*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की पावन स्मृति को समर्पित संगोष्ठी

Posted on 06 January 2018 by admin

उत्तर प्रदेष हिन्दी संस्थान, लखनऊ

भारतेन्दु जी ने भारतवासियों को एक सूत्र में बाँधने का कार्य किया - डाॅ0 सदानन्दप्रसाद गुप्त
moj_0041लखनऊ। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान के तत्वावधान में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की पावन स्मृति के अवसर पर ‘नवजागरण की चेतना और भारतेन्दु हरिश्चन्द्र‘ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन शनिवार, 06 जनवरी, 2018 को निराला सभागार, हिन्दी भवन, लखनऊ में किया गया।
डाॅ0 सदानन्दप्रसाद गुप्त, मा0 कार्यकारी अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान की अध्यक्षता में आयोजित संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में प्रो0 सुरेन्द्र दुबे, कुलपति, बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, झांसी, प्रो0 सूर्य प्रसाद दीक्षित, पूर्व प्रोफेसर, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ एवं मुख्य वक्ता के रूप में डाॅ0 हरिशंकर मिश्र, पूर्व आचार्य, लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ आमंत्रित थे।
दीप प्रज्वलन, माँ सरस्वती की प्रतिमा पर पुष्पार्पण के उपरान्त प्रारम्भ हुए कार्यक्रम में वाणी वन्दना संगीतमयी प्रस्तुति डाॅ0 पूनम श्रीवास्तव द्वारा की गयी। मंचासीन अतिथियों का उत्तरीय द्वारा स्वागत श्री सुनील कुमार सक्सेना, उपनिदेशक, उ0प्र0 हिन्दी संस्थान ने किया।
मुख्य वक्ता के रूप में डाॅ0 हरिशंकर मिश्र ने ‘नवजागरण की चेतना और भारतेन्दु हरिश्चन्द्र‘ विषय पर व्याख्यान देते हुए कहा - भारतेन्दु हरिश्चन्द्र साहित्य जगत के युगप्रवर्तक थे। उन्नसवी शताब्दी में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी ने भारतवासियों के हृदय में नवजागरण पैदा किया। भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी में राज्यभक्ति और राष्ट्रभक्ति समान रूप से थी। उनमें बालपन से ही समझने की शक्ति थी। उन्होंने अंगे्रजो के अत्याचार को काफी निकट से देखा था। उनके समय में समाज में बड़ी विडम्बना थी। वे अपने मन की बात को बड़ी दृढ़ता से कहते थे। उन्होंने अंगे्रजी भाषा का विरोध किया। हिन्दी भाषा के उन्नयन में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र का योगदान अतुलनीय रहा है, उनका रचना संसार व्यक्तित्व और कृतित्व व्यापक था।
dsc_9270
विशिष्ट अतिथि के रूप में पधारे प्रो0 सूर्य प्रसाद दीक्षित ने कहा - उन्नसवीं शताब्दी का जागरण आर्थिक जागरण पर केन्द्रित था। भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी दूरदर्शी व्यक्ति थे। उन्होंने साहित्य की प्रत्येक विधा पर अपनी रचनाएं रची। उनके अन्दर नैसर्गिक लेखन की क्षमता थी। उन्हें यह क्षमतायें विरासत में मिली थी। जगत का उन्हें व्यापक अनुभव था। अंग्रेजो के शोषण के खिलाफ उन्होेंने एक आन्दोलन चलाया था। वे अपनी रचना आम बोल-चाल की भाषा में लिखते थे। जनता द्वारा दी गयी पहली उपाधि ‘भारतेन्दु‘ हरिश्चन्द्र जी को मिली। उन्होंने व्यंग्य के माध्यम से जनजागरण किया। हिन्दी के प्रथम गजलकार भारतेन्दु जी थे।
मुख्य अतिथि के रूप में पधारे प्रो0 सुरेन्द्र दुबे, कुलपति, बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय, झांसी ने अपने सम्बोधन में कहा - भारतेन्दु जी हिन्दी के श्लाका पुरुष थे। नवजागरण पुनर्जागरण ही है। भारतेन्दु जी के समय का जागरण लोक का पुनर्जागरण है। भारतेन्दु जी भारत भक्त विचारक थे। विदेशी वस्तुआंे के प्रबल विरोधी थे। राष्ट्र के निर्माण के मूलतत्वों की खोज भारतेन्दु जी ने की। वे स्त्री-पुरुष की समानता के पक्षधर थे। उनका युग सजीव व चेतना का युग था। उन्होंने अपने नाटकों में समाज का चित्रण किया है। नाटक को ‘पंचमवेद‘ कहा गया है।
अध्यक्षीय सम्बोधन में डाॅ0 सदानन्दप्रसाद गुप्त, मा0 कार्यकारी अध्यक्ष, उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान ने कहा - भारतेन्दु जी ने हमें भारत की स्वतंत्रता का सूत्र दिया। उन्होंने ‘स्वत्व‘ का महत्व हम भारतवासियों का बताया। उनका साहित्य हमारे अन्दर नयी चेतना का संचार करती है। वे आर्थिक सम्पन्नता के पक्षधर थे। उनका स्वच्छता का अभियान था कि उन्नति में आने वाली बुराइयों को कांटों को निकाल कर फेंकने की आवश्यकता है। वे स्वदेशी चेतना के पक्षधर थे। उन्होंने साहित्य को दरबारी परम्परा से हटाकर जनता के बीच का साहित्य बनाया। भारतेन्दु जी ने भारतवासियों को एक सूत्र में बाँधने का कार्य किया।
समारोह का संचालन, अभ्यागतों का स्वागत एवं आभार डाॅ0 अमिता दुबे, सम्पादक, उ0प्र0 हिन्दी संस्थान ने किया।

Leave a Reply

You must be logged in to post a comment.

Advertise Here

Advertise Here

 

January 2018
M T W T F S S
« Dec    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
-->









 Type in