*खाकी वर्दी वालो के कारनामे-जनता की जुवानी * सफेद कुर्ते वाले नेताओ के कारनामे-जनता की जुवानी "upnewslive.com" पर, आप के पास है कोई जानकारी तो आप भी बन सकते है सिटी रिपोर्टर हमें मेल करे info@upnewslive.com पर या 09415508695 फ़ोन करे , मीडिया ग्रुप पेश करते है <UPNEWS>मोबाईल sms न्यूज़ एलर्ट के लिए अगर आप भी कहते है अपने और प्रदेश की खबरे अपने मोबाईल पर तो अपना <नाम-, पता-, अपना जॉब,- शहर का नाम, - टाइप कर 09415508695 पर sms, प्रदेश का पहला हिन्दी न्यूज़ पोर्टल जिसमे अपने प्रदेश की खबरें सरकार की योजनाएँ,प्रगति,मंत्रियो के काम की प्रगति www.upnewslive.com पर

Categorized | लखनऊ.

साक्षरताकर्मियों ने विधान सभा का घेराव कर जमकर प्रदर्शन किया

Posted on 10 August 2017 by admin

img_20170810_1007411आदर्श साक्षरताकर्मी वेलफेयर एसोसिएशन के संयोजन में लक्ष्मण मेला मैदान में 10 जुलाई से जारी अनिश्चितकालीन धरना को एक माह पूर्ण होने पर 10 अगस्त को साक्षरताकर्मियों ने विधान सभा का घेराव कर जमकर प्रदर्शन किया। संगठन के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु प्रताप सिंह की अगुवाई में हजारों की संख्या में साक्षरता समन्वयक एवं शिक्षा प्रेरक दारूल शफा से जुलूस की शक्ल में विधान सभा की तरफ रवाना हुए। इस दौरान मौके पर मौजूद पुलिस प्रशासन ने भारतीय जनता पार्टी कार्यालय के सामने साक्षरताकर्मियों को रोकने का प्रयास किया तो दोनों के बीच खूब झड़प हुई। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि विगत 32 दिन से नियमितीकरण एवं 30 माह से बकाया मानदेय भुगतान समेत विभिन्न मांगों के समर्थन में अहिंसात्मक धरना-प्रदर्शन पर शासन ने अब तक कोई कार्यवाही नहीं की। अपर मुख्य सचिव से हुई वार्ता का भी कोई परिणाम नहीं आने पर हम लोगों को मजबूरन विधान सभा का घेराव करना पड़ा। प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष अकमल खान ने बताया कि विगत वर्ष विधान सभा चुनाव से पूर्व केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह के आह्वान पर झूलेलाल पार्क में सवा लाख साक्षरताकर्मियों ने अधिकार दिलाओ रैली में प्रतिभाग किया था। जिसमें गृहमंत्री ने प्रदेश में भाजपा की सरकार आने पर साक्षरताकर्मियों को नियमित करने का वादा किया था। किन्तु सरकार गठन को 3 माह से अधिक का समय बीत चुका है, फिर भी सरकार ने साक्षरतार्मियों के नियमितीकरण पर अब तक कोई कदम नहीं बढ़ाया है। यहां तक कि लगभग 30 माह से बिना मानदेय के कार्य कर रहे प्रेरक एवं समन्वयक एक माह से अनवरत धरने पर बैठे हैं, और उनकी आवाज को सुनने वाला कोई नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि हम साक्षरताकर्मी अब बिना अधिकार लिए अपने घर लौटने वाले नहीं हैं। एक न एक दिन माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी को हमारी आवाज सुननी ही होगी। इसके लिए आवश्यकता पड़ने पर सम्पूर्ण प्रदेश के सवा लाख साक्षरताकर्मी सड़कों पर उतर कर आन्दोलन में भी पीछे नहीं रहेंगे। मुख्यमंत्री को प्रेषित ज्ञापन में साक्षरताकर्मियों ने राज्यकर्मी का दर्जा दिए जाने तक सम्मानजनक मानदेय देने, वर्ष 2014 से बकाया मानदेय का एकमुश्त भुगतान, आकस्मिक अवकाश का निर्धारण, लोक शिक्षा भवनों का निर्माण, साक्षरताकर्मियों को वित्तीय अधिकार दिलाने, विभिन्न गतिविधियों पर निर्धारित बजट को सम्बंधित समिति के खातों में प्रेषित करने, कार्यालयों में इन्फ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराने, सूचनाओं के आदान-प्रदान हेतु स्मार्ट फोन की व्यवस्था करने समेत विभिन्न मांगे उठाई हैं। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री सत्यवान सिंह, प्रदेश महासचिव मो0वसीम, प्रदेश सलाहकार विजय सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष अखिलेन्द्र यादव, दिलीप सोनकर, मनोज वर्मा, अजमल खान, सुरेश रावत, संगीता देवी, किरन मिश्रा, अर्चना सिंह

Leave a Reply

You must be logged in to post a comment.

Advertise Here

Advertise Here

 

October 2017
M T W T F S S
« Sep    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  
-->









 Type in