बुन्देलखण्ड में पेयजल एवं सिंचाई का अभाव है जिससे बुंदेलखण्ड में त्राहि-त्राहि मची हुई है। किसान आत्महत्या के लिये मजबूर है। अंतर्राष्ट्रीय जगत में बुंदेलखण्ड अलग स्थान रखता है। झांसी की रानी, तात्या तोपे हिन्दुस्तान की आजादी एवं कांग्रेसी हुकूमत से छुटकारा बुंदेलखण्ड ने ही दिलाया। आल्हा-ऊदल की कहानी भी बुंदेलखण्ड से ही सम्बन्धित है। केन्द्र एवं बसपा सरकार बुंदेलखण्ड के साथ विश्वासघात कर रही है। केन्द्र सरकार के कोरे आश्वासनों से किसान दुखी हैं।

श्री मिश्र आज चित्रकूट में विशाल जनसभा को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भगवान राम यहां आये और राक्षसों का विनाश किया और कहा कि यहीं रहूंगा। बुंदेलखण्ड की आर्थिक स्थिति खराब है। छोटी जोत के किसान ज्यादा हैं। खेतिहर मजदूर भी ज्यादा हैं। यहां पर खनिज सम्पदा भी है। यदि बुंदेलखण्ड में किसान को सुविधा प्रदान की जाये तो वह पूरे प्रदेश को खनिज दे सकता है। केन्द्र एवं प्रदेश सरकार ने लगातार किसानों का शोषण किया है। इस शोषण के लिये केन्द्र व प्रदेश दोनो सरकारें जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि बुंदेलखण्ड में पैकेज और हिसाब मांगने की सियासत कर रही कांग्रेस और बसपा के ढोंग से आहत होकर आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। केन्द्र सरकार 7266 करोड़ रूपये भेजने की बात कहती है। मायावती कहती हैं कि केन्द्र सरकार झूठ बोल रही है। लेकिन प्रधानमंत्री कहते हैं कि मैंने राज्य सरकार को रूपये दिये हैं और मैं कहता हूं कि दोनो मिलकर रूपये खा गये हैं। केवल 400 करोड़ रूपये पूरे प्रदेश में राज्य सरकार ने आवंटित किये हैं।

श्री मिश्र ने कहा भाजपा सरकार ही बुंदेलखण्ड का विकास करेगी। भाजपा को सत्ता तक पहुंचाने में बुंदेलखण्ड का बड़ा योगदान रहा है। भाजपा के सत्ता में आने पर यहां विकास हुआ। भाजपा ने बुंदेलखण्ड का विकास प्राथमिकता के आधार पर किया। श्री मिश्र बांदा जनपद के ग्राम पोस्ट भदौसा के आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या कर चुके किसान प्रमोद तिवारी के आवास पर गये और परिजनों से मिले।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

चित्रकूट में भाजपा का चिन्तन शिविर का नितिन गडकरी ने किया शुभारम्भ

Posted on 28 August 2010 by admin

भाजपा के कई दिग्गज नेताओं व मन्त्रियों का लगा जमावडा

1-4चित्रकूट- भाजपा का तीन दिनी चिन्ता शिविर दीनदयाल शोध संस्थान परिसर प्रारम्भ हुआ । शिविर का विधिवत उद्धाटन भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने किया।

इसके अलावा राश्ट्रीय संगठन मन्त्री रामलाल जी, उत्तर प्रदेश संगठन मन्त्री नगेन्द्र जी,म0प्र मुख्य मन्त्री शिवराज सिंह चौहान, म0प्र0 संगठन मन्त्री माखन, व अन्य राज्यों के संगठन मन्त्री और प्रान्त संगठन मन्त्री सहित भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश तिवारी, चन्द्रप्रकाश खरे, लवकुश चतुर्वेदी, राम औतार तिवारी इस अभ्यास वर्ग की शुरुवात में शामिल रहे।

पहले दिन विभिन्य राज्यों से आये पदाधिकारीयों ने चर्चा की । आगे आने वाले चुनाव और अयोध्या मुद्दे को देखते हुये चिन्तन शिविर महत्वपूर्ण माना जा रहा है इसमें देश सभी राज्यों से संगठन मन्त्री के रुप में 185 सदस्य प्रमुख रुप से हिस्सा लेगे।

भाजपा अध्यक्ष गडकरी ने इस कार्यक्रम की शुरुवात की और आगे आने वाले विधान सभा चुनाव में जोर देते हुुये पार्टी की मजबूती के लिये विशेश बल दिया। दो साल के अन्दर होने वाले विधान सभा चुनाव को लेकर रणनीति बनाने व पिछले लोकसभा चुनाव में हार के कारणों की समीक्षा को अभ्यास वर्ग के रुप में भाजपा का चिन्ता शिविर की शुरुवात की।

इसके बाद भाजपा अध्यक्ष व म0प्र0 मुख्यमन्त्री सहित कई मन्त्री ग्रामोदय विश्व विद्यालय में नाना जी के छठमासिक श्राद्व कार्यक्रम में शामिल हुये।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

मनाही के बावजूद भी लोगों द्वारा काटे जा रहे हैं कीमती पेड़

Posted on 10 June 2010 by admin

भू-माफियाओं व अवैध खनन माफियाओं की तर्ज पर विभागीय लोगों से सांठ-गांठ कर वन माफिया भी कर रहे हैं मनमानी
वनों को बचाने के लिए सरकार द्वारा पेड़ आदि काटने पर प्रतिबंध लगाते हुए संज्ञेय अपराध घोषित किया है। लेकिन भू-माफियाओं, अवैध खनन माफियाओं की तर्ज पर जिले के कई इलाकों में वन माफियाओं की भी तूती बोलती हैं जो सम्बंधित लोगों की सांठगांठ के चलते बिना किसी डर के कीमती पेड़ों पर कुल्हाड़े व आरे चला ठिकाने लगाने में जुटे हुए हैं। उनकी इस दबंगई से नाराज ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों से खुफिया जांच करवा उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है।

लगातार कई वर्षो से सूखे की मार झेल रहे बुन्देलखण्ड के ग्रामीणों को रोजगार उपलब्ध कराने व पर्यावरण सन्तुलन बनाए रखने के लिए केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा कई योजनाएं लागू की गई है। जिसमें प्रदेश सरकार द्वारा महत्वाकांक्षी योजना वृहद वृक्षारोपण योजना चलाई जा रही है। जिसमें समय-समय पर वन विभाग  सरकारी व सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से वृक्षारोपण करवा रहा है। इसके अलावा लोगों को भी वृक्षारोपण और वन संरक्षण का पाठा भी वनाधिकारियों द्वारा पढ़ाया जाता है। जिले में भी इस योजना के तहत लाखों रुपये खर्च कर काफी संख्या में विभिन्न स्थानों में वृक्षारपेण करवाया गया है। और आगे भी यह अभियान समय-समय पर चलाया जाएगा। लेकिन एक मात्रा तहसील मऊ के आस-पास गांवो व जंगली इलाकों में रहने वाले ग्रामीण बताते हैं कि वन विभाग के उद्देश्यों पर कुछ लोगों द्वारा पानी फेरा जा रहा है। ग्रामीणों की माने तो इन क्षेत्रो में भू-माफियाओं और अवैध खनन माफियाओं की तर्ज पर वन माफियाओं द्वारा शीशम, पाकर, यूकेलिप्टस, बबूल, नीम आदि के कीमती पेड़ों पर बिना किसी डर के कुल्हाड़े व आरे चलाए जा रहे हैं। सूत्रो की माने तो उनकी इस करतूत में सम्बंधित विभागीय लोगों की भी मिलीभगत रहती है। जिसके चलते उनके खिलाफ किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं होती। सूत्रा बताते हैं कि सम्बंधित लोगों की शह पर पेड़ों को ठिकाने लगाने वाले वन माफिया इतने निर्भीक होते हैं कि खुले आम थानों व वन चौकियों के सामने से अवैध लकड़ी से लदे वाहन निकाल कर ले जाते हैं। इतना ही नहीं इनके आरे व कुल्हाड़े उस समय भी रुकते जब कोई सरकारी वाहन उनके कार्यक्षेत्र के आस-पास से गुजरता है। लोगों ने सम्बंधित उच्चाधिकारियों से वन माफियाओं की खुफिया जांच करवा कार्रवाई करने की मांग की है। उधर डीएफओ बी के चोपड़ा कहते हैं कि उन्हें अभी तक पेड़ों के अवैध कटान की शिकायत नहीं मिली है। वे जल्द ही इसका पता लगा वन माफियाओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे।

Comments (0)

50 हजार का ईनामी डी11 गैंग सरगना राजू कोल अपने दो साथियों सहित गैंगवार में हुआ ढेर

Posted on 22 May 2010 by admin

एसपी ने भी साथियों के हाथों मारे जाने की पुष्टि की, मारे गए एक बदमाश की नहीं हो सकी पहचान

अपने साथियों के साथ आतंक के जरिए ददुआ की तरह सरकारी कामों में चौथ वसूली करने वाला साठ हजार का ईनामी डी 11 गैंग सरगना राजू कोल गैंग के दो सदस्यों के साथ गैंगवार में मारा गया। तीनों बदमाशों के गले और सर में गोलियां मारे जाने के निशानों से यह साबित होता है कि गैंग के साथ मौजूद लोगों ने ही राजू और उसके साथियों ने ही ठिकाने लगाया है। दो साथियों सहित उसके मारे जाने की खबर सुन शनिवार की तड़के मौके पर पहुंचे एसपी ने भी उसके गैंगवार में मारे जाने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि जनता अगर जागरूक हो जाएगी तो जिले से बदमाशों सफाया हो जाएगा।

बैरहना पहाड़ में ढेर पड़े बदमाशों के पास  से पुलिस ने एक 12 बोर की दोनाली बन्दूक व दैनिक उपयोग का सामान बरामद किया है। उधर दूसरी पुलिस ने यह भी आशंका जताई है कि हो सकता है वर्चस्व को लेकर नवोदित दस्यु शंकर कोल ने ही अपने साथियों के सहयोग से इन तीनों को ठिकाने लगाया हो। मऊ थानान्तर्गत पियरा गांव के बैरहना पहाड़ में घने जंगलों के बीच चल रही राजा पियरा की पत्थर खदान में डी 11 गैंग के सरगना राजू कोल के मारे जाने की सूचना पर शनिवार की तड़के से ही अपर एसपी विपिन बिहारी मिश्रा, एसटीएफ के सीओ आलोक जायसवाल व मऊ एसओ हरिशरण यादव, मानिकपुर एसओ के के मिश्रा दुर्गम जंगल में स्थित खदान पहुंचे जहां दस्यु राजू कोल अपने दो साथियों के साथ पत्थरों में मृत पड़ा हुआ था और नजदीक ही उनकी पिन्नयां व दैनिक उपयोग की सामग्री के साथ 12 बोर की एक दोनाली बन्दूक व 15 ज़िन्दा कारतूस पड़े हुए थे। बदमाशों के गर्दन व सर में गोलियों के निशान देख पुलिस को समझते देर नहीं लगी कि डी 11 गैंग का सरगना राजू कोल पुत्रा पुर्रा उर्फ शिवधारी निवासी सकरौहां थाना मानिकपुर अपने ही प्रतिद्वन्दी या साथी बदमाशों द्वारा ठोंका गया है। इधर एसपी डा. तहसीलदार सिंह भी अपने दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए और इस बीच खबर सुन मौके पर पहुंच रहे लोगों से राजू के साथ ढेर हुए दोनों  बदमाशों की विधिवत पहचान कराई। जिसमें एक को तो लोगों ने छोटवा उर्फ छोटा कोल पुत्रा रामजियावन निवासी झलमल थाना मानिकपुर बताया। जबकि नजदीक से गोलियां मारे जाने के कारण सर व मुंह बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण तीसरे बदमाश की पहचान नहीं हो सकी। कभी ददुआ गैंग के हार्ड कोर सदस्य रहे राजू कोल ने उसके मारे जाने के बाद ददुआ के दाहिने हाथ दस्यु राधे के साथ काफी समय तक वारदातों को अंजाम देने के बाद बढ़ते पुलिसिया दबाव के चलते शातिर दिमाग के बदमाश राजू कोल ने भी राधे के साथ मध्यप्रदेश के मझगवां थाने में 20 फरवरी 08 को आत्मसमर्पण कर दिया था। लेकिन सरेण्डर होने के कई माह जेल में रहने के बाद राजू कोल पुलिस कर्मियों को उस समय चकमा देकर ओहन स्टेशन के पास सतना पेशी से वापस लौटते समय 7 अगस्त 08 को ट्रेन से कूद कर फरार हो गया था। इसके बाद से तो वह अपना स्वत: गैंग बना पाठा क्षेत्रा समेत जिले के विभिन्न स्थानों व मध्य प्रदेश के रीवां जिले में अपना आतंक कायम करते हुए ददुआ की तर्ज पर सरकारी कार्यों में कमीशन व चौथवसूली करने लगा था। अचानक बढ़े राजू के आतंक के बाद यूपी पुलिस ने इस पर ईनाम बढ़ा कर 50 हजार रुपये व एमपी पुलिस ने दस हजार कर दिया था। लेकिन दो दर्जन से अधिक जघन्य अपराधों समेत ट्रेन में रूसी महिला की हत्या करने वाला राजू कोल लगातार अपना कद बढ़ाते हुए लोगों में दहशत फैला रहा था। इधर एसटीएफ व जिला पुलिस ने भी जिन बदमाशों को अपना प्रमुख टारगेट माना था उसमें राजू दूसरे नंबर पर था। जिसके चलते इधर काफी समय से वह अपने विश्वासपात्रा साथियों के साथ ही चलता था। लेकिन बीते शुक्रवार की रात उसके लिए काल बन कर आई जब अपने ही किसी नजदीकी के हत्थे चढ़ वह अपने दो साथियों के साथ  मारा गया। घटना स्थल पहुंचे पुलिस अधीक्षक डा. सिंह ने भी मारे गए बदमाशों की मौत के पीछे गैंगवार की पुष्टि करते हुए कहा कि बदमाशों को आमजनता ही दौड़ा-दौड़ा कर मारेगी तभी जिले के लोगों को डकैतों के आतंक से मुक्ति मिलेगी। उन्होंने कहा कि न्याय और कानून से बड़ा कोई नहीं है।लोगों को जीना मुहाल करने वालों को यही हाल होता है।

श्री गोपाल

09839075109

Comments (0)

योजनाओं का लाभ जनता को अवश्य मिलना चाहिए - केन्द्रीय दल

Posted on 20 May 2010 by admin

बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज का सही उपयोग करने की दी सलाह
पानी व अन्ना प्रथा की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए कई  योजनाओं पर भी की गई चर्चा
दो वर्षो में 6 हजार से अधिक तालाब खोदे जाएंगे

बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज के तहत विभागवार बनाई गई योजनाओं का लाभ जनता को अवश्य मिलना चाहिए। यह निर्देश जिला स्तरीय अधिकरियों को केन्द्र की ओर से आई टीम ने दिए। इस दौरान जिले के सिंचाई, लघु सिंचाई, डीपीएपी, वनविभाग, पशुपालन विभाग, दुग्ध विभाग, कृषि विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, उद्यान व मण्डी परिषद द्वारा 409.54 करोड़ के प्रस्ताव भी प्रस्तुत किए गए। जिसमें वन विभाग व डीपीएपी को 5.87 करोड़ रुपया बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज से प्राप्त भी हो चुके हैं।

गुरुवार को बुन्देलखण्ड विशेष पैकेज के बारे में चर्चा करने के लिए आए केन्द्रीय दल के बी के बहुगुणा प्रशासन एवं वित्त अपर सचिव भारत सरकार व डा. आलोक सिक्का तकनीकी विशेषक/अपर सचिव भारत सरकार ने विभाग वार अधिकारियों से पैकेज पर चर्चा की। उनका कहना था कि इसका लाभ जनता को मिलना चाहिए। साथ ही मुख्यरूप से बुन्देलखण्ड में वर्षा के पानी का सदुपयोग हो तथा अन्ना प्रथा को समाप्त करने के लिए भी सभी मिलकर जागरूकता लाएं। उन्होंने कहा कि वन विभाग वन क्षेत्रा में वृक्षारोपण करे तो लघु व सिंचाई विभाग तथा भूमि संरक्षण और कृषि विभाग इन योजनाओं को इस प्रकार से संचालित करे कि वन व जल संचयन का लाभ लोगों को मिल सके।

बैठक के दौरान मुख्य विकास अधिकारी पी के श्रीवास्तव ने बुंन्देलखण्ड विकास निधि कमेटी के सामने विभागवार केन्द्रांश व राज्यांश के साथ लाभर्थीअंश का जिक्र करते हुए बताया कि जनपद के दस विभागों द्वारा इस योजना में काम किया जाना है जिसमें केन्द्रांश 136.96 करोड़, राज्यांश 10.21 करोड़, लाभर्थी अंश 8.57 करोड़, मनरेगा 65.07 करोड़, एसीए 185. 57 करोड़ रुपये देगा। बैठक के दौरान केन्द्रीय प्रतिनिधि श्री सिक्का ने कहा कि इन योजनाओं को लागू करने में केन्द्र भरपूर सहयोग करेगा। लेकिन उसको सदुपयोगी व कारगर बनाने में मनरेगा की तरह काम न कर समय से पूरा करें। इस बीच उन्होंने कहा कि पानी की कमी को देखते हुए जल संचयन के क्षेत्रा में वर्ष 2010-11 में 3 हजार 91 तालाब व वर्ष 2011-12 में 3 हजार 91 तालाब बनवाए जाए तभी पानी की समस्या से जूझ रहे यहां के लोगों को पानी की समस्या से निजात दिलवाया जा सकेगा।

इसके पूर्व जिलाधिकारी विशाल राय ने केन्द्रीय सचिवों को पुष्पगुच्छ भेंट करते हुए कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस बीच उन्होंने कहा कि योजनाओं को धरातल में उतारने के लिए सभी को प्रोजेक्ट के अनुसार भरपूर मेहनत करनी होगी। तभी यह योजना अपने उद्देश्यों को पूरा कर सकेगी। बैठक में उप कृषि निदेशक एम ए सिद्दीकी, जलनिगम अधिशासी अभियन्ता जे पी सिंह, जिला कृषि अधिकारी एच एन राजपूत, भूमिसंरक्षण अधिकारी जीपी कुशवाहा, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई के एस लाल, डीएफओ बीके चोपड़ा समेत सभी सम्बंधित अधिकारी मौजूद रहे।

Comments (0)

बुधवार की शाम जनपद वासियों के लिए कहर बन कर आया तूफान

Posted on 19 May 2010 by admin

तेज आंधी व ओलों की चपेट में आकर चार हुए घायल ,टीनें गिरने से तीन गायों की मौके पर हुई मौत

तेज आंधी के साथ गिरे ओलों से आम की फसल हुई चौपट,ओलों के से सब्जी की बारियों को हुआ नुकसान

भीषण गर्मी झेल रहे लोगों को अचानक बदले मौसम ने थोड़ी सी राहत तो दी लेकिन तूफान के रूप में आई तेज आंधी ने कहर भी खूब बरपाया। तूफान के साथ अचानक गिरे बड़े-बड़े ओलों से लोग चुटहिल भी हुए। लगभग दस मिनट तक चले आंधी और पानी के इस कहर से जहां एक ओर जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा वहीं जगह-जगह पेड़ गिरने से राष्ट्रीय राजमार्ग समेत मुख्यालय के कस्बाई रास्ते भी बन्द हो गए। वहीं कच्चे घरों में रहने वालों के लिए तो आंधी बरबादी का आलम ले कर आई। जिसके चलते लोगों के टीन टप्पर व खपरैल तक उड़ गए। इसके अलावा बिजली की तारें टूट जाने से विद्युत आपूर्ति भी बाधित हो गई। विभागीय लोगों की माने तो विद्युत व्यवस्था सुचारू करने में काफी समय लग सकता है। पिछले एक सप्ताह से जनपदवासी भीषण गर्मी कीमार झेल रहे थे। दो दिन से तो पारा उतरने का नाम ही नहीं ले रहा था। बुधवार को भी लोग सबेरे से गर्मी के मारे परेशान हाल हो रहे थे। लेकिन अपराहन बाद लगभग तीन बजे से आसमान में बदली छा जाने से और ठण्डी हवाओं के झोकों से लोगों को राहत मिली और उम्मीद बंधी की जल्द ही बारिश होगी। वहीं शाम चार बजते-बजते हल्की ठण्डी हवाओं के झोकों ने उग्रता से तूफान का रूप धारण कर लिया। इसी के साथ ही अचानक  बड़े-बड़े ओले गिरते देख लोग भौचक्के रह गए। ओले गिरने के कुछ ही देर बाद तेज बारिश शुरू हुई जिसने आमजन को गर्मी से थोड़ी देर के लिए निजात दिलाई। लगभग दस मिनट तक चलने वाले तेज आंधी और पानी के दौरान जिले में जगह-जगह पेड़ों के गिरने से नेशनल हाइवे 76 के साथ-साथ जिले के अन्य मार्ग भी जाम हो गए। जिसके चलते सैकड़ों वाहन जहां के तहां रुक गए। इसके अलावा कच्चे माकान में रहने वालों के लिए तो आंधी और पानी कहर बन कर टूट पड़ा । तेज आंधी में खपरैलों के साथ-साथ लोगों के टीन-टप्पर भी उड़ गए। वहीं दूसरी ओर ओलों की मार व पेड़ों के गिरने से जिले में लगभग आधा दर्जन से लोग चुटहिल हो गए। हालांकि तूफान का मुख्य केन्द्र जिला मुख्यालय कर्वी ही रहा लेकिन इससे आस-पास के लगभग 20 किमी तक का इलाका प्रभावित हुआ।ckt1

चक्रवाती तूफान के साथ गिरे ओलों ने भयंकर तबाही मचा डाली। इस दौरान जहां बिजली गिरने से एक व्यक्ति बुरी तरह झुलस गया वहीं पेड़ गिरने व माकान का छज्जा टूट जाने से चार लोगों के गम्भीर रूप से घायल होने की खबर मिली है। इसके अलावा चित्रकूट में हनुमान धारा के पास निर्मोही अखाड़ा द्वारा संचालित गोशाला की टीनें गिरने से तीन गायों की मौके पर मौत हो गई जबकि सैकड़ों गायें बुरी तरह घायल हो गई।

बुधवार की शाम लगभग चार बजे आए भयंकर तूफान के साथ ही बड़े-बड़े ओले गिरने लगे। तेज आंधी के दौरान जगह-जगह पेड़ गिर गए वहीं कईयों के माकान भी धराशायी हो गए। आंधी में अपने घर के सामने लगे पेड़ के नीचे खड़े इटरौर भीषमपुर निवासी रामबाबू 30 पुत्र स्व. मोतीलाल अचानक बिजली गिरने से बुरी तरह झुलस गया। परिजनों ने उसे तत्काल जिला अस्पताल में भर्ती कराया। वहीं प्राथमिक उप स्वास्थ्य केन्द्र इटवा डुडैला में तैनात फार्मासिस्ट लक्ष्मी सागर सिंह 40 पुत्र जवाहर निवासी छिपनी बाहर खेरा ड्यूटी से वापस लौट रहा था रास्ते में आंधी आने से बचाव करने के लिए सीतापुर रामायण मेला परिसर के पास लगे पेड़ के नीचे खड़ा हो गया और आंधी में पेड़ गिरने से उसके नीचे दबकर वह गम्भीर रूप से घायल हो गया। जिसे आस-पास के लोगों ने किसी तरह निकाल कर इलाज के लिए अस्पताल भेजा। इसके अलावा पथरौड़ी गांव में आधी के कारण मकान का छज्जा गिर जाने से सखिया 50 पत्नी रघुनन्दन गम्भीर रूप से घायल हो गया। वहीं पथरामानी में बिजली कड़कने की आवाज से 15वर्षीय सब्बू पुत्र बच्छराज बेहोश हो गया। सभी घायलों का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। वहीं बालक की स्थिति गम्भीर बनी हुई है। इसी तरह चित्रकूट में हनुमान धारा के समीप निर्मोही अखाड़ा द्वारा संचालित गोशाला की टीने आंधी में उड़ कर नीचे आ गिरीं जिनकी चपेट में आने से तीन गायों तो मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक सैकड़ा से अधिक गायें चुटहिल हो गईं। इधर मुख्यालय कर्वी के आस-पास क्षेत्रो में केन्द्र बिन्दु बने तूफान व ओले की चपेट में आने से तरौहां कस्बे में भी दर्जनों लोग चुटहिल हुए हैं व कई जानवरों की मौत की खबर मिली है। ckt3

आंधी किसानों के लिए भी खतरनाक साबित हुई। इसके कारण कई वर्षो बाद पेड़ों पर आई आम की अच्छी फसल को भी नुकसान पहुंचा। आंधी में कई कुन्तल छोटे कच्चे आम नीचे आ गिरे। वहीं कुछ लोगों के कटहल के पेड़ों को भी नुकसान हुआ। इसी तरह बड़े-बड़े ओले गिरने से लोगों के द्वारा अपनी रोजी-रोटी के लिए लगाई गई सब्जियों की बारियां भी चौपट हो गईं। इन सबके साथ आंधी ने बिजली विभाग को भी काफी चोट पहुंचाई। तेज आंधी और पानी में सैकड़ों बिजली के खंभे गिर गए व जगह-जगह पर बिजली  के तार टूट गए। जिससे बिजली व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो गईं। जिसके चलते विभागीय लोगों ने आपूर्ति चालू करने में हाथ खड़े कर दिए। उधर अचानक आए इस तूफान ने कुछ देर के लिए संचार व्यवस्था भी बाधित कर दी। हालांकि दस मिनट तक चले आंधी पानी से लोगों को गर्मी से लोगों को राहत मिली लेकिन उसके बाद उमस भरी गर्मी में लोगों का जीना मुहाल हो गया। दूसरी ओर समाचार लिखे जाने तक नेशनल हाईवे में कपसेठी व नगर के एलआईसी तिराहा और पटेल तिराहा में गिरे भारी भरकम पेड़ों के चलते रास्ता अवरुद्ध रहा। प्रशासनिक अमले के लोग मार्ग चालू कराने के लिए युद्ध स्तर पर पेड़ हटवाने का कार्य जारी किए हुए थे।

Comments (0)

स्व. करवरिया के बड़े पुत्र राजेश को ही सौंपी गई कार्यकारी अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी

Posted on 19 May 2010 by admin

रामायण मेला समिति महामंत्री आचार्य बाबूलाल गर्ग के बेटे को संयुक्त महामंत्री बनाया गया
रामायण मेला भवनम् संरक्षण समिति का भी हुआ गठन
विरासत में मिले पद को कुशलता पूर्वक निभाने का किया वायदा

पूरे देश में ख्याति प्राप्त राष्ट्रीय रामायण मेला के रिक्त चल रहे कार्यकारी अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी आखिरकार समिति ने स्व. करवरिया के पुत्र को ही दे दी। साथ ही मेलासमिति के फाउण्डर महामंत्री के बेटे को संयुक्त महामंत्री बनाया गया है।  अपने पद का कार्यभार सम्भालते हुए नए कार्यकारी अध्यक्ष ने अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए रामायण मेला आयोजन को नई बुलन्दियों तक पहुंचाने का वायदा समिति के लोगों से किया। इसके अलावा उन्होंने पिता के सहयोगी रहे बड़े-बुज़ुर्गो को पिता तुल्य बताते हुए उनकी छत्राछाया में ही अपनी जिम्मेदारी निभाने की बात कही।

गौर तलब है कि प्रभु श्री राम की तपोस्थली चित्रकूट में समाजवादी चिन्तक डा. राममनोहर लोहिया के द्वारा आरम्भ किए गए रामायण मेला महोत्सव को स्थापना काल से ही जुड़े बाद में समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बने स्व. गोपाल कृष्ण करवरिया ने पूरी जिम्मेदारी के साथ बाखूबी ऊंचाईयों तक पहुंचाया। उन्हीं की मेहनत का नतीजा है कि आज रामायण मेले को राष्ट्रीय रामायण मेले के नाम ख्याति मिली। और डा. राममनोहर लोहिया का सामाजिक समरसता का सपना नई बुलन्दियों तक पहुंचने लगा। लेकिन बीते माह कार्यकारी अध्यक्ष श्री करवरिया का रामायण मेला परिसर स्थित उनके विश्रामकक्ष में ही अचानक निधन हो गया था। जिसके बाद से समिति मे खाली पड़े कार्यकारी अध्यक्ष पद पर ऐसे व्यक्ति की ताजपोशी करने की चर्चाएं चल रही थी जो चित्रकूट की पहचान बन चुके इस महत्वपूर्ण आयोजन को और ऊंचाईयों पर ले जा सके। जिसको देखते हुए मेला समिति की कार्यकारिणी ने बीती 18 मई को स्व. करवरिया के बड़े पुत्रा राजेश कुमार करवरिया को कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने का निर्णय लिया था। जिसकी घोषणा बुधवार को रामायण मेला परिसर में समिति के महामंत्री आचार्य बाबूलाल गर्ग ने कहा कि स्व. करवरिया राम के रामायणात्व को जन-जन तक पहुंचाने के लिए शुरू से ही समर्पित भावना से काम करते रहे।

उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि उत्ताराधिकार के रूप में मिले पद को  अब उनके बड़े पुत्र राजेश आगे बढ़ाएंगे। वहीं उन्होंने बताया कि अपनी बढ़ती उम्र के कारण समिति द्वारा उनके पुत्र मनोज मोहन गर्ग को मेला समिति का संयुक्त महामंत्री बनाया गया है और उन्हें आशा है कि विरासत में मिली जिम्मेदारी को वह सही तरीके से पूरी करेंगे।  वहीं इस बीच नवनिर्वाचित हुए कार्यकारी अध्यक्ष राजेश करवरिया ने कहा कि वे अपने पिता के पदचिन्हों पर चलते हुए पूरी जिम्मेदारी से रामायण मेले को नई बुलन्दियों तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे। इसके अलावा उन्होंने स्व. श्री करवरिया के सहयोगी रहे समिति के वरिष्ठ पदाधिकारियों और सदस्यों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए कहा कि वे सभी उनके मार्गदर्शक हैं और उन्हीं की सहमति से ही हर निर्णय लिया जाएगा। इस दौरान महामंत्री श्री गर्ग ने बताया कि रामायण मेला भवनम संरक्षण समिति भी बनाई गई है जिसके संरक्षक कार्यकारी अध्यक्ष करवरिया व अध्यक्ष डा. श्याममोहन त्रिपाठी बनाए गए हैं, तथा करुणाशंकर द्विवेदी, हरिशंकर गर्ग व मनोजगर्ग सदस्य नियुक्त किए गए हैं। इस मौके पर डा. श्याम मोहन त्रिपाठी, शिवमंगल शास्त्री, देवीदयाल यादव, मो. यूसुफ, राम प्रकाश श्रीवास्तव, कलीमुद्दीन बेग, प्रशान्त करवरिया आदि मौजूद रहे।

Comments (0)

अपने बच्चे से ज्यादा उसकी तस्वीर को सम्भालें

Posted on 19 May 2010 by admin

चित्रकूट-जब आप का बच्चा पैदा हो तब से लेकर हर  माह उसकी फोटो जरूर निकलवा कर रखे क्यो  कि यदि दुर्भाग्य से आप का बच्चा गुम हो गया तो पुलिस बिना उसकी फोटो के आप की गुमशुदगी की रिर्पोट नही लिख सकेगी।

उक्त जानकारी का खुलासा उस समय हुई जब ग्राम तरौंहा निवासी मुतीबुन निशा बेवा मरहूम जफर खान फरासन टोला इमाम बाडा के पास जिला चित्रकूट अपने नाबालिग बेटे साहिल खा उर्फ बॉबी उम्र 13 साल  की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाने कोतवाली कर्वी गई। डयूटी मे तैनात  मुन्शी ने विना फोटो के उनकी प्रथम सूचना लेने से मना कर दिया। बच्चे के गम में दुखी मुतीबुन निशा वापस अपने घर आयीं और फोटो तलाशी और स्टूडियों से 5 फोटो पास पोर्ट साइज और एक पोस्ट कार्ड साइज बनवाकर दी फिर भी डयूटी पर तैनात मुन्शी ने प्रथम सूचना रिपोर्ट का प्रार्थना पत्र नही लिया परन्तु कोतवाली प्रभारी चन्द्रधर गौड की मदाख्लत से गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज हो सकी।

सुरेन्द्र अग्निहोत्री
मो0 9415508695
upnewslive.com

Comments (0)

Advertise Here

Advertise Here

 

October 2017
M T W T F S S
« Sep    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
-->









 Type in